mp mirror logo

सीएमएचओ के संरक्षण में अवैध तरीके से संचालित हो रहे नर्सिंग होम

डॉक्टरों की कमी से जूझ रहा जिला अस्पताल 
निजी क्लीनिकों में आम जनता का हो रहा शोषण
शासन नहीं उठा रहा कड़े कदम
नितिन चौबे
दमोह (एमपी मिरर)। सूबे के वित्तमंत्री जयंत मलैया के गृह जिला दमोह में स्वास्थ्य विभाग का भ्रष्टाचार चरम पर है। वर्तमान में मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी कार्यालय भ्रष्टाचार का गढ़ बना हुआ है। स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर लकदक करता जिला अस्पताल जहां एक ओर डॉक्टरों की कमी से जूझ रहा है, वहीं दूसरी ओर जिले में लगातार एक के बाद एक नए नए नर्सिंग होम अस्तित्व में आ रहे हैं। जिला अस्पताल की कमियों का फायदा उठाकर नित नए खुल रहे नर्सिंग होम्स में मरीज के परिजनों का जमकर आर्थिक शोषण किया जाता है। जिले में वर्तमान में 14 नर्सिंग होम एवं क्लीनिक विभाग में पजीकृत हैं और अनेक नर्सिंग होम बिना अनुमति के ही संचालित हो रहे हैं।
 
बिना पंजीयन चल रहे नर्सिंग होम
मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी की नाक के नीचे जिले में ऐसे नर्सिंग होम भी संचालित हैं, जो बिना रजिस्ट्रेशन के ही संचालित किए जा रहे हैं। सरकारी डॉक्टर मनीष पटैल द्वारा बालाकोट रोड पर बिना नर्सिंग होम पंजीयन करवाए ही नर्सिंग होम का संचालन किया जा रहा है। सूत्रों की माने तो अथर्व क्लिनिक के संचालक डॉ. मनीष पटैल द्वारा नर्सिंग होम के रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन किया गया है, लेकिन अभी नर्सिंग होम का रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है। बिना रजिस्ट्रेशन के ही अवैध रूप से नर्सिंग होम का संचालन डॉ. मनीष पटैल द्वारा कई माह पहले ही प्रांरभ कर दिया गया था। नर्सिंग होम में एक्सरे जैसी सुविधाएं भी अवैध रूप से मरीजों को मंहगे दामों पर उपलब्ध कराई जा रही हैं। वहीं डॉ. गौरव नायक द्वारा भी क्लीनिक के रजिस्ट्रेशन पर अस्पताल का संचालन  किया जा रहा है। क्लीनिक के आड़ में बिना पंजीयन ही कई बिस्तरों के अस्पताल का संचालन किया जा रहा है।
 
घूरे पर फेंका जाता है जैविक कचरा
जिले में सचांलित नर्सिंग होम्स से निकलने वाले जैविक अपशिष्ठ को ठिकाने लगाने का इन नर्सिंग होम्स के पास कोई ठोस विकल्प नहीं है। यूं तो दिखाने के लिए सागर और सतना की किसी कम्पनी से नर्सिंग होम संचालकोें ने अनुबंध कर रखा है, लेकिन वास्तविकता में अस्पताल से निकलने वाला तमाम बायो कचरा शहर के घूरों पर ही फेंका जाता है। इतना ही अस्पतालों में मरीजों द्वारा उपयोग किए जाने वाले कपड़े जैसे चादर, तकीये के खोल और कम्बल बगैरह की धुलाई भी सार्वजनिक तालाबों पर कराई जाती है। जिससे जल स्त्रोत के प्रदूषित होने का खतरा बढ़ जाता है। इसी तरह नर्सिंग होम में अस्पताल से निकलने वाले कचरे के लिए नियमानुसार अलग अलग डस्टबिन का उपयोग नहीं किया जाता है। उपयोग की गई निडिल, पट्टी, प्लास्टर, खून, मवाद जैसे संक्रामक कचरे के लिए एक ही कचरादान का उपायोग किया जाता है। सूत्रों का कहना है कि अस्तपाल से निकलने वाले प्लास्टिक कचरे को सीधे ही कबाड़ियों को बेच दिया जाता है। निजी अस्पतालों के इस आचरण से शहर में संक्रमण फैलने की संभावना लगातार बनी रहती है।
 
होते हैं अवैध गर्भपात
जिले में मानव भ्रूण का शव मिलना आम बात है। लगातार सार्वजनिक जगहों से मानव भ्रूण शवों की मिलने की खबरें यह सिद्व करती हैं कि जिले में संचालित नर्सिंग होम्स में अवैध गर्भपात का खेल खेला जाता है। शहर में कई बार मानव भ्रूण के शवों को कुत्तों द्वारा नोचते देखा गया जिसे बाद में पुलिस ने जप्त किया। बस स्टैण्ड, स्टेशन रोड सहित लगभग शहर के अधिकांश उन हिस्सों में मानव भ्रुण के शव बरामद हुए हैं जहां नर्सिंग होम संचालित हैं। माना जाता है कि अवैध गर्भपात के बाद मृत मानव भ्रुण को ठिकाने लगाने की जिम्मेदारी भी गर्भपात कराने वाली महिला या उसके परिजनों को सौंप दी जाती है जिसके परिणाम स्वारूप शहर में यहां वहां मानव भ्रूण के शव लगातार बरामद होते रहे हैं।
 
अयोग्य कर रहे एक्सरे और मरहम पट्टी
वैद्य एवं अवैध रूप से संचालित नर्सिंग होम में कम वेतन देकर अयोग्य व्यक्तियों से कार्य कराया जाता है। इंजक्शन लगाना हो, छोटी मोटी छीर फाड़ हो, मरहम पट्टी करना हो, प्लासटर बांधना हो ये सब काम इन नर्सिंग होमों में आयोग्य व्यक्तियों द्वारा किए जाते हैं। 10वीं 12वीं पास वार्ड व्याय और अटेंडर के भरोसे मरीज को छोड़ दिया जाता है। पैसा वसूलने के लिए एक्सरे, पैथोलॉजी जैसे कार्य योग्य व्यक्ति से कराने की बजाए आयोग्य व्यक्ति से कराए जाते हैं । जिससे कई बार मरीज की जान पर भी बन आती है जिसे तत्काल जिले से बाहर रिफर कर मामले को दबाने का प्रयास किया जाता है। शहर के नर्सिंग होम्स में गलत ईलाज के चलते कई जाने जा चुकी हैं। सूत्र बताते हैं कि किसी भी नर्सिंग होम ने एक्सरे की सुविधा का पंजीयन नहीं कराया है। जबकि जिले में ऐसी तमाम अस्पताल हैं जहां बिना पंजीयन और एक्सरे टेकनीशियन के ही मरीजों को एक्सरे सुविधा प्रदान की जा रही है। मनीष पटैल की अथर्व क्लीनिक, मिशन हॉस्पिटल के साथ साथ जिले में कुकर मुत्तों की तरह एक्सरे सेंटर खुले हुए हैं। डॉ. रमेश बजाज द्वारा जहां चिकित्सा परामर्श दिया जाता है, वहीं उन्होंने अभी हाल ही में एक्सरे मशीन का भी संचालन प्रांरभ कर दिया है, जिसका चिकित्सा विभाग में कोई पंजीयन नहीं है।
जांच के नाम पर होती है खानापूर्ति
जिले में इन नर्सिंग होमों पर नियंत्रण रखने की जबाबदारी मुख्य जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी की है परंतु अपनी भ्रष्ट कार्यप्रणाली के लिए मशहूर जिला सीएमएचओ डॉ. अजय बड़ोनिया इन नर्सिंग होमों का नाम के लिए निरीक्षण करते हैं या करवाते हैं। वर्तमान में जांच कर रही टीम में डीएचओ डॉ. तुलसा ठाकुर, डॉ. संगीता त्रिवेदी, डॉ. प्रहलाद पटैल और डॉ. पीसी. स्वर्णकार हैं। उक्त टीम को शहर में संचालित सभी 14 नर्सिंग होम्स के निरीक्षण का दायित्व सौंपा गया था परंतु निरीक्षण दल ने दो चार नर्सिंग होम का निरीक्षण कर खानापूर्ति कर ली और बंद कमरें में बैठ जांच रिर्पोट भी तैयार कर ली। डॉ. संगीता त्रिवेदी के अनुसार सभी 14 नर्सिंग होम्स की जांच की गई और सभी नर्सिंग होम्स को नियुमानुसार सही पाया गया। लगभग अस्पतालों में जैविक कचरे को लेकर कमी पाई गई है जिसे दूर करने के लिए अस्पताल के संचालकों को नोटिस जारी किया जाएगा। नर्सिंग होम में संचालित बिना टेक्नीशियन के एक्सरे मशीन के संचालन तथा पेथोजॉली लैब न होने के बाद भी पैथोलॉजी होने की बात पर उन्होने कहा कि नर्सिंग होम में पैथेलॉजी लैब नहीं है कलेक्शन सेंटर हैं। निरीक्षण दल में शामिल डॉक्टर स्वयं ही निजी रूप से चिकित्सा व्यवसाय करते हैं। जहां डॉ. पी.सी. स्वर्णकार का स्वयं का पैथोलॉजी सेंटर हैं जहां अनुभवहीन और अनप्रोफेशनल लोग खून की जांच करते हैं। वहीं डॉ. संगीता त्रिवेदी सालोमन काम्पलेक्स में अपने निजी क्लीनिक का संचालन करती हैं। वहीं जिले में हो रहे चिकित्सा व्यापार पर लगाम लगाने वाले जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ. अजय बड़ौनिया ने व्यस्तता का बहाना बनाते हुए कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

"स्पेशल रिपोर्ट" से अन्य खबरें

सर्वे, कायम है मोदी की आंधी:आज चुनाव हुए तो फिर बनेगी मोदी सरकार

नई दिल्ली। नरेन्द्र मोदी की अगुआई वाली एनडीए सरकार 26 मई को तीन महीने पूरे कर लेगी। इसके बावजूद इसकी लोकप्रियता में कोई कमी नहीं आई है। इसका प्रमाण है एबीपी-सीएसडीएस-लोकनीति का सर्वे।

सर्वे के अनुसार अगर आज चुनाव हुए, तो एनडीए फिर से बहुमत में आएगी। अब भी मोदी लहर पहले की तरह कायम है। हां, अलग-अलग क्षेत्रों में मोदी का असर अलग-अलग जरूर दिख रहा है।

Read More

शत्रु ने किया लालू का समर्थन, तो सुशील मोदी बोले गद्दारों को घर से बाहर करो

पटना । बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा द्वारा लालू यादव के खिलाफ लगाये गये आरोपों पर सबूत मांगे जाने पर बिहार का सियासी तापमान बढ़ गया है। बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने सीधे 'भाजपा के शत्रु' पर हमला बोला है। सुशील मोदी ने ट्वीट कर पटना साहिब से बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा पर हमला किया है और उन्हें इशारों इशारों में गद्दार करार दिया है।

Read More

चुनाव आयोग ने संसदीय समिति से कहा: ईवीएम पूरी तरह प्रामाणिक, छेड़छाड़ मुमकिन नहीं

नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने शुक्रवार (19 मई) को संसद की एक स्थाई समिति से कहा कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन छेड़छाड़ से मुक्त और प्रामाणिक हैं. चुनाव आयोग शनिवार (20 मई) को यहां एक संवाददाता सम्मेलन में अपनी ‘ईवीएम चुनौती’ की घोषणा करेगा और उससे एक दिन पहले संसदीय समिति के समक्ष उसने अपनी राय व्यक्त की. कार्मिक, लोक शिकायत, कानून एवं न्याय पर संसद की स्थाई समिति के समक्ष पेश हुए आयोग के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि ईवीएम से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती और ये बहुत प्रामाणिक हैं. 

Read More

नहीं रहे केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल दवे, 60 साल थी उम्र, PM मोदी बोले- ये मेरी निजी क्षति

केंद्र सरकार में पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे का देहांत हो गया है. वह बुधवार रात तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक में मौजूद थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अनिल माधव की मौत पर दुख जताया. अनिल माधव दवे 60 साल के थे. वह काफी समय से बीमार थे, और एम्स में भर्ती थे. दवे 5 जुलाई 2016 में केंद्रीय मंत्री बने थे, वह मध्यप्रदेश बीजेपी का बड़ा चेहरा थे.

Read More

देश के खिलाफ भड़काऊ टिप्पणी करने वाले बरकती इमाम पद से बर्खास्त, नरेंद्र मोदी के खिलाफ जारी किया था फतवा

इमाम नूर उर रहमान बरकती को आज यानी बुधवार को देश के खिलाफ आपत्तिजनक और भड़काऊ टिप्पणी करने के कारण टीपू सुल्तान मस्जिद के इमाम पद से बर्खास्त कर दिया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सरकारी गाड़ियों से लाल बत्ती हटाए जाने के आदेश दिए जाने के बाद बरकती ने उनके खिलाफ फतवा जारी कर दिया था। मस्जिद बोर्ड ऑफ ट्रस्टी के प्रमुख शाहज़ादा अनवर अली शाह ने कहा था कि हमारी अपने अधिवक्ताओं के साथ इस मामले में अंतिम चरण की बातचीत चल रही है। शाह ने कहा था कि बरकती के देश विरोधी बयान को बिलकुल भी बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

Read More

राष्‍ट्रपति चुनाव : BJP के पास अब बहुमत का जादुई आंकड़ा

नई दिल्ली: इस साल जुलाई में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में बीजेपी के लिए अपनी पसंद का राष्ट्रपति बनाने का रास्ता साफ होता जा रहा है. आंध्र प्रदेश के दल वाईएसआर कांग्रेस के नेता जगनमोहन रेड्डी ने पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर समर्थन देने का ऐलान  कर दिया है. वैसे ही बीजेपी के नेतृत्‍व वाला एनडीए पहले से ही काफी मजबूत स्थिति में है. 410 सांसद और 1691 विधायकों की ताकत से एनडीए के पास 5,32,019 वोट हैं. उल्‍लेखनीय है कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए देश भर के सभी 4120 विधायकों और 776 सांसदों को मिला कर चुनाव मंडल बनता है. उनके वोटों का कुल मूल्य 10,98,882 है और जीतने के लिए 5,49,441 वोट चाहिए. यानी एनडीए को सिर्फ 17,422 वोट ही चाहिए. वाईएसआर कांग्रेस के पास 16,848 वोट हैं.

Read More

गृह मंत्रालय का फरमान; संपत्ति का ब्यौरा नहीं तो प्रमोशन भी नहीं

नई दिल्‍ली : केंद्र सरकार ने नौकरशाही में भ्रष्टाचार रोकने के लिए एक और बड़ा कदम उठाया है. गृह मंत्रालय ने अपने नए आदेश में कहा है कि संपत्ति का ब्यौरा नहीं देने वाले भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारियों को अपनी अचल संपत्ति का ब्यौरा नहीं देने पर प्रमोशन नहीं मिलेगी. 

Read More

ईवीएम से छेड़छाड़ पर चुनाव आयोग की 55 पार्टियों के साथ बैठक आज

नई दिल्ली: ईवीएम की विश्वसनीयता पर बहस के बीच चुनाव आयोग इस मुद्दे पर अपना रुख बताने के लिए आज (शुक्रवार, 12 मई) 55 राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों से मिलेगा. आयोग ने चर्चा करने के लिए सात राष्ट्रीय पार्टियों और 48 राज्य स्तरीय पार्टियों की बैठक बुलाई है. गौरतलब है कि ईवीएम में लोगों का विश्वास खत्म हो जाने का दावा करते हुए 16 पार्टियों ने आयोग से मतपत्र के जरिए चुनाव कराने की व्यवस्था की ओर लौटने का अनुरोध किया था.

Read More

शर्म की बात है कि मैं इस धरती पर पैदा हुई: ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक रैली के दौरान कहा है कि उन्हें शर्म आती है कि वह इस धरती पर पैदा हुई। समाचार एजंसी एएनआई के मुताबिक उन्होंने एक जन सभा में यह बातें कही।

Read More

देश के बड़े डिफेंस प्रॉजेक्ट्स के लिए निजी कंपनियों को ऐसे चुनेगी सरकार

मोदी सरकार ने देश के बड़े डिफेंस प्रॉजेक्ट्स के लिए निजी कंपनियों को चुनने की प्रक्रिया का खाका खींच लिया है। रक्षा मंत्रालय देश के लिए सैन्य सामग्री के उत्पादन में निजी क्षेत्र की कंपनियों के चयन की प्रक्रिया के रोडमैप के साथ तैयार है। यह रोडमैप इसी सप्ताह तक सामने आ सकता है। वित्तीय मजबूती, तकनीकी क्षमता और मौजूद इंफ्रास्ट्रक्चर, ये तीन पैमाने होंगे जिसके आधार पर भारतीय कंपनियों को चुना जाएगा जबकि विदेशी साझेदारों के लिए तकनीकी और व्यावसायिक आधार पर चयन की समानांतर प्रक्रिया चलाई जाएगी।

Read More