mp mirror logo

सीएम चौहान स्कूली बच्चों के कार्यक्रम में बोले- पिता को डैड कहना है ‘अजीब विकृति’

देश में पिता को ‘डैड’ कहे जाने को अंग्रेजी के मोह से जुड़ी अजीब-सी विकृति करार देते हुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को इस चलन की निंदा की। मुख्यमंत्री ने इंदौर में हजारों स्कूली बच्चों के एक साथ राष्ट्रगीत ‘वंदे मातरम’ गाने के कार्यक्रम में कहा, “आजकल माता-पिता की जगह मम्मी-पापा का चलन कुछ ज्यादा हो गया है। अंग्रेजी के मोह में हम कई बार पिता को डैड भी कह देते हैं।” उन्होंने अपने बचपन का किस्सा सुनाते हुए कहा, “मेरे एक मित्र के पिताजी का स्वर्गवास हो गया था। मित्र अंग्रेजी प्रेमी थे। मित्र ने मुझसे कहा कि उनके पिता डेड हो गए।”
मुख्यमंत्री ने पिता को ‘डैड’ कहे जाने के चलन के संदर्भ में कहा, “यह अजीब-सी विकृति हमारी सोच में आ गई है। लेकिन हमारे लिए माता-पिता पूजनीय हैं।” वंदे मातरम के सामूहिक गान के कार्यक्रम का आयोजन स्थानीय संगठन सांस्कृतिक एवं नैतिक प्रशिक्षण संस्थान ने किया था। कार्यक्रम के बाद मीडिया से बातचीत में शिवराज ने चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मिनी को एक बार फिर ‘राष्ट्रमाता’ के रूप में संबोधित किया और कहा कि देश के स्वाभिमान की रक्षा के लिए अपना जीवन अर्पित करने वाले महापुरुषों का हमेशा सम्मान किया जाना चाहिए।

हिन्दू महासभा के कार्यकर्ताओं द्वारा ग्वालियर में अपने कार्यालय में नाथूराम गोडसे की आवक्ष प्रतिमा स्थापित किए जाने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने संक्षिप्त जवाब में कहा कि महात्मा गांधी के हत्यारे की मूर्ति को प्रशासन पहले ही हटा चुका है। उन्होंने कहा, “इस मामले में कार्रवाई हो गई है।” उल्लेखनीय है कि शिवराज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कांग्रेस की ओर से किए गए मेमे पर राय व्यक्त करके भी मीडिया की सुर्खियों में आ गए थे। उन्होंने कहा था है कि जिनकी सोच ‘मॉम’ और ‘मैम’ से ऊपर नहीं उठती, वे आज मीम चिल्ला रहे हैं। सीएम की इस प्रतिक्रिया पर सोशल मीडिया यूजर्स ने भी खुलकर अपनी प्रतिक्रिया दी थी। लोगों ने उन्हें ‘राष्ट्रीय मामा’ बताया था।

"जिलों की ख़बरें" से अन्य खबरें

सरकारी राशन की कालाबाजारी में बड़ा नाम बन गया था अयाज, जबलपुर, रीवा से भी आता था गेहूं

भोपाल. करोंद मंडी में अयाज अली की विक्की ट्रेडर्स और जेडएम ट्रेडर्स से बरामद हुए कल्याणकारी योजना के गेहूं में सिर्फ भोपाल ही नहीं, जबलपुर, रीवा, होशंगाबाद, सीहोर और विदिशा की सोसाइटियों का गेहूं भी मिला है। इससे साफ होता है कि अयाज राशन के गेहूं की कालाबाजारी में बड़ा नाम हो गया था।

Read More

हाईकोर्ट ने कहा आरोप सिद्ध हुए तो छात्रों के भविष्य के सामूहिक संहार का केस हो सकता है

जबलपुर .पीएमटी 2012 में की गई गड़बड़ी के मामले में सीबीआई द्वारा आरोपी बनाए गए चिरायु मेडिकल कॉलेज के डायरेक्टर डॉ. अजय गोयनका, एलएन मेडिकल कॉलेज के एडमिशन इंचार्ज डॉ. दिव्य किशोर सत्पथी, एलएनसीटी ग्रुप

Read More

धान के कम रेट पर भड़के किसान, भोपाल-सागर हाईवे पर लगाया जाम

रायसेन.कृषि उपज मंडी में बुधवार को धान की खरीदारी करने वाली बाहर की कंपनी और स्थानीय व्यापारियों के बीच ज्यादा भाव लगाने को लेकर कहासुनी हो गई। इसके बाद व्यापारियों ने नीलामी बंद कर दी। नीलामी बंद होने के बाद धान बेचने के लिए आए किसान आक्रोशित हो गए अौर वे भोपाल-सागर हाईवे पर पहुंच गए। उन्होंने हाईवे पर ट्रैक्टर-ट्रॉलियां खड़ी कर जाम लगा दिया। 

Read More

संविदा नियुक्ति नियम में बदलाव पर वित्त विभाग ने लगाया अड़ंगा

भोपाल। संविदा नियुक्ति नियम में बदलाव की सामान्य प्रशासन विभाग की कोशिशों पर वित्त विभाग ने अड़ंगा लगा दिया है। विभाग ने लिखित में राय दी है कि सभी पदों को यदि संविदा के तहत भरने का प्रावधान रखा गया तो इससे संविदा नियुक्ति के मामलों में बेतहाशा वृद्धि हो सकती है।

वित्त विभाग की इस राय से उन लोगों के अरमानों पर पानी फिरता नजर आ रहा है जो सेवानिवृत्ति के बाद संविदा नियुक्ति की आस लगाए थे।

Read More

कैबिनेट ने बैरंग लौटाया प्रस्ताव, एआरटीओ की नियुक्तियां अटकी

भोपाल। 13 सहायक क्षेत्रीय परिवहन अधिकारियों (एआरटीओ) की नियुक्तियों का रास्ता निकालने परिवहन विभाग द्वारा कैबिनेट में रखा प्रस्ताव बैरंग वापस लौटा दिया गया। विभाग ने इन्हें पदोन्न्ति के पदों के विरुद्ध नियुक्त करने या सीधी भर्ती के पद न होने से चयनित उम्मीदवारों को नियुक्ति न देने का प्रस्ताव रखा था। बैठक में प्रस्ताव आते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इस पर बाद में विचार किया जाएगा। इसी तरह मांझी जाति के प्रमाण-पत्र बनाकर धीमर, कहार, भोई, केवट, मल्लाह और निषाद जाति के व्यक्तियों द्वारा सरकारी नौकरी और शैक्षणिक संस्थाओं में प्रवेश लेने वालों को सरंक्षण देने का फैसला लिया गया। हालांकि इन्हें आरक्षण का लाभ नहीं मिलेगा।

Read More

भावांतर योजना के सिस्टम में गुम हो गए सैकड़ों किसान

इंदौर। भावांतर भुगतान योजना के सिस्टम में इंदौर संभाग के सैकड़ों किसान गुम हो गए हैं। इनमें अकेले इंदौर जिले के करीब 180 किसान हैं, जिन्हें करीब 30 लाख का भुगतान करना है लेकिन मंडी बोर्ड और बैंकों के ऑनलाइन सिस्टम में ये मिल नहीं पा रहे हैं। इनकी तलाश की जा रही है। माना जा रहा है कि किसानों द्वारा योजना के फॉर्म में भरे गए अपने बैंक के आईएफएससी कोड गलत हो सकते हैं। इसके लिए मंडी बोर्ड और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने आरबीआई से भी मदद मांगी है।

Read More

मंत्री आर्य को किया गिरफ्तार , बनाया फरारी का पंचनामा

भोपाल। माखन लाल जाटव हत्याकांड के मामले में कोर्ट ने मंत्री लाल सिंह आर्य के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया है। मंगलवार सुबह भिंड पुलिस की टीम गिरफ्तारी वारंट के साथ भोपाल स्थित मंत्री आर्य के बंगले पर पहुंची। यहां पर पुलिस ने पूरे घर की तलाशी ली, जब आर्य नहीं मिले तो पुलिस ने फरारी का पंचनाम बनाया और इसके बाद वहां से चली गई। माना जा रहा है कि किसी भी वक्त मंत्री की गिरफ्तारी हो सकती है।

Read More

बाबरी विध्वंस को सरकारी आयोजन में बताया शहादत

भोपाल (राजीव सोनी)। राजधानी के रवीन्द्र भवन परिसर में चले तीन दिनी सरकारी आयोजन 'जश्न-ए-उर्दू" मुशायरे में एक शायरा ने बाबरी विध्वंस को शहादत का दर्जा देते हुए एक शेर के जरिए इसका जिक्र किया। मप्र संस्कृति विभाग के उर्दू अकादमी द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मुनव्वर राना, वसीम बरेलवी, डॉ. तरन्नुम रियाज, तनवीर गाजी और मुमताज सिद्दिकी जैसे नामचीन शायर भी शामिल हुए।

Read More

भोपाल। विदेश मंत्रालय कॉलेज में अध्ययनरत छात्रों के पासपोर्ट बनाने की भोपाल में विशेष मुहिम

भोपाल। विदेश मंत्रालय कॉलेज में अध्ययनरत छात्रों के पासपोर्ट बनाने की भोपाल में विशेष मुहिम 'स्टूडेंट कनेक्ट' शुरू करेगा। इसके तहत विभिन्न कॉलेज के छात्रों को 25 टाइम स्लॉट आवंटित किए जाएंगे। इसी तरह भोपाल और इंदौर में पासपोर्ट संबंधी समस्याओं के निराकरण के लिए मेला भी लगाने की तैयारी है।

विदेश सचिव ध्यानेश्वर मुले के निर्देश पर पासपोर्ट कार्यालय ने भोपाल में 'स्टूडेंट कनेक्ट' कार्यक्रम आयोजित करने की तैयारी की है। इस कार्यक्रम में राजधानी के विभिन्न कॉलेज के छात्रों को बुलाया जाएगा। इन युवाओं को पासपोर्ट संबंधी बुनियादी जानकारियां दी जाएंगी।

Read More

प्रदेश के अंग्रेजी माध्यम के 454 स्कूलों में हिंदी में हो रही पढ़ाई

भोपाल (मनोज तिवारी)। मध्यप्रदेश में चल रहे 454 सरकारी अंग्रेजी स्कूल मजाक बनकर रह गए हैं। इनमें न तो अंग्रेजी विषय के शिक्षकों की नियुक्ति हुई है और न ही दो साल में छात्रों की संख्या बढ़ी है। हालात यह हैं कि अंग्रेजी और हिंदी माध्यम के बच्चों को एक ही कक्ष में बैठाकर पढ़ाया जा रहा है। ऐसे में दोनों माध्यम के बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इन स्कूलों में वर्तमान में 19 हजार 718 बच्चे पढ़ रहे हैं।

Read More