mp mirror logo

छठी तक पढ़ाई की, रामकथा पढ़ते-पढ़ते बन गई थी MP की CM

भोपाल। केंद्रीय मंत्री उमा भारती की मुश्किलें बढ़ सकती है। उन पर सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी विध्वंस मामले में केस चलाने की मंजूरी दे दी है। मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा के बारे में सभी लोग जानते हैं कि वे अक्सर अपने विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहती हैं। उनका विवादों से चोली-दामन का साथ रहता है। छोटी-सी उम्र में साध्वी बनने के बाद वे राजनीति में आ गई। छठी तक पढ़ी यह महिला MP की CM रह चुकी हैं और आज देश की केंद्रीय मंत्री हैं।

वे बोलने में इतनी बेबाक हैं कि जब वे बोलना शुरू करती हैं तो अच्छे-अच्छे चुप हो जाते हैं। उनके तर्कों का बड़े-बड़े अफसर भी जवाब नहीं दे पाते हैं। आज उनके जन्म दिवस पर बधाइयों का तांता लगा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर उन्हें जन्म दिवस की बधाई दी है।

छठी कक्षा तक पढ़ी-लिखी, बनीं MP की CM
-हिन्दू महाकाव्य में अच्छी पकड़ रखने वाली उमाश्री जन्म 3 मई 1959 को टीकमगढ़ के लोधी राजपूत परिवार में हुआ था।
- उमा मात्र छठी तक पढ़ी हैं। उमा का लाल-पालन ग्वालियर घराने की राजमाता विजयराजे सिंधिया ने की थी। वे ही उन्हें पार्टी में लेकर आई थीं।
-उमा एक आत्मविश्वासी राजनीतिज्ञ हैं। साध्वी की वेशभूषा में हमेशा रहने वाली उमा ने अविवाहित रहकर अपना जीवन धर्म को समर्पित कर दिया।

- 1984 में BJP से जुड़ गई और पहला चुनाव हार गईं।
- 1989 के चुनावों में फिर जोर आजमाया और वे जीत कर विधानसभा पहुच गईं।
-खुजराहो लोकसभा सीट से 1991 में चुनाव लड़कर वे चर्चाओं में आ गईं।

- उसके बाद तीन बार लगातार वे इसी सीट पर जीतती गईं। 1999 में भोपाल संसदीय सीट से लड़कर वे लोकसभा पहुंच गईं।
- वाजपेयी सरकार में उमा केंद्रीय मानव संसाधन, पर्यटन, खेल और युवा मामले, कोयला और खाद्यान्न मंत्रालय की मंत्री रहीं।
- वर्ष 2003 के चुनाव में उमा भारती के दम पर प्रदेश में भाजपा की सकरा बन गई। उमा ने दिग्विजय सिंह सरकार को बुरी तरह परास्त किया और वे MP की मुख्यमंत्री बन गईं।

- इसके बाद गलत बयानबाजी के कारण उमा की सदस्यता छिन गई और उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया। बाद में भारतीय जन शक्ति पार्टी बनाकर उन्होंने संघर्ष किया। उनके वापसी का दौर शुरू हुआ और वे केंद्रीय मंत्री हैं।

5 नवंबर 2008
तेज़ तर्रार नेता उमा ने छिंदवाड़ा में अपनी ही पार्टी के एक नेता की पिटाई कर दी थी। उन्होंने जमकर थप्पड़ जड़ दिए थे। इसके बाद कई अफसरों के साथ भी ऐसे ही व्यवहार के किस्से सुनने में आते रहे।

मशहूर है उमा का ये किस्सा
साध्वी उमा भारती आध्यात्म के रास्ते पर चलने से पहले कई लोगों को पसंद करती थीं। उन्होंने एक पत्रिका को दिए इंटरव्यू में कहा था कि वे BJP के पूर्व विचारक गोविंदाचार्य से प्यार करती थीं। उमा ने स्वीकार किया था, 'हां, मैं उनसे (गोविंदाचार्य) प्यार करती थी। मैं शादी करना चाहती थी। हर जगह मैं उनका पीछा करती थी और मुझे लगता था कि वे भी मुझे प्यार करते हैं।

इस साक्षात्कार से अलग हटकर भी भोपाल में आयोजित एक सार्वजनिक कार्यक्रम में उमा ने स्वीकार किया था कि वह 1992 में गोविंदाचार्य से विवाह करने की तैयारी में थीं। उमा ने कहा था कि आडवाणीजी ने भी गोविंदाचार्य की उनसे शादी कराने की इच्छा बताई थी। लेकिन, उमा के भाई स्वामी लोधी ने यह कहते हुए मामला टाल दिया था कि गोविंदाचार्य सांवले (काले) हैं और आकर्षक नहीं। 1992 में आयोजित इस कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर, गोविंदाचार्य, स्वामी लोधी और बड़ी संख्या में संवाददाता मौजूद थे।

उमा को प्रपोज कर चुके हैं गोविंदाचार्य
नागपुर में एक समाचार पत्र को दिए साक्षात्कार में BJP के विचारक गोविंदाचार्य ने स्वीकार किया था कि उन्होंने उमा को विवाह के लिए प्रपोज कर दिया था। जब उनसे पूछा गया कि कोई पछतावा है तो उन्होंने कहा था कि उमा से रिश्ता मूर्त रूप नहीं ले सका था।

उमा के घर रहते थे गोविंदाचार्य
उमा ने एक कार्यक्रम में यह भी कहा था कि उन पर लगे वे आरोप सही हैं जिसमें कहा गया था कि गोविंदाचार्य उनके घर रहते हैं। उमा ने इस बात को विस्तार देते हुए कहा था कि जब मुझे बता चला कि उनका घर और गाड़ी छिन गई है तो उनसे संपर्क कर मैं अपने साथ ले आई। इससे पहले शीर्ष नेताओं से बात भी की थी।

इन प्रेमियों ने नहीं किया त्याग- धर
इंटेलिजेंस ब्यूरो के पूर्व जॉइंट डायरेक्टर एमके धर ने भी अपनी किताब में दोनों के प्रेम प्रसंग के बारे में अपनी किताब 'ओपन सीक्रेट्स' में लिखा है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा विवाह की अनुमति न देने के कारण गोविंदाचार्य और उमा भारती को गहरा झटका लगा, जिससे यह बात स्पष्ट हो जाती है कि इन प्रेमियों ने कोई त्याग नहीं किया, बल्कि राजनैतिक महत्वाकांक्षाओं के कारण विवाह नहीं किया

"जिलों से" से अन्य खबरें

BJP सांसद प्रभात झा को जान से मारने की धमकी

भोपाल/गुना। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा को जान से मारने की धमकी मिली है। वे लगातार कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ बोल रहे थे। इसके बाद पास हरिपुर गांव में उनकी तबीयत बुधवार को अचानक बिगड़ गई है। वे कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बेहोश हो गए थे। वहां मौजूद भाजपा के नेताओं ने उन्हें संभाला। बताया जा रहा है कि वे तेज गर्मी और कमजोरी के कारण बेहोश हो गए थे। बाद में उन्हें डाक्टरों ने भी देखा।

Read More

मुख्यमंत्री निःशक्त शिक्षा प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत लेपटॉप प्रदाय

मुख्यमंत्री निःशक्त शिक्षा प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत दृष्टिबाधित तथा श्रवणबाधित विद्यार्थियों के लिए कक्षा 10 में तथा स्नातक में प्रथम बार में प्रवेश लेने पर एक लेपटॉप एक बार प्रदाय करने का प्रावधान है। 
मुख्यमंत्री निःशक्त शिक्षा प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत निःशक्त विद्यार्थियों को पात्रता के आधार पर मध्यप्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए। 

Read More

प्रभारी मंत्री श्रीमती चिटनीस द्वारा मनासा में 1.50 करोड़ रूपये की लागत के ऑडिटोरियम भवन का भूमि पूजन सम्पन्न

प्रभारी मंत्री द्वारा मनासा में डेढ़ करोड़ लागत के ऑडिटोरियम भवन का भूमि पूजन सम्पन्न। मनासा नगर में स्विमिंग पूल निर्माण के लिए प्रभारी मंत्री द्वारा विशेष निधि से 50 लाख रूपये स्वीकृति की घोषणा की। महिला एवं बाल विकास तथा नीमच जिले की प्रभारी मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस ने सोमवार को मनासा में नगर पंचायत द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में 1.50 करोड़ की लागत से निर्मित होने वाले सर्वसुविधायुक्त ऑडिटोरियम भवन का भूमि पूजन कर, शिलान्यास किया।

Read More

व्यापमं की पिछले साल हुई परीक्षा में भी फर्जीवाड़ा

भोपाल। परीक्षा में धांधली रोकने के व्यावसायिक परीक्षा मंडल भले ही कितने ही दावे कर ले पर हकीकत यह है कि मुन्नाभाइयों ने एक बार फिर सारी व्यवस्थाओं को धता बताते हुए 11 उम्मीदवारों को पुलिस आरक्षक के लिए चयनित करवा दिया।

मामला पिछले साल हुई पुलिस कॉन्स्टेबल परीक्षा का है। आरक्षक पद पर ज्वाइन करने से पहले ऐसे 11 अभ्यर्थियों को चिन्हित कर लिया गया है। पुलिस की चयन एवं भर्ती शाखा ने सभी 11 फर्जी उम्मीदवारों के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई के आदेश भी जारी कर दिए गए हंै। मालूम हो आरक्षक भर्ती परीक्षा देने के दौरान ही 70 मुन्नााभाई पकड़े गए थे।

Read More

डॉक्टरों और मेडीकल स्टाफ के दल ने जीता रोगियों एवं उनके परिजनों का दिल

तापोबाई की उम्र महज 48 साल है। गुना जिले के बरखेड़ी की रहने वाली तापोबाई मजदूरी करके अपना पेट पालती है। उसका पति राधेश्याम भी दिहाड़ी मजदूर है। उनके जिम्मे दो बेटों एवं एक बेटी को पालने का भार है। उन्नीस साल पहले गरीब तापोबाई को बच्चादानी खराब होने की बीमारी ने चपेट में ले लिया। डॉक्टर को दिखाया, तो पता चला कि ऑपरेशन कराना पड़ेगा और खर्च पच्चीस-तीस हजार के आसपास आएगा। तापोबाई तो सुनकर ही चक्कर खा गई।

Read More

दूरस्थ अंचलों में कुपोषण समाप्त करने तीन विभागों की संयुक्त कार्ययोजना शुरू

दूरस्थ अंचलों के तेंदूपत्ता संग्राहक परिवारों के पांच वर्ष तक के बच्चों में कुपोषण समाप्त करने के लिए कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने महिला बाल विकास विभाग, स्वास्थ्य विभाग तथा वन विभाग के संयुक्त प्रयासों से एक नई कार्ययोजना बनाई है। यह कार्ययोजना प्रदेश में अपनी तरह की एक नई पहल है। इस कार्ययोजना के तहत फड़ पर आने वाले तेंदूपत्ता संग्राहकों के पांच वर्ष तक के बच्चों के लिए विशेष रूप से स्थानीय स्तर पर तैयार किया गया पौष्टिक आहार (लड्डू) वितरित किया जा रहा है। 

Read More

दवे ने वसीयत में लिखा, मेरा स्मारक मत बनवाना, पेड़ लगाना

भोपाल। राज्यसभा सांसद और केंद्रीय मंत्री अनिल माधव दवे की लंबी बीमारी से निधन होन के बाद उनकी वसीयत भी अब सामने आ गई है। आमतौर पर सादा जीवन जीने वाले अनिल माधव दवे ने अपनी वसीयत में लिखा है कि संभव हो सके तो मेरा अंतिम संस्कार होशंगाबाद जिले के बांद्राभान में नदी महोत्सव वाले स्थान पर कराना।

Read More

एमपी : भाजपा MLA सुषमा साहू ने कहा “नहीं लडूंगी अगला चुनाव”

सागर जिले से भाजपा की महिला विधायक पारुल साहू ने अगला विधानसभा चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान कर दिया है.

भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल के मध्यप्रदेश दौरे के दौरान बीजेपी में गुटबाजी खुलकर सामने आ गई. पार्टी नेताओं से कलह के चलते सागर जिले से बीजेपी की महिला विधायक पारुल साहू ने अगला विधानसभा चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान कर दिया है.

Read More

सरकारी रेस्ट हाउस में लड़कियों के साथ मिला नेता, बोला- पार्टी में संगठन मंत्री हूं

भाेपाल.एमपी के बरेली में पुलिस आधी रात को सरकारी रेस्ट हाउस पहुंची तो वहां का नजारा देख चौंक गई। पुलिस को सूचना मिली थी कि कमरे में संदिग्ध लड़के-लड़कियां रुकी हैं। जब वहां कुछ लोगों ने वीडियो बनाया तो महिला ने धमकाते हुए कहा कि वीडियो बनाना बंद करो नहीं तो हम तुम्हारा फोटो खींच देंगे। क्या है मामला…
-सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात बरेली नगर में स्थित लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस में उस समय हंगामे की स्थिति बन गई जब कमरा नंबर 2 में रुके हुए कुछ लोगों से पूछताछ करने पुलिस पहुंची।

Read More

साइबर अटैक: हो जाएंगे लूट का शिकार इंटरनेट बैंकिंग से पहले तत्काल पढ़ें ये खबर

जबलपुर। दुनिया भर में वेबसाइटें, बैंक अकाउंट आदि हैक कर रैनसमवेयर नाम वायरस से किए जाने वाले साइबर अटैक का खतरा यहां तक आ पहुंचा है। जबलपुर, नरसिंहपुर, कटनी सहित अन्य क्षेत्रों में भी लूट खतरा मंडरा रहा है। 

सुरक्षा व्यवस्था के एहतियात एसबीआई के अधिकारियों ने विशेष सावधानी बरतने बैंक उपभोक्ताओं को निर्देश जारी कि किए गए हैं। 

इसलिए आप इंटरनेट बैंकिंग से पहले इन सावधानियों को जरुर बरतें। बताया जा रहा है कि सीआईडी की साइबर ब्रांच ने भी कई शहरों में अलर्ट जारी किया है। 

रैनसमवेयर वायरस के हमलावर व हैकर्स किसी फाइल्स को लॉक कर उसे खोलने के बदले फिरौती मांगने का काम कर रहे हैं। वहीं सोशल मीडिया पर भी साइबर अटैक की खबरें तेजी से बढ़ी हैं। इससे खबराएं नहीं बस सावधानी बरतें।

Read More