mp mirror logo

हंगामा व वेल में नारेबाजी से दोनों सदन कल 11 बजे तक स्थगित

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की 17वीं विधानसभा के पहले सत्र का पहला दिन आज हंगामे की भेंट चढ़ गया। समाजवादी पार्टी के साथ ही बसपा व कांग्रेस के विधायकों के प्रदेश में खराब कानून-व्यवस्था को लेकर हंगामा किया। जिसके कारण राज्यपाल के संबोधन के बाद आज दोनों सदन को कल दिन में 11 बजे तक स्थगित कर दिया गया। 

विधान परिषद में भी विपक्ष ने काफी हंगामा किया। इस दौरान वेल में नारेबाजी भी की गई। जिसके कारण सदन की आगे की कार्यवाही कल तक 11 बजे तक स्थगित कर दी गई है। 

लखनऊ में आज विधानसभा की कार्यवाही शुरु होते ही हंगामा होने लगा। इस हंगामा के दौरान राज्यपाल राम नाईक के ऊपर विपक्ष ने कागज के टुकड़े फेंके। लॉ एंड आर्डर की स्थिति को लेकर समाजवादी पार्टी के विधायको ने हाथ में बैनर और तख्ती लेकर प्रदर्शन और हंगामा किया। विपक्षी विधायक सदन में प्लेकार्ड लेकर आए थे। राज्यपाल का अभिभाषण शुरू होते ही समाजवादी पार्टी के विधायकों ने उनकी ओर कागज के गोले फेंके। सभी सपा नेता लाल टोपी पहनकर आए हैं और हाथों में सीटी भी थी। कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष लामबंद है।
हंगामे के बीच राज्यपाल ने पूरा किया संबोधन

राज्यपाल राम नाइक ने हंगामे और नारेबाजी के दौरान ही अपना संबोधन पूरा किया। विपक्ष के हंगामे पर कैबिनेट के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि हम आशा करते हैं कि विपक्ष अपनी सकारात्मक भूमिका निभाएगा। सिद्धार्थ नाथ ने कहा कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर विपक्ष को आत्मनिरीक्षण करना चाहिए। सिद्धार्थ नाथ सिंह ने समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि सपा सरकार खुद राज्य की कानून-व्यवस्था बेहतर नहीं कर पाई और हमसे 50 दिनों की रिपोर्ट मांगी जा रही है। इससे पहले राज्यपाल राम नाईक के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी विधानभवन में पहुंचे। राष्ट्रगान के बाद विधानसभा की कार्यवाही शुरु की गई।

भाजपा ने नए विधायकों को प्रशिक्षित किया 

विपक्ष के विरोध को झेलने के लिए भाजपा ने पूरी तैयारी की है। नए विधायकों को सदन में व्यवहार के लिए प्रशिक्षित किया गया है। सरकार भी करीब 2 महीने के शासनकाल के दौरान अपने कामों का खाका पेश करेगी। सदन में विपक्ष का संख्या बल महज 74 विधायकों का है, लेकिन हाल ही में बुलंदशहर, सहारनपुर, संभल और गोंडा में जातीय और सांप्रदायिक हिंसा को मुद्दा बनाकर सरकार के पक्ष को कमजोर करने की कोशिश होगी।


उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की हुकूमत कायम होने के बाद सोमवार 15 मई से पहले विधानसभा सत्र की शुरुआत हुई। 17वीं विधानसभा के गठन के बाद विधानमंडल का आज पहला सत्र है। विधानसभा अध्यक्ष की अगुआई में कार्य मंत्रणा समिति की बैठक में 15 से 22 मई तक के कार्यक्रम को मंजूरी दी गई। इस बीच सदन की छह बैठकें होंगी। सत्र के दौरान विधानसभा की कार्यवाही का लोकसभा की तरह दूरदर्शन पर सीधा प्रसारण होगा। 

विपक्ष कर सकती है इन मुद्दों पर हमला

विपक्ष ने विधानसभा के पहले सत्र में योगी सरकार पर जोरदार हमला करने की तैयारी कर ली है। ऐसे में सदन में कितनी मर्यादा का ख्याल रखा जाएगा और नेता चर्चा कितनी करेंगे यह देखना दिलचस्प होगा। विपक्ष की ओर से योगी सरकार पर पहला हमला कानून व्यवस्था को लेकर किया जाएगा। इसके अलावा ब्याज सहित गन्ना मूल्य भुगतान, समाजवादी पेंशन बंद करने और प्रदेश में विकास कार्य ठप रहने के मुद्दों पर भी सरकार को विपक्ष घेरने की कोशिश करेगा।

सदन संचालन के लिए कल बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी दलों के नेताओं से सहयोग की अपेक्षा की और सदन अधिकतम अवधि तक चलाए जाने का आश्वासन भी दिया। उन्होंने कहा कि सभी सदस्य शांतिपूर्वक राज्यपाल का अभिभाषण सुनें ताकि पता चले कि सरकार लोक कल्याण के कौन से काम कर रही है। 

विधानसभा अध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित का कहना था कि तार्किक व गुणात्मक बहस से ही जनता को लाभ पहुंचाया जा सकता है। संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि पक्ष व विपक्ष के सहयोग से ही सदन को सुचारू रूप से चलाया जा सकता है। बैठक में नेता विरोधी दल रामगोविंद चौधरी की गैरहाजिरी चर्चा का मुद्दा थी। चौधरी का कहना है अपरिहार्य कारणों से वह बैठक में नहीं पहुंच सके। इसे किसी तरह के विरोध से नहीं जोड़ा जाना चाहिए। बैठक में बसपा के लालजी वर्मा, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के ओमप्रकाश राजभर, व कांग्रेस के अजय कुमार व अपना दल के नील रतन सिंह पटेल 'नीलू' ने अपने दलों की ओर से सहयोग प्रदान करने का आश्वासन दिया। 

जीएसटी पर हो सकती है बहस

वैसे तो योगी सरकार का विधानसभा में बहुमत है लेकिन विधानपरिषद में समाजवादी पार्टी बहुमत में है। विपक्ष जोरदार हमले में कोई कोर कसर नहीं छोडऩा चाहता। संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना के अनुसार इसी सत्र में जीएसटी विधोयक भी पारित कराया जाना है। सरकार की कोशिश है इसे जल्द से जल्द पारित करा लिया जाए।

विधानसभा अध्यक्ष ने विधानभवन की सुरक्षा समिति की बैठक बुलाई। उन्होंने विधानभवन परिसर के भीतर और बाहर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद रखने के निर्देश दिए।

"राजनीतिक खबरें" से अन्य खबरें

राहुल का PM पर बड़ा हमला, बोले- मोदी की नीतियों से जल रहा कश्मीर

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कश्मीर को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बड़ा हमला किया है. राहुल गांधी ने कहा कि कश्मीर भारत है और भारत कश्मीर है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों की वजह से कश्मीर जल रहा है. ये सरकार कश्मीर को संभाल पाने में नाकाम रही है.

Read More

बीजेपी ने मायावती के इस्तीफे को बताया हताशा में किया एक ‘ड्रामा’v

बीजेपी ने राज्यसभा से इस्तीफा देने पर आज बीएसपी सुप्रीमो मायावती को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उनका यह कदम ‘ड्रामा’ है. इसका मकसद भावुकता पैदा कर ‘भ्रम’ पैदा करना है.

नई दिल्ली। बीजेपी ने राज्यसभा से इस्तीफा देने पर बीएसपी सुप्रीमो मायावती को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उनका यह कदम ‘ड्रामा’ है. इसका मकसद भावुकता पैदा कर ‘भ्रम’ पैदा करना है. बीजेपी महासचिव भूपेंद्र यादव ने कहा कि लोग अब मायावती से गुमराह नहीं होने वाले .

Read More

मॉब लिंचिंग पर राज्यसभा में हंगामा, सरकार ने कहा- राज्यों को सख्ती के दिए निर्देश

संसद के मानसून सत्र के तीसरे दिन बुधवार को दोनों सदनों में हंगामा हुआ. राज्यसभा में मॉब लिंचिंग और गोहत्या के मुद्दे पर बहस हुई. राज्यसभा में केंद्रीय गृहराज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा कि पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में मॉब लिंचिंग और गोरक्षकों के मुद्दे पर बोल दिया है, अगर जरुरत होगी तो PM सदन में बयान देंगे.

अहीर ने कहा कि देश में 5 राज्यों में गोहत्या पर रोक नहीं है, बाकी सभी राज्यों में गोहत्या पर रोक है. मंत्री ने कहा कि मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर राज्य सरकारों को एक्शन लेने के निर्देश दिए गए हैं. दिग्विजय सिंह ने कहा कि पिछले काफी समय से इस तरह की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है.

Read More

एकदम सटीक है मायावती का 'इस्तीफा दांव', होंगे ये 5 बड़े सियासी फायदे

मंगलवार को संसद का मानसून सत्र शुरू होते ही मायावती अचानक सियासी पर्दे पर आकर छा गईं. बीएसपी सुप्रीमो मायावती सहारनपुर के मुद्दे पर राज्यसभा में बोलने को खड़ी होती हैं, सभापति उन्हें बोलने से रोकते हैं. संसद में रोज ऐसा नजारा देखने को मिलता है. लेकिन यहां हालात कुछ और बन गए. मायावती के तेवर अचानक तल्ख होते हैं और ये कहते हुए वे सदन से बाहर चली जाती हैं कि जब वे अपनी बात नहीं रख सकती तो राज्यसभा की सदस्यता का क्या मतलब. वे ऐलान करती हैं कि आज ही इस्तीफा देंगी और फिर शाम तक इस्तीफा दे देती हैं.

Read More

राष्ट्रपति चुनाव पर दो खेमों में बंटी समाजवादी पार्टी, एक का समर्थन कोविंद को तो दूसरे ने कहा मीरा कुमार को देंगे वोट

राष्ट्रपति चुनाव में पसंद के उम्मीदवार को लेकर एक बार फिर समाजवादी पार्टी में विवाद होता नजर आ रहा है। एक तरफ जहां पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव विपक्षी उम्मीदवार मीरा कुमार को समर्थन देने पर जोर दे रहे हैं वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह और उनके भाई शिवपाल सिंह का झुकाव संभावित तौर पर एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद की तरफ नजर आ रहा है। 

Read More

राष्ट्रपति पद के लिए मीरा कुमार का समर्थन करेगी ‘आप’

आम आदमी पार्टी (आप) राष्ट्रपति पद के लिए विपक्षी गठबंधन संप्रग की संयुक्त उम्मीदवार मीरा कुमार का समर्थन करेगी। ‘आप’ के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में गुरुवार को पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) की बैठक में यह फैसला किया गया। 

Read More

PWD ने अवैध कब्जे को लेकर AAP पर लगाया 27 लाख का जुर्माना

नई दिल्ली।आम आदमी पार्टी की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं। पीडब्ल्यूडी ने पार्टी पर शिकंजा कसते हुए जुर्माना लगाया है। दरअसल निर्धारित समय पर ऑफिस खाली न करने को लेकर दिल्ली सरकार के लोक निर्माण विभाग ने आप पर 27 लाख का जुर्माना लगाया।

Read More

अमरनाथ हमला: उद्धव का BJP पर निशाना, गोरक्षकों को आतंकियों से लड़ने भेजो

अमरनाथ तीर्थयात्रियों पर आतंकवादी हमले को लेकर भाजपा पर निशाना साधते हुए शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा है कि अपनी पार्टी के वरिष्ठ सहयोगी दल को कश्मीर में आतंकवादियों से लड़ने के लिये गोरक्षकों को भेजने को कहा।

Read More

राष्ट्रपति चुनाव के लिए सीएम ने कांग्रेस की झोली से छीना एक वोट

रायपुर। राष्ट्रपति पद के लिए यूपीए की उम्मीदवार मीरा कुमार बुधवार को रायपुर आ रही हैं। उनके पक्ष में वोट डलवाने के लिए कांग्रेस विधायक दल के नेता टीएस सिंहदेव ने पार्टी के 39 विधायकों के अलावा एकमात्र निर्दलीय विधायक डॉ. विमल चोपड़ा, बसपा विधायक केशव चंद्रा और जोगी समर्थक सियाराम कौशिक से बात कर उन्हें बुलाया है।

Read More

योगी सरकार ने पेश किया भारी भरकम बजट, कर्जमाफी के लिए 36 हजार करोड़

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव संपन्न होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली सरकार ने वर्ष 2017-18 के लिए 3 लाख 84 हजार 659 करोड़ रुपये का भारी भरकम बजट पेश किया. बजट की खास बात यह है कि किसानों की कर्जमाफी के लिए बजट से ही 36 हजार करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है.

Read More