mp mirror logo

गर्मियों में स्किन एलर्जी से लेकर ईचिंग तक को ठीक कर सकते हैं ये नुस्खें!

नई दिल्ली: मौसम में बदलाव आते ही स्किन और हेयर केयर पर खास ध्यान देना होता है. ऐसा ना करने से स्किन ड्राई हो जाते हैं और स्किन की नमी चली जाती है. तो चलिए जानते हैं कुछ घरेलु उपायों के बारे में जो ला सकते हैं आपकी त्वचा में निखार.

गर्मियों में स्किन पर रेड रैशेज पड़ना आम बात हैं. ऐसे में आपको समर्स में साबुन का प्रयोग तुरंत बंद कर देना चाहिए. साबुन की बजाय सुबह-शाम क्लीनजर का उपयोग करें.आप त्वचा में नमी बनाएं रखने के लिए तिल के तेल की मालिश भी सकते हैं.दूध में कुछ शहद की बूंदें डालकर इसे स्किन पर 10-15 मिनट तक लगा रहने दें. बाद में इसे फ्रेश पानी से धो लें.आपकी स्किन ऑयली है तो तकरीबन 50ML गुलाब जल में एक चम्मच ग्लीसरीन मिलाइए. इस मिश्रण को बोतल में डालकर इसे पूरी तरह मिला कर इस मिश्रण को चेहरे पर लगा लीजिए. 

इससे स्किन फ्रेश रहेगी और नमी भी बरकरार रहेगी.ऑयली स्किन पर भी शहद का लेप लगा सकते हैं. दरअसल, शहद स्किन को सॉफ्ट बनाता है. रोजाना 15 मिनट तक शहद का लेप चेहरे पर लगाकर उसे फ्रेश पानी से धो लें.गर्मियों में एलर्जी की समस्या बढ़ जाती है, जिससे ईचिंग, रैशेज और रेड स्पॉट हो जाते हैं. ऐसे में चंदन क्रीम को स्किन के लिए बेहतर माना जाता है. चंदन का पेस्ट बनाकर भी लगा सकते हैं. 

चंदन पेस्ट में थोड़ा सा गुलाब जल मिलाकर उसे स्किन पर लगाएं और 30 मिनट बाद ताजे पानी से धो लें.चंदन की दो-तीन बूंद तेल में 50ML गुलाब जल मिलाकर लगाने से भी फायदा होता है.स्किन प्रॉब्लम्स में पिंपल्स, रेड स्पॉट और रैशेज से बचने के लिए तुलसी भी बहुत उपयोगी है. इसके साथ ही नीम और पुदीना की पत्तियां भी काफी कारगर मानी जाती हैं.ईचिंग में एपल साइडर विनेगर काफी मददगार साबित होता है. 

इससे गर्मी की जलन और बालों में डेंड्रफ की समस्या से निपटने में भी मदद मिलती है.नींबू की पत्तियों को चार कप पानी में हल्की आंच पर एक घंटा उबालिए. इस मिश्रण को टाइट जार में रातभर रहने दीजिए. अगली सुबह मिश्रण से पानी निचोड़ कर पत्तियों का पेस्ट बना लीजिए और इस पेस्ट को त्वचा पर लगाइए.एक चम्मच मुलतानी मिट्टी को गुलाब जल में मिलाकर इस पेस्ट को स्किन पर लगाकर 15-20 मिनट बाद धो डालिए.

ईचिंग में वाईकाबोर्नेट सोडा भी अत्यधिक प्रभावशाली साबित होता है. बायोकाबोर्नेट सोडे और मुलतानी मिट्टी के साथ गुलाब-जल का मिश्रण बनाकर पैक बना लें. इसे ईचिंग, रेड स्पॉट और पिंपल्स पर लगाकर 10 मिनट बाद फ्रेश पानी से धो लें. इससे आराम मिलेगा.

"सेहत" से अन्य खबरें

अदरक वाली चाय पीते हैं तो संभल जाएं, हो सकता है कि आप जहर पी रहे हों...

 नई दिल्ली: अगर आप अदरक की चाय पीने के शौकीन हैं या अदरक सब्ज़ी में डालकर खाना पसंद करते हैं तो सावधान हो जाइये, हो सकता है कि आप ज़हर खा रहें हों. देश की सबसे बड़ी आजादपुर मंडी के आसपास 6 अदरक गोदामों पर छापे मारकर दिल्ली प्रशासन ने करीब 450 लीटर तेज़ाब पकड़ा है. इससे अदरक को धोकर चमकाने का काम चल रहा था.

Read More

Navratri 2017: क्या है शरद नवरात्रि, उपवास के दौरान इन कुछ बातों का रखें खास ख्याल

नवरात्रि का त्योहार नजदीक है, भारत में नवरात्रि के पर्व को बेहद ही उल्लास के साथ मनाया जाता है. इस साल नवरात्रि 21 सितंबर से शुरू होकर 29 सितंबर तक चलेंगे. शरद नवरात्रि 9 दिनों तक चलने वाला पर्व है जिसमें देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है. नवरात्रि का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शता है. 

Read More

विटामिन डी की कमी से महिलाओं को हो सकता है मल्टीपल स्केलेरोसिस का खतरा

एक अध्ययन के अनुसार जिन महिलाओं का विटामिन डी लेवल बिल्कुल कम हो जाता है, उन्हें मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस) विकसित होने का खतरा अधिक हो सकता है। यह रोग मुख्य रूप से मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करता है। निष्कर्ष बताते हैं कि ब्लड में विटामिन डी के स्तर में 50 नैनोमोल्स प्रति लीटर (एनएमओएल / एल) बढ़ने से जीवन में बाद में एमएस के विकास के जोखिम में 39 फीसदी की कमी आई है। इसके अलावा, जिन महिलाओं को विटामिन डी की कमी थी, उन्हें उन महिलाओं की तुलना में एमएस विकसित होने का 43 फीसदी अधिक जोखिम था, जिनका लेवल पर्याप्त था।

Read More

हेल्दी लाइफस्टाइल से बुढ़ापे में भी दिमाग बनेगा स्मार्ट

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए) के एक नए परामर्श के मुताबिक, यदि आप अपने आने वाले वर्षो में भी स्मार्ट रहना चाहते हैं? तो आपको बचपन से ही एक स्वस्थ जीवनशैली बनानी होगी, क्योंकि यह उम्र में एक संज्ञानात्मक गिरावट के विकास के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है. रक्तचाप, कोलेस्ट्रोल और रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि बड़े और छोटे रक्त कणों को नुकसान पहुंचा सकती है, उन्हें संकुचित बनाते हुए जाम कर सकती है. इसे एथरोस्क्लेरोसिस नाम से भी जाना जाता है, जो कि एक बीमारी की प्रक्रिया है, जो कई दिल के दौरों और स्ट्रोक का प्रमुख कारण है. अध्ययन में पता चला है कि यदि मौजूदा चलन कायम रहता है तो दुनिया भर में 7.50 लोग पागलपन के शिकार हो सकते हैं.

Read More

जल्दी ही छोड़ दें ये आदतें, हड्डियां हो जाएगी खराब

उम्र बढ़ने के साथ-साथ सेहत का तंदुरूस्त होना भी बहुत जरूरी है। इसके लिए सबसे जरूरी है हड्डियों का हैल्दी होना। हमारी ही कुछ आदतें सेहत को नुकसान पहुंचाने का काम करती हैं। जिस वजह से हड्डियों में कमजोरी आनी शुरू हो जाती है। जो आगे चलकर परेशानी का कारण बनती हैं। लाइफस्टाइल हैल्दी होगा तो सेहत भी अच्छी रहेगी। आइए जानें कौन सी हैं वो आदतें हड्डियों को बना रही हैं कमजोर। 

Read More

हजारों रूपए की दवाई खाने से बेहतर है रोज कच्चा केला खाना

पके हुए केले के ढ़ेरो फायदों के बारे में आपको पता होगा और हो सकता है कि आप नियम से एक केला खाते भी हो. या फिर बनाना शेक पीते हों या स्मूदी. पका हुआ केला जहां चाव से खाया जाता है वहीं कच्चे केले का इस्तेमाल सिर्फ सब्जी और कोफ्ता बनाने में ही किया जाता है. इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि आमतौर पर लोगों को इसके फायदों के बारे में पता ही नहीं होता.

Read More

नींद नहीं आती तो खाएं गन्ना, स्ट्रेस भी होगा दूर!

टोक्यो: उन लोगों के लिए एक अच्छी खबर है, जिनकी तनाव के कारण नींद पूरी नहीं हो पाती. भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने पाया कि गन्ने और अन्य प्राकृतिक उत्पादों में पाए जाने वाला एक सक्रिय तत्व तनाव को खत्म कर नींद बढ़ा देता है.

क्या कहती है रिसर्च-
शोध में पाया गया कि वर्तमान में उपलब्ध नींद की गोलियां तनाव पर कोई असर नहीं करतीं और उनके काफी दुष्प्रभाव भी होते हैं.

महेश कौशिक और जापान के त्सुकूबा विश्वविद्यालय के योशिहिरो उरादे के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने पाया कि ऑक्टाकोसोनॉल तनाव को कम कर देता है और नींद को वापस सामान्य स्तर पर ले आता है.

Read More

यूरिन इंफेक्शन से बचाता है अनानास

अनानास में थाइमिन, राइबोफ्लेविन, सुक्रोज, ग्लूकोज, कैफीक और सिट्रिक अम्ल, कार्बोहाईड्रेट तथा प्रोटीन पाया जाता है। जो शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने से लेकर यूरिन के रास्ते का इंफेक्शन तक दूर करता है। अनानास का रस मुंह से लेकर गले तक के जीवाणुओं मारने का काम करता है।

अनानास खाने के जाने पांच फायदे
गर्मियों में अनानास का रस या शर्बत पीने से तेज गर्मी व पसीने की समस्या दूर होती है।
शरीर में सूजन हो जाने की स्थिति में अनानास फायदेमंद साबित होता है।

Read More

दिन में 3 बार लें प्रोटीन, मजबूती रहेगी बरकरार

टोरंटो: दिन के आहार में रोजाना तीन बार समान मात्रा में प्रोटीन खाने से बुजुर्गो में मांसपेशियों की ताकत में वृद्धि हो सकती है. बहुत से बुजुर्ग प्रोटीन अक्सर दोपहर व रात के भोजन से प्राप्त करते हैं. नए शोध में सुझाया गया है कि नाश्ते में भी प्रोटीन की प्रचुर मात्रा होनी चाहिए.

मांसपेशियों में मजबूती
कनाडा के मैकगिल विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर स्टीफेन चेवलियर ने कहा, "हमने देखा कि जिन लोगों ने नाश्ते में अपने प्रोटीन को शामिल किया व खाने के दौरान तीन बार प्रोटीन लेने में संतुलन बनाया, उनके मांसपेशियों में मजबूती दिखाई दी."

Read More

लंबे और स्वस्थ जीवन के लिए सबसे जरुरी है ये भोजन

टोरंटो: कम वसा और अधिक कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार लेने वालों की उम्र पनीर और मक्खन जैसे समृद्ध वसा वाले खाद्य पदार्थ लेने वालों की तुलना में कम होती है. यह अध्ययन उस प्रचलित अवधारणा के उलट बताता है कि वसा की उच्च मात्रा (ऊर्जा का 35 प्रतिशत) मृत्यु के जोखिम को कम करती है. वहीं, कार्बोहाइड्रेट का उच्च सेवन (ऊर्जा का 60 प्रतिशत) मृत्यु दर के उच्च जोखिम से संबंधित है.

Read More