mp mirror logo

छठी तक पढ़ाई की, रामकथा पढ़ते-पढ़ते बन गई थी MP की CM

भोपाल। केंद्रीय मंत्री उमा भारती की मुश्किलें बढ़ सकती है। उन पर सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी विध्वंस मामले में केस चलाने की मंजूरी दे दी है। मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा के बारे में सभी लोग जानते हैं कि वे अक्सर अपने विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहती हैं। उनका विवादों से चोली-दामन का साथ रहता है। छोटी-सी उम्र में साध्वी बनने के बाद वे राजनीति में आ गई। छठी तक पढ़ी यह महिला MP की CM रह चुकी हैं और आज देश की केंद्रीय मंत्री हैं।

वे बोलने में इतनी बेबाक हैं कि जब वे बोलना शुरू करती हैं तो अच्छे-अच्छे चुप हो जाते हैं। उनके तर्कों का बड़े-बड़े अफसर भी जवाब नहीं दे पाते हैं। आज उनके जन्म दिवस पर बधाइयों का तांता लगा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर उन्हें जन्म दिवस की बधाई दी है।

छठी कक्षा तक पढ़ी-लिखी, बनीं MP की CM
-हिन्दू महाकाव्य में अच्छी पकड़ रखने वाली उमाश्री जन्म 3 मई 1959 को टीकमगढ़ के लोधी राजपूत परिवार में हुआ था।
- उमा मात्र छठी तक पढ़ी हैं। उमा का लाल-पालन ग्वालियर घराने की राजमाता विजयराजे सिंधिया ने की थी। वे ही उन्हें पार्टी में लेकर आई थीं।
-उमा एक आत्मविश्वासी राजनीतिज्ञ हैं। साध्वी की वेशभूषा में हमेशा रहने वाली उमा ने अविवाहित रहकर अपना जीवन धर्म को समर्पित कर दिया।

- 1984 में BJP से जुड़ गई और पहला चुनाव हार गईं।
- 1989 के चुनावों में फिर जोर आजमाया और वे जीत कर विधानसभा पहुच गईं।
-खुजराहो लोकसभा सीट से 1991 में चुनाव लड़कर वे चर्चाओं में आ गईं।

- उसके बाद तीन बार लगातार वे इसी सीट पर जीतती गईं। 1999 में भोपाल संसदीय सीट से लड़कर वे लोकसभा पहुंच गईं।
- वाजपेयी सरकार में उमा केंद्रीय मानव संसाधन, पर्यटन, खेल और युवा मामले, कोयला और खाद्यान्न मंत्रालय की मंत्री रहीं।
- वर्ष 2003 के चुनाव में उमा भारती के दम पर प्रदेश में भाजपा की सकरा बन गई। उमा ने दिग्विजय सिंह सरकार को बुरी तरह परास्त किया और वे MP की मुख्यमंत्री बन गईं।

- इसके बाद गलत बयानबाजी के कारण उमा की सदस्यता छिन गई और उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया। बाद में भारतीय जन शक्ति पार्टी बनाकर उन्होंने संघर्ष किया। उनके वापसी का दौर शुरू हुआ और वे केंद्रीय मंत्री हैं।

5 नवंबर 2008
तेज़ तर्रार नेता उमा ने छिंदवाड़ा में अपनी ही पार्टी के एक नेता की पिटाई कर दी थी। उन्होंने जमकर थप्पड़ जड़ दिए थे। इसके बाद कई अफसरों के साथ भी ऐसे ही व्यवहार के किस्से सुनने में आते रहे।

मशहूर है उमा का ये किस्सा
साध्वी उमा भारती आध्यात्म के रास्ते पर चलने से पहले कई लोगों को पसंद करती थीं। उन्होंने एक पत्रिका को दिए इंटरव्यू में कहा था कि वे BJP के पूर्व विचारक गोविंदाचार्य से प्यार करती थीं। उमा ने स्वीकार किया था, 'हां, मैं उनसे (गोविंदाचार्य) प्यार करती थी। मैं शादी करना चाहती थी। हर जगह मैं उनका पीछा करती थी और मुझे लगता था कि वे भी मुझे प्यार करते हैं।

इस साक्षात्कार से अलग हटकर भी भोपाल में आयोजित एक सार्वजनिक कार्यक्रम में उमा ने स्वीकार किया था कि वह 1992 में गोविंदाचार्य से विवाह करने की तैयारी में थीं। उमा ने कहा था कि आडवाणीजी ने भी गोविंदाचार्य की उनसे शादी कराने की इच्छा बताई थी। लेकिन, उमा के भाई स्वामी लोधी ने यह कहते हुए मामला टाल दिया था कि गोविंदाचार्य सांवले (काले) हैं और आकर्षक नहीं। 1992 में आयोजित इस कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर, गोविंदाचार्य, स्वामी लोधी और बड़ी संख्या में संवाददाता मौजूद थे।

उमा को प्रपोज कर चुके हैं गोविंदाचार्य
नागपुर में एक समाचार पत्र को दिए साक्षात्कार में BJP के विचारक गोविंदाचार्य ने स्वीकार किया था कि उन्होंने उमा को विवाह के लिए प्रपोज कर दिया था। जब उनसे पूछा गया कि कोई पछतावा है तो उन्होंने कहा था कि उमा से रिश्ता मूर्त रूप नहीं ले सका था।

उमा के घर रहते थे गोविंदाचार्य
उमा ने एक कार्यक्रम में यह भी कहा था कि उन पर लगे वे आरोप सही हैं जिसमें कहा गया था कि गोविंदाचार्य उनके घर रहते हैं। उमा ने इस बात को विस्तार देते हुए कहा था कि जब मुझे बता चला कि उनका घर और गाड़ी छिन गई है तो उनसे संपर्क कर मैं अपने साथ ले आई। इससे पहले शीर्ष नेताओं से बात भी की थी।

इन प्रेमियों ने नहीं किया त्याग- धर
इंटेलिजेंस ब्यूरो के पूर्व जॉइंट डायरेक्टर एमके धर ने भी अपनी किताब में दोनों के प्रेम प्रसंग के बारे में अपनी किताब 'ओपन सीक्रेट्स' में लिखा है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा विवाह की अनुमति न देने के कारण गोविंदाचार्य और उमा भारती को गहरा झटका लगा, जिससे यह बात स्पष्ट हो जाती है कि इन प्रेमियों ने कोई त्याग नहीं किया, बल्कि राजनैतिक महत्वाकांक्षाओं के कारण विवाह नहीं किया

"जिलों से" से अन्य खबरें

मुख्यमंत्री भावांतर कार्यक्रम का सीधा प्रसारण हुआ बड़वानी में भी

प्रदेश के मुख्यमंत्री के भावांतर योजना कार्यक्रम का सीधा प्रसारण जिले की ग्राम सभाओ में भी देखा एवं सुना गया। इसके लिए सम्पूर्ण जिले में गुरूवार को विशेष ग्राम सभाओ का आयोजन किया गया था। 

Read More

ग्रामीण क्षेत्र में शुद्ध पेयजल की स्थाई व्यवस्था के लिए बनाई गई जल सुरक्षा एवं संरक्षण योजना

राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के तहत लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग द्वारा यूनिसेफ एवं प्रायमूव के सहयोग से मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में विकास खंड महू के विभिन्न ग्रामों में जल सुरक्षा एवं संरक्षण के लिए कार्ययोजना तैयार की गई है। इसका मुख्य उद्देश्‍य विश्वस्तरीय स्थाई विकास लक्ष्य क्रमाक 06 के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्र में शुद्ध एवं स्थाई पेयजल उपलब्ध कराना है।

Read More

भावांतर योजना : 10 हजार करोड़ रुपए भी खर्च करना पड़े तो करेगी सरकार

भोपाल। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना 16 अक्टूबर यानी सोमवार से पूरे प्रदेश में एक साथ लागू होगी। बुधवार को कैबिनेट में योजना को लेकर प्रस्तुतिकरण दिया गया। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इसमें दस हजार करोड़ रुपए खर्च करने पड़े तो भी सरकार करेगी। इस दौरान कई मंत्रियों ने कृषि अधिकारियों से योजना को लेकर पूछताछ भी की।

Read More

12 अक्‍टूबर को लाड़ली शिक्षा पर्व मनाएगी सरकार, सभी जिलों में होंगे आयोजन

भोपाल। ‘लाड़ली लक्ष्मी” योजना के दस साल पूरे होने पर राज्य सरकार गुरुवार को लाड़ली शिक्षा पर्व मना रही है। इस दौरान राजधानी सहित पूरे प्रदेश में कार्यक्रम आयोजित होंगे। यहां छठवीं कक्षा में प्रवेश लेने वाली 65 हजार से ज्यादा बालिकाओं को दो-दो हजार रुपए छात्रवृत्ति दी जाएगी।

Read More

वैट घटाने पर शिवराज बोले, दीपावली से पहले तोहफा जरूर मिलेगा

भोपाल।केंद्रीय वित्त मंत्री और पेट्रोलियम मंत्री के सुझाव के बाद राज्य सरकार पेट्रोलियम उत्पादों से पांच प्रतिशत वैट घटाने की तैयारी कर रही है। सत्य सांई कॉलेज में भक्त सम्मेलन के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा कि दीपावली से पहले प्रदेश के लोगों को तोहफा जरूर मिलेगा।

Read More

केन्द्र एवं राज्य सरकार गरीबों के सपने को साकार कर रही है-विधायक

क्षेत्रीय विधायक श्री नरेन्द्र सिंह कुशवाह ने कहा है कि केन्द्र और राज्य सरकार के माध्यम से गरीबों की भलाई के लिए अनेक योजनाएं संचालित की है। जिनमें प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत गरीबो को भू खण्ड आवंटित कर उनके सपने को साकार करने की पहल की गई है। जिससे वे आगामी तीन माह में अपने मकान तैयार कर छत के नीचे रहने की सुविधा प्राप्त कर सकेंगे। 

Read More

दिवंगत जयप्रकाश भटनागर को पत्रकारों ने दी श्रद्धांजलि

जिला जनसम्पर्क कार्यालय में पदस्थ जनसम्पर्क कर्मी दिवंगत स्वर्गीय जयप्रकाश भटनागर के आकस्मिक निधन पर आज जिला जनसम्पर्क कार्यालय शहडोल में शोकसभा आयोजित की गई। 

Read More

'बेमिसाल 12 साल' से शुरू होगा शिवराज का 'मिशन 2018'

भोपाल। 29 नवंबर 2017 को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के 12 साल होते ही भारतीय जनता पार्टी मिशन 2018 के लिए चुनावी शंखनाद करेगी। 'बेमिसाल 12 साल' शिवराज के इस कार्यकाल को लेकर पूरे प्रदेश में भाजपा एक स्टडी भी करवा रही है कि क्षेत्र की मैदानी हकीकत क्या है।

Read More

पूर्व मंत्री का 'रिश्तेदार' निकला फर्जी डॉक्टर, पोल खुलते ही हुआ फरार

मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले के बैहर सामुदयिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ एमबीबीएस डॉक्टर की डिग्री फ़र्ज़ी पाये जाने के बाद हड़कंप मच गया है. मामला उजागर होने के बाद कथित आरोपी डॉक्टर नौकरी छोड़कर फरार हो गया है.

Read More

एक दिन भी जेल में बंद मीसाबंदी को मिलेगी 8 हजार की सम्मान निधि

भोपाल.राजनीतिक व सामाजिक कारणों से जेल में एक दिन भी बंद रहे मीसा बंदियों को राज्य सरकार अब आठ हजार रुपए सम्मान निधि देगी। राज्य सरकार ने लोकनायक जयप्रकाश नारायण सम्मान निधि 2008 में संशोधन करते हुए कहा है कि कोई व्यक्ति यदि एक माह से कम समय के लिए जेल में बंद हैं तो उन्हें भी पैसा दिया जाएगा।

Read More