mp mirror logo

मानव समाज के पथ प्रदर्शक संत रविदास - लाल सिंह आर्य

मनुष्य कर्म से महान बनता है। अपनी सोच से वह समाज को दिशा देता है। जब मैं भारतीय संस्कृति एवं परम्परा को पढ़ता हूँ और समझने की कोशिश करता हूँ तो अभिभूत हो जाता हूँ। जन्म जननी भारत ने हर वर्ग को इतना ऊँचा स्थान दिया कि उसके आगे सब कुछ गौण हो जाता है। आज मैं संत कवि रविदास जी का स्मरण करते हुए यह कल्पना कर रोमांचित हो जाता हूँ कि वह कैसा समय रहा होगा जब एक बहुत मामूली से व्यक्ति ने अपने सकारात्मक विचारों से समूचे समाज की सोच को बदल दिया। समाज की दशा सुधारने में संत रविदास जैसी पुण्यात्माओं का अमिट योगदान रहा है। संत रविदासजी की पृष्ठभूमि देखें तो हमें समझ में आता है कि कोई व्यक्ति काम या वर्ग से छोटा या बड़ा नहीं होता है बल्कि उसकी सोच कितनी सकारात्मक है और वह समाज की भलाई के लिए किस तरह सोचता है, इससे वह छोटा या बड़ा होता है।
   मेरे समकालीन लोगों को संत रविदासजी के बारे में विस्तार से ज्ञात होगा लेकिन मुझे लगता है कि बहुत सारे मेरे नौजवान साथी संत रविदासजी के बारे में कम जानते होंगे। आज इस मंगल अवसर पर संत रविदासजी के बारे में कुछ अल्प ज्ञात सी बातें बताते हुए मुझे हर्ष होगा। संत रविदासजी का जन्म किसी धनाढ्य और कुलीन वर्ग में न होकर एक सामान्य से चर्मकार परिवार में हुआ था। बाल्य अवस्था में उन्होंने अपने पैतृक व्यवसाय को अपनाया। इस बात के लिए उन्हें कभी रंज नहीं था और न ही वे इसे छोटा काम समझते थे। उनका मानना था कि जो भी कार्य किया जाए, पूर्ण मनोयोग के साथ किया जाए तो छोटा लगने वाला काम भी बड़ा बन जाता है। साथ के लोगों ने पवित्र नदी गंगा में स्नान के लिये पूछा तो उन्होंने यह कह कर मना किया कि वे पहले से ही अपने एक ग्राहक को जूता देने का वादा कर चुके हैं तो अब वही उनकी प्राथमिक जिम्मेदारी है। दुबारा निवेदन किया गया तब भी उनका उत्तर था ‘मन चंगा तो कठौती में गंगा’। मतलब शरीर को आत्मा से पवित्र होने की जरूरत है न कि किसी पवित्र नदी में नहाने से। अगर हमारी आत्मा और ह्दय शुद्ध है तो हम पूरी तरह से पवित्र है चाहे हम घर में ही क्यों न नहाये।
   रविदास जी आध्यात्मिक व्यक्ति थे। कुछ समय बाद उन्होंने स्वयं को पिता के व्यवसाय से अलग कर लिया। वे समाज में व्याप्त विभिन्न कुरीतियों से खिन्न रहते थे। संत रविदास अस्पृश्यता को नहीं मानते थे। रविदास को भगवान के बारे में बात करने से, साथ ही उनका अनुसरण करने वाले लोगों को अध्यापन और सलाह देने के लिये भी प्रतिबंधित किया गया था। उनके शिक्षक पंडित शारदा नंद उनसे और उनके व्यवहार से बहुत प्रभावित रहते थे। उनका विचार था कि एक दिन रविदास आध्यात्मिक रुप से प्रबुद्ध और महान सामाजिक सुधारक के रूप में जाने जायेंगे। बाद में रविदास जी भगवान राम के विभिन्न स्वरूप राम, रघुनाथ, राजा रामचन्द्र, कृष्णा, गोविन्द आदि के नामों का इस्तेमाल अपनी भावनाओं को उजागर करने के लिये करने लगे और उनके महान अनुयायी बन गये।
   सन्त रविदास के अलौकिक ज्ञान ने लोगों को खूब प्रभावित किया, जिससे समाज में एक नई जागृति पैदा होने लगी। सन्त रविदास कहते थे कि राम, कृष्ण, करीम, राघव आदि सभी नाम परमेश्वर के ही हैं और वेद, कुरान, पुराण आदि सभी एक ही परमेश्वर का गुणगान करते हैं।
कृष्ण, करीम, राम, हरि, राघव, सब लग एकन देखा।
वेद कतेब, कुरान, पुरानन, सहज एक नहिं देखा।।
   सन्त रविदास का अटूट विश्वास था कि ईश्वर की भक्ति के लिए सदाचार, परोपकार तथा सद्व्यवहार का पालन अति आवश्यक है। अभिमान त्याग कर दूसरों के साथ व्यवहार करने और विनम्रता तथा शिष्टता के गुणों का विकास करके ही मनुष्य ईश्वर की सच्ची भक्ति कर सकता है। सन्त रविदास ने अपनी एक रचना में लिखा है – 
कह रैदास तेरी भगति दूरी है, भाग बड़े सो पावै।
तजि अभिमान मेटि आपा पर, पिपिलक हवै चुनि खावै।।
   उनके विचारों का आशय यही है कि ईश्वर की भक्ति बड़े भाग्य से प्राप्त होती है। अभिमान शून्य रहकर काम करने वाला व्यक्ति जीवन में सफल रहता है जैसे कि विशालकाय हाथी शक्कर के कणों को चुनने में असमर्थ रहता है जबकि लघु शरीर की पिपीलिका (चींटी) इन कणों को सरलता से चुन लेती है। इसी प्रकार अभिमान तथा बड़प्पन का भाव त्याग कर विनम्रतापूर्वक आचरण करने वाला मनुष्य ही ईश्वर का भक्त हो सकता है।
   मूर्ति-पूजा, तीर्थ-यात्रा जैसे दिखावों में उनका बिल्कुल भी विश्वास न था। वह व्यक्ति की आंतरिक भावनाओं और आपसी भाईचारे को ही सच्चा धर्म मानते थे।
जाति-जाति में जाति हैं, जो केतन के पात।
रैदास मनुष ना जुड़ सके जब तक जाति न जात।।
   प्राचीन काल से ही भारत में विभिन्न धर्मों तथा मतों के अनुयायी निवास करते रहे हैं। इन सबमें मेल-जोल और भाईचारा बढ़ाने के लिए सन्तों ने समय-समय पर महत्वपूर्ण योगदान दिया है। ऐसे सन्तों में शिरोमणि रैदास का नाम अग्रगण्य है। वे सन्त कबीर के गुरूभाई थे। उन्होंने ऊँच-नीच की भावना तथा ईश्वर-भक्ति के नाम पर किये जाने वाले विवाद को सारहीन तथा निरर्थक बताया और सबको परस्पर मिल-जुल कर प्रेम से रहने का उपदेश दिया। वे स्वयं मधुर तथा भक्तिपूर्ण भजनों की रचना कर उन्हें भाव-विभोर होकर सुनाते थे। 
   कृष्ण भक्ति के लिए इतिहास में दर्ज मीरा बाई के आध्यात्मिक गुरु के रूप में संत रविदास जी के नाम का उल्लेख मिलता है। मीरा बाई संत रविदास के अध्यापन से बेहद प्रभावित थी और उनकी बहुत बड़ी अनुयायी बनी। 
   गुरु रविदास जी समाज में अस्पृश्यता के खिलाफ भी लड़े क्योंकि उस समय सामाजिक और धार्मिक स्वरूप बेहद दु:खद था। उन्होंने लोगों को संदेश दिया कि ‘ईश्वर ने इंसान बनाया है न कि इंसान ने ईश्वर बनाया है’ अर्थात इस धरती पर सभी को भगवान ने बनाया है और सभी के अधिकार समान है। इस सामाजिक परिस्थिति के संदर्भ में, संत गुरु रविदास जी ने लोगों को वैश्विक भाईचारा और सहिष्णुता का ज्ञान दिया। वे लोगों को सिखाते कि कोई भी अपने जाति या धर्म के लिये नहीं जाना जाता, इंसान अपने कर्म से पहचाना जाता है। उनके समय में निम्न जाति के लोगों की उपेक्षा होती थी। इस तरह की सामाजिक समयस्याओं को देखकर गुरु जी ने निम्न जाति के लोगों की बुरी परिस्थिति को हमेशा के लिये दूर करने के लिये हर एक को आध्यात्मिक संदेश देना शुरू कर दिया। गुरु रविदास ने हमेशा अपने अनुयायियों को सिखाया कि कभी धन के लालची मत बनो, धन कभी स्थायी नहीं होता, इसके बजाय आजीविका के लिये कड़ी मेहनत करो।
   संत रविदासजी ने जीवनपर्यंत मानव समाज की सेवा की और उन्हें भटकने से बचाने की कोशिश की। परम्परागत रूढिय़ों से उन्हें दूर रहने की सलाह दी तो यह भी सिखाया कि जो स्वयं के लिए रूचिकर न हो, वह दूसरों के लिए रूचिकर नहीं हो सकता। समाज को शिक्षित करने पर उनका पूरा जोर था। खासतौर पर वे महिलाओं को शिक्षित करने के प्रति हमेशा समाज को आगे करते रहे। युवाओं से वे हमेशा कहते थे कि युवा अपनी ऊर्जा का उपयोग सकरात्मक कार्यों में करें। नकारात्मक गतिविधियों में ऊर्जा नष्ट करने से समय और प्रतिभा दोनों का नाश होता है। संत रविदास का चिंतन समग्र था। पूरी दुनिया में भाईचारा और शांति की स्थापना के साथ ही उनके अनुयायियों को दी गयी महान शिक्षा के लिये भी संत रविदास हमारे साथ सैकड़ों वर्ष बाद भी मार्गदर्शक के रूप में खड़े हुए हैं। यह हमारी उच्च भारतीय परम्परा है जिसमें हम ज्ञानी और गुरुजनों का सदैव आदर एवं सम्मान करते हैं। संत रविदासजी के बताये गए मार्ग आज भी हमारे लिए प्रेरणादायी हैं और हमें उन पर चलकर एक नए भारत के निर्माण का संकल्प लेना होगा।

"जिलों से" से अन्य खबरें

जनसुनवाई में आये 65 आवेदन

कार्यालय अधीक्षक श्री रमेशचन्द्र जोशी ने मंगलवार को आयोजित जनसुनवाई के दौरान 65 आवेदकों को व्यक्तिगत रूप से सुना तथा मौके पर ही हो सकने वाली समस्याओं का निराकरण कराया। जबकि मांगो से संबंधित आवेदनों को संबंधित विभागों को भेजकर परीक्षण कराने एवं उपयुक्त पाये जाने पर उसे अगामी कार्य योजना में सम्मलित करने के भी निर्देश निर्माण एजेंसियो के पदाधिकारियो को दिये। इस दौरान समस्त विभागो के जिला अधिकारी भी उपस्थित थे।
महाविद्यालय का कुआं सूख गया है, पीने के पानी की उठ खड़ी हुई है समस्या

Read More

बेटियों को उच्च शिक्षा देना हमारी प्राथमिकता-विधायक श्री दांगी

कस्तुरबा गांधी बालिका छात्रावास जीरापुर में सर्वशिक्षा अभियान द्वारा आयोजित मां-बेटी मेले के शुभांरभ अवसर पर बालिकाओं द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियों में समाज में व्याप्त कुरीतियों पर आधारित लोक गीत बोर बंधन नख रालो, राजस्थानी परंपरा पर आधारित घुमर नृत्य एवं लघु नाटिका के माध्यम से स्वच्छता, वृक्षों और वनो को बचाने तथा समाज में जन-जागरूकता लाने के लिये प्रस्तुत किये। कार्यक्रम का शुभारंभ गणेश वंदना से किया गया।

Read More

बेटियों को उच्च शिक्षा देना हमारी प्राथमिकता-विधायक श्री दांगी

कस्तुरबा गांधी बालिका छात्रावास जीरापुर में सर्वशिक्षा अभियान द्वारा आयोजित मां-बेटी मेले के शुभांरभ अवसर पर बालिकाओं द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियों में समाज में व्याप्त कुरीतियों पर आधारित लोक गीत बोर बंधन नख रालो, राजस्थानी परंपरा पर आधारित घुमर नृत्य एवं लघु नाटिका के माध्यम से स्वच्छता, वृक्षों और वनो को बचाने तथा समाज में जन-जागरूकता लाने के लिये प्रस्तुत किये। कार्यक्रम का शुभारंभ गणेश वंदना से किया गया।

Read More

प्रधानमंत्री ने परीक्षा के समय तनाव प्रबंधन के लिए विद्यार्थियों को दिये टिप्स

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज कक्षा 6 से 12 वी तक के विद्यार्थियों को परीक्षा के समय होने वाले तनाव के प्रबंधन के संबंध में टिप्स दिये उन्होने परीक्षा के समय तनाव प्रबंधन पर लिखी गई पुस्तक "Exam Warriors" में उल्लेखित कुछ बिंदुओ पर चर्चा करते हुए विद्यार्थियों को विस्तार पूर्वक बताते हुए परीक्षा का डर दिमाग से निकाल देने और शांत मन से परीक्षा की तैयारी करने के लिए समझाईश दी।

Read More

भारत तिब्बत सीमा पुलिस के जवानों ने दिया नर्मदा संरक्षण का संदेश

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के 42 सदस्यों ने शुक्रवार को दो रबर की पतवार वोट से राजघाट पहुंचकर उपस्थित श्रद्धालुओं, विद्यार्थियों को नर्मदा संरक्षण का संदेश दिया। इस दौरान जवानों एवं उनके पदाधिकारियों ने जहां विद्यार्थियों के साथ मिलकर घाट पर फैली पूजन सामग्री एकत्रित कर स्वच्छता का संदेश दिया। वही नर्मदा का संरक्षण क्यों जरूरी है, इसके बारे में उपस्थितो  को बताकर जागरुक किया।

Read More

वृहद विधिक सेवा शिविर 24 फरवरी को ग्राम असीरगढ़ में होगा आयोजित

राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण एवं राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बुरहानपुर द्वारा ग्राम असीरगढ़ स्थित हॉयर सेकेण्डरी स्कूल परिसर में आगामी 24 फरवरी 2018 (शनिवार) को प्रातः 11 बजे से वृहद विधिक सेवा शिविर का आयोजन किया जा रहा हैं। वृहद विधिक सेवा शिविर का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जायें। 

Read More

पशुपालन विभाग द्वारा कड़कनाथ चुजे का वितरण किया गया

उपसंचालक पशु चिकित्सा सेवायें से प्राप्त जानकारी के अनुसार पशुपालन विभाग मण्डला द्वारा आज 7 फरवरी 2018 को विभाग की 80 प्रतिशत अनुदान पर कड़कनाथ कुक्कुट ईकाईयों का वितरण मण्डला जिले के हितग्राहियों को किया गया। उक्त योजना की कुल ईकाई लागत वर्तमान में 4400 रूपये है जिसमें हितग्राही द्वारा 20 प्रतिशत अंशदान राशि 880 रूपये जमा की जाती है। 

Read More

लक्ष्य बनायें, एकाग्रचित् होकर करें तैयारी - राज्यमंत्री श्री जोशी

पौराणिक इतिहास में भी हमने सीखा है कि अर्जुन ने अपने लक्ष्य को तभी पाया, जब एकाग्रचित् होकर लक्ष्य अर्जित करने का प्रयास उन्होने किया। इसलिये आप सभी भी एकाग्रचित् होकर तैयारियों में जुटें और अपना लक्ष्य अर्जित करें। यह प्रेरणा देती हुई बातें शुक्रवार को प्रदेश के तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार), श्रम, स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री श्री दीपक जोशी ने डीपीसी स्कूल में विद्यार्थियों से कहीं। उन्होने कहा कि आप लोग अपने प्रोफेशन में उच्चतम मुकाम तक पहुंचें। लेकिन जरुरी है कि अच्छे प्रोफेशनलिस्ट बनने के साथ ही आप एक अच्छे भारतीय नागरिक भी बनें। मोबाईल और कम्प्यूटर का इस्तेमाल उतना ही करने का सुझाव राज्यमंत्री श्री जोशी ने विद्यार्थियों को दिया, जितना की ज्ञान अर्जित करने के लिये जरुरी हो।

Read More

फिर सरकार पर हमलावर यशंवत सिन्हा, शिव’राज’ में किसानों के लिए धरने पर बैठे

नरसिंहपुर पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा भाजपा सरकार को निशाने पर लेने का कोई भी मौका नहीं छोड़ना चाहते हैं। इस बार वे शिवराज सरकार की नींदें उड़ाने मध्यप्रदेश जा पहुंचे हैं। जसवंत सिन्हा मध्यप्रदेश में आंदोलनकारी किसानों पर दर्ज मामलों को वापस लेने की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए। एक फरवरी को उन्होंने किसान के लिए अपने पहले आंदोलन की शुरुआत नरसिंहपुर से की। एनटीपीसी से जुड़े भू-विस्थापित किसानों को राहत देने व उन पर दर्ज किए एससीएसटी एक्ट के मामले की निष्पक्ष पड़ताल करने की मांग को लेकर उन्होंने कलेक्टोरेट के मुख्य गेट पर गुरुवार को करीब एक बजे से धरना शुरू कर दिया। प्रशासन ने उनसे बातचीत भी करने की कोशिश की, लेकिन वार्ता विफल रही।

Read More

मानव समाज के पथ प्रदर्शक संत रविदास - लाल सिंह आर्य

मनुष्य कर्म से महान बनता है। अपनी सोच से वह समाज को दिशा देता है। जब मैं भारतीय संस्कृति एवं परम्परा को पढ़ता हूँ और समझने की कोशिश करता हूँ तो अभिभूत हो जाता हूँ। जन्म जननी भारत ने हर वर्ग को इतना ऊँचा स्थान दिया कि उसके आगे सब कुछ गौण हो जाता है। आज मैं संत कवि रविदास जी का स्मरण करते हुए यह कल्पना कर रोमांचित हो जाता हूँ कि वह कैसा समय रहा होगा जब एक बहुत मामूली से व्यक्ति ने अपने सकारात्मक विचारों से समूचे समाज की सोच को बदल दिया। समाज की दशा सुधारने में संत रविदास जैसी पुण्यात्माओं का अमिट योगदान रहा है। 

Read More