mp mirror logo

ग्वालियर के चायवाले, आनंद ने भी भरा राष्ट्रपति के लिए नामांकन

भोपाल | जब एक चायवाला देश का प्रधानमंत्री बन सकता है तो क्या एक चायवाला देश का राष्ट्रपति बनने का सपना नहीं देख सकता? ऐसा मानना है कि मध्य प्रदेश के रहने वाले आनंद सिंह कुशवाहा का। वह पेशे से चायवाले हैं और देश के राष्ट्रपति की कुर्सी तक पहुंचने की इच्छा रखते हैं। अपनी इसी इच्छा को पूरा करने के लिए उन्होंने चौथी बार देश के राष्ट्रपति बनने के लिए नामांकन भरा है। आनंद अब तक 20 बार चुनाव हार चुके हैं। जहां बीजेपी और कांग्रेस राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर अपने-अपने पत्ते खोलने को तैयार नहीं हैं। वहीं आनंद ने चौथी बार अपनी दावेदारी पेश कर दी है।

एमपी के ग्लावियर के रहने वाले आनंद सिंह कुशवाहा पेशे से चाय विक्रेता है और साल 1994 से अबतक चुनाव लड़े रहे हैं। वह राष्ट्रपति के अलावा उपराष्ट्रपति का भी चुनाव लड़ चुके हैं। राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे कुशवाहा ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में बताया कि वह उत्तर प्रदेश के सांसदों और विधायकों के संपर्क में हैं। उन्होंने कहा कि पिछले के चुनावों में उन्हें ज्यादा वोट नहीं मिले, लेकिन इस बार मुझे भरोसा है कि मुझे समर्थन मिलेगा। राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ने के लिए 50 वैध वोटर्स और कम से कम 50 बैकर्स की जरुरत होती है। कुशवाहा चुनाव लड़ने के लिए फंड की व्यवस्था अपनी रोजमर्रा की कमाई से कटौती करके बचाते हैं। इन पैसों को सिक्योरिटी मनी के रूप में जमा करते हैं।

साल 2014 में आम चुनाव के दौरान जमा किए गए हलफनामे में आनंद सिंह ने बताया था कि उनके पास 5000 रुपए कैश और दस हजार रुपए कीमत की अचल संपत्ति है। सिंह बताते है कि वह प्रचार के लिए गाड़ी का खर्च नहीं उठा सकते हैं, इसलिए पैदल ही प्रचार करते हैं। साल 2013 के विधानसभा चुनाव में कुशवाहा को 376 वोट मिले थे।

पति-पत्नी ने भी भरा पर्चा

राष्ट्रपति चुनाव के लिए चुनाव आयोग द्वारा नोटिफिकेशन जारी करने के बाद कई लोग राष्ट्रपति पद के लिए अपनी उम्मीदवारी पेश कर चुके हैं। इससे पहले एक पति और पत्नी द्वारा राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद के लिए निर्वाचन पर्चा भरने का मामला सामने आया था। पटेल दंपति ने निर्वाचन अधिकारी को बताया कि यदि उनमें से कोई एक राष्ट्रपति बन जाए और दूसरा उप-राष्ट्रपति बन जाए तो यह अच्छा रहेगा। बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया 28 जून तक चलेगी। नामों की छंटनी 29 जून को होगी। जिसके बाद 17 जुलाई को वोटिंग होगी और फिर 20 जुलाई को काउंटिंग की जाएगी।

"जिलों से" से अन्य खबरें

मुख्यमंत्री श्री चौहान के मंदसौर आगमन पर हेलीपैड पर हुआ स्वागत

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान भोपाल से प्रस्थान कर मंदसौर हेलीपैड पर दोपहर 1.30 बजे पहुंचे। 

Read More

आदि गुरु शंकराचार्य के संदेश जन-जन तक पहुंचाने के लिये निकाली गई एकात्म यात्रा

आदि गुरु शंकराचार्य के सिद्धान्तों और उनके संदेशों को जन-जन तक पहुंचाने के लिये तथा प्रसिद्ध धर्मस्थली ओंकारेश्वर में स्थापित की जाने वाली आदि शंकराचार्य की 108 फीट ऊंची विशाल प्रतिमा के लिये जन जागृति हेतु आज इंदौर शहर में एकात्म यात्रा और अनेक उप यात्राओं का आयोजन किया गया। यह यात्रा आज सुबह एरोड्रम स्थित अखण्डधाम आश्रम से शुरू होकर बड़े गणपति, राजवाड़ा, एमजी रोड होते हुए शाम में गाँधी हाल में समाप्त हुई। 
  

Read More

अन्ना हजारे की खजुराहो में लिखी इबारत पर गांधीवादियों की मुहर

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने तीन दिसंबर को विश्व पर्यटन स्थल खजुराहो की दीवार पर आगामी 23 मार्च से जन-आंदोलन की इबारत लिखी थी, जिस पर देश के तमाम गांधीवादियों ने अपनी मुहर लगा दी। अब 23 मार्च से पानी, किसानी और जवानी को लेकर देशव्यापी आंदोलन होगा। 

Read More

एकात्म यात्रा में भिड़े सांसद-विधायक, सांसद समर्थकों ने की विधायक से हाथापाई

 एकात्म यात्रा में उस समय हंगामा मच गया, जब ध्वज उठाने की बात पर भाजपा सांसद मनोहर ऊंटवाल और भाजपा विधायक गोपाल परमार आपस में भिड़ गए। बहस सेे शुरू हुआ विवाद हाथापाई तक पहुंच गया। पहले तो सांसद- विधायक ध्वज को एक दूसरे से छीनते रहे। बाद में सांसद के सामने ही उनके समर्थकों ने विधायक के साथ हाथापाई कर दी। 

Read More

चुनाव से ठीक पहले बीजेपी की महिला विधायक का वीडियो वायरल, जिसे देख मच गया हड़कंप!

भोपाल। जब कोई नेता सरकार में मंत्री होता है तो पूरा महकमा उसकी आवभगत में लगा होता है, उसका रुतबा और रसूख के आगे कोई नहीं टिक पाता। प्रशासन भी नहीं। लेकिन, मंत्री पद गंवा देने के बाद जब प्रशासन नियम पर चलने की सलाह दे तो गुस्सा आना लाजिमी है।

 

Read More

एमपी में स्कूल बस संचालकों की हड़ताल पर सरकार सख्त

मध्य प्रदेश में स्कूल बस संचालकों की हड़ताल को लेकर सरकार सख्त नजर आ रही है. गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने हड़ताली बस संचालकों को दो टूक कह दिया है कि अगर हड़ताल जारी रही तो सरकार उनसे सख्ती से निपटेगी.

Read More

सीएम शिवराज ने अपने सुरक्षाकर्मी को जड़ा थप्पड़, वीडियो वायरल

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के लिए फिर एक बार एक वीडियो परेशानी का सबब बन गया है। नगरीय निकाय चुनाव के प्रचार के आखिरी दिन सीएम के रोड-शो का ये वीडियो बताया जा रहा है। जिसमें सीएम सुरक्षाकर्मी को धक्का देते और थप्पड़ मारते नजर आ रहे हैं।

Read More

एेसे तो अगले सौ साल में राजधानी से खत्म हो जाएगी सर्दी

भोपाल. राजधानी में सितम्बर का न्यूनतम औसत तापमान 0.075 डिग्री सेल्सिसय बढ़ गया है। जबकि, ग्वालियर शहर में जून और अगस्त के अधिकतम औसत तापमान में क्रमश: 0.067 और 0.064 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी हो चुकी है। भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में मानसून की तरीख लगभग एक सप्ताह आगे बढ़ गई हैं।

 

Read More

7th Pay: सरकार ने दिया संक्रांति का बड़ा तोहफा, अब मेडिकल स्टाफ को भी मिलेगा सातवां वेतनमान

भोपाल. सातवें वेतनमान की मांग कर रहे निगम-मण्डलों पर राज्य सरकार ने शर्त लगा दी है कि उन्हें लाभ दिए जाने के पहले वित्त विभाग से अनुमति ली जाए। दूसरी ओर नर्सिंग स्टाफ को यह लाभ दिए जाने के लिए मेडिकल कॉलेजों, नर्सिंग कॉलेजों, अस्पताल प्रबंधन से खर्च की जानकारी मांगी है।

 

Read More

भारत की सांस्कृतिक एकता को समृद्ध बनाने का श्रेय आदि गुरू शंकराचार्य को -मुख्यमंत्री श्री चौहान विदिशा में एकात्म यात्रा के दौरान जनसंवाद

देश में एक नहीं अनेक मत मतान्तर दिखाई देते है। ऐसे समय में आदि गुरू शंकराचार्य द्वारा बताए गए अद्वैतवाद दर्शन में विश्व की समस्याओं का समाधन निहित है। इस आशय के विचार प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज विदिशा में नगर में आयोजित जनसंवाद यात्रा को सम्बोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि विश्व में आंतकवाद जैसी प्रवृतियों को समाप्त करने और सभी मत मतान्तरों को समाप्त कर शांति स्थापित करने की दिशा में शंकराचार्य का एकात्म दर्शन सही दिशा दे सकता है। 

Read More