mp mirror logo

छठी तक पढ़ाई की, रामकथा पढ़ते-पढ़ते बन गई थी MP की CM

भोपाल। केंद्रीय मंत्री उमा भारती की मुश्किलें बढ़ सकती है। उन पर सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी विध्वंस मामले में केस चलाने की मंजूरी दे दी है। मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा के बारे में सभी लोग जानते हैं कि वे अक्सर अपने विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहती हैं। उनका विवादों से चोली-दामन का साथ रहता है। छोटी-सी उम्र में साध्वी बनने के बाद वे राजनीति में आ गई। छठी तक पढ़ी यह महिला MP की CM रह चुकी हैं और आज देश की केंद्रीय मंत्री हैं।

वे बोलने में इतनी बेबाक हैं कि जब वे बोलना शुरू करती हैं तो अच्छे-अच्छे चुप हो जाते हैं। उनके तर्कों का बड़े-बड़े अफसर भी जवाब नहीं दे पाते हैं। आज उनके जन्म दिवस पर बधाइयों का तांता लगा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर उन्हें जन्म दिवस की बधाई दी है।

छठी कक्षा तक पढ़ी-लिखी, बनीं MP की CM
-हिन्दू महाकाव्य में अच्छी पकड़ रखने वाली उमाश्री जन्म 3 मई 1959 को टीकमगढ़ के लोधी राजपूत परिवार में हुआ था।
- उमा मात्र छठी तक पढ़ी हैं। उमा का लाल-पालन ग्वालियर घराने की राजमाता विजयराजे सिंधिया ने की थी। वे ही उन्हें पार्टी में लेकर आई थीं।
-उमा एक आत्मविश्वासी राजनीतिज्ञ हैं। साध्वी की वेशभूषा में हमेशा रहने वाली उमा ने अविवाहित रहकर अपना जीवन धर्म को समर्पित कर दिया।

- 1984 में BJP से जुड़ गई और पहला चुनाव हार गईं।
- 1989 के चुनावों में फिर जोर आजमाया और वे जीत कर विधानसभा पहुच गईं।
-खुजराहो लोकसभा सीट से 1991 में चुनाव लड़कर वे चर्चाओं में आ गईं।

- उसके बाद तीन बार लगातार वे इसी सीट पर जीतती गईं। 1999 में भोपाल संसदीय सीट से लड़कर वे लोकसभा पहुंच गईं।
- वाजपेयी सरकार में उमा केंद्रीय मानव संसाधन, पर्यटन, खेल और युवा मामले, कोयला और खाद्यान्न मंत्रालय की मंत्री रहीं।
- वर्ष 2003 के चुनाव में उमा भारती के दम पर प्रदेश में भाजपा की सकरा बन गई। उमा ने दिग्विजय सिंह सरकार को बुरी तरह परास्त किया और वे MP की मुख्यमंत्री बन गईं।

- इसके बाद गलत बयानबाजी के कारण उमा की सदस्यता छिन गई और उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया। बाद में भारतीय जन शक्ति पार्टी बनाकर उन्होंने संघर्ष किया। उनके वापसी का दौर शुरू हुआ और वे केंद्रीय मंत्री हैं।

5 नवंबर 2008
तेज़ तर्रार नेता उमा ने छिंदवाड़ा में अपनी ही पार्टी के एक नेता की पिटाई कर दी थी। उन्होंने जमकर थप्पड़ जड़ दिए थे। इसके बाद कई अफसरों के साथ भी ऐसे ही व्यवहार के किस्से सुनने में आते रहे।

मशहूर है उमा का ये किस्सा
साध्वी उमा भारती आध्यात्म के रास्ते पर चलने से पहले कई लोगों को पसंद करती थीं। उन्होंने एक पत्रिका को दिए इंटरव्यू में कहा था कि वे BJP के पूर्व विचारक गोविंदाचार्य से प्यार करती थीं। उमा ने स्वीकार किया था, 'हां, मैं उनसे (गोविंदाचार्य) प्यार करती थी। मैं शादी करना चाहती थी। हर जगह मैं उनका पीछा करती थी और मुझे लगता था कि वे भी मुझे प्यार करते हैं।

इस साक्षात्कार से अलग हटकर भी भोपाल में आयोजित एक सार्वजनिक कार्यक्रम में उमा ने स्वीकार किया था कि वह 1992 में गोविंदाचार्य से विवाह करने की तैयारी में थीं। उमा ने कहा था कि आडवाणीजी ने भी गोविंदाचार्य की उनसे शादी कराने की इच्छा बताई थी। लेकिन, उमा के भाई स्वामी लोधी ने यह कहते हुए मामला टाल दिया था कि गोविंदाचार्य सांवले (काले) हैं और आकर्षक नहीं। 1992 में आयोजित इस कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर, गोविंदाचार्य, स्वामी लोधी और बड़ी संख्या में संवाददाता मौजूद थे।

उमा को प्रपोज कर चुके हैं गोविंदाचार्य
नागपुर में एक समाचार पत्र को दिए साक्षात्कार में BJP के विचारक गोविंदाचार्य ने स्वीकार किया था कि उन्होंने उमा को विवाह के लिए प्रपोज कर दिया था। जब उनसे पूछा गया कि कोई पछतावा है तो उन्होंने कहा था कि उमा से रिश्ता मूर्त रूप नहीं ले सका था।

उमा के घर रहते थे गोविंदाचार्य
उमा ने एक कार्यक्रम में यह भी कहा था कि उन पर लगे वे आरोप सही हैं जिसमें कहा गया था कि गोविंदाचार्य उनके घर रहते हैं। उमा ने इस बात को विस्तार देते हुए कहा था कि जब मुझे बता चला कि उनका घर और गाड़ी छिन गई है तो उनसे संपर्क कर मैं अपने साथ ले आई। इससे पहले शीर्ष नेताओं से बात भी की थी।

इन प्रेमियों ने नहीं किया त्याग- धर
इंटेलिजेंस ब्यूरो के पूर्व जॉइंट डायरेक्टर एमके धर ने भी अपनी किताब में दोनों के प्रेम प्रसंग के बारे में अपनी किताब 'ओपन सीक्रेट्स' में लिखा है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा विवाह की अनुमति न देने के कारण गोविंदाचार्य और उमा भारती को गहरा झटका लगा, जिससे यह बात स्पष्ट हो जाती है कि इन प्रेमियों ने कोई त्याग नहीं किया, बल्कि राजनैतिक महत्वाकांक्षाओं के कारण विवाह नहीं किया

"जिलों से" से अन्य खबरें

बेटियों को उच्च शिक्षा देना हमारी प्राथमिकता-विधायक श्री दांगी

कस्तुरबा गांधी बालिका छात्रावास जीरापुर में सर्वशिक्षा अभियान द्वारा आयोजित मां-बेटी मेले के शुभांरभ अवसर पर बालिकाओं द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियों में समाज में व्याप्त कुरीतियों पर आधारित लोक गीत बोर बंधन नख रालो, राजस्थानी परंपरा पर आधारित घुमर नृत्य एवं लघु नाटिका के माध्यम से स्वच्छता, वृक्षों और वनो को बचाने तथा समाज में जन-जागरूकता लाने के लिये प्रस्तुत किये। कार्यक्रम का शुभारंभ गणेश वंदना से किया गया।

Read More

बेटियों को उच्च शिक्षा देना हमारी प्राथमिकता-विधायक श्री दांगी

कस्तुरबा गांधी बालिका छात्रावास जीरापुर में सर्वशिक्षा अभियान द्वारा आयोजित मां-बेटी मेले के शुभांरभ अवसर पर बालिकाओं द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियों में समाज में व्याप्त कुरीतियों पर आधारित लोक गीत बोर बंधन नख रालो, राजस्थानी परंपरा पर आधारित घुमर नृत्य एवं लघु नाटिका के माध्यम से स्वच्छता, वृक्षों और वनो को बचाने तथा समाज में जन-जागरूकता लाने के लिये प्रस्तुत किये। कार्यक्रम का शुभारंभ गणेश वंदना से किया गया।

Read More

प्रधानमंत्री ने परीक्षा के समय तनाव प्रबंधन के लिए विद्यार्थियों को दिये टिप्स

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज कक्षा 6 से 12 वी तक के विद्यार्थियों को परीक्षा के समय होने वाले तनाव के प्रबंधन के संबंध में टिप्स दिये उन्होने परीक्षा के समय तनाव प्रबंधन पर लिखी गई पुस्तक "Exam Warriors" में उल्लेखित कुछ बिंदुओ पर चर्चा करते हुए विद्यार्थियों को विस्तार पूर्वक बताते हुए परीक्षा का डर दिमाग से निकाल देने और शांत मन से परीक्षा की तैयारी करने के लिए समझाईश दी।

Read More

भारत तिब्बत सीमा पुलिस के जवानों ने दिया नर्मदा संरक्षण का संदेश

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के 42 सदस्यों ने शुक्रवार को दो रबर की पतवार वोट से राजघाट पहुंचकर उपस्थित श्रद्धालुओं, विद्यार्थियों को नर्मदा संरक्षण का संदेश दिया। इस दौरान जवानों एवं उनके पदाधिकारियों ने जहां विद्यार्थियों के साथ मिलकर घाट पर फैली पूजन सामग्री एकत्रित कर स्वच्छता का संदेश दिया। वही नर्मदा का संरक्षण क्यों जरूरी है, इसके बारे में उपस्थितो  को बताकर जागरुक किया।

Read More

वृहद विधिक सेवा शिविर 24 फरवरी को ग्राम असीरगढ़ में होगा आयोजित

राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण एवं राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बुरहानपुर द्वारा ग्राम असीरगढ़ स्थित हॉयर सेकेण्डरी स्कूल परिसर में आगामी 24 फरवरी 2018 (शनिवार) को प्रातः 11 बजे से वृहद विधिक सेवा शिविर का आयोजन किया जा रहा हैं। वृहद विधिक सेवा शिविर का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जायें। 

Read More

पशुपालन विभाग द्वारा कड़कनाथ चुजे का वितरण किया गया

उपसंचालक पशु चिकित्सा सेवायें से प्राप्त जानकारी के अनुसार पशुपालन विभाग मण्डला द्वारा आज 7 फरवरी 2018 को विभाग की 80 प्रतिशत अनुदान पर कड़कनाथ कुक्कुट ईकाईयों का वितरण मण्डला जिले के हितग्राहियों को किया गया। उक्त योजना की कुल ईकाई लागत वर्तमान में 4400 रूपये है जिसमें हितग्राही द्वारा 20 प्रतिशत अंशदान राशि 880 रूपये जमा की जाती है। 

Read More

लक्ष्य बनायें, एकाग्रचित् होकर करें तैयारी - राज्यमंत्री श्री जोशी

पौराणिक इतिहास में भी हमने सीखा है कि अर्जुन ने अपने लक्ष्य को तभी पाया, जब एकाग्रचित् होकर लक्ष्य अर्जित करने का प्रयास उन्होने किया। इसलिये आप सभी भी एकाग्रचित् होकर तैयारियों में जुटें और अपना लक्ष्य अर्जित करें। यह प्रेरणा देती हुई बातें शुक्रवार को प्रदेश के तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार), श्रम, स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री श्री दीपक जोशी ने डीपीसी स्कूल में विद्यार्थियों से कहीं। उन्होने कहा कि आप लोग अपने प्रोफेशन में उच्चतम मुकाम तक पहुंचें। लेकिन जरुरी है कि अच्छे प्रोफेशनलिस्ट बनने के साथ ही आप एक अच्छे भारतीय नागरिक भी बनें। मोबाईल और कम्प्यूटर का इस्तेमाल उतना ही करने का सुझाव राज्यमंत्री श्री जोशी ने विद्यार्थियों को दिया, जितना की ज्ञान अर्जित करने के लिये जरुरी हो।

Read More

फिर सरकार पर हमलावर यशंवत सिन्हा, शिव’राज’ में किसानों के लिए धरने पर बैठे

नरसिंहपुर पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा भाजपा सरकार को निशाने पर लेने का कोई भी मौका नहीं छोड़ना चाहते हैं। इस बार वे शिवराज सरकार की नींदें उड़ाने मध्यप्रदेश जा पहुंचे हैं। जसवंत सिन्हा मध्यप्रदेश में आंदोलनकारी किसानों पर दर्ज मामलों को वापस लेने की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए। एक फरवरी को उन्होंने किसान के लिए अपने पहले आंदोलन की शुरुआत नरसिंहपुर से की। एनटीपीसी से जुड़े भू-विस्थापित किसानों को राहत देने व उन पर दर्ज किए एससीएसटी एक्ट के मामले की निष्पक्ष पड़ताल करने की मांग को लेकर उन्होंने कलेक्टोरेट के मुख्य गेट पर गुरुवार को करीब एक बजे से धरना शुरू कर दिया। प्रशासन ने उनसे बातचीत भी करने की कोशिश की, लेकिन वार्ता विफल रही।

Read More

मानव समाज के पथ प्रदर्शक संत रविदास - लाल सिंह आर्य

मनुष्य कर्म से महान बनता है। अपनी सोच से वह समाज को दिशा देता है। जब मैं भारतीय संस्कृति एवं परम्परा को पढ़ता हूँ और समझने की कोशिश करता हूँ तो अभिभूत हो जाता हूँ। जन्म जननी भारत ने हर वर्ग को इतना ऊँचा स्थान दिया कि उसके आगे सब कुछ गौण हो जाता है। आज मैं संत कवि रविदास जी का स्मरण करते हुए यह कल्पना कर रोमांचित हो जाता हूँ कि वह कैसा समय रहा होगा जब एक बहुत मामूली से व्यक्ति ने अपने सकारात्मक विचारों से समूचे समाज की सोच को बदल दिया। समाज की दशा सुधारने में संत रविदास जैसी पुण्यात्माओं का अमिट योगदान रहा है। 

Read More

मुख्यमंत्री श्री चौहान के मंदसौर आगमन पर हेलीपैड पर हुआ स्वागत

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान भोपाल से प्रस्थान कर मंदसौर हेलीपैड पर दोपहर 1.30 बजे पहुंचे। 

Read More