mp mirror logo

ब्रितानी मंत्री प्रीति पटेल का इस्तीफ़ा, कहां हुई चूक

ब्रितानी सरकार में भारतीय मूल की मंत्री प्रीति पटेल ने अपनी निजी इसराइल यात्रा पर विवाद होने के बाद पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.
अगस्त में निजी पारिवारिक छुट्टियों पर इसराइल गईं प्रीति पटेल ने प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू और अन्य इसराइली अधिकारियों से मुलाक़ात की थी.
इसकी जानकारी उन्होंने ब्रितानी सरकार या इसराइल में ब्रितानी दूतावास को नहीं दी थी.
प्रीति पटेल ने विवाद होने के बाद सोमवार को माफ़ी मांग ली थी, लेकिन ये नाकाफ़ी साबित हुई और उन्हें अफ़्रीका दौरा बीच में छोड़कर देश लौटना पड़ा.
बुधवार को दिए अपने इस्तीफ़े में पटेल ने कहा है कि “उनसे जिन उच्च मानकों की उम्मीद की जाती है उनके कार्य उससे नीचे रहे हैं.

45 वर्षीय प्रीति पटेल सत्ताधारी कंज़रवेटिव पार्टी की नेता हैं और पार्टी में उन्हें एक चमकते सितारे के तौर पर देखा जाता रहा है.
वो सरकार में कई भूमिकाएं निभा चुकी हैं. जून 2016 में उन्हें इंटरनेशनल डेवलपमेंट मंत्री बनाया गया था. यानी ब्रिटेन की विकासशील देशों को दी जाने वाली आर्थिक मदद का काम वही देख रही थीं.
वो यूरोपीय संघ की आलोचक रही हैं. कंज़रवेटिव सरकार में उनकी भूमिका अहम थी. उन्होंने समलैंगिक शादियों के ख़िलाफ़ मतदान किया था और धूम्रपान पर प्रतिबंध के ख़िलाफ़ भी अभियान चलाया था. वो इसराइल की एक पुरानी समर्थक रही हैं.
वो साल 2010 में सांसद चुनी गई थीं. ब्रेक्ज़िट अभियान की प्रखर समर्थक प्रीति पटेल 2014 में ट्रेज़री मंत्री थीं. 2015 के आम चुनावों के बाद वो रोज़गार मंत्री बन गई थीं.

लंदन में युगांडा से भागकर आए एक गुजराती परिवार में पैदा हुई प्रीति पटेल ने वैटफ़ोर्ड ग्रामर स्कूल फ़ॉर गर्ल्स में शिक्षा ली है.
उन्होंने उच्च शिक्षा कील और एसेक्स यूनिवर्सिटी से हासिल की है. उन्होंने कंज़रवेटिव पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में नौकरी भी की है और वो 1995 से 1997 तक सर जेम्स गोल्डस्मिथ के नेतृत्व वाली रेफ़रेंडम पार्टी की प्रवक्ता रही हैं. रेफ़रेडम पार्टी ब्रिटेन की यूरोपीय संघ विरोधी पार्टी थी.
विलियम हेग के कंज़रवेटिव पार्टी का नेता बनने के बाद वो पार्टी में लौट आई थीं और 1997 से 2000 तक डिप्टी प्रेस सेक्रेटरी थीं.
इसके बाद उन्होंने शराब बनाने वाली प्रमुख कंपनी डायजीयो के साथ भी काम किया है.
वो 2005 में नॉटिंगघम सीट के लिए चुनाव हार गई थीं. साल 2010 में उन्होंने विटहैम सीट से चुनाव जीत लिया था.
प्रीति पटेल ब्रिटेन की पूर्व प्रधानमंत्री मारग्रेट थैचर को अपना आदर्श नेता मानती हैं.

बीते सप्ताह बीबीसी ने बताया था कि उन्होंने अगस्त में इसराइल में पारिवारिक छुट्टियों के दौरान इसराइली अधिकारियों और व्यापार जगत के लोगों से गुप्त मुलाक़ातें की हैं.
उन्होंने इसराइल की एक मुख्य विपक्षी पार्टी के नेता से मुलाक़ात की और कई संस्थानों के दौरे भी किए जहां अधिकारिक कार्यों पर भी चर्चा हुई.
ये असामान्य था क्योंकि सरकार के मंत्रियों को विदेशों में अपनी गतिविधियों के बारे में सरकार को जानकारी देनी होती है.

अपनी यात्रा के बाद प्रीति पटेल ने सुझाव दिया था कि ब्रिटेन के आर्थिक मदद के बजट का कुछ हिस्सा इसराइली सेना के लिए भी जाना चाहिए.
प्रीति पटेल के इस प्रस्ताव को कई अधिकारियों को अनुचित कहा था. कई अन्य देशों की तरह ब्रिटेन ने कभी भी सीरिया के गोलन हाइट्स इलाक़े पर इसराइल के नियंत्रण को मान्यता नहीं दी है. इसराइल ने 1967 के युद्ध के बाद इस क्षेत्र पर क़ब्ज़ा किया था.
क्या थी प्रीति पटेल की प्रतिक्रिया?
इस्तीफ़ा देने से पहले प्रीति पटेल ने अपनी मुलाक़ातों के बारे में विदेश विभाग को जानकारी न देने के लिए माफ़ी मांगी थी. उन्होंने संकेत दिए थे कि विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन को उनकी यात्रा के बारे में पता था.
सरकार ने शुरुआत में प्रीति पटेल की माफ़ी को स्वीकार करते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे ने उन्हें ज़िम्मेदारी का एहसास कराया है. विदेशी विभाग के एक मंत्री ने उनकी मुलाक़ातों का बचाव करते हुए कहा था कि इनके असर में ब्रितानी विदेश नीति में कोई बदलाव नहीं आया है.

हालांकि विपक्षी लेबर पार्टी ने मांग की थी कि प्रीति पटेल की जांच होनी चाहिए या उन्हें इस्तीफ़ा दे देना चाहिए. लेबर पार्टी ने उन पर नियमों के उल्लंघन के आरोप भी लगाए थे.
सोशल मीडिया पर भी प्रीति पटेल को आलोचना का सामना करना पड़ा था. कुछ लोगों ने सवाल किया था कि पारिवारिक छुट्टी पर कोई किसी देश के नेता से क्यों मिलेगा.

आख़िरकार क्या हुआ
बुधवार को कई घटनाक्रम ऐसे हुए जिनसे प्रीति पटेल और सरकार की मुश्किलें बढ़ गईं. ये बात सामने आई कि सितंबर में भी प्रीति पटेल ने अधिकारियों की ग़ैर मौजूदगी में दो मुलाकातें की थीं. उन्होंने इसराइल के जनसुरक्षा मंत्री से वेस्टमिंस्टर और इसराइल के विदेश मंत्री से न्यूयॉर्क में मुलाक़ात की थी.

प्रीति के लिए परिस्थितियां तब और जटिल हो गईं जब ज्यूइश क्रॉनिकल ने कहा कि सरकार को न्यूयॉर्क में हुई मुलाकात की जानकारी थी और पटेल से कहा गया था कि इसे सार्वजनिक न करें. सरकार ने इन आरोपों का खंडन किया है.
इन नई जानकारियों के बाद प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे पर प्रीति पटेल को पद से हटाने के लिए दबाव बढ़ गया. इन जानकारियों के सामने आने के बाद युगांडा यात्रा पर गईं प्रीति पटेल यात्रा बीच में ही छोड़कर वापस लौट आईं और प्रधानमंत्री से मुलाक़ात के बाद अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया.
(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

"स्पेशल रिपोर्ट" से अन्य खबरें

नीरव मोदी की सीनाजोरी: पीएनबी ने खुलासे कर बिगाड़ दी है बात

पीएनबी में घोटाला कर देश से फरार आरोपी नीरव मोदी ने बैंक को चिट्ठी लिख अपनी बात कही है। इस चिट्ठी में नीरव मोदी ने सीनाजोरी करते हुए साफ शब्दों में कह दिया है कि बैंक ने ये मामला सार्वजनिक कर बकाया वापसी के सभी रास्ते बंद कर दिए हैं। नीरव मोदी द्वारा पीएनबी को ये चिट्ठी 15/16 फरवरी को लिखी गई है। चिट्ठी में नीरव मोदी ने ये भी कहा है कि उनके ऊपर बकाया रकम बढ़ाकर बताई गई है।

Read More

भारतीय रंग में रंगे कनाडा PM ट्रूडो, ट्रेडिशनल लुक में पहुंचे गुजरात

अहमदाबाद: भारत के सप्ताह भर के दौरे पर आए कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन पियरे ट्रूडो आज गुजरात की एक दिवसीय यात्रा पर हैं। ट्रूडो अपनी पत्नी सोफी ग्रिगोइर ट्रूडो, बच्चों एला ग्रेस मार्गरेट ट्रूडो, जेवियर जेम्स ट्रूडो और हैड्रिन ट्रूडो के साथ परंपरागत पहनावे में अहमदाबाद पहुंचे। 

Read More

पीएनबी घोटाला: बैंकरों के संगठन इंडियन बैंक्स एसोसिएशन की बैठक आज

बैंकरों के संगठन इंडियन बैंक्स एसोसिएशन की आज पंजाब नेशनल बैंक में 11,400 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आने के बाद बैठक होने जा रही है। वहीं केंद्र सरकार ने पीएनबी घोटाले के मद्देनजर देश के अन्य सार्वजनिक बैंकों से दस्तावेज तलब किए हैं। सभी बैंकों को भी संदिग्ध मामलों के प्रति सतर्कता बरत कर तत्काल सूचित करने को कहा गया है। 

Read More

अमेरिकाः सीनेट में आव्रजन विधेयक खारिज, हजारों भारतीयों को झटका

अमेरिकी सीनेट ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समर्थित प्रस्ताव समेत आव्रजन सुधार से जुड़े कई अहम प्रस्ताव शुक्रवार को खारिज कर दिए। इससे ‘ड्रीमर्स’ कहे जाने वाले उन लाखों युवा प्रवासियों का भविष्य अधर में लटक गया है, जिन्हें बचपन में गैरकानूनी तरीके से अमेरिका लाया गया था। इनमें बड़ी तादाद में भारतीय भी शामिल हैं। 

Read More

बंपर भर्तियां: रेलवे ने मंगाए 90000 पदों के लिए आवेदन

देश में बढ़ती बेरोजगारी के बीच रेलवे ने बंपर भर्तियों का ऐलान किया है. रेलवे ने ग्रुप सी और ग्रुप डी में 89000 से ज्यादा पदों पर बंपर भर्तियों का ऐलान किया है. रेलवे ने टेक्नीशियन और लोको पायलट समेत निचले स्तर के करीब 90000 पदों पर भर्तियां निकाली हैं. 10वीं पास और आईटीआई का सर्टिफिकेट प्राप्त करने वाले युवा इन पदों के लिए आवेदन भेज सकते हैं.

Read More

सूर्य ग्रहण 2018 समय: साल का पहला आंशिक सूर्य ग्रहण आज

Surya Grahan/Solar Eclipse 2018 Date and Time in India:  15 फरवरी को दिखाई देगा को साल 2018 का पहला सूर्य ग्रहण होने जा रहा है। वैज्ञानिकों के अनुसार यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। यह ग्रहण दक्षिणी अमेरिका उरुग्वे और ब्राजील में देखा जाएगा।

Read More

बिहार: शहीद जवान मोजाहिद के अंतिम दर्शन के लिए जुटी भीड़, नहीं पहुंचा कोई मंत्री-नेता

भोजपुर। श्रीनगर में शहीद हुए बिहार के भोजपुर जिले के पीरो गांव के सीआरपीएफ जवान मोजाहिद खान के परिजनों ने 5 लाख का मुआवजा लेने से इनकार कर दिया है। मोजाहिद के भाई ने स्‍थानीय मीडिया से बातचीत के दौरान नीतीश सरकार के प्रति नाराजगी का इजहार किया।

Read More

भारत पर निशाने की तैयारी में पाक, नई साजिश का पर्दाफाश

वाशिंगटनः अमरीकी खुफिया एजैंसी ने भारत के खिलाफ पाकिस्तान की नई साजिश का पर्दाफाश किया है। अमरीकी खुफिया एजैंसी के प्रमुख के अनुसार पाकिस्तान नए किस्म के परमाणु हथियार विकसित कर रहा है। इसमें कम दूरी के सामरिक हथियार भी शामिल हैं। आतंकवाद के पनाहगार देश पाकिस्तान के बारे में यह जानकारी सामने आने से दक्षिण एशिया क्षेत्र के लिए खतरा और बढ़ गया है।

Read More

भारत-ओमान में 8 समझौतों पर दस्तखत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओमान के सुल्तान कबूस से द्विपक्षीय व क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की और दोनों देशों ने रक्षा, स्वास्थ्य और पर्यटन के क्षेत्र में सहयोग सहित आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किए। तीन देशों की यात्रा के अंतिम चरण में दुबई से यहां पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुल्तान कबूस बिन साद अल साद के साथ प्रतिनिधि स्तर की वार्ता की अगुआई की।  

Read More

सीरियाई सेना की विद्रोहियों के खिलाफ भीषण कार्रवाई

इर्बिन (सीरिया): दमिश्क के बाहर स्थित विद्रोहियों के ठिकानों में से एक पूर्वी गोउता पर सीरियाई सेना के हवाई हमलों में पिछले चार दिन में 220 से ज्यादा लोग मारे गए हैं. सीरिया के पूर्वी हिस्से में गुरूवार को हिंसा भड़क उठी. इस क्षेत्र के बारे में अमेरिकी नेतृत्व वाली गठबंधन का कहना है कि उन्होंने अपने कुर्द सहयोगियों पर हो रहे हमलों को नियंत्रित करने के लक्ष्य से सीरियाई सरकार का समर्थन करने वाले कम से कम 100 लड़ाकों को मार गिराया.

Read More