mp mirror logo

चंबल से 61 लाख लोगों की प्यास बुझा रहा राजस्थान,फिसड्‌डी MP नहीं ले पा रहा एक बूंद पानी भी

ग्वालियर.चंबल के नाम से पहचाने जाने वाले अंचल के शहर और गांव चंबल नदी के किनारे बसे होने के बाद भी प्यासे हैं। जबकि राजस्थान के 11 बड़े शहरों सहित सैकड़ों गांव चंबल नदी से लगभग 827 मिलियन लीटर (82.70 करोड़ लीटर यानी राष्ट्रीय मानक 135 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन के हिसाब से लगभग 61 लाख लोगों के लिए रोज का पानी) पानी ले रहे हैं।
नर्मदा के महत्व को एक बार फिर से जागृत करने में लगी मप्र सरकार चंबल से एक बूंद पानी भी प्रदेश के शहरों के लिए नहीं ले पाई है। ये स्थिति तब है जब चंबल 346 किमी मप्र के हिस्से में बहती है। इंदौर में महू क्षेत्र से भिंड के पास पचनदा तक आने वाली चंबल पर प्रदेश का एकमात्र बांध मंदसौर में गांधी सागर है, लेकिन यहां भी चंबल से पानी की सप्लाई अभी तक शुरू नहीं हो पाई है। इस क्षेत्र में गरोठ तहसील तक जरूर पानी की लाइन पहुंच गई है।
फॉरेस्ट की एनओसी मिली पर मुरैना में आसान नहीं है राह
मुरैना के लिए अभी हाल ही में प्रोजेक्ट को केंद्रीय वन मंत्रालय की मंजूरी मिल गई है, लेकिन 160 करोड़ की योजना काफी पुरानी होने की वजह से डीपीआर नए सिरे से बनाई जाएगी। भिंड कलेक्टर टी इलैया राजा ने चंबल से पानी लाने के लिए 150 करोड़ का प्रोजेक्ट राज्य शासन को भेजा था। केंद्र की एनओसी का हवाला देते हुए इसे राज्य सरकार ने ही खारिज कर दिया।
भोपाल-इंदौर में तो पहाड़ चढ़ाकर ला रहे नर्मदा का पानी
प्रदेश की राजधानी भोपाल और आर्थिक राजधानी इंदौर में तमाम बाधाओं के बाद नर्मदा का पानी पहुंच गया है। भोपाल में 306 करोड़ की लागत से तैयार परियोजना के जरिये 75 किमी दूर सीहोर जिले के शाहगंज हीरानी से नर्मदा का पानी लिफ्ट कर सप्लाई किया जा रहा है। दूसरी ओर इंदौर में 1000 करोड़ रुपए खर्च कर तीन चरणों में 180 एमएलडी नर्मदा का पानी पहुंचाने का काम किया गया। इसके अलावा महू, राऊ और आसपास की तहसीलों में भी 50 एमएलडी पानी की सप्लाई हो रही है।
हम विचार कर रहे हैं, पांच साल में 5 प्रोजेक्ट पूरे कर लिए राजस्थान ने
वर्ष 2010 में मुरैना-ग्वालियर का प्रस्ताव बनाकर हम उस पर एक कदम भी आगे नहीं बढ़ पाए। उधर राजस्थान ने इस बीच में भीलवाड़ा और कोटा की दूसरी परियोजना पूरी कर ली। बूंदी में दो माह के अंदर पानी की सप्लाई शुरू हो जाएगी। करौली, सवाई माधौपुर और गंगापुर परियोजना मार्च 2018 तक पूरी हो जाएंगी। बोराबासा-मंडाना परियोजना पर काम चल रहा है।
नगर विकास मंत्री माया सिंह से सीधी बात…
मुरैना के लिए प्रोजेक्ट शुरू, ग्वालियर में 2050 तक पर्याप्त पानी
चंबल नदी से राजस्थान 827 एमएलडी पानी लेने की तैयारी में है, लेकिन हमारी सरकार योजनाएं तक नहीं बना पाई?
-मुरैना की योजना मंजूर हो गई है, इस पर काम भी शुरू हो गया है।
मुरैना तक पानी लाने की राशि केंद्र सरकार ने मंजूर कर दी थीं। वर्ल्ड बैंक से लोन लेने के निर्णय के बाद नए सिरे से डीपीआर बनाने के निर्देश दिए गए हैं?
-नहीं-नहीं ऐसा नहीं है। मुरैना में चंबल से पानी लाने वाली योजना का काफी कुछ काम हो गया है। रही बात ग्वालियर की तो यहां हमारे पास वर्ष 2050 तक के लिए पर्याप्त पानी है।
राजस्थान के कई जिलों में चंबल का पानी जा रहा है या इंदौर और भोपाल में नर्मदा से पानी लिफ्ट कर लाया गया है, लेकिन वहां के बिलों में बढ़ोतरी नहीं हुई? ऐसा ग्वालियर के लिए ही क्यों?
यह सवाल सुनकर फोन कट गया। दोबारा बात करने का प्रयास किया तो व्यस्तता की बात कही।

"जिलों की ख़बरें" से अन्य खबरें

गौरी सरोवर को सुन्दर बनाने के प्रयास जारी रहेंगे-प्रभारी मंत्री

राजस्व, विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा है कि भिण्ड में स्थित गौरी सरोवर को स्वच्छ और सुन्दर बनाने के प्रयास जारी रहेंगे। इस सरोवर पर 2 करोड़ 11 लाख रूपए की लागत से पुल का शिलान्यास किया गया है। इस पुल के बनने से करीबन 25 हजार लोगों को सुविधा प्राप्त होगी। वे आज जिला मुख्यालय भिण्ड स्थित गौरी सरोवर के पुल के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे। 

Read More

पूर्व मंत्री पटेल को BJP ने दिया नोटिस, चंद घंटे बाद संगठन मंत्री से मिलने पहुंचे

भोपाल. रेत के अवैध खनन को लेकर अफसरों पर 5000 करोड़ रुपए डकारने का आरोप लगा रहे पूर्व मंत्री व भाजपा नेता कमल पटेल पर पार्टी भड़क गई है। पिछले कई दिनों की बयानबाजी के बाद अंतत: शुक्रवार को प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने पटेल को नोटिस जारी कर दिया।
इसमें चौहान ने पटेल की बयानबाजी को घोर अनुशासनहीनता बताते हुए सात दिन में जवाब मांगा है। साथ ही कहा है कि खुद आकर स्पष्टीकरण दो वर्ना निलंबित किया जाएगा। कमल पटेल को जैसे ही इस नोटिस की जानकारी मिली, वे भाजपा दफ्तर पहुंचे और संगठन महामंत्री सुहास भगत को सफाई दी। 

Read More

प्रदेश में पहली बार इंदौर में सैमसंग ने तैयार की ट्रेनिंग लैब

इंदौर. मप्र में शुरू हुए स्किल्ड एमपी अभियान का असर दिखाई दे रहा है। दुनिया की जानी मानी टेक्नो कंपनी सैमसंग ने इंदौर आईटीआई में अपनी ट्रेनिंग लैब तैयार कर ली है। करीब एक करोड़ से बनी इस लैब में युवाओं को टीवी, मोबाइल, वॉशिंग मशीन, एयर कंडिशनर सहित अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण सुधारने की ट्रेनिंग दी जाएगी। लैब में सैमसंग के उपकरण भी लगा दिए गए हैं। दो लैब के साथ दो मास्टर क्लासरूम भी बनाए हैं।15 जून से ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू होंगे। 6-6 महीने के प्रोग्राम में कुल 60 (30 लड़के और 30 लड़कियों) युवाओं को ट्रेनिंग दी जाएगी। सैमसंग सहित 15 कंपनियों ने डेढ़ महीने पहले प्रदेश के अलग-अलग आईटीआई से एमओयू साइन किए थे।

Read More

कालाधन :अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य पर कसा आयकर का शिंकजा

ग्वालियर । मध्यप्रदेश के ग्वालियर शहर में आयकर विभाग की इन्वेस्टिगेशन विंग ने अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य डॉ एएस भल्ला के बसंत विहार स्थित सहारा अस्पताल पर सर्वे की कार्रवाई की है.

जानकारी के अनुसार, बुधवार करीब शाम 7 बजे आयकर विभाग के इन्वेस्टिगेशन विंग के सहायक आयुक्त के नेतृत्व में छापामार कार्रवाई की गई. एक टीम डॉ. भल्ला के बसंत विहार स्थित सहारा अस्पताल में पहुंची, वहीं दूसरी टीम ने उनके घर पर भी दस्तावेजों को खंगाला.

Read More

सेक्स रैकेट के लिए कम उम्र की लड़कियोंं पर नजर, कई कमसिन लड़कियां हुई गायब

जबलपुर। फेसबुक पर चल रहे सेक्स रैकेट में सेक्स सर्विस के लिए कम उम्र की लड़कियोंं को धकेला जा रहा है। यही कारण है कि क्षेत्र में किशोरियों के गायब होने की घटनाओं की जैसे बाढ़ सी आ गई है। दो दिनों में ही पांच किशोरियां गायब हो चुकी हैं। गौरतलब है कि गुम हुई सभी लड़कियों की उम्र 14 साल से 16 साल के बीच की है।

देह के धंधे में धकेल रहे दलाल
रांझी, हनुमानताल, गोरखपुर और अधारताल थाना क्षेत्रों में दो दिनों में पांच किशोरियों के गायब हो जाने का मामला दर्ज कराया गया है। इनमें दो सगी बहनें भी शामिल हैं। ऐसा लग रहा है कि कोई गैंग कमसिन लड़कियोंं की तस्करी में लगी हुई है। 

Read More

भाजपा युवा मोर्चा की प्रदेश कार्यकारिणी घोषित

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने युवा मोर्चा की प्रदेश कार्यकारिणी घोषित कर दी है।

Read More

मंत्री आर्य के इस्तीफे की मांग पर सीएम हाउस के बाहर धरना, कांग्रेस नेता गिरफ्तार

भोपाल। राज्यमंत्री लालसिंह आर्य के इस्तीफे की मांग को लेकर नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह सीएम हाउस के बाहर धरना देने पहुंचे। इस दौरान उनके साथ बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता मौजूद थे जो विधायक की हत्या के आरोपी मंत्री आर्य के इस्तीफे की मां कर रहे थे। कांग्रेस के प्रदर्शन को देखते हुए इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।

Read More

सीएम शिवराजसिंह का एलान, नर्मदा में आज से सभी तरह का खनन बंद

भोपाल। नर्मदा सेवा यात्रा के समापन के बाद अब सीएम शिवराजसिंह ने एक बडा एलान करके सबको चौंका दिया है। सीएम शिवराजसिंह ने कहा है कि नर्मदा नदी में अब किसी भी तरह का खनन नहीं होगा। नर्मदा नदी में खनन पूरी तरह से बंद किया जाएगा।

उन्होनें कहा है कि इसके लिए मंत्री राजेन्द्र शुक्ला की अध्यक्षता में एक कमेटी बनायी गयी है, जब तक कमेटी की रिपोर्ट नहीं आ जाती, तब तक वैध खनन भी बंद रहेगा। राज्य सरकार आज इसकी अधिसूचना जारी कर देगी।

Read More

मध्यप्रदेश के सतना में पाकिस्तान से आया फोन,मोदी को उड़ाने का कितना लोगे ?

हाल ही में खुफिया एजेंसियों ने PM मोदी पर आतंकी हमले की आशंका जताई थी। बताया गया था कि मोदी कश्मीरी आतंकियों के निशाने पर है। मध्य प्रदेश के सतना में एक शख्स के पास शनिवार को फोन आया है। फोन करने वाले शख्स ने कहा कि 25 तारीख को मोदी प्रचार करने मुंबई आ रहे हैं, उन्हें वहीं उड़ाना है। कीमत बोलो, कितना लोगे ? फोन से घबराए व्यक्ति ने इस बात की जानकारी पुलिस को दी।

Read More

CM सीएम शिवराज सिंह चौहान ने आंगनबाड़ी में गुजारा काफी वक्त बच्चों के साथ खाई खिचड़ी

भोपाल/होशंगाबाद।सीएम शिवराज सिंह चौहान शनिवार को केंद्रीय वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री अनिल माधव दवे की अस्थियां उठाने बांद्राभान तट पर पहुंचे। एक चुटकी अस्थि नर्मदा में विसर्जित कर जब वे लौट रहे थे, तभी उनकी नजर वहां खेल रहे बच्चों पर पड़ी। उन्होंने पास जाकर बच्चों से बातचीत की और उनके साथ आंगनबाड़ी में खिचड़ी खाई। पढ़ें पूरी खबर...

आंगनबाड़ी केंद्र पहुंचकर बच्चों के साथ खाई खिचड़ी
दवे की अस्थियां विसर्जित कर लौट रहे सीएम शिवराज सिंह चौहान अचानक बांद्राभान पर बने एक आंगनबाड़ी केंद्र में पहुंच गए। यहां उन्होंने बच्चों के साथ खिचड़ी खाई और आंगनबाड़ी केंद्र की व्यवस्थाएं देखी। इस दौरान उन्होंने बच्चों के साथ काफी वक्त गुजारा और उनसे पढ़ाई और व्यवस्थाओं के बारे में भी पूछा।

Read More