mp mirror logo

कुलभूषण जाधव मामला : पाकिस्तान ने नहीं माना आईसीजे का फैसला, अब क्या कर सकता है भारत

नई दिल्ली: अंतरराष्ट्रीय पंचाट, यानी आईसीजे ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी सैन्य अदालत द्वारा सुनाई गई फांसी की सज़ा पर अंतिम निर्णय सुनाए जाने तक रोक लगाने का आदेश दिया है, लेकिन पाकिस्तान ने यह कहकर इस आदेश को मानने से इंकार कर दिया है कि वह राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मामलों में अंतरराष्ट्रीय पंचाट के अधिकारक्षेत्र को कबूल नहीं करता है. अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि इस 'बाध्यकारी' फैसले को पाकिस्तान द्वारा नहीं माने जाने की स्थिति में भारत क्या-क्या कर सकता है, या दूसरे शब्दों में उसके पास क्या-क्या विकल्प बचते हैं.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में  जा सकता है भारत...
विशेषज्ञों के अनुसार, इन परिस्थितियों में भारत के पास संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जाने का विकल्‍प मौजूद है, क्योंकि संयुक्‍त राष्‍ट्र (UN) का चार्टर कहता है कि हर यूएन सदस्‍य अंतरराष्‍ट्रीय पंचाट के फैसलों को मानने को बाध्‍य है, और यदि कोई पार्टी या पक्ष आईसीजे के फैसले का क्रियान्‍वयन करने में विफल रहता है, तो दूसरा पक्ष या पार्टी सुरक्षा परिषद का रुख कर सकता है, जहां सुरक्षा परिषद फैसले का क्रियान्‍वयन करवाए जाने के उपायों पर विचार करेगी.

इस संबंध में पूर्व सॉलिसिटर जनरल सिद्धार्थ लूथरा की राय है - हालांकि यह सही है कि जिस तरह घरेलू अदालत के किसी फैसले को लागू किया जाता है, ठीक उसी तरह इसे लागू नहीं किया जा सकता, लेकिन इस तरह के सूरतेहाल में भारत, पाकिस्‍तान के खिलाफ प्रतिबंध लगाए जाने की बात कह सकता है.

सिद्धार्थ लूथरा ने कहा, ''आईसीजे ऐसा निकाय है, जहां आप सहमति के आधार पर जाते हैं... इस मामले में पाकिस्‍तान कह सकता है कि भारत ने आईसीजे में जाने से पहले हमसे सहमति नहीं ली थी, सो, इस मामले में कोर्ट के अधिकारक्षेत्र पर सवाल उठ सकता है... ऐसे फैसले वास्‍तव में तभी बाध्‍यकारी होते हैं, जब संबंधित सभी देश इसे मानने पर सहमति देते हैं... यदि पाकिस्‍तान इस फैसले के खिलाफ जाता है, तो भारत इस मसले को सुरक्षा परिषद के पास ले जा सकता है...''

दरअसल, भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव (46) को इसी साल मार्च में पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी, जिस पर रोक का अनुरोध करते हुए भारत ने आईसीजे का दरवाज़ा खटखटाया था. अंतरराष्ट्रीय पंचाट ने गुरुवार को भारत की दलीलों को कबूल करते हुए कुलभूषण की फांसी की सजा पर अंतरिम रोक लगा दी थी, लेकिन इसके बाद पाकिस्तान ने पंचाट के फैसले के खिलाफ बयान दिया.

आईसीजे के चार्टर के अनुच्छेद 59 के मुताबिक अदालत का फैसला सभी पक्षों के लिए बाध्यकारी होता है, और उसे सभी को मानना पड़ता है, लेकिन फैसला आने के बाद पाकिस्तान के एक टीवी चैनल से बात पाक विदेश कार्यालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने कहा कि जाधव का मामला अंतरराष्ट्रीय पंचाट में ले जाकर भारत ने 'अपना असली चेहरा छिपाने की कोशिश की है, और उनका मुल्क भारत को दुनिया के सामने बेनकाब करेगा...' उन्होंने कहा, जाधव ने एक बार नहीं, दो बार अपने अपराध स्वीकार किए हैं, और पाकिस्तान पहले ही आईसीजे को सूचित कर चुका है कि वह राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मामलों में उसके न्यायक्षेत्र को स्वीकार नहीं करता.

कूटनीतिक दबाव भी डाल सकता है भारत...
सुरक्षा परिषद में जाने के अलावा भारत के पास पाकिस्तान पर कूटनयिक दबाव डलवाए जाने का विकल्प भी मौजूद है, जिस पर विचार किया जा सकता है. पाकिस्तान आमतौर पर अमेरिका, रूस और सऊदी अरब जैसे देशों की बात नहीं टालता है, सो, भारत की ओर से अपने अंतरराष्ट्रीय संबंधों से भी पाकिस्तान पर दबाव डलवाया जा सकता है.

"मुख्य ख़बरें" से अन्य खबरें

Bigg Boss 11: पुनीश ने आकाश को उड़ाया, ये कंटेस्टेंट बना घर का नया कैप्टन

बिग बॉस सीजन 11 को शुरू हुए 52 दिन बीत चुके हैं, लेकिन कंटेस्टेंट्स के बीच लड़ाई-झगड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा। अब बिग बॉस के घर में कैप्टंसी टास्क के लिए जंग शुरू हो गई। बिग बॉस ने घरवालों को एक टास्क दिया है जिसमें नए कैप्टन का फैसला होना है। यह एपिसोड आज यानी गुरुवार रात को प्रसारित होगा। बता दें कि कैैप्टंसी टास्क के बिग बॉस घरवालों के नाम एक चिट्ठी भेजते हैं। 

Read More

GES 2017: समावेशी विकास के लिए मिलकर काम करते रहेंगे भारत,अमेरिका

वॉशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने आज वैश्विक उद्यमिता शिखर सम्मेलन (जीईएस) के लिए हैदराबाद रवाना होने से पहले कहा कि आर्थिक अवसरों और समावेशी विकास को बढ़ाने के लिए भारत और अमेरिका एक साथ मिलकर काम करना जारी रखेंगे. हैदराबाद में 28 से 30 नवंबर के बीच होने वाले जीईएस में इवांका अधिकारियों के एक उच्चस्तरीय अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल, महिला उद्यमियों और उद्योगपतियों का नेतृत्व करेंगी.

Read More

रेलवे में निकलीं 863 वैकेंसी इससे अच्छा मौका नहीं मिलेगा 12वीं पास के लिए ईस्टर्न

नई दिल्ली: रेलवे में नौकरी करने के इच्छुक युवाओं के लिए बंपर नौकरियां निकली है. रेलवे ने 863 पदों पर भर्तियां निकली हैं. इस नौकरी के लिए 10वीं पास युवाओं भी आवेदन कर सकते हैं. इस्टर्न रेलवे में अप्रेंटिसशिप के 863 पदों पर रेलवे ने आवेदन मंगाए हैं. 10वीं पास उम्मीदवार भी इन पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं. इच्छुक उम्मीदवार नीचे दी गई जानकारी के अनुसार आवेदन कर सकते हैं. भर्ती में अलग-अलग डिविजन के आधार पर आवेदन मांगे गए हैं, इसमें लिलुआ और हावड़ा स्टेशन शामिल है.

Read More

संजय लीला भंसाली की ‘पद्मावती’ को यूके में रिलीज करने के लिए हरी झंडी

संजय लीला भंसाली की ‘पद्मावती’ को यूके में रिलीज करने के लिए हरी झंडी मिल गई है. हरी झंडी मिलते ही यह बात कही जा रही थी कि संजय लीला भंसाली और दीपिका पादुकोण की ‘पद्मावती’ पहली दिसंबर को यूनाइटेड किंगडम (यूके) में रिलीज हो सकेगी. ब्रिटिश बोर्ड ऑफ फिल्म क्लासिफिकेशन (बीबीएफसी) ने ‘पद्मावती’ को सर्टिफिकेट जारी किया था. दिलचस्प यह है कि फिल्म को बिना किसी कट के पास किया गया.

Read More

आतंक के लिए लंदन में अय्याशी, फंड के नाम पर ना-पाक मुजरा!

कश्‍मीर में आतंकवाद और पत्‍थरबाजी को बढ़ावा देने के लिए पाकिस्‍तान में फंड जुटाने के तमाम अभियान तो चलाए ही जाते हैं, दुनिया के कई अन्‍य देशों में इस तरह के अभियान चलाए जाते हैं. अब तो आलम यह है कि पाकिस्‍तान के नेताओं को लंदन में इसके लिए मुजरा करवाना पड़ रहा है. लंदन में कश्‍मीर की आजादी के नाम पर फंड जुटाने के लिए एक कार्यक्रम हुआ और इसमें लड़कियों का डांस करवाया गया.

Read More

‘पद्मावती’ के रिलीज ना होने का इन फिल्मों को मिलेगा फायदा

नई दिल्ली: कॉमेडियन कपिल शर्मा की तबियत इन दिनों सुर्खियों में हैं. वे अपनी फिल्म को प्रमोट करने के लिए पिछले दिनों अक्षय कुमार के शो में नहीं पहुंच पाए थे, जिसे लेकर तरह-तरह की बातें की गई थीं. लेकिन अब खबर आ रही है कि उनकी बतौर प्रोड्यूसर पहली फिल्म ‘फिरंगी’ 24 नवंबर को रिलीज नहीं होगी. इसकी वजह फिल्म को अभी तक सेंसर सर्टिफिकेट नहीं मिलना बताया जा रहा है. 

Read More

भारत की बड़ी जीत:ICJ में भारत के दलवीर भंडारी चुने गए, कांटे की टक्कर में ब्रिटेन बाहर

संयुक्त राष्ट्र: अंतरराष्ट्रीय अदालत में भारत की ओर से नामित दलवीर भंडारी के निर्वाचन पर ब्रिटेन का कहना है कि वह करीबी दोस्त भारत की जीत से खुश है. भंडारी की जीत ब्रिटेन द्वारा चुनाव से अपना प्रत्याशी वापस लिये जाने के कारण संभव हुई है. संयुक्त राष्ट्र महासभा में भंडारी को 193 में से 183 वोट मिले जबकि सुरक्षा परिषद् में सभी 15 मत भारत के पक्ष में गये. इस चुनाव के लिए न्यूयॉर्क स्थित संगठन के मुख्यालय में अलग से मतदान करवाया गया था. इस दौर के मतदान से पहले ब्रिटेन द्वारा बड़े ही आश्चर्यजनक तरीके से अपना प्रत्याशी वापस लिये जाने के कारण हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत के लिए भंडारी का पुन:निर्वाचन संभव हो सका है.

Read More

म्यांमार के बाद श्रीलंका में सांप्रदायिक दंगा

कोलंबो: श्रीलंकाई सैनिकों ने रविवार (19 नवंबर) को राजधानी कोलंबो के दक्षिण में करीब 110 किलोमीटर दूर तटीय शहर गिंटोटा में गश्त किया. गिंटोटा में श्रीलंकाई सिंहलियों और मुस्लिम समुदायों के बीच हुई हिंसा में करीब 90 घरों को नुकसान पहुंचा और कारें जला दी गईं. गुरुवार (16 नवंबर) को एक सड़क दुर्घटना को लेकर हुई कहासुनी बहुसंख्यक सिंहलियों और अल्पसंख्यक मुस्लिमों के बीच हिंसक झड़प में तब्दील हो गई. थलसेना और नौसेना को स्थानीय पुलिस की मदद के लिए तैनात किया गया है. हालात बिगड़े हुए हैं. कम से कम पांच लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जबकि दंगे में करीब 90 इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं.

Read More

पद्मावती रिलीज पर संकट- बिना मंजूरी सेंसर बोर्ड ने लौटाई फ़िल्म

फिल्म पद्मावती को लेकर विवाद है कि खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है कि इसी बीच फिल्म की रिलीज पर भी संकट गहरा गया है। सेंसर बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन ने तकनीकी कारणों का हवाला देते हुए इस फिल्म को इसके निर्माताओं को वापस लौटा दिया है। एएनआई के मुताबिक “सूत्रों का कहना है कि मामले को सुलझाने के बाद फिल्म के निर्माता फिर से इसे पास कराने के लिए सीबीएफसी को भेज देंगे।” 

Read More

एक साथ लड़ेंगे आतंकवाद के खिलाफ भारत, फ्रांस

भारत और फ्रांस ने बढ़ते आतंकवाद पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए शुक्रवार को आतंकरोधी सहयोग बढ़ाने का निर्णय किया। दोनों देशों ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आतंकवादियों को आर्थिक मदद, आश्रय देने और उन्हें सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराने वालों का विरोध करने को कहा है।
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपने फ्रांसीसी समकक्ष ज्यां-येव्स ली द्रेन के साथ व्यापक मुद्दों पर मुलाकात के बाद संयुक्त प्रेस कार्यक्रम में ये बातें कही। बैठक में दोनों देशों के बीच महत्वपूर्ण द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा हुई।

Read More