mp mirror logo

मनी प्लांट लगाने से घर में बनी रहती है सुख-समृद्धि

ऐसी मान्यता है कि जिसके घर में मनी प्लांट का पौधा लगा होता है उसके उसके घर में न केवल सुख-समृद्धि में इजाफा होता है बल्कि घर में धन का भी आगमन होता है| इसी वजह से कुछ लोग घरों में मनी प्लांट का पौधा लगाते हैं| घर में मनी प्लांट लगाने पर सुख-समृद्धि में होने के साथ धन का आगमन बढ़ता है। इसी के चलते लोग अपने घरों में यह पौधा लगाते हैं।

मनीप्लांट दक्षिणपूर्व एशिया मूल (मलेशिया, इण्डोनेशिया) का लता रूप में पसरने वाला पौधा है। इसकी पत्तियाँ सदा हरी रहतीं हैं। ये तने पर एकान्तर क्रम में लगी होती हैं और हृदय जैसी आकृति वाली होती हैं। वैसे तो घर में रखने के लिए आपको कैक्टस, बोनसाई जैसे कई इंडोर प्लांट मिल जाएँगे, लेकिन कम खर्च और अच्छी ग्रोथ के कारण जो रंग मनी प्लांट आपके इंटीरियर में भरता है, वह किसी अन्य इंडोर प्लांट से संभव नहीं।

मनी प्लांट की सबसे बड़ी खासियत यह है कि घर हो या आँगन यह प्लांट कहीं भी आसानी से लग जाता है। साथ ही यह केवल पानी में भी लगाया जा सकता है और इसके रखरखाव के लिए भी ज्यादा मेहनत भी नहीं करनी पड़ती है। इसे घर के अंदर व बाहर दोनों जगह ही रखा जा सकता है।

जिस कोने में यह होता है उसकी ओर बरबस ही निगाहें चली जाती हैं। आप चाहें तो इसकी इन सुनहरी पत्तियों को काँट-छाँट कर इसे और भी आकर्षक बना सकते हैं।

 

[removed] google_ad_client = "ca-pub-2350755145535878"; google_ad_slot = "6084828147"; google_ad_width = 300; google_ad_height = 250; [removed]<!-- vertical ad -->[removed] [removed]

रखें सावधानियां...
वास्तु के अनुसार, यदि सही दिशा और सही जगह में मनी प्लांट का पौधा नहीं लगाया गया तो धनलाभ के बजाय हानि का सामना करना पड़ता है| वास्तु शास्त्रीयों का मानना है कि मनी प्लांट के पौधे के घर में लगाने के लिए आग्नेय दिशा सबसे उचित दिशा है। इस दिशा में यह पौधा लगाने से सकारात्मक ऊर्जा का भी लाभ मिलता है।

मनी प्लांट को आग्नेय यानि दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाने का कारण ये है इस दिशा के देवता गणेशजी है जबकि प्रतिनिधि शुक्र हैं। गणेश जी अमंगल का नाश करने वाले हैं जबकि शुक्र सुख-समृद्धि लाने वाले। यही नहीं बल्कि बेल और लता का कारण शुक्र को माना गया है। इसलिए मनी प्लांट को आग्नेय दिशा में लगाना उचित माना गया है।

कभी करें यह गलती
मनी प्लांट को कभी भी ईशान यानि उत्तर पूर्व दिशा में नहीं लगाना चाहिए, यह दिशा इसके लिए सबसे नकारात्मक मानी गई है। क्योंकि ईशान दिशा का प्रतिनिधि देवगुरू बृहस्पति को माना गया है। और शुक्र तथा बृहस्पति में शत्रुवत संबंध होता है। इसलिए शुक्र से संबंधित यह पौधा ईशान दिशा में होने पर नुकसान होता है। हालांकि इस दिशा में तुलसी का लगाया जा सकता है। मनी प्लांट को घर के अंदर गमले में अथवा बोतल में पानी भरकर भी लगाया जा सकता है। इससे सुख-समृद्धि प्रदान करने वाले सकारात्मक उर्जा को आकर्षित किया जा सकता है।

"अजब-गजब" से अन्य खबरें

OMG! जानिए क्या हुआ जब स्पेस में पहुंच गए थे बंदर

अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा के शुरुआती दौर की कुछ फोटोज सामने आई हैं. इन फोटोज में टेस्टिंग के लिए स्पेस में भेजे जाने वाले चिंपांजी और बंदरों को दिखाया गया है. बीते कुछ सालों में अमेरिका ने स्पेस में बाकी देशों को पीछे छोड़ते हुए अपना राज कायम कर लिया है, लेकिन 1950-60 का दौर में अमेरिका की नासा और सोवियत संघ की ‘रोस्कॉस्मस’ के बीच स्पेस में सबसे पहले पहुंचने की जंग छिड़ी थी. इसी रेस को जीतने के लिए नासा ने 1948 से टेस्टिंग के तौर पर बंदरों को स्पेस में भेजना शुरू कर दिया था. 

Read More


ये है दुनिया का सबसे छोटा देश, 40 साल में आबादी सिर्फ 33 लोगों की

दुनिया में जितने भी देश हैं उनके अलग-अलग प्रोटोकॉल हैं। अगर भारत की बात करे तो यहां प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति को प्रोटोकॉल के तहत कई प्रकार की सुरक्षा दी जाती है। इनमें सुरक्षा एजेंसियां, अर्ध सैनिक बल, सीआईएसएफ, एनएसजी कमांडो, पुलिस सुरक्षा देते हैं। इसके साथ ही राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को बुलेट प्रुफ गाड़ी भी दी जाती है। 

Read More

रावण ने मरते वक्त लक्ष्मण को दी थी सीख, जो हैं सफलता की कुंजी

आज का युग बेशक कॉर्पोरेट कल्चर वाला युग है, लेकिन हमारे पौराणिक ग्रंथों में बताई गई बातें आज भी सौ फीसदी सटीक बैठती है। ऐसी ही कुछ सीखें रावण ने मरते वक्त लक्ष्मण को दी थी।

श्रीराम के तीर से जब रावण मरणासन्न् स्थिति में पहुंच चुका था, तब भगवान श्रीराम ने लक्ष्मण को अपने समीप बुलाकर कहा कि रावण जैसा प्रकांड विद्वान, ज्ञानी और समस्त धर्म शास्त्रों का ज्ञाता इस संसार से विदा हो रहा है। 

Read More

उज्जैन में देवी को अर्पित किया मदिरा का भोग

मध्यप्रदेश के उज्जैन में चली आ रही परंपरा के मुताबिक, महामाया और महालाया को मदिरा (भोग) अर्पित किया गया. इस परंपरा का निर्वहन गुरुवार को जिलाधिकारी संकेत भोंडवे ने किया.

गुरुवार सुबह जिलाधिकारी संकेत भोंडवे ने चौखंबा देवी मंदिर पहुंचकर पूरे विधि-विधान से पूजा-अर्चना की और देवी को मदिरा अर्पित की. पूजन में मौजूद अधिकारियों के साथ अन्य लोगों ने शहर की सुख-समृद्धि की कामना की.

Read More

नरभक्षी कपल ने कबूला- 18 सालों में 30 लोगों को मारकर खा गया

रूस में एक ऐसे कपल का खुलासा हुआ है जो कम से कम 30 लोगों को मारकर खा गया. कपल ने अपना जुर्म कबूल किया है. रूस के क्रासनोदर सिटी का यह मामला है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 35 साल का दिमित्री बाकेशेव लोगों के बॉडी पार्ट्स को घर में रखता था और उसके साथ सेल्फी भी क्लिक किया करता था. 42 साल की पत्नी नतालिया भी उसके साथ ऐसा करती थी जो पेशे से नर्स है. बताया जा रहा है पिछले 18 साल से दोनों लोगों को खा रहे हैं.

Read More

पहले थी महिला, सेक्स चेंज कराकर बनी पुरुष, जानें कैसे होगी शादी...

वह खुद को एक महिला के तौर पर महसूस करती थी, लेकिन उसकी बॉडी पुरुष जैसी थी. उसने सेक्स चेंज कराने का फैसला किया. दिलचस्प बात ये है कि सेक्स चेंज कराने के प्रोसेस में ही उसे अपनी जिंदगी का प्यार मिल गया. मुंबई के एक टॉप सर्जन की क्लिनिक में उसकी मुलाकात एक ऐसी महिला से हुई जो पुरुष बनने के लिए सेक्स चेंज करा रही थी.

Read More

संत बनने के लिए इस जोड़े ने छोड़ी 100 करोड़ की संपत्ति और 3 साल की बेटी

नीमच। एशो-आराम की जिंदगी पाने के लिए लोग क्या-क्या नहीं करते लेकिन एक जोड़ा ऐसा है जो ये सब त्यागने जा रहा है। करोड़ों की संपत्ति का मालिक ये कपल संत बनने की चाह रखता है और इसलिए दुनिया के सभी मोह छोड़ने का फैसला लिया है। दोनों की एक बेटी भी है।

100 करोड़ की संपत्ति के मालिक
मध्य प्रदेश के नीमच शहर के रहने वाले सुमित राठौड़ और उनकी पत्नी अनामिका ने संत बनने का फैसला लिया है। दोनों की नीमच में 100 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है। सुमित का परिवार काफी रसूख वाला है और नीमच में उनका बड़ा बिजनेस है। लंदन से बिजनेस में डिप्लोमा कर चुके सुमित ने दो साल तक वहीं नौकरी भी की थी लेकिन फिर फैमिली बिजनेस संभालने देश वापस आ गए।

Read More

ये नदियां बरसात के दिनों में उगलती हैं सोना, लोगों को रहता है बाढ़ का इंतजार

नई दिल्ली: मानसून का इंतजार सबको हर साल सबको रहता है ताकि भीषण गर्मी से राहत मिल सके. लेकिन बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले के रामनगर इलाके के कुछ गांवों के लोगों को हर साल मानसून में सोना मिलता है. जानकर आप भी चौंक गए होंगे लेकिन यह भी एक सच्चाई है. यह सोना उन्हें कोई देने नहीं आता है बल्कि यह धातु नदियां उगलती हैं. 

Read More

47 साल बाद, हनीमून पर खोई अंगूठी ने दंपत्ति में नई मोहब्बत डाल दी

मैसाच्युसेट: मैसाच्युसेट के केप कोड बीच पर हनीमून मनाने गए अमेरिकी दंपत्ति की कीमती अंगूठी खो गई. काफी खोजने के बाद भी उन्हें अंगूठी नहीं मिली और उन्हें इसका सदमा हमेशा रहा. लेकिन 47 साल बाद एक ऐसा करिश्मा हुआ, जिसने दोनों के बीच मोहब्बत की नई उड़ान भर दी.

जिम विर्थ केप कोड में मेटल डिडेक्टर से इलाके की सफाई कर रहते थे… तभी उन्हें गोल्ड की एक कीमती अंगूठी मिली. जिम ने अंगूठी को साफ कराया. इस अंगूठी पर मैसाच्यूसेट कॉलेज 1969 और पैट्रीक ओ हेगन लिखा था.

Read More