mp mirror logo

गुजरात बोर्ड में ऑटो ड्राइवर की बेटी को मिले 99.72 प्रतिशत अंक

अहमदाबाद । गुजरात में कक्षा 12 की साइंस स्ट्रीम के परीक्षा परिणाम घोषित किए जा चुके हैं। 11 मई को जब परीक्षा परिणाम घोषित किए गए तब फरहाना के परिवार का खुशी ठिकाना ना रहा है। क्योंकि इस परीक्षा में ऑटो ड्राइवर फारुखभाई की बेटी फरहाना ने 99.72 फीसदी अंक हासिल किए। शुरू में मेडिकल स्ट्रीम में बेटी फरहाना के इतने अंक लाने पर परिवार का खुशी से ठिकाना ना रहा है लेकिन वित्तीय बाधाओं के कारण अब बेटी को भविष्य को लेकर संकट बना हुआ है।

बेटी के परीक्षा में इतने हासिल करने पर फरहाना की मां शमीम बवानी कहती हैं कि कोई खुशी नहीं है हमें। मां आगे कहती हैं कि गुजराती होने की वजह से हमारा परिवार खुश नहीं है क्योंकि नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) की अंग्रेजी में जो परीक्षा थी वो एकदम अलग थी जबकि गुजराती भाषा की परीक्षा ज्यादा कठिन थी।

मां आगे कहती हैं कि ये संयुक्त परीक्षा परिणाम फरहाना और उसके साथ हजारों छात्रों के लिए बिल्कुल भी न्याय संगत नहीं होगा। फरहाना की मां आगे कहती है कि इससे सभी छात्र निराशा थे। वो कहती है कि मेरी बेटी ने इस परीक्षा के इतर भविष्य में अन्य किसी विकल्प पर विचार नहीं किया था। हमारी अब सिर्फ एक ही प्रार्थना है कि सरकार गुजराती और अंग्रेजी माध्यम के परीक्षा परिणाम अलग-अलग घोषित करे। हो सकता है इसमें बेटी को कोई विकल्प मिल जाए।

अहमदाबाद के रायखंड इलाके में रहने वाली फरहाना की मां आगे कहती हैं कि उनकी बेटी ने चारों सेमेस्टर में अच्छे अंक हासिल किए। उसने बहुत मेहनत की लेकिन इसका क्या मतलब था। दो साल के लिए मेरी बेटी सोना और खाना दोनों भूल गई थी। उसने अपना सारा वक्त सिर्फ पढ़ाई में ही गुजारा। फरहाना की मां शमीम बवानी के अनुसार बेटी का बचपन से सिर्फ एक ही सपना था कि वो बड़े होकर डॉक्टर बने। बेटी ने माता-पिता से प्रभावित होकर अन्य विषयों की तुलना में साइंस को अपना मुख्य विषय चुना।

वहीं, NEET की परीक्षा अलग-अलग होने पर जमालपुर के एफडी हाई स्कूल में पढ़ने वाली फरहाना कहती हैं कि NEET का गुजराती भाषा का पेपर बेहद कठिन था जबकि अंग्रेजी भाषा में आया NEET का पेपर काफी सरल था। वो कहती हैं कि परीक्षा में नियम काफी कठिन थे। फरहाना कहती हैं कि परीक्षा से पहले उन्हें पूरा भरोसा था कि उनका परीक्षा परिणाम बहुत अच्छा आएगा और मुझे मुफ्त में एमबीबीएस की सीट मिलेगी। मगर मेरी परीक्षा अच्छी नहीं गई।

बता दें कि पांच सदस्यों वाले फरहाना के परिवार में पिता महीने में करीब 8 से 10 हजार ही कमा पाते हैं। फरहाना के परिवार ने बेटी को उच्च शिक्षा दिलाने के लिए बहुत मेहनत की। क्योंकि परिवार का मानना था उनके परिवार में बेटी पहली सदस्य होगी जोकि अपना सपना पूरा करेगी और उच्च शिक्षा हासिल करेगी। वहीं फरहाना के पिता फारुखभाई कहते हैं कि मैंने 12वीं तक पढ़ाई की है जबकि पत्नी 10वीं तक शिक्षा हासिल की है। हमारे परिवार के किसी सदस्य ने 12वीं से आगे की पढ़ाई नहीं की बेटी परिवार की ऐसी सदस्य होती जोकि कक्षा 12 से आगे की पढ़ाई करती।

दूसरी तरफ फरहाना बताती हैं कि पिता ऑटोरिक्शा चलाते हैं इसलिए परिवार में आर्थिक समस्या बनी रहती है लेकिन फिर भी परिवार ने पढ़ाई को लेकर पूरा समर्थन किया। पढ़ाई से जुड़ी हर चीज मुझे मुहैया कराई। फरहाना आगे कहती हैं कि ये कभी मत सोचो की तुम्हारी आर्थिक हालत अच्छी नहीं है तो तुम कुछ कर नहीं सकते। कठिन परिश्रम से सबकुछ संभव हो जाता है।

"मुख्य ख़बरें" से अन्य खबरें

हुर्रियत नेता शब्बीर शाह ने कबूला 'गुनाह', हाफिज सईद से है उसका रिलेशन

शब्बीर शाह ने (प्रवर्तन निदेशालय) ईडी से पूछताछ में कबूल किया है कि उसका पाकिस्तान में बैठे आतंकी हाफिज सईद से रिश्ता है. ईडी की ओर से शनिवार को कहा गया कि शब्बीर ने खुद माना है कि हाफिज सईद से उसके तार जुड़े हैं. इसी साल जुलाई में ईडी ने शब्बीर शाह को गिरफ्तार किया था. टेरर फंडिंग केस में शाह की गिरफ्तारी हुई है. ईडी ने शब्बीर शाह के खिलाफ शनिवार को चार्जशीट फाइल कर दी है. पिछले दिनों एनआईए ने दावा किया था कि शब्बीर शाह के नाम करोड़ों की बेनामी संपत्ति है. एनआईए के मुताबिक शब्बीर शाह सबसे रईस अलगाववादी नेता दिख रहे हैं. 

Read More

सार्क समिट पर लगातार दूसरे साल ग्रहण, पड़ोसी देशों ने भारत के साथ दिखाई एकजुटता

दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) के देशों ने आतंकवाद के मुद्दे पर भारत के साथ एकजुटता दिखाई है और ऐसा लगता है कि इस साल भी सार्क की बैठक नहीं होगी. शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की सालाना बैठक के इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सार्क देशों के प्रतिनिधियों के साथ मुलाकात की.
मंत्रिस्तरीय बातचीत में आतंकवाद का मुद्दा छाया रहा है. एक सीनियर डिप्लोमेट्स ने आजतक को बताया कि पाकिस्तान ने इस बैठक में सार्क सम्मेलन की मेजबानी का मुद्दा उठाया. पाकिस्तान ने बैठक में कहा कि वह जल्द ही सार्क देशों की बैठक आयोजित करना चाहता है.

Read More

हनीप्रीत के पूर्व पति का दावा- मैं राम रहीम का 'दामाद' नहीं था, मुझे मारने की धमकी दी

नई दिल्‍ली : साध्‍वियों से दुष्‍कर्म के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत की तरफ से रामरहीम के जेल जाने के बाद हनीप्रीत और बाबा को लेकर कई चौंकाने वाले खुलासे हो चुके हैं. कुछ मीडिया रिपोर्टस में हनीप्रीत और राम रहीम के अवैध संबंधों को लेकर भी दावा किया गया था. मीडिया रिपोर्टस में हनीप्रीत के पूर्व पति विश्‍वास गुप्‍ता से तलाक लेने की भी बात सामने आई थी. अब विश्‍वास गुप्‍ता ने शुक्रवार को हनीप्रीत और राम रहीम के संबंधों को लेकर कई अहम खुलासे किए. उसने कहा कि हनीप्रीत और राम रहीम का बाप-बेटी का रिश्‍ता नहीं था.

Read More

अमेरिका की धमकी कुत्ते के भौंकने जैसी, उत्तर कोरिया के विदेशी मंत्री ने कहा

सियोल। तमाम प्रतिबंधों के बाद भी उत्तर कोरिया अपने परमाणु कार्य़क्रम को रोक नहीं रहा। वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति उत्तर कोरिया को खुले आम धमकी दे रही हैं। ऐसे में उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री ने इस पर पलटवार किया है। न्यूयॉर्क पहुंचे विदेश मंत्री रिंग यॉन्ग हो ने अमेरिकी राष्ट्रपति की धमकी की तुलना कुत्ते के भौंकने से की की है।

Read More

बाबा ने रची थी दंगे की साजिश, हनीप्रीत को मिला था अमल में लाने का काम

चंडीगढ़. गुरमीत राम रहीम ने अपने गुंडों के साथ मीटिंग करके पंचकूला में दंगा भड़काने की साजिश रची थी। सिरसा डेरे में इसकी प्लानिंग तीन राउंड की मीटिंग में हुई थी। पहली मीटिंग में गुरमीत सिर्फ 11 खास लोगों से मिला था। इस मीटिंग में हनीप्रीत भी थी। उसका जिम्मा था कि साजिश को वैसे ही अंजाम दिया जाए जैसी प्लानिंग हुई है। इन 11 लोगों ने अगली मीटिंग में 11 अन्य डेरा समर्थकों को बाबा का हुक्म सुनाया था। तीसरी मीटिंग में यही बात अन्य समर्थकों को बताई गई। यह खुलासा अब तक पकड़े गए पांच डेरा समर्थकों से पूछताछ में हुआ है। दंगा भड़काने वालों में शामिल थे पांचों लोग...

Read More

ब्लू व्हेल गेम टास्क के लिए 700 KM दूर पहुंची गर्ल्स, फिर इनके साथ हुआ ये

होशंगाबाद/भोपाल. ऑनलाइन गेम ब्लू व्हेल के टास्क पूरा करने के लिए टीन एजर्स कुछ भी करने को तैयार हो रहे हैं। ऐसा ही एक मामला एमपी के होशंगाबाद में आया जहां आगरा से भागकर 2 लड़कियां आ गई थीं। इस तरह घर से भागकर किया टास्क पूरा...
परिवार ने किया सर्च, लोकल परिचित मिलने पहुंचे
-रात को 8 बजे होशंगाबाद के वेटिंग हॉल में दोनों बैठी थीं। 
-घर से काफी देर तक गुम होने के कारण परिजनों ने उन्हें सर्च किया। 

Read More

ब्रह्मपुत्र नदी के आंकड़े भारत को नहीं देगा चीन

बीजिंग, प्रेट्र। डोकलाम प्रकरण के बाद चीन ने कहा है कि वह ब्रह्मपुत्र नदी के जल संबंधी वैज्ञानिक आंकड़े फिलहाल भारत को उपलब्ध नहीं करा पाएगा। हालांकि चीन ने कहा कि वह सिक्किम में नाथूला दर्रे को कैलास-मानसरोवर यात्रा शुरू करने पर फिर से खोलने के लिए बातचीत के लिए तैयार है। चीन ने मंगलवार को कहा कि वह डोकलाम गतिरोध के समय जून मध्य में रोक दी गई कैलास और मानसरोवर की यात्रा को फिर शुरू करने पर भारत से बातचीत करेगा। भारतीयों की इस तीर्थयात्रा के लिए सिक्किम में नाथूला दर्रे को भारत में फिर से खोले जाने पर विचार-विमर्श होना है। पिछले माह भारत और चीन के बीच डोकलाम को लेकर 73 गतिरोध रहा था। चीन यहां पर सड़क बनाना चाहता था और भारत का इसका कड़ा विरोध कर रहा था। मानसरोवर जाने का सिक्किम का रास्ता 2015 से शुरू हुआ था। इसीलिए तीर्थयात्री बसों के जरिये नाथूला से 1500 किमी की दूरी तय करके कैलास पहुंचते हैं।

Read More

प्रियंका चोपड़ा से पूछा- विदेश की बजाए भारत के गांवों की मदद क्‍यों नहीं करतीं? मिला ये जवाब

बॉलीवुड एक्ट्रेस और वर्तमान में यूनिसेफ (UNICEF) की ग्लोबल गुडविल एंबेसडर प्रियंका चोपड़ा इंस्टाग्राम पर शेयर किए वीडियो की वजह से यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। प्रियंका चोपड़ा यूनिसेफ प्रोग्राम के तहत जॉर्डन में सीरियन बच्चों को शिक्षा के प्रति जागरुक करने के लिए पहुंची थीं। जहां उन्होंने अध्यापक के रूप में बच्चों के साथ कुछ वक्त बिताया और अंग्रेजी से जुड़े शब्द बच्चों को बताए। इसका वीडियो बॉलीवुड एक्ट्रेस ने इंस्टाग्राम पर शेयर किया। जिसपर यूजर्स ने उनके दोहरे रवैए के लिए उनपर ताना मारा। एक यूजर्स ने लिखा कि प्रियंका ये सब भारत के ग्रामीण इलाकों में करतीं जहां कुपोषित बच्चे भोजन का इंतजार कर रहे हैं। 

Read More

रोहिंग्या संकट पर भारत का समर्थन चाहता है बांग्लादेश

शरणार्थियों की वापसी के मुद्दे पर म्यांमार पर दबाव बढ़ाते हुए बांग्लादेश ने रविवार को रोहिंग्या मुद्दे से निपटने के लिए भारत से मदद की मांग की.

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक म्यांमार के उत्तरी रखाइन प्रांत में पुलिस चौकियों पर उग्रवादियों के हमले के बाद हिंसा भड़कने पर 25 अगस्त के बाद से तकरीबन 300000 रोहिंग्या मुसलमान प्रांत छोड़कर बांग्लादेश चले आए.

रोहिंग्या मुसलमानों का आरोप है कि सेना और रखाइन के बौद्धों ने उनके खिलाफ नृशंस अभियान चलाया है. हालांकि म्यांमार ने इन आरोपों को खारिज़ करते हुए कहा है कि उसकी सेना रोहिंग्या 'आतंकवादियों' के खिलाफ लड़ रही है.

Read More

ट्रेन दुर्घटनाओं को लेकर अधिकारियों पर बरसे नए रेल मंत्री पीयूष गोयल

आए दिन हो रही ट्रेन दुर्घटनाओं के मद्देनजर नवनियुक्त रेल मंत्री पीयूष गोयल ने गुरुवार को रेल अधिकारियों के साथ बैठक की और उन्हें जम कर खरी-खोटी सुनाई। इस उच्चस्तरीय बैठक में गोयल ने असंसदीय भाषा तक का इस्तेमाल कर डाला, जिससे अधिकारियों में नाराजगी है। यात्री सुरक्षा की समीक्षा के लिए बुलाई गई इस आपात बैठक में उन्होंने पुराने डिजाइन के सभी कोच हटा कर एलएचबी कोच लगाने व पटरियों की मरम्मत क ो प्राथमिकता देने सहित कई निर्देश दिए।

Read More