mp mirror logo

भोपाल गैस त्रासदी : 33 साल बाद भी नष्ट नहीं हो पाया जहरीला कचरा

भोपाल (राजीव सोनी)। दुनिया के सबसे बड़े औद्योगिक हादसों में शुमार भोपाल गैस कांड के 33 साल बाद भी यूनियन कार्बाइड कारखाने में 346 टन जहरीला कचरा मौजूद है। इसे नष्ट करने का निर्णय ही नहीं हो पा रहा है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर इंदौर के पास पीथमपुर में 10 टन कचरे का निष्पादन प्रयोग के बतौर किया गया लेकिन इस कवायद का पर्यावरण पर कितना असर-दुष्प्रभाव हुआ इसकी रिपोर्ट का खुलासा होना बाकी है। बचे हुए जहरीले कचरे को कैसे ठिकाने लगाया जाए, इसे लेकर सरकार धर्मसंकट में है।

पर्यावरण से जुड़े इस बेहद संवेदनशील मसले पर सरकार का कहना है कि उसके पास जहरीले कचरे को निपटाने की सुविधाएं और विशेषज्ञ नहीं हैं। यह जहरीला कचरा यूनियन कार्बाइड कारखाने के 'कवर्ड शैड" में रखा है। कचरे का आधिपत्य प्रदेश के गैस राहत एवं पुनर्वास विभाग के पास है। त्रासदी के करीब साढ़े तीन दशक बाद भी पर्यावरण पर खतरे की तलवार लटकी हुई है। मप्र सरकार इस मुद्दे पर केंद्रीय वन पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय का मुंह ताक रही है।

केंद्र के पास लंबित है रिपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर 13-18 अगस्त 2015 तक पीथमपुर में 'रामकी" कंपनी के इंसीनरेटर में जहरीला कचरा जलाया गया। ट्रीटमेंट स्टोरेज डिस्पोजल फेसीलिटीज (टीएसडीएफ) संयंत्र से इसके निष्पादन में पर्यावरण पर कितना असर पड़ा, इसकी रिपोर्ट केंद्रीय वन-पर्यावरण मंत्रालय को चली गई है। मामले में 3 मार्च 2016 के बाद सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई भी नहीं हुई। असर क्या हुआ, इसकी जानकारी नहीं मिली है।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की निगरानी

मप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड इस पूरे मामले की निगरानी कर रहा है। बोर्ड का कहना है कि उसने भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास विभाग अधिष्ठाता मेसर्स यूनियन कार्बाइड लि.भोपाल को 17 मार्च 2020 तक प्राधिकार/सम्मति जारी की है। रामके ग्रुप के मेसर्स एमपी वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट पीथमपुर (कामन ट्रीटमेंट स्टोरेज व डिस्पोजल फेसिलिटी) को 19 जुलाई 2019 तक प्राधिकार एवं 31 अक्टूबर 2018 तक सम्मति जारी की है।

सवाल अब भी अनुत्तरित

*पर्यावरण को बचाते हुए जहरीला कचरा कब तक ठिकाने लग पाएगा?

*भविष्य के लिए सबक और निष्पादन का रोड मैप क्या रहेगा?

जहरीले कचरे में ये शामिल

*सेविन व नेफ्था वेस्ट-95 मी.टन

*रियेक्टर वेस्ट-30 मी.टन

*सेमी प्रोसेस्ड कीटनाशक-56 मी.टन

*बॉयलर और आसपास का जहरीला कचरा-मिट्टी- 165 मी.टन

जर्मनी नहीं जा सका कचरा

जहरीले कचरे को जर्मनी भेजने का प्रस्ताव भी आया था लेकिन जर्मन नागरिकों ने इसका विरोध कर दिया। इसलिए मामला अटक गया। इस तरह के केमिकल को 2000 डिग्री से अधिक तापमान पर जलाया जाता है।

"जिलों की ख़बरें" से अन्य खबरें

मध्य प्रदेश: शिवपुरी में उपचुनाव से पहले बवाल, लाठीचार्ज में कांग्रेस उम्मीदवार घायल

उपचुनाव से पहले मध्य प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस के बीच तनातनी चरम पर पहुंच गई है। मध्य प्रदेश के शिवपुरी अंतर्गत कोलारस में कांग्रेस नेता देर रात धरने पर बैठे। कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी विधायक नरेंद्र सिंह कुशवाहा लोगों में रुपये बांट रहे हैं। उनका आरोप है कि बीजेपी विधायक के खिलाफ शिकायत कराने की वजह से उन पर लाठीचार्ज हुआ है। 

Read More

मध्‍यप्रदेश : किसानों की मौत पर मंत्री का अजीबोगरीब बयान

भोपाल : मध्‍यप्रदेश में किसानों की मौत पर राज्‍य के पंचायती राज मंत्री गोपाल भार्गव का अजीबोगरीब बयान सामने आया है. जब पत्रकारों ने उनसे इस बारे में सवाल किया तो उनका कहना था कि विधायक की भी मृत्‍यु होती हैं. पिछले चार साल में दस विधायक मर गए हैं. अब क्‍या मृत्‍यु पर किसी का जोर है? 

Read More

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान: पांच साल का विकास पांच माह में करने का वादा

भोपाल: मध्य प्रदेश के दो विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव में प्रचार अंतिम दौर में है. सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के नेता एक-दूसरे पर हमले कर रहे. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पांच साल का विकास पांच माह में करने का वादा कर रहे हैं, तो दूसरी ओर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मुख्यमंत्री चौहान को घोषणावीर बताया. राज्य के शिवपुरी जिले के कोलारस और अशोकनगर के मुंगावली विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव का प्रचार जोरों पर है. दोनों स्थानों पर भाजपा व कांग्रेस के नेता डेरा डाले हुए हैं. आलम यह है कि हर दूसरे गांव में 100 से 500 मतदाताओं के बीच नेता सभाएं कर रहे हैं.

Read More

आज की सबसे बड़ी खबर : 500 के नए नोट को लेकर के RBI ने लिया ये बड़ा फैसला

देवास। हाल ही में मार्केट में 200 रुपए का नया नोट आया है। इस नोट की छपाई के लिए देवास बैंक नोट प्रेस को ऑर्डर मिला था, जिसे तय समय में तैयार किया गया। आपको याद दिला दें कि देवास बैंक नोट प्रेस वही जगह है, जहां नोटबंदी बाद आई नोटों की किल्लत के चलते दिन रात 500 के नए नोटों की छपाई हुई थी। बैंक नोट प्रेस के कर्मचारियों की मेहनत की बदौलत मार्केट में आई नोटों की किल्लत ज्यादा दिन तक नहीं रही। आरबीआई के बड़े फैसलों का केन्द्र रही देवास बैंक नोट प्रेस हाल ही में एक बार फिर बड़ी जिम्मेदारी दी गई थी। इस जिम्मेदारी का असर अब जल्द ही आपको देखना पड़ सकता है।

Read More

चार हजार सवालों से विधानसभा के बजट सत्र में घिरेगी सरकार

भोपाल। मप्र विधानसभा के बजट सत्र में इस बार सरकार को चार हजार से ज्यादा सवालों से घेरा जाएगा। अभी सत्र में प्रश्न करने के लिए विधायकों को दो सप्ताह का समय और है। सत्र में इस बार लोकलेखा समिति के सभापति का चुनाव भी होना है।

Read More

एसिड अटैक पीड़िता से छेड़छाड़ के मामले में मध्य प्रदेश के 'मंत्री' बर्खास्त

मध्य प्रदेश में राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त राजेंद्र नामदेव को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पद से हटा दिया है. नामदेव पर एसिड अटैक पीड़िता से होटल में अश्लील हरकत और छेड़छाड़ करने का आरोप है. उनके खिलाफ रविवार दोपहर हनुमानगंज थाने पहुंचकर पीड़िता ने लिखित शिकायत दी थी.

Read More

पीएनबी घोटाला: भोपाल में गीतांजलि के ठिकानों पर बड़ी कार्रवाई, करोड़ों के हीरे जब्त

भोपाल। पीएनबी घोटाला सामने आने के बाद से देश भर में गीतांजलि के ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई जारी है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भी ईडी ने गीतांजलि समूह के कई ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की।

Read More

शिवराज सिंह की मुश्किलें बढ़ी, चुनाव से पहले सेन समाज ने की आरक्षण की मांग

मध्य प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में आरक्षण की मांग को लेकर सेन समाज ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. सेन समाज के सैकड़ों लोग शनिवार को राजधानी भोपाल में जुट रहे हैं. जहां वे सेन समाज को अनुसूचित जाति में शामिल किए जाने की मांग कर रहे हैं. प्रदर्शन कर रहे आंदोलनकारियों को मुताबिक सेन समाज को मिल रहे आरक्षण का दायरा बढ़ाते हुए अनुसूचित जाति में शामिल करने के लिए राज्य सरकार ने विधानसभा में अशासकीय संकल्प पारित  किया था, लेकिन उसके सालों बाद भी अमल नहीं हो सका.

Read More

MP: कर्ज और फसल बीमा क्लेम न मिलने से परेशान किसान ने लगाई फांसी

मध्य प्रदेश के सागर जिले के गढ़ाकोटा में कर्ज में डूबे किसान ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. किसान पर करीब तीन लाख रुपए का कर्ज था और हाल ही में ओलावृष्टि से चने की फसल भी तबाह हो गई थी.

जानकारी के अनुसार, गढ़ाकोटा थाना क्षेत्र के सिंगपुर कला में रहने वाले किसान गुलाब पटेल ने शुक्रवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. किसान की पत्नी सियारानी पटेल ने बताया कि वह कर्ज की वजह से काफी परेशान थे. उन पर तीन लाख रुपए का कर्ज था.

Read More

ओलावृष्टि पर बोले सीएम- अभी चुनाव है, कुछ नहीं कहूंगा, जो लागू, वही मिलेगा

अशोकनगर.प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को पिपरई क्षेत्र के ढ़ोढ़िया गांव पहुंचे। जहां उन्होंने चार दिन पहले ओलावृष्टि से नष्ट हुई फसलों का निरीक्षण कर किसानों ने बातचीत की। मुख्यमंत्री श्री सिंह ने ग्रामीणों से कहा कि अभी कुछ घोषणा करूंगा तो कांग्रेस वाले चिल्लाने लगेंगे कि आचार संहिता का उल्लंघन हो रहा है। उन्होंने किसानों ने कहा कि टीवी देखते हो या अखबार पढ़ते हो। उसमें देख लेना। जो भी नुकसान की भरपाई होगी वहीं अशोकनगर जिले को भी मिलेगा।

Read More