mp mirror logo

जानिए तिथियों का महत्व क्यों लोग रहते हैं इसके लिए परेशान?

लखनऊ। हिन्दू धर्म के त्यौहार तिथि के अनुसार मनाये जाते है। भारतीय ज्योतिष के अनुसार एक मास में 30 तिथियॉ होती है। 15 तिथियॉ शुक्ल पक्ष में और 15 तिथियॉ कृष्ण पक्ष में होती है। एक सूर्योदय से दूसरे सूर्योदय तक के काल को अहोरात्र कहा गया है, उसी को एक तिथि माना गया है। ग्रन्थ सूर्य सिद्धान्त के अनुसार पंचागों की तिथियॉ दिन में किसी समय आरम्भ हो सकती है और इनकी अवधि 19 से 26 घण्टे तक हो सकती है। 

प्रतिपदा से लेकर पंचमी तक अशुभ शुक्ल पक्ष में ये तिथियॉ प्रतिपदा से लेकर पंचमी तक अशुभ मानी जाती है। इसलिए कि अमावस्या के दिन चन्द्रमा {अस्त} लुप्त होकर शुक्ल पक्ष द्वितीया के दिन शाम के समय थोड़ा सा सूर्यास्त के बाद दिखाई देते हुये शुक्ल पक्ष की पंचमी तक चन्द्रमा की कलायें क्षीण रहने से शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा, द्वितीया, तृतीया, चतुर्थी व पंचमी तिथियॉ अशुभ कही गई है।

अशुभ न होकर मध्यम फल देने वाली पुनः शुक्ल पक्ष की षष्ठी से दशमी तक ज्यों-ज्यों चन्द्रमा की कलायें बढ़ती है त्यों-त्यों षष्ठी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी, व दशमी तिथियॉ अशुभ न होकर मध्यम फल देने वाली कही गई है।

ये पॉचों तिथियॉ शुभ फल देने वाली शुक्ल पक्ष की एकादशी, द्वादशी, त्रयोदशी, चतुदर्शी व पौर्णमासी ये पॉच तिथियॉ उत्तम फल देने वाली होती है।इसी प्रकार से कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा से पंचमी तक चन्द्रमा की कलायें उत्तम होने के कारण ये पॉचों तिथियॉ शुभ फल देने वाली होती है। फिर कृष्ण पक्ष में चन्द्रमा षष्ठी तिथि से क्षीण होने लगता है इसलिए षष्ठी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी व दशमी तिथि मध्यम फलदायक होती है। कृष्ण पक्ष में एकादशी से लेकर अमावस्या तक पॉच तिथियॉ चन्द्रमा की किरणों से पूर्ण रूप से क्षीण हो जाने से अशुभ फलदायक होती है। अर्थात सामान्यतः शुक्ल पक्ष की पंचमी से कृष्ण पक्ष की चतुदर्शी तक 15 तिथियॉ शुभ होता है तथा कृष्ण पक्ष पंचमी से लेकर शुक्ल चतुदर्शी तक की 15 तिथियॉ मध्यम फल देने वाली होती है।

किस तिथि को क्या करना वर्जित है स्त्री-पुरूष दोनों के लिए नियम है कि षष्ठी तिथि के दिन तेल न लगायें, अष्टमी को मॉस का सेंवन न करें, चतुदर्शी के क्षौर कर्म {हजामत, बाल कटवाना व दाढ़ी बनाना} नहीं करना चाहिए। द्वितीया, दशमी व त्रयोदशी के दिन उबटन लगाना वर्जित है। एकादशी को चावल नहीं खाना चाहिए और अमावस्या को मैथुन {स्त्री संगम} कदापि नहीं करना चाहिए। कहीं-कहीं पर व्यतिपात, संक्रान्ति, एकादशी में, पर्व दिनों में, भद्रा और वैधृति योग में भी तेल लगाना वर्जित बताया गया है। प्रतिपदा तिथि में विवाह, यात्रा, उपनयन, चौल कर्म, वास्तु कर्म व गृह प्रवेश आदि मॉगलिक कार्य नहीं करने चाहिए।

किस तिथि में कौन सा काम करना शुभ होता है 1-द्वितीया, तृतीया, पंचमी, सप्तमी, दशमी व त्रयोदशी तिथि में यात्रा, विवाह, संगीत, विद्या व शिल्प आदि कार्य करना लाभप्रद रहता है। 2-चतुर्थी, नवमी व चतुर्दशी तिथि में विद्युत कर्म, बन्धन, शस्त्र विषय, अग्नि आदि से सम्बन्धित कार्य करने चाहिए। 3-षष्ठी तिथि में यात्रा, दन्त कर्म व लकड़ी खरीदने-बेचने का कार्य करना शुभ रहता है। 4-अष्टमी तिथि में युद्ध, राजप्रमोद, लेखन, स्त्रियों को आभूषण आदि पहने वाले कार्य करने चाहिए। 5-एकादशी तिथि में व्रत उपवास, अनेक धर्मकृत्य, देवोत्सव, उद्यापन व धार्मिक कथा आदि कर्म करना श्रेष्ठप्रद रहता है। 6-यात्रा को छोड़कर अन्य सभी धार्मिक द्वादशी तिथि में करना हितकर रहता है। 7-विवाह, शिल्प, मंगल संग्राम, वास्तुकर्म, यज्ञ क्रिया, देव प्राण-प्रतिष्ठा आदि मॉगलिक कर्म पौर्णमासी तिथि में करना शुभप्रद रहता है। 8-अमावस्या तिथि में सदा पितृकर्म करना चाहिए। अमावस्या के दिन शुभ कर्म नहीं करना चाहिए।

"धर्म-संस्कृति" से अन्य खबरें

आज लगेगा 2018 का पहला सूर्य ग्रहण, भारत पर नहीं होगा कोई प्रभाव

सूर्य ग्रहण उस समय लगता है जब चांद पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है। इस स्थिति को सूर्य ग्रहण कहा जाता है। विज्ञान के अनुसार जब सूर्य और पृथ्वी के बीच में चांद आ जाता है जिसके कारण चांद सूर्य के प्रकाश को रोक देता है। इस स्थिति में पृथ्वी पर काला साया छा जाता है, जिसे सूर्य ग्रहण के नाम से जाना जाता है। सूर्य ग्रहण अक्सर अमावस्या के दिन होता है।

Read More

महाशिवरात्रि: आज बन रहे हैं दोहरे संयोग, भगवान शिव के प्रिय नक्षत्र में करें पूजा

भारत के बहुत सारे स्थानों पर आज भी भोले बाबा का त्यौहार महाशिवरात्रि शिव भक्तों द्वारा बहुत हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। आज की तिथि अद्भुत और दुर्लभ संयोग लेकर आई है। भारतीय पंचांग और अंग्रेजी कैलेण्डर के अनुसार आज 14 तारीख पड़ रही है। भगवान शंकर का प्यारा नक्षत्र श्रवण भी है। माना जाता है की इसका स्वामी चन्द्र है। भोलेनाथ ने चन्द्रमा को अपनी शीश पर स्थान दिया है। 

Read More

शिवरात्रि पर ना करें ये काम नहीं तो भोले बाबा हो जाएंगे नाराज

देवो के देव महादेव को प्रसन्न करने के लिए शिवरात्रि का दिन बेहद ही उचित माना जाता है. मान्यता है कि शिवरात्रि के दिन सच्चे मन से भोलेनाथ को फूल, भांग और प्रसाद अपर्ति करने से वह खुश होते हैं और मन चाहा वर देते हैं. शिवरात्रि के दिन पूजा तो हर कोई करता है कि, लेकिन पूजा के बाद कुछ चीजों का ध्यान रखना अति आवश्यक है. 

Read More

शिवरात्रि 2018 पूजन शुभ मुहूर्त और व्रत विधि: जानें महाशिवरात्रि पर कैसे करें पूजा

Maha Shivratri 2018 Vrat Vidhi: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार फाल्गुन कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि में चंद्रमा सूर्य के सबसे समीप माना जाता है। अतः इस चतुर्दशी को शिवपूजा करने से भक्तों को भगवान शिव से मनवांच्छित फल की प्राप्ति होती है। महाशिवरात्रि का पर्व परमात्मा शिव के दिव्य अवतरण का मंगल सूचक पर्व है। स्कंदपुराण के अनुसार फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को उपवास किया जाता है, इस तिथि को सर्वोत्तम माना जाता है। 

Read More

चंद्र ग्रहण 2018: इन राशियों के लिए फायदे लाएगा

Chandra Grahan 2018: साल 2018 का पूर्ण चंद्रग्रहण आज बुधवार 31 जनवरी को पड़ रहा है, यह पूर्ण चंद्रग्रहण होगा और पूरे देश में सभी जगह से देखा जा सकेगा। आज चंद्रमा अपने आकार से कुछ बड़ा व चमकदार दिखाई देगा, जिसे सुपर मून कहा जाता है। चन्द्रग्रहण शाम 5.17 से रात्रि 8.42 तक पूरे भारत में दिखेगा। चन्द्रग्रहण बेध (सूतक) सुबह से शुरू हो जाएगा अतः सुबह 8.17 तक भोजन कर लेना ही शुभ माना जा रहा है। रात्रि 8.42 पर ग्रहण समाप्त होने के बाद पहने हुए वस्त्रों सहित स्नान और चन्द्रदर्शन करके भोजन आदि किया जा सकता है।

Read More

31 जनवरी को लगेगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, इन बातों का रखें ध्यान

वर्ष 2018 का पहला चंद्रग्रहण 31 जनवरी को लगेगा. इस चंद्रग्रहण को दुर्लभ पूर्ण चंद्रग्रहण कहा जा रहा है, क्योंकि हर वर्ष का पहला चंद्रग्रहण होगा जो 77 मिनट तक रहेगा. ज्योतिष के मुताबिक चंद्रग्रहण के सूतक सुबह 7 बजे से शाम को 8 बजकर 41 मिनट तक रहेंगे. साल का पहला चंद्रग्रहण मध्य एवं पूर्वी एशिया, इंडोनेशिया, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा. 

Read More

बसंत पंचमी 2018: विद्या और एकाग्रता की वृद्धि के लिए किया जाता है माता सरस्वती का पूजन

वसंत पंचमी – 22 जनवरी 2018। वसन्त पंचमी पर सभी को शुभकामनाएं। हिंदू पंचाग के अनुसार हर वर्ष माघ माह की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को विद्या और बुद्धि की देवी माता सरस्वती की आराधना का दिन होता है। इसी उपासना के दिन को बसंत पंचमी कहा जाता है। इस दिन संगीत कला और आध्यात्म का आशीर्वाद भी लिया जा सकता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कहा जाता है कि यदि किसी की कुंडली में विद्या बुद्धि का योग नहीं है या शिक्षा में बाधा आ रही है तो इस दिन मां शारदा की आराधना अवश्य करनी चाहिए। सरस्वती पूजन के बाद सर्वप्रथम गणेश जी की पूजा और बाद में रति और कामदेव की पूजा करना लाभदायक माना जाता है।

Read More

आज सफला एकादशी पर राशि अनुसार करें ये उपाय, मिलेगी तरक्की

सफला एकादशी के व्रत में देव श्री विष्णु का पूजन किया जाता है. जिस व्यक्ति को सफला एकाद्शी का व्रत करना हो व इस व्रत का संकल्प करके इस व्रत का आरंभ नियम दशमी तिथि से ही प्रारम्भ करे. व्रत के दिन व्रत के सामान्य नियमों का पालन करना चाहिए.

मेष राशि-बुधवार को सफला एकादशी पड़ रही है. अगर घर की दरिद्रता दूर करना चाहते हैं तो आप बस एक आसान सा उपाय करिए. इसके लिये आज के दिन शाम के समय तुलसी के पौधे में गाय के घी का दीपक जलाएं.

Read More

सर्वपितृ अमावस्या पर इस प्रकार करें सभी पितरों का श्राद्ध

श्राद्ध पक्ष में अमावस्या का बड़ा महत्व है। आश्विन मास की अमावस्या पितरों की शांति का सबसे अच्छा मुहूर्त है। पितरों के शाप से मुक्ति और भविष्य में भी इससे पूरी तरह मुक्त रहने के लिए पितृश्राद्ध किया जाता है। सर्वपितृ अमावस्या अर्थात श्राद्ध-पक्ष के आखिरी दिन किया गया श्राद्ध कर्म हर प्रकार के पितृदोषों से मुक्ति दिलाता है।

Read More

निर्जला एकादशी आज, करें इन चीजों का दान मिलेगा पुण्य लाभ

आज निर्जला एकादशी है इसे भीमसेनी या पांडव एकादशी भी कहते हैं. ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी सबसे अधिक पुण्यफल दायिनी है, क्योंकि इस व्रत के करने से साल भर की सभी एकादशियों के व्रत के समान पुण्यफल की प्राप्ति होती है. इस बार यह एकादशी 5 जून यानि की आज है, इस व्रत में जल का सेवन न करने के कारण ही यह निर्जला एकादशी कहलाती है. पाण्डवों के भाई भीमसेन ने इस एकादशी का व्रत किया था इसलिए यह भीमसैनी एवं पाण्डवा एकादशी के नाम से भी प्रसिद्ध है.

Read More