mp mirror logo

छठी तक पढ़ाई की, रामकथा पढ़ते-पढ़ते बन गई थी MP की CM

भोपाल। केंद्रीय मंत्री उमा भारती की मुश्किलें बढ़ सकती है। उन पर सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी विध्वंस मामले में केस चलाने की मंजूरी दे दी है। मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा के बारे में सभी लोग जानते हैं कि वे अक्सर अपने विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहती हैं। उनका विवादों से चोली-दामन का साथ रहता है। छोटी-सी उम्र में साध्वी बनने के बाद वे राजनीति में आ गई। छठी तक पढ़ी यह महिला MP की CM रह चुकी हैं और आज देश की केंद्रीय मंत्री हैं।

वे बोलने में इतनी बेबाक हैं कि जब वे बोलना शुरू करती हैं तो अच्छे-अच्छे चुप हो जाते हैं। उनके तर्कों का बड़े-बड़े अफसर भी जवाब नहीं दे पाते हैं। आज उनके जन्म दिवस पर बधाइयों का तांता लगा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर उन्हें जन्म दिवस की बधाई दी है।

छठी कक्षा तक पढ़ी-लिखी, बनीं MP की CM
-हिन्दू महाकाव्य में अच्छी पकड़ रखने वाली उमाश्री जन्म 3 मई 1959 को टीकमगढ़ के लोधी राजपूत परिवार में हुआ था।
- उमा मात्र छठी तक पढ़ी हैं। उमा का लाल-पालन ग्वालियर घराने की राजमाता विजयराजे सिंधिया ने की थी। वे ही उन्हें पार्टी में लेकर आई थीं।
-उमा एक आत्मविश्वासी राजनीतिज्ञ हैं। साध्वी की वेशभूषा में हमेशा रहने वाली उमा ने अविवाहित रहकर अपना जीवन धर्म को समर्पित कर दिया।

- 1984 में BJP से जुड़ गई और पहला चुनाव हार गईं।
- 1989 के चुनावों में फिर जोर आजमाया और वे जीत कर विधानसभा पहुच गईं।
-खुजराहो लोकसभा सीट से 1991 में चुनाव लड़कर वे चर्चाओं में आ गईं।

- उसके बाद तीन बार लगातार वे इसी सीट पर जीतती गईं। 1999 में भोपाल संसदीय सीट से लड़कर वे लोकसभा पहुंच गईं।
- वाजपेयी सरकार में उमा केंद्रीय मानव संसाधन, पर्यटन, खेल और युवा मामले, कोयला और खाद्यान्न मंत्रालय की मंत्री रहीं।
- वर्ष 2003 के चुनाव में उमा भारती के दम पर प्रदेश में भाजपा की सकरा बन गई। उमा ने दिग्विजय सिंह सरकार को बुरी तरह परास्त किया और वे MP की मुख्यमंत्री बन गईं।

- इसके बाद गलत बयानबाजी के कारण उमा की सदस्यता छिन गई और उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया। बाद में भारतीय जन शक्ति पार्टी बनाकर उन्होंने संघर्ष किया। उनके वापसी का दौर शुरू हुआ और वे केंद्रीय मंत्री हैं।

5 नवंबर 2008
तेज़ तर्रार नेता उमा ने छिंदवाड़ा में अपनी ही पार्टी के एक नेता की पिटाई कर दी थी। उन्होंने जमकर थप्पड़ जड़ दिए थे। इसके बाद कई अफसरों के साथ भी ऐसे ही व्यवहार के किस्से सुनने में आते रहे।

मशहूर है उमा का ये किस्सा
साध्वी उमा भारती आध्यात्म के रास्ते पर चलने से पहले कई लोगों को पसंद करती थीं। उन्होंने एक पत्रिका को दिए इंटरव्यू में कहा था कि वे BJP के पूर्व विचारक गोविंदाचार्य से प्यार करती थीं। उमा ने स्वीकार किया था, 'हां, मैं उनसे (गोविंदाचार्य) प्यार करती थी। मैं शादी करना चाहती थी। हर जगह मैं उनका पीछा करती थी और मुझे लगता था कि वे भी मुझे प्यार करते हैं।

इस साक्षात्कार से अलग हटकर भी भोपाल में आयोजित एक सार्वजनिक कार्यक्रम में उमा ने स्वीकार किया था कि वह 1992 में गोविंदाचार्य से विवाह करने की तैयारी में थीं। उमा ने कहा था कि आडवाणीजी ने भी गोविंदाचार्य की उनसे शादी कराने की इच्छा बताई थी। लेकिन, उमा के भाई स्वामी लोधी ने यह कहते हुए मामला टाल दिया था कि गोविंदाचार्य सांवले (काले) हैं और आकर्षक नहीं। 1992 में आयोजित इस कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर, गोविंदाचार्य, स्वामी लोधी और बड़ी संख्या में संवाददाता मौजूद थे।

उमा को प्रपोज कर चुके हैं गोविंदाचार्य
नागपुर में एक समाचार पत्र को दिए साक्षात्कार में BJP के विचारक गोविंदाचार्य ने स्वीकार किया था कि उन्होंने उमा को विवाह के लिए प्रपोज कर दिया था। जब उनसे पूछा गया कि कोई पछतावा है तो उन्होंने कहा था कि उमा से रिश्ता मूर्त रूप नहीं ले सका था।

उमा के घर रहते थे गोविंदाचार्य
उमा ने एक कार्यक्रम में यह भी कहा था कि उन पर लगे वे आरोप सही हैं जिसमें कहा गया था कि गोविंदाचार्य उनके घर रहते हैं। उमा ने इस बात को विस्तार देते हुए कहा था कि जब मुझे बता चला कि उनका घर और गाड़ी छिन गई है तो उनसे संपर्क कर मैं अपने साथ ले आई। इससे पहले शीर्ष नेताओं से बात भी की थी।

इन प्रेमियों ने नहीं किया त्याग- धर
इंटेलिजेंस ब्यूरो के पूर्व जॉइंट डायरेक्टर एमके धर ने भी अपनी किताब में दोनों के प्रेम प्रसंग के बारे में अपनी किताब 'ओपन सीक्रेट्स' में लिखा है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा विवाह की अनुमति न देने के कारण गोविंदाचार्य और उमा भारती को गहरा झटका लगा, जिससे यह बात स्पष्ट हो जाती है कि इन प्रेमियों ने कोई त्याग नहीं किया, बल्कि राजनैतिक महत्वाकांक्षाओं के कारण विवाह नहीं किया

"जिलों से" से अन्य खबरें

एमपी: धर्मांतरण के आरोप में 30 पादरी हिरासत में, थाने पहुंचे ईसाई धर्मगुरुओं की जलाई कार

मध्यप्रदेश के सतना शहर के एक गांव में कैरोल गा रहे 30 से ज्यादा पादरियों और सेमिनरीज को पुलिस ने गुरुवार को हिरासत में ले लिया है।

Read More

इंदौर में टी-20 का जबरदस्त रोमांच : दो घंटे में बिक गए गैलरी के साढ़े पांच हजार टिकट

इंदौर. भारत-श्रीलंका के बीच २२ दिसंबर को होने वाले अंतरराष्ट्रीय टी-२० मुकाबले के टिकटों की ऑनलाइन बिक्री गुरुवार सुबह ६ बजे शुरू हुई। पेटीएम और इनसाइडर वेबसाइट पर बिक्री शुरू होने के महज दो घंटे में ही ईस्ट और वेस्ट गैलरी के करीब ५५०० टिकट बिक गए, जबकि पैवेलियन के महंगे टिकट देर रात तक वेबसाइट पर मौजूद थे।

Read More

आदिवासी मत्स्य उद्योग सहकारी समिति के 40 मत्स्य पालक परिवार हुए आत्मनिर्भर

आदिवासियों में मत्सयपालन की परम्परा प्राचीन काल से ही रही है। आदिवासी परिवार अपने पौष्टिक आहार एवं उत्सव के लिए छोटे-छोटे तालाबों में मत्स्य पालन करते रहे हैं। पुष्पराजगढ जनपद पंचायत के ग्राम पोडकी में जल संसाधन विभाग द्वारा पूर्व के वर्षो में सिंचाई हेतु जोहिला जलाशय का निर्माण कराया गया था। प्रारंभ में इस जलाशय का प्रारंभ में सिंचाई कार्य हेतु उपयोग किया जाता था। जब मत्स्यपालन विभाग के अधिकारियों ने ग्राम के कृषकों को खेती के साथ मत्स्यपालन कर अधिक लाभ कमाने की जानकारी लोगों को दी तो वे तैयार हो गये। 

Read More

प्रगतिशील कृषक भी खुश है भावांतर योजना में मिल रहे लाभ से (सफलता की कहानी)

बड़वानी जिले के ग्राम बगूद रहवासी प्रगतिशील किसान श्री सालिगराम जाट, भावान्तर योजना में मक्का विक्रय पश्चात मिल रही भावान्तर की राशि से प्रसन्न है। उनका कहना है कि मुख्यमंत्री ने इस योजना को लागू कर छोटे-मझले किसानों के उत्पाद पर मिलने वाले लाभ को युक्तियुक्तकरण कर जो दाम दिलवा रहे है, उससे सभी किसान खुश है।

Read More

लगता है कि किसी प्ले स्कूल में आ गए (सफलता की कहानी)

हरदा जिले के खिरकिया तहसील मुख्यालय के एनआरसी सेंटर को देखें तो आपको लगेगा कि किसी प्ले स्कूल में आ गए हों। दीवारों पर जंगली जानवरों का चित्रण। साफ-सुथरे बेड, बच्चे खिलौना गाड़ियों में घूमते हुए। यह खूबसूरत सा एनआरसी सेंटर पिछले नौ सालों से बच्चों के सुपोषण के लिए कार्य कर रहा है। यहाँ एक बार में 20 बच्चों के पोषण की व्यवस्था है। वातावरण हाइजनिक है। यहाँ माँ और बच्चों के रहने-खाने की व्यवस्था है। 

Read More

अभ्यर्थियों को परीक्षा केन्द्र पर मूल प्रवेश पत्र के साथ मूलफोटो पहचान पत्र लाना अनिवार्य रहेगा

कलेक्टर श्री राजेश जैन ने पटवारी भर्ती परीक्षा पूरी गंभीरता एवं सजगता के साथ सम्पन्न कराने के आब्जर्वरों को निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने इस आशय के निर्देश यहॉं कलेक्ट्रेट में सम्पन्न हुई आब्जर्वरों की बैठक में दिए। यह बैठक पटवारी भर्ती परीक्षा के आयोजन के सिलसिले में आयोजित की गई थी। बैठक में अपर कलेक्टर श्री नियाज अहमदखान, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री सत्येन्द्र सिंह तोमर, संयुक्त कलेक्टर श्री भूपेन्द्र गोयल समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं आब्जर्वर उपस्थित थे। 

Read More

सैनिक का पार्थिव शरीर पहुंचा देवास, गांव में सभी की आंखें नम

देवास। श्रीनगर में हुए एक हादसे में गोली लगने से सैनिक निलेश धाकड़ (26) की मौत हो गई थी। गुरुवार सुबह उनकी पार्थिव देह देवास पहुंची। धाकड़ पांच साल पहले सेना में भर्ती हुए थे। वर्तमान में उनकी पोस्टिंग श्रीनगर में थी। सोनकच्छ तहसील में स्थि‍त उनके गृहग्राम घिचलाय में निलेश धाकड़ को सैनिक सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी जाएगी। गांव के रास्ते में जगह-जगह अंतिम विदाई देने के‍ लिए 50 से अधिक मंच बनाए गए हैं।

Read More

बजरंग इलेवन और केजीएन इलेवन के बीच हुआ रोमांचक मैच

विराट क्रिकेट क्लब शहडोल के तत्वावधान में आज संभागीय मुख्यालय शहडोल के टेक्निक स्कूल ग्राउण्ड में क्वार्टर फायनल क्रिकेट मैच आयोजित हुआ। क्वार्टर फायनल बजरंग इलेवन और केजीएन इलेवन के बीच खेला गया। क्वार्टर फायनल मैच में बजरंग इलेवन की टीम ने पहले बैटिंग करते हुये 150 रन बनाये वहीं लक्ष्य का पीछा करते हुये केजीएन इलेवन की टीम ने 145 रन बनाये। 

Read More

कृषि विज्ञान केन्द्र बड़वानी द्वारा ’’विश्व मृदा दिवस’’ आयोजित किया गया

कृषि विज्ञान केन्द्र बडवानी द्वारा मंगलवार को केन्द्र के सभागार में ’’विश्व मृदा दिवस’’ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. डी. के. जैन, प्रभारी वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख ने की साथ ही कार्यक्रम में श्री एन, बी. वर्मा उप परियोजना संचालक (आत्मा), श्री दीपक कुमार बेनल सहायक संचालक (कृषि), श्री कछावा जी एम. पी. एग्रो, डॉ. एस. के. बड़ोदिया एवं झंझाड़ सिहं अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। जिले के प्रगतिशील कृषकों एवं कृषक महिलाओं की भी कार्यक्रम में सक्रिय भागीदारी रही।

Read More

राज्य सेवा के अधिकारियों ने ग्रामीण भ्रमण में देखी व्यवस्थाऐं

प्रशासनिक अकादमिक भोपाल से जिले में राज्य सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों को भेजने की व्यवस्था सुनिश्चित की। इन अधिकारियों ने विगत दिनो ग्राम बिलाव एवं पिथनपुरा भ्रमण के दौरान शासन की योजनाओं की मैदानी हकीकत जानी। साथ ही किसानों की खेती को फायदे का धंधा बनाने की दिशा में क्षेत्रीय किसानों से चर्चा की। 

Read More