mp mirror logo

TATA-AMBANI भी चला सकेंगे खुद की ट्रेन, MP के इन शहरों में होगी शुरुआत

भोपाल। मध्यप्रदेश में जल्द ही प्राइवेट ट्रेन भी दौड़ती नजर आएगी। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इस बात के संकेत दिए हैं। रेलवे इसके लिए इंदौर, भोपाल और जबलपुर के बीच इसे चलाएगा। इसके लिए 450 किलोमीटर का नया रूट तैयार किया जाएगा। माना जा रहा है कि निजी क्षेत्र की कंपनियों टाटा, बिड़ला, रिलायंस और अडाणी जैसी कंपनियां भी इस क्षेत्र में कूद सकती है। यह मध्यप्रदेश की पहली निजी ट्रेन होगी।

सूत्रों के मुताबिक पश्चिम मध्य रेलवे और राज्य सरकार का एक ज्वाइंट वेंचर इस प्रोजेक्ट पर काम करेगा। प्रोजेक्ट एक कंपनी बनाकर रन किया जाएगा। इसका नाम स्पेशल परपज व्हीकल (SPV) होगा। गौरतलब है कि इससे पहले सितंबर 2016 में भी निजी क्षेत्र की कंपनियों से प्रस्ताव मांगे गए थे।

SPV ट्रेक बिछाने, निजी क्षेत्रों को ट्रेनें चलाने के लिए पैसा जुटाने समेत मेंटेनेंस आदि जिम्मेदारी भी निभाएगी। पहली ट्रेन इंदौर-जबलपुर चलाने की है। यह कंपनी इसके लिए दोनों शहरों को जोड़ने के लिए 450 किलोमीटर का ट्रेक भी बिछाएगी। इसके लिए चार हजार 600 करोड़ का खर्च भी आंका गया है।
हाल ही में जबलपुर आए रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इस नए प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रेलवे ज्ल दी मध्यप्रदेश सरकार के साथ एक समझौता करने वाली है।

फंड जुटाएगी भारतीय रेल
मध्यप्रदेश सरकार के साथ मिलकर रेलवे फंड जुटाने के लिए एक ज्वाइंट वेंचर बनाएगी। इसमें दोनों का शेयर होगा। इससे अलग ट्रेन के कोच उपलब्ध कराने, इसका संचालन करने और सुरक्षा की जिम्मेदारी भी रेलवे की ही होगी।

एमपी भी लगाएगा पूंजी
मध्यप्रदेश सरकार इस प्रोजेक्ट में रेलवे के साथ मिलकर पूंजी भी लगाएगी। सरकार पर रेलवे के साथ ज्वाइंट वेंचर में मिलकर नई परियोजना तय करने की पूरी जवाबदारी होगी।

ट्रेनों का किराया तय करेगी SPV
SPV पूरी परियोजना की लागत तय कर निजी क्षेत्र से पैसा जुटाने से लेकर ट्रेनों को होने वाले फायदे और नुकसान पर नियंत्रण रख सकेगी। यह ट्रेनों का किराया घटाना-बढ़ाना, उनके समय पर चलने और यात्री सुविधाओं पर भी अपना लक्ष्य फोकस करेगी।

विदेशी मदद की जगह राज्यों की मदद
रेलवे ने यह कदम फारेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट (FDI) के विरोध को देखते हुए उठाया है। इसके लिए रेलवे बोर्ड अब विदेशी कंपनियों को प्रोत्साहन करने की जगह भारत के राज्यों से ही मदद लेगी। यह स्टेट डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट कहलाएगा।
यह भी है खास

-MP में बनने वाले रेल प्रोजेक्ट पर सिर्फ रेलवे निवेश नहीं करेगा। इसके लिए राज्य सरकार और रेलवे (जोन) के बीच MOU साइन होगा।
-साइन के बाद में ज्वाइंट वेंचर तैयार होगा। यह एक की तरह की कंपनी होगा,जिसका चेयरमैन,स्टॉफ और बजट सब कुछ रेलवे बोर्ड और जोन से अलग रहेगा।
-इंदौर और जबलपुर के बीच नया रूट बनाया जाएगा।
-कुछ पुराने रूट को भी इसमें शामिल किया जाएगा, जहां ट्रैफिक का लोड नहीं होगा।
- गाडरवारा और जबलपुर के बीच पुराना ही रूट रहेगा।
- इसके बाद इंदौर के बीच नया रूट तय होगा।
- रूट का सर्वे का काम पूरा हो गया है।

माल वाहक ट्रेनें भी चला सकेंगी कंपनियां
निजी क्षेत्र की कंपनियां अब मालवाहक ट्रेनें चला सकेंगी। रेलवे के एक अधिकारी के मुताबिक सीमेंट, स्टील, आटो, केमिकल्स और खाद्यान्न से जुड़ी कंपनियों ने स्पेशल माल वाहक ट्रेनें चलाने की योजना में दिलचस्पी दिखाई है। रेल डिवेलपमेंट अथॉरिटी के गठन को कैबिनेट से मंजूरी मिलने के बाद इसका रास्ता साफ हो गया है। कंपनियां निजी टर्मिनल्स बनाने पर निवेश करेंगी और ट्रेन भी चला सकेंगी।

तो पटरियां भी बिछा सकते हैं टाटा-अंबानी
अब वह दिन दूर नहीं जब अंबानी, टाटा और बिड़ला जैसे धनाढ्य अपने नाम से ट्रेन दौड़ा सकेंगे। वह अपनी मर्जी से तय स्टेशन के बीच अपनी स्वयं की पटरियां भी डाल सकेंगे। सरकारी पटरी का भी किराया देकर उपयोग कर सकेंगे।रेलवे ने इसके लिए पिछले साल निजी कंपनियों से प्रस्ताव मांगे थे। इसके लिए निजी कंपनी को ट्रेन, प्लेटफॉर्म, सिग्नल के साथ अन्य व्यय का किराया रेलवे को देना होगा। ट्रेन संचालन के लिए कंपनी को अपना स्टाफ रखना होगा, यदि उन्हें सरकारी स्टाफ की जरूरत है, तो वे इसकी राशि रेलवे को चुकाकर उन्हें साथ जोड़ सकेंगे। रेलवे ने निजीकरण के लिए विभिन्न संगठनों के विरोध के बाद अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रस्ताव मंगवाए हैं। रेलवे बोर्ड दिल्ली के मैकेनिकल इंजीनियर वीएन चौधरी ने इसे तैयार किया है। सितंबर 2016 तक निजी कंपनियों से यह प्रस्ताव मांगे गए थे।

"जिलों से" से अन्य खबरें

आखिर इन्हे इतना पत्रकार विरोधी क्यों बना दिया गया?

हम पत्रकार अक्सर दूसरों पर सवाल उठाते हैं, लेकिन कभी खुद पर नहीं, हम दूसरों की जिम्मेदारी तय करते हैं, लेकिन अपनी नहीं. हमें ‘लोकतंत्र का चौथा खंभा’ कहा जाता है. लेकिन क्या हम, हमारी संंस्थाएं, हमारी सोच और हमारी कार्य प्रणाली क्या है इसके बारे में सोचते हैं? यह सवाल सिर्फ मेरे लिए नहीं है हम सब के लिए है? पालन करना, न करना हर किसी का निजी मामला है लेकिन मेरा मानना है जो पर्सनल है वह प्रोफेशनल भी होना चाहिए। एक ऐसा वक्त आता है

Read More

'भोपाल की चौपाल' में बिगड़ा सगीर का मिजाज, महापौर ने पानी पिलाया, कमिश्नर ने मनाया

भोपाल। सोमवार को महापौर निवास पर आयोजित ‘भोपाल की चौपाल’ के दौरान नगर निगम नेता प्रतिपक्ष मोहम्मद सगीर ने बिजली और पानी के मुद्दे को लेकर जमकर हंगामा किया। उन्होंने महापौर आलोक शर्मा से कहा कि, खानापूर्ति के लिए आपने अफसरों को काम करने के निर्देश तो दे दिए, लेकिन उनका पालन हो रहा है या नहीं इसकी जानकारी तक नहीं ली।

Read More

बीजेपी वर्किग कमेटी की बैठक : नशामुक्त मप्र का प्रस्ताव पारित, बाहर शर्तें लागू

मोहनखेड़ा में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की दो दिनी बैठक के पहले दिन नशामुक्त मप्र का राजनीतिक प्रस्ताव पारित हुआ, लेकिन बैठक से बाहर निकलते ही मंत्री और वरिष्ठ नेताओं ने समाज के राजी होने की शर्त रख दी। 

कानून से पहले आदत बदलने की जरूरत बताई। प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में नशामुक्त मप्र के अलावा पिछले तीन महीनों में सरकार द्वारा लिए निर्णयों जैसे दीनदयाल रसोई, प्रतिभाशाली विद्यार्थी छात्रवृत्ति योजना, पॉलीथिन मुक्त मप्र, ई नगरपालिका, नर्मदा व चंबल एक्सप्रेस वे आदि के प्रस्ताव भी पारित किए। दो सत्रों के बाद संभागीय बैठकें हुई। प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा- मैंने 35 साल के राजनीतिक कार्यकाल में पार्टी के लिए कभी इतनी अनुकूलता नहीं देखी।

Read More

आतंकी साजिश के शक में युवकों की गिरफ्तारी के बाद यूपी पुलिस सतर्क, मदरसों और मस्जिदों पर बढ़ी निगरानी

मेरठ कथित आतंकी साजिश में शामिल होने के शक में 6 राज्यों की पुलिस के संयुक्त अभियान में कुछ युवकों को हिरासत में लिए जाने और गिरफ्तार किए जाने के बाद यूपी पुलिस सतर्क हो गई है। पुलिस ने पश्चिमी यूपी के करीब 2,000 मदरसों और मस्जिदों पर निगरानी बढ़ा दी है।

Read More

TATA-AMBANI भी चला सकेंगे खुद की ट्रेन, MP के इन शहरों में होगी शुरुआत

भोपाल। मध्यप्रदेश में जल्द ही प्राइवेट ट्रेन भी दौड़ती नजर आएगी। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इस बात के संकेत दिए हैं। रेलवे इसके लिए इंदौर, भोपाल और जबलपुर के बीच इसे चलाएगा। इसके लिए 450 किलोमीटर का नया रूट तैयार किया जाएगा। माना जा रहा है कि निजी क्षेत्र की कंपनियों टाटा, बिड़ला, रिलायंस और अडाणी जैसी कंपनियां भी इस क्षेत्र में कूद सकती है। यह मध्यप्रदेश की पहली निजी ट्रेन होगी।

Read More

बिना लालबत्ती की गाड़ी से घूमते नजर आए सीएम शिवराज और कई मंत्री

भोपाल/जबलपुर. माेदी कैबिनेट ने बुधवार को देश भर में लालबत्ती के इस्तेमाल पर रोक लगा दी। फैसला 1 मई से लागू होगा। यह रोक राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस पर भी लागू होगी। आपात सेवा के वाहन जैसे पुलिस, फायर बिग्रेड और एंबुलेंस को नीली बत्ती लगाने की छूट रहेगी। इस बीच मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने देर शाम गाड़ी से लाल बत्ती हटवा दी। 

Read More

छठी तक पढ़ाई की, रामकथा पढ़ते-पढ़ते बन गई थी MP की CM

भोपाल। केंद्रीय मंत्री उमा भारती की मुश्किलें बढ़ सकती है। उन पर सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी विध्वंस मामले में केस चलाने की मंजूरी दे दी है। मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा के बारे में सभी लोग जानते हैं कि वे अक्सर अपने विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहती हैं। उनका विवादों से चोली-दामन का साथ रहता है। छोटी-सी उम्र में साध्वी बनने के बाद वे राजनीति में आ गई। छठी तक पढ़ी यह महिला MP की CM रह चुकी हैं और आज देश की केंद्रीय मंत्री हैं।

Read More

बंगाल में ममता बनर्जी के किले को ऐसे गिराएगी BJP, ये है फॉर्मूला फोर

भोपाल। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के गढ़ में मध्य प्रदेश के सांसद भाजपा की जमीन मजबूत करेंगे। 2016 के विधानसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में भाजपा के खाते में 294 में से केवल छह सीटें आई थीं। राज्य में सरकार बनाने के लिए कम से कम 148 सीटों की जरूरत है और भाजपा ने अगले चुनाव के लिए अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं।

पश्चिम बंगाल में पहले फेज में प्रदेश के चार सांसदों की टीम को कार्यकर्ताओं के बीच जाकर फीडबैक लेने कहा गया है। इनमें पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, जबलपुर सांसद राकेश सिंह, सतना सांसद गणेश सिंह और भोपाल सांसद आलोक संजर शामिल हैं। प्रदेश के चारों सांसदों को पश्चिम बंगाल में जनसंपर्क करने के लिए स्थानीय संगठन से सबसे कमजोर इलाकों की सूची बनाने कहा गया है।

Read More

'सपाक्स' लड़ेगी विधानसभा चुनाव, 148 सीटों पर उतारेगी प्रत्याशी

भोपाल। सामान्य पिछड़ा अल्पसंख्यक वर्ग संगठन (सपाक्स) समाज संस्था 2018 का विधानसभा चुनाव लड़ेगी। संस्था पूरी तैयारी के साथ बुधनी, विदिशा सहित तमाम अनारक्षित (148) सीटों से अपने प्रत्याशी उतारेगी। इसके लिए राजनीतिक पार्टी के रूप में रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। रविवार को शहर में संस्था के प्रांतीय पदाधिकारियों की बैठक में यह घोषणा की गई है।

Read More

बांधवगढ़ में भाजपा की जीत, अटेर में कांटे की टक्कर

भोपाल। बांधवगढ़ विधानसभा उपचुनाव में भाजपा के शिवनारायण सिंह ने कांग्रेस की सावित्री सिंह को 25,476 वोटों से हरा दिया। शुरुआती राउंड की काउंटिंग से ही शिवनारायण सिंह को लगातार बढ़त मिल रही थी। उमरिया स्थित मतगणना केंद्र शासकीय जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान (डाइट) में जैसे ही शिवनाराण सिंह की जीत की खबर बाहर आई भाजपा कार्यकर्ताओं में उत्साह की लहर दौड़ गई। इस दौरान कांग्रेस ने यहां चुनाव अधिकारी से रिकाउंटिंग के लिए आवेदन दिया। उधर भिंड जिले की अटेर विधानसभा सीट पर कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर है।

Read More