mp mirror logo

हर रोज़ सिर्फ एक सेब खाएंगे तो होंगे ये चौंकाने वाले फायदे

सेब बाज़ार में सालभर मिल जाता है। लगभग हर किसी को सेब पसंद होता है। स्वाद में मीठा और रंग में लाल सेब सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। सेब के गुणों को देखते हुए ही इसके लिए अंग्रेज़ी में एक मशहूर कहावत भी है, ‘An apple in a day keeps doctor away’। यानी हर रोज़ एक सेब खाएं और डॉक्टर को दूर भगाएं। ज़ाहिर है ऐसा इसकी पौष्टिकता को देखकर ही कहा गया होगा। सेब में ऐसे पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं जो न सिर्फ आपको कई बीमारियों से बचाते हैं, बल्कि आपके शरीर की पौष्टिक आवश्यकताओं की पूर्ति भी करते हैं। आइये जानते हैं सेब खाने से होने वाले फायदों के बारे में।
डायबीटिज़ के मरीज़ों के लिए अच्छा – सेब में पाए जाने वाला पैक्टिन शरीर में ग्लाक्ट्रोनिक एसिड की कमी पूरी करता है। साथ ही ये इन्सुलिन के उपयोग को कम करता है। इसलिए डायबिटीज़ के मरीज़ इस फल का सेवन कर सकते हैं। हालांकि डायबिटीज़ का स्तर गंभीर हो तो सेब कम मात्रा में ही लें।
एनीमिया में फायदेमंद – खून में अगर हीमोग्लोबिन की कमी ज्यादा होने लगे तो एनीमिया की स्थिति बन जाती है। हमारे देश में महिलाएं इस बीमारी की सबसे आम शिकार हैं। ऐसे में सेब काफी मददगार साबित होता है। दरअसल, सेब में आयरन काफी होता है। अगर आप दिन में 2 से 3 सेब खाते है तो यह पूरे दिन की आयरन की कमी को पूरा करता है। आयरन से हीमोग्लोबिन बनता है।
पाचन तंत्र स्वस्थ रखे – सेब में ज्यादा मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो कि पाचन में मदद करता है। अगर सेब को उसके छिलके के साथ खाया जाये तो इससे कब्ज़ भी ठीक हो जाता है। कोशिश करें कि हर रोज़ एक सेब खाएं, इससे आपका पेट स्वस्थ बना रहेगा। इसे भी पढ़ें – अंडे की पीली ज़र्दी खाने से मिलते हैं ये बड़े फायदे
लीवर को मज़बूती दे – लीवर का एक बड़ा काम ये होता है कि वो शरीर की अंदरूनी सफाई रखता है। हम अपनी रोज़मरा की ज़िन्दगी में थोड़ा-बहुत ज़हरीला खाना खाते हैं यानी टॉक्सिन, लीवर उसे साफ करता है। इसलिए ज़रूरी है कि आपका लीवर स्वस्थ रहे। इसके लिए सेब आपकी मदद कर सकता है क्योंकि इसे खाने से लीवर मजबूत होता है। सेब में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट के कारण ऐसा होता है।
ताकत दे – सेब में नैचुरल ग्लूकोज़ होता है जो आपके शरीर को तुरंत ताकत देने का काम करता है। साथ ही, यह फेफड़ो के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति में मदद करता है। इसीलिए सुबह नाश्ते में सेब खाने की सलाह दी जाती है, ताकि दिनभर के लिए आपको ऊर्जा मिले।
अल्जाइमर से बचाव – कभी आपने सोचा है कि सेब खाने से आपके मस्तिष्क पर भी असर पड़ सकता है? दरअसल, सेब अल्जाइमर जैसी मस्तिष्क की बिमारियों से रोकथाम करने में भी उपयोगी है क्योंकि यह फ्री रेडिकल डेमेज से मस्तिष्क कोशिकाओं की रक्षा करता है, जो अल्जाइमर का कारण बनती हैं।
इम्यूनिटी बढ़ाए – सेब में क्वरसिटिन नाम का एक एंटीऑक्सिडेंट पाया जाता है। हाल की एक रिसर्च  में पाया गया कि क्वरसिटिन आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है। यानी वो अंग्रेज़ी कहावत जिसका मतलब होता है कि हर रोज़ सेब खाने से डॉक्टर को दूर भगाया जा सकता है, इसी संदर्भ में कही गई है। अगर आपका इम्यून सिस्टम मज़बूत होता तो आपको बीमारियां नहीं होंगी, और बीमारियां नहीं होंगी तो आप डॉक्टरों से दूर ही रहेंगे।
हड्डियों और दांत को स्वस्थ रखे – सेब में फ्लेवोनोइड पाया जाता है जो ऑस्टियोपिरॉसिस बचाव करता है और हड्डियों का घनत्व बढ़ाता है। वहीं सेब में मौजूद फाइबर से दांत अच्छे रहते है। इसमें एक ऐसा तत्व पाया जाता है जो बैक्टीरिया और वायरस को दूर रखता है।
 

"सेहत" से अन्य खबरें

अदरक वाली चाय पीते हैं तो संभल जाएं, हो सकता है कि आप जहर पी रहे हों...

 नई दिल्ली: अगर आप अदरक की चाय पीने के शौकीन हैं या अदरक सब्ज़ी में डालकर खाना पसंद करते हैं तो सावधान हो जाइये, हो सकता है कि आप ज़हर खा रहें हों. देश की सबसे बड़ी आजादपुर मंडी के आसपास 6 अदरक गोदामों पर छापे मारकर दिल्ली प्रशासन ने करीब 450 लीटर तेज़ाब पकड़ा है. इससे अदरक को धोकर चमकाने का काम चल रहा था.

Read More

Navratri 2017: क्या है शरद नवरात्रि, उपवास के दौरान इन कुछ बातों का रखें खास ख्याल

नवरात्रि का त्योहार नजदीक है, भारत में नवरात्रि के पर्व को बेहद ही उल्लास के साथ मनाया जाता है. इस साल नवरात्रि 21 सितंबर से शुरू होकर 29 सितंबर तक चलेंगे. शरद नवरात्रि 9 दिनों तक चलने वाला पर्व है जिसमें देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है. नवरात्रि का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शता है. 

Read More

विटामिन डी की कमी से महिलाओं को हो सकता है मल्टीपल स्केलेरोसिस का खतरा

एक अध्ययन के अनुसार जिन महिलाओं का विटामिन डी लेवल बिल्कुल कम हो जाता है, उन्हें मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस) विकसित होने का खतरा अधिक हो सकता है। यह रोग मुख्य रूप से मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करता है। निष्कर्ष बताते हैं कि ब्लड में विटामिन डी के स्तर में 50 नैनोमोल्स प्रति लीटर (एनएमओएल / एल) बढ़ने से जीवन में बाद में एमएस के विकास के जोखिम में 39 फीसदी की कमी आई है। इसके अलावा, जिन महिलाओं को विटामिन डी की कमी थी, उन्हें उन महिलाओं की तुलना में एमएस विकसित होने का 43 फीसदी अधिक जोखिम था, जिनका लेवल पर्याप्त था।

Read More

हेल्दी लाइफस्टाइल से बुढ़ापे में भी दिमाग बनेगा स्मार्ट

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए) के एक नए परामर्श के मुताबिक, यदि आप अपने आने वाले वर्षो में भी स्मार्ट रहना चाहते हैं? तो आपको बचपन से ही एक स्वस्थ जीवनशैली बनानी होगी, क्योंकि यह उम्र में एक संज्ञानात्मक गिरावट के विकास के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है. रक्तचाप, कोलेस्ट्रोल और रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि बड़े और छोटे रक्त कणों को नुकसान पहुंचा सकती है, उन्हें संकुचित बनाते हुए जाम कर सकती है. इसे एथरोस्क्लेरोसिस नाम से भी जाना जाता है, जो कि एक बीमारी की प्रक्रिया है, जो कई दिल के दौरों और स्ट्रोक का प्रमुख कारण है. अध्ययन में पता चला है कि यदि मौजूदा चलन कायम रहता है तो दुनिया भर में 7.50 लोग पागलपन के शिकार हो सकते हैं.

Read More

जल्दी ही छोड़ दें ये आदतें, हड्डियां हो जाएगी खराब

उम्र बढ़ने के साथ-साथ सेहत का तंदुरूस्त होना भी बहुत जरूरी है। इसके लिए सबसे जरूरी है हड्डियों का हैल्दी होना। हमारी ही कुछ आदतें सेहत को नुकसान पहुंचाने का काम करती हैं। जिस वजह से हड्डियों में कमजोरी आनी शुरू हो जाती है। जो आगे चलकर परेशानी का कारण बनती हैं। लाइफस्टाइल हैल्दी होगा तो सेहत भी अच्छी रहेगी। आइए जानें कौन सी हैं वो आदतें हड्डियों को बना रही हैं कमजोर। 

Read More

हजारों रूपए की दवाई खाने से बेहतर है रोज कच्चा केला खाना

पके हुए केले के ढ़ेरो फायदों के बारे में आपको पता होगा और हो सकता है कि आप नियम से एक केला खाते भी हो. या फिर बनाना शेक पीते हों या स्मूदी. पका हुआ केला जहां चाव से खाया जाता है वहीं कच्चे केले का इस्तेमाल सिर्फ सब्जी और कोफ्ता बनाने में ही किया जाता है. इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि आमतौर पर लोगों को इसके फायदों के बारे में पता ही नहीं होता.

Read More

नींद नहीं आती तो खाएं गन्ना, स्ट्रेस भी होगा दूर!

टोक्यो: उन लोगों के लिए एक अच्छी खबर है, जिनकी तनाव के कारण नींद पूरी नहीं हो पाती. भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने पाया कि गन्ने और अन्य प्राकृतिक उत्पादों में पाए जाने वाला एक सक्रिय तत्व तनाव को खत्म कर नींद बढ़ा देता है.

क्या कहती है रिसर्च-
शोध में पाया गया कि वर्तमान में उपलब्ध नींद की गोलियां तनाव पर कोई असर नहीं करतीं और उनके काफी दुष्प्रभाव भी होते हैं.

महेश कौशिक और जापान के त्सुकूबा विश्वविद्यालय के योशिहिरो उरादे के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने पाया कि ऑक्टाकोसोनॉल तनाव को कम कर देता है और नींद को वापस सामान्य स्तर पर ले आता है.

Read More

यूरिन इंफेक्शन से बचाता है अनानास

अनानास में थाइमिन, राइबोफ्लेविन, सुक्रोज, ग्लूकोज, कैफीक और सिट्रिक अम्ल, कार्बोहाईड्रेट तथा प्रोटीन पाया जाता है। जो शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने से लेकर यूरिन के रास्ते का इंफेक्शन तक दूर करता है। अनानास का रस मुंह से लेकर गले तक के जीवाणुओं मारने का काम करता है।

अनानास खाने के जाने पांच फायदे
गर्मियों में अनानास का रस या शर्बत पीने से तेज गर्मी व पसीने की समस्या दूर होती है।
शरीर में सूजन हो जाने की स्थिति में अनानास फायदेमंद साबित होता है।

Read More

दिन में 3 बार लें प्रोटीन, मजबूती रहेगी बरकरार

टोरंटो: दिन के आहार में रोजाना तीन बार समान मात्रा में प्रोटीन खाने से बुजुर्गो में मांसपेशियों की ताकत में वृद्धि हो सकती है. बहुत से बुजुर्ग प्रोटीन अक्सर दोपहर व रात के भोजन से प्राप्त करते हैं. नए शोध में सुझाया गया है कि नाश्ते में भी प्रोटीन की प्रचुर मात्रा होनी चाहिए.

मांसपेशियों में मजबूती
कनाडा के मैकगिल विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर स्टीफेन चेवलियर ने कहा, "हमने देखा कि जिन लोगों ने नाश्ते में अपने प्रोटीन को शामिल किया व खाने के दौरान तीन बार प्रोटीन लेने में संतुलन बनाया, उनके मांसपेशियों में मजबूती दिखाई दी."

Read More

लंबे और स्वस्थ जीवन के लिए सबसे जरुरी है ये भोजन

टोरंटो: कम वसा और अधिक कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार लेने वालों की उम्र पनीर और मक्खन जैसे समृद्ध वसा वाले खाद्य पदार्थ लेने वालों की तुलना में कम होती है. यह अध्ययन उस प्रचलित अवधारणा के उलट बताता है कि वसा की उच्च मात्रा (ऊर्जा का 35 प्रतिशत) मृत्यु के जोखिम को कम करती है. वहीं, कार्बोहाइड्रेट का उच्च सेवन (ऊर्जा का 60 प्रतिशत) मृत्यु दर के उच्च जोखिम से संबंधित है.

Read More