mp mirror logo

गुजरात बोर्ड में ऑटो ड्राइवर की बेटी को मिले 99.72 प्रतिशत अंक

अहमदाबाद । गुजरात में कक्षा 12 की साइंस स्ट्रीम के परीक्षा परिणाम घोषित किए जा चुके हैं। 11 मई को जब परीक्षा परिणाम घोषित किए गए तब फरहाना के परिवार का खुशी ठिकाना ना रहा है। क्योंकि इस परीक्षा में ऑटो ड्राइवर फारुखभाई की बेटी फरहाना ने 99.72 फीसदी अंक हासिल किए। शुरू में मेडिकल स्ट्रीम में बेटी फरहाना के इतने अंक लाने पर परिवार का खुशी से ठिकाना ना रहा है लेकिन वित्तीय बाधाओं के कारण अब बेटी को भविष्य को लेकर संकट बना हुआ है।

बेटी के परीक्षा में इतने हासिल करने पर फरहाना की मां शमीम बवानी कहती हैं कि कोई खुशी नहीं है हमें। मां आगे कहती हैं कि गुजराती होने की वजह से हमारा परिवार खुश नहीं है क्योंकि नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) की अंग्रेजी में जो परीक्षा थी वो एकदम अलग थी जबकि गुजराती भाषा की परीक्षा ज्यादा कठिन थी।

मां आगे कहती हैं कि ये संयुक्त परीक्षा परिणाम फरहाना और उसके साथ हजारों छात्रों के लिए बिल्कुल भी न्याय संगत नहीं होगा। फरहाना की मां आगे कहती है कि इससे सभी छात्र निराशा थे। वो कहती है कि मेरी बेटी ने इस परीक्षा के इतर भविष्य में अन्य किसी विकल्प पर विचार नहीं किया था। हमारी अब सिर्फ एक ही प्रार्थना है कि सरकार गुजराती और अंग्रेजी माध्यम के परीक्षा परिणाम अलग-अलग घोषित करे। हो सकता है इसमें बेटी को कोई विकल्प मिल जाए।

अहमदाबाद के रायखंड इलाके में रहने वाली फरहाना की मां आगे कहती हैं कि उनकी बेटी ने चारों सेमेस्टर में अच्छे अंक हासिल किए। उसने बहुत मेहनत की लेकिन इसका क्या मतलब था। दो साल के लिए मेरी बेटी सोना और खाना दोनों भूल गई थी। उसने अपना सारा वक्त सिर्फ पढ़ाई में ही गुजारा। फरहाना की मां शमीम बवानी के अनुसार बेटी का बचपन से सिर्फ एक ही सपना था कि वो बड़े होकर डॉक्टर बने। बेटी ने माता-पिता से प्रभावित होकर अन्य विषयों की तुलना में साइंस को अपना मुख्य विषय चुना।

वहीं, NEET की परीक्षा अलग-अलग होने पर जमालपुर के एफडी हाई स्कूल में पढ़ने वाली फरहाना कहती हैं कि NEET का गुजराती भाषा का पेपर बेहद कठिन था जबकि अंग्रेजी भाषा में आया NEET का पेपर काफी सरल था। वो कहती हैं कि परीक्षा में नियम काफी कठिन थे। फरहाना कहती हैं कि परीक्षा से पहले उन्हें पूरा भरोसा था कि उनका परीक्षा परिणाम बहुत अच्छा आएगा और मुझे मुफ्त में एमबीबीएस की सीट मिलेगी। मगर मेरी परीक्षा अच्छी नहीं गई।

बता दें कि पांच सदस्यों वाले फरहाना के परिवार में पिता महीने में करीब 8 से 10 हजार ही कमा पाते हैं। फरहाना के परिवार ने बेटी को उच्च शिक्षा दिलाने के लिए बहुत मेहनत की। क्योंकि परिवार का मानना था उनके परिवार में बेटी पहली सदस्य होगी जोकि अपना सपना पूरा करेगी और उच्च शिक्षा हासिल करेगी। वहीं फरहाना के पिता फारुखभाई कहते हैं कि मैंने 12वीं तक पढ़ाई की है जबकि पत्नी 10वीं तक शिक्षा हासिल की है। हमारे परिवार के किसी सदस्य ने 12वीं से आगे की पढ़ाई नहीं की बेटी परिवार की ऐसी सदस्य होती जोकि कक्षा 12 से आगे की पढ़ाई करती।

दूसरी तरफ फरहाना बताती हैं कि पिता ऑटोरिक्शा चलाते हैं इसलिए परिवार में आर्थिक समस्या बनी रहती है लेकिन फिर भी परिवार ने पढ़ाई को लेकर पूरा समर्थन किया। पढ़ाई से जुड़ी हर चीज मुझे मुहैया कराई। फरहाना आगे कहती हैं कि ये कभी मत सोचो की तुम्हारी आर्थिक हालत अच्छी नहीं है तो तुम कुछ कर नहीं सकते। कठिन परिश्रम से सबकुछ संभव हो जाता है।

"मुख्य ख़बरें" से अन्य खबरें

कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह ने पीएम-सीएम से मांगी 100 एकड़ जमीन

वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मांग की है कि हीरापुर के पूर्व राजा हिरदेशाह जूदेव लोधी के वंशज कौशलेन्द्र सिंह जूदेव लोधी की उनके पूर्वजों के समय से चले आ रहे आधिपत्य की 100 एकड़ जमीन उनके नाम करें। इसके अलावा, सिंह ने मोदी एवं चौहान ने अनुरोध किया कि वे हीरागढ़ के शहीद हिरदेशाह की स्मृति में ग्राम हीरापुर में स्तंभ लगवाने एवं राजा हिरदेशाह को स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की सूची में जोड़ने हेतु उचित निर्देश प्रदान करने का कष्ट करें।

Read More

नीरव मोदी को गुडबाय कहने की तैयारी में प्रियंका चोपड़ा

फिल्मस्टार प्रियंका चोपड़ा ने नीरव मोदी को नॉन पेमेंट के एंडोर्समेंट डील के लिए कानूनी नोटिस भेजा है. हालांकि, अभिनेत्री पब्लिसिस्ट और कंपनी ने नोटिस की पुष्टि से इनकार नहीं किया है. लेकिन ये पता चला है कि प्रियंका जिस ब्रांड की एंबेसडर थीं, वो डील नीरव से तोड़ना चाहती हैं. नीरव का नाम इस तरह से सामने आने के बाद प्रियंका अपनी छवि को धुमिल नहीं करना चाहतीं.

Read More

अमेरिका: स्कूल से निकाले गए लड़के ने बिछा दीं 17 लाशें

अमेरिका के फ्लोरिडा प्रांत में अनुशासनात्मक समस्याओं के चलते मैरजोरी स्टोनमैन डगलस हाई स्कूल से निष्कासित छात्र ने स्कूल में अंधाधुंध फायरिंग कर दी। बुधवार (14 फरवरी, 2018) की इस घटना में 17 लोगों की मौत हो गई है जबकि एक दर्जन से ज्यादा लोग बुरी तरह घायल बताए जाते हैं। हमलावर को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी की पहचान निकोलस क्रूज (19) के रूप में की गई है। 

Read More

ममता का बड़ा फैसला, पश्चिम बंगाल मोदी सरकार की स्वास्थ्य योजना से रहेगा बाहर

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने देश को स्वस्थ रखने के लिए अपनी नेशन्ल हेल्थ प्रोटेक्शन (मोदीकेयर) का एलान किया था । ये योजना देश के सभी क्षेत्रों के लिए है लेकिन इस योजना से पश्चिम बंगाल बाहर रहेगा। ये निर्णय करने वाला बंगाल पहला राज्य बन गया है। मोदी सरकार ने अपना आखिरी बजट पेश करते हुए इस योजना के बारे में बताया था जिसमें  50 करोड़ लोगों को स्वास्थ्य बीमा की सुविधा दी जाएगी। 

Read More

सीरिया में लड़ने वाले विदेशी लड़ाकों के खिलाफ चलें मुकदमे

नई दिल्ली : अमेरिका ने अपने सहयोगी देशों से अनुरोध किया है कि वह सीरिया में अमेरिकी समर्थन वाले सीरियाई लोकतांत्रिक बल द्वारा बड़ी संख्या में पकड़े जा रहे युद्ध बंदियों से निपटने में मदद करें.

सीरियाई लोकतांत्रिक बल युद्ध बंदियों के खिलाफ सख्ती करें.
संयुक्त राज्य अमेरिका ने चाहता है कि उनके सहयोगी देश सीरिया में अमेरिकी समर्थन वाले सीरियाई लोकतांत्रिक बल द्वारा बड़ी संख्या में पकड़े जा रहे सभी युद्ध बंदियों के खिलाफ सख्ती करें और सभी बंदियों के खिलाफ उनके देश में मुकदमा चलाया जाना चाहिए. जिससे विदेशी लड़ाकों को सबक मिलेगा और रक्षा मंत्री जिम मैटिस इस सप्ताह रोम में होने वाली बैठक में यह मुद्दा जरूर उठाएंगे.

Read More

बेटी को बचाने के लिए सड़क किनारे मां ने बेचा अपना दूध

चीन के शेन्ज़ेन में एक मां खुद का दूध बेचती हुई नजर आई। 24 वर्षीय मां सड़क किनारे खड़ी होकर हर उम्र के लोगों को अपना दूध पिलाने के लिए निमंत्रण दे रही है और बदले में उनसे पैसे ले रही है। इस काम में उसका पति भी साथ दे रहा है। जहां लड़की ब्रेस्टफीडिंग करा रही है तो उसकी बगल लड़की का पति हाथ में एक साइनबोर्ड लेकर खड़ा है। साइनबोर्ड पर एक छोटी बच्ची के बारे में बताया गया है, जोकि इस कपल की बच्ची है। इस कपल ने अपनी बीमार बच्ची को बचाने के यह अनोखा कदम उठाया है।

Read More

ट्रंप योग्यता आधारित आव्रजन सुधारों के पक्ष में हैं : व्हाइट हाउस

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप योग्यता आधारित आव्रजन प्रणाली का सर्मथन करते हैं, जो विश्वभर के बेहतरीन एवं प्रतिभाशाली लोगों को देश में आने के लिए आकर्षित करेगा. उक्त जानकारी व्हाइट हाउस ने दी है.

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव राज शाह ने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मुझे लगता है कि राष्ट्रपति कानूनी आव्रजन में सुधार चाहते हैं. वह हमें परिवार श्रृंखला आव्रजन के मौजूदा कानून से योग्यता आधारित आव्रजन की ओर बढ़ता देखना चाहते हैं.’’ 

Read More

अब अमेरिका भी करेगा सैन्य ताकत का प्रदर्शन, राष्ट्रपति ट्रंप ने पेंटागन को दिया आदेश

वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पेंटागन को आदेश दिया है कि वह सेनाओं की ‘‘प्रशंसा’’ करने के लिए एक भव्य सैन्य परेड का आयोजन करे. व्हाइट हाउस ने उक्त जानकारी दी है. दुनिया के सबसे शक्तिशाली सैन्य देश के लिए इस प्रकार सैन्य शक्ति का प्रदर्शन करना कुछ अजीब सा है. यह परेड दुनिया के अन्य देशों जैसे चीन, फ्रांस और भारत की तरह ही देश की सैन्य शक्ति का दुनिया के सामने प्रदर्शन होगा.

Read More

अक्षय कुमार ने स्मृति इरानी के लिए रखवाई ‘पैडमैन’ की स्पेशल स्क्रीनिंग

बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार की फिल्म पैडमैन 9 फरवरी को रिलीज होने जा रही है। अक्षय की इस फिल्म का दर्शकों को बेसब्री से इंतजार है। अब जब फिल्म की रिलीज डेट नजदीक है इसके चलते 'पैडमैन' का जोरों शोरों से प्रमोशन चल रहा है। हाल ही में पैडमैन की स्पेशल स्क्रीनिंग रखी गई थी। इस दौरान यह फिल्म देखने के लिए इंफॉर्मेशन और ब्रॉडकास्टिंग मिनिस्टर स्मृति इरानी भी अक्षय की फिल्म 'पैडमैन' देखने पहुंचीं। फिल्म की स्क्रीनिंग के वक्त अक्षय के साथ उनकी पत्नी और फिल्म की प्रोड्यूसर ट्विंकल खन्ना भी मौजूद थीं। 

Read More

CBSE Admit Card 2018: सीबीएसई 10वीं-12वीं बोर्ड रेग्यूलर-प्राइवेट परीक्षा के प्रवेश पत्र जारी

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन (CBSE) ने 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा के प्रवेश पत्र जारी कर दिए हैं। बोर्ड ने रेग्यूलर और प्राइवेट, दोनों श्रेणी के छात्रों के प्रवेश पत्र जारी किए हैं। रेग्यूलर छात्र अपने पवेश पत्र अपने स्कूल्स से हासिल कर सकेंगे। परीक्षा से संबंधित विभिन्न महत्वपूर्ण जानकारी, जैसे शेड्यूल, परीक्षा केंद्र, परीक्षा का समय आदि छात्रों के प्रवेश पत्र पर उपलब्ध होगी। सीबीएसई ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर प्रवेश पत्र जारी किए हैं। स्कूल्स वेबसाइट से छात्रों के प्रवेश डाउनलोड करेंगे और फिर छात्रों को मुहैया कराएंगे। रेग्यूलर छात्र सीधे वेबसाइट से प्रवेश पत्र डाउनलोड नहीं कर सकते। वेबसाइट पर उपलब्ध डाउनलोड लिंक का इस्तेमाल स्कूल्स द्वारा किया जाएगा।

Read More