mp mirror logo

ऑर्डनेंस फैक्ट्री में लगी आग में फटे 26000 बम, स्पेशल टीम ने राख से खंगाले सैम्पल

जबलपुर. खमरिया ऑर्डनेंस फैक्ट्री में शनिवार शाम लगी आग में कुल 26 हजार बम फटे थे। धमाकों की शुरुआत रिजेक्टेड RCL बमों से हुई थी। इसके बाद एंटी-टैंक बमों, 125 एमएम बमों में ब्लास्ट शुरू हुआ। बाद में एंटी-एयरक्राफ्ट बमों की खेप भी चपेट में आ गई। फूटने वाले सभी बम रिजेक्टेड थे। इनमें सबसे ज्यादा 20 हजार RCL बम थे। वहीं, पांच हजार एंटी-एयरक्राफ्ट बम एल-70 और करीब एक हजार टैंक भेदी बम भी फटे। धमाकों के दौरान कोई नहीं था आसपास...

- फैक्ट्री की ट्रांजिट बिल्डिंग में RCL बम करीब 30 साल से रखे हैं। इनके साथ ही रिजेक्टेड टैंक भेदी और एंटी-एयर क्राफ्ट बमों का जखीरा भी रखा था।
- धमाकों के दौरान कोई भी इम्प्लॉई बिल्डिंग के आसपास नहीं था। शुरुआती जांच में पता चला कि धमाकों में ट्रांजिट बिल्डिंग नंबर 845 पूरी तरह तबाह हो गई है।
- पहले कहा जा रहा था कि बिल्डिंग नंबर 316 और 324 में ब्लास्ट हुआ है, लेकिन रविवार को साफ हुआ कि ब्लास्ट मिनी मैगजीन की बिल्डिंग में हुआ। इसकी खास वजह RCL बमों का फ्यूज कटना बताया गया है।

- बताया जा रहा है कि बंदरों या जंगली जानवरों की उछल-कूद या चूहों के फ्यूज काटने के चलते हादसा हुआ होगा।
- पहले RCL बम फ्यूज लगाकर बनाए जाते थे, लेकिन सुरक्षा कारणों के चलते बाद में यह बम बनाने बंद कर दिए गए।
- ऑर्डनेंस फैक्टरी के जीएम एके अग्रवाल के मुताबिक, ब्लास्ट के कारणों की जांच चल रही है। जो रिजेक्टेड बम खत्म करने थे, वही फटे हैं। पूरी रात ऑपरेशन चला। अब स्थिति पूरी तरह से कंट्रोल में है। हादसे में कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ।

पुणे से आई स्पेशल टीम ने राख से खंगाले सैम्पल, बिल्डिंग सील
- हादसे के 24 घंटे के अंदर ही पुणे से स्पेशल टीम पहुंच गई है। टीम में शामिल चारों अफसर रविवार को मौके पर पहुंचे। बिल्डिंग नंबर 824 का बारीकी से मुआयना किया।

- राख के सैम्पल लिए। गोला-बारूद के अवशेष भी जुटाए गए। बिल्डिंग नंबर 845 को सील कर दिया गया है। सैम्पल पुणे स्थित लैब में जाएंगे, जिससे हादसे की असल वजह को तलाशा जा सकेगा।
- वैसे क्वालिटी इन्श्योरेंस मिलिट्री एक्सप्लोसिव (क्यूएएमई) के अफसरों के आने की उम्मीद तो सोमवार को की जा रही थी। मामले की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि टीम रविवार को ही पहुंच गई।

- इसके बाद टीम ने एडमिनिस्ट्रेशन के साथ मीटिंग भी की। जानकाराें का कहना है कि एडमिनिस्ट्रेटिव अफसरों से चर्चा के दौरान जांच का पूरा ब्योरा लिया गया, साथ ही हादसे के मुमकिन वजहों पर भी चर्चा की गई है। इस दौरान उन्होंने यह जानना चाहा कि आखिर किन हालात में इस तरह का हादसा हो सकता है।

सिक्युरिटी के मद्देनजर बनाया दायरा
- जिस जगह हादसा हुअा उस पूरे इलाके को जांच के दायरे में लिया गया है। साथ ही, फैक्ट्री एडमिनिस्ट्रेशन ने बिल्डिंग नंबर 845 को सील कर दिया गया है। इस बिल्डिंग के 5 सौ मीटर के दायरे में भी किसी काे आने-जाने की इजाजत नहीं होगी।
- इधर फैक्ट्री एडमिनिस्ट्रेशन ने अपने लेवल पर इस मामले की जांच करने की तैयारी कर ली है। पता चला है कि सोमवार को हाई लेवल टीम बनाई जाना है। इसमें फैक्ट्री के अलावा सेना के अफसर भी शामिल हो सकते हैं। एडमिनिस्ट्रेशन का कहना है कि जांच टीम को एक हफ्ते के अंदर अपनी रिपोर्ट सौंपनी होगी।

1993 में ब्लास्ट में 5 की मौत हुई थी
- 27 जनवरी 1993 में भी इस फैक्ट्री में बड़ा हादसा हो चुका है। तब 5 इम्प्लॉइज की मौत हुई थी। वे सभी रिजेक्टेड बम हटा रहे थे। उसी दौरान ब्लास्ट हो गया। उसके बाद से इस बिल्डिंग को सिक्युरिटी के मद्देनजर खतरनाक घोषित कर दिया गया था।

ऐसे होगी जांच-पड़ताल
- सबूत के तौर पर ली गई राख का पुणे की लैब में हाई लेवल टेस्ट किया जाएगा। 
- राख का केमिकल टेस्ट कर यह पता लगाया जाएगा कि हादसे की वजह क्या थी। 
- जानकारों का मानना है कि जिस फैक्टर की वजह से हादसा हुआ, उसके पार्टिकल राख में मौजूद रह सकते हैं।
- बमों के अवशेष से यह जानने की कोशिश होगी कि ब्लास्ट किस वजह से हुआ। 
- शाॅर्ट सर्किट की चिंगारी या दूसरे किसी कारण से ब्लास्ट के हालात को जांचेगी टीम।

"जिलों से" से अन्य खबरें

आपका अधीनस्थ आपकी नहीं सुनता,यह बात आप मुझे सुना रहे हो

आपका अधीनस्थ आपकी नहीं सुनता,यह बात आप मुझे सुना रहे हो। सोसायटी आपके अधीन है कि आप सोसायटी के। कलेक्टर श्री अनय द्विवेदी की नाराजगी सहकारिता विभाग के अधिकारी के प्रति थी। कलेक्टर श्री अनय द्विवेदी द्वारा जनसुनवाई में दर्ज पुराने मामलों के बारे पड़ताल की जा रही थी। सहकारिता विभाग में सोसायटी द्वारा भूमि रजिस्ट्री के संबंध में जनसुनवाई में दर्ज मामला लंबे समय से लंबित था। सोमवार को जिला कार्यालय के सभागार में आयोजित समयावधि के पत्रों की समीक्षा बैठक में सीईओ श्री केडी त्रिपाठी, एडीएम श्री बाबूलाल कोचले भी मौजूद थे।   

Read More

सीएम हेल्पलाइन एवं लंबित प्रकरणों को सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर निराकरण करे - कलेक्टर

कलेक्टर श्री माल सिंह समय सीमा की बैठक मे विभिन्न विभागों के लंबित प्रकरणों, सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों की विभागवार समीक्षा करते हुए अधिकारियो से कहा है कि वे सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर प्रकरणों का निराकरण करें अन्यथा की स्थिति में कडी कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। 
    बैठक में सीईओ जिला पंचायत सुश्री सोनिया मीना, एसडीएम मानपुर जगदीश यादव, सीएमएचओ आर के सिंह, अति. मुख्य कार्यपालन अधिकारी अवधेश सिंह, कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकीय सेवा श्री ए पी सिंह, खनिज अधिकारी आर के पाण्डेय, उप संचालक कृषि ए आर प्रजापति, उप संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं श्री मिश्रा, डीपीसी महेंद्र यादव, जिला शिक्षा अधिकारी रणमत सिंह, आरटीओ श्रीमती रमा दुबे, सीएमओ उमरिया नौरोजाबाद, चंदिया सहित समस्त कार्यालय प्रमुख उपस्थित रहे। 

Read More

Amazing India: विज्ञान भी हैरान, क्योंकि यहां विपरीत मौसम में भी वैदिक मंत्रों से लहलहाती है फसल

छिंदवाड़ा. इस बात को कम लोग ही जानते हैं, किंतु यह एक ऐसा चमत्कार है जिसके आगे विज्ञान हर बार नतमस्तक हुआ है। वेदों और कृषि विज्ञान में भी इस मंत्र और भस्म उल्लेख है। पर्यावरण शुद्धि के लिए प्राचीन काल से इसका प्रयोग किया जाता रहा है। वेदाचार्य सूर्योदय व सूर्यास्त के समय मिट्टी अथवा ताम्बे के पात्र में गाय के गोबर से बने कंड़े में अग्नि प्रज्वलित कर बिना टूटे चावल को गाय के घी में मिलाकर दाहिने हाथ के अंगूठे, मध्य अंगुली व छोटी अंगुली से अग्निहोत्र मंत्र का उच्चारण करते हुए स्वाहा शब्द के साथ आहुति देते हैं। 

Read More

मध्यप्रदेश : खाद्य आयोग के पहले अध्‍यक्ष और दो सदस्य नियुक्त

भोपाल । राज्य शासन द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 के प्रावधान अनुसार मध्यप्रदेश खाद्य आयोग का गठन किया गया है। आयोग के पहले अध्यक्ष सेवानिवृत्त IAS राजकिशोर स्वाई होंगे। आयोग में दो सदस्य श्रीमती दुर्गा डावर, मंदसौर एवं किशोर खण्डेलवाल, उज्जैन की भी नियुक्ति की गई है।

भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी राजीव चन्द्र दुबे, आयोग के सदस्य सचिव बनाये गये हैं। आयोग का कार्यालय सतपुड़ा भवन के अपर बेसमेंट, ‘बी’ विंग, भोपाल में रहेगा। आयोग का दूरभाष क्रमांक 0755-2556761 है।

Read More

अतिकुपोषण समाप्त करने मन लगाकर करें कार्य-कलेक्टर

कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा ने कहा है कि जिला अतिकुपोषित जिलो में पारंपरिक कारणों से शामिल है। अतिकुपोषण को समाप्त करने के लिए मन लगाकर कार्य करना अनिवार्य है। महिला बाल विकास एवं महिला सशक्तिकरण विभाग को महिलाओं एवं बच्चों को संभालने का दायित्व है। अमला पूरी तत्परता और ईमानदारी से अपने दायित्वों का निर्वहन करें। कार्य परिणाममूलक रहे। यह सभी परियोजना अधिकारी एवं सुपरवाईजर सुनिश्चत करें एवं अपनी कमियां और त्रुटियां दूर करें अन्यथा अपना इस जिले से स्थानान्तरण करा लें। 

Read More

कलेक्टर व नगर निगम आयुक्त ने देखीं प्रस्तावित एवं निर्माणाधीन आवासीय योजनायें

ग्वालियर शहर को मलिन बस्ती व झुग्गी मुक्त बनाने के लिये प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत समेकित कार्ययोजना बनाकर झुग्गीवासियों को आवास मुहैया कराए जायेंगे। इस कार्ययोजना को नगर निगम, ग्वालियर विकास प्राधिकरण, हाउसिंग बोर्ड व साडा मिलकर मूर्त रूप देंगे। समेकित आवासीय कार्ययोजना पर अमल के सिलिसिले में कलेक्टर श्री राहुल जैन एवं नगर निगम आयुक्त श्री विनोद शर्मा ने बुधवार को शहर भ्रमण कर निर्माणाधीन और प्रस्तावित विभिन्न आवासीय परियोजनाओं का जायजा लिया। साथ ही शहर के अन्य विकास कार्य भी देखे। 

Read More

शिवराज के शासन में ‘चकरघिन्नी’ बनी बेचारी महिला तहसीलदार

राजगढ़। लगातार तबादले से परेशान राजगढ़ जिले की ब्यावरा तहसील में पदस्थ महिला तहसीलदार अमिता सिंह तोमर ने इस बार सीधे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ट्वीट कर न्याय की गुहार लगाई है। तहसीलदार ने गुरुवार को किए ट्वीट में लिखा- 13 साल की नौकरी के दौरान यह मेरा 25 वां ट्रांसफर है। 

Read More

कार्य सम्पादन में गति लाए, ताकि लोगों को दफ्तरों के चक्कर न लगाना पड़ें- कलेक्टर

राजस्व संबंधी प्रकरणों और लोक सेवा गारंटी अधिनियम के तहत लोगों के आवेदन पत्रों का त्वरित निराकरण किया जाए, ताकि आमजन को दफ्तरों के चक्कर न लगाना पड़े। आमजन की बहुत छोटी-छोटी मांग एवं शिकायतें होती हैं, जिनका अविलम्ब निराकरण किया जा सकता है। यह बात कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने राजस्व अधिकारियों की बैठक में कही। 

Read More

पोषण पुनर्वास केन्द्र खैरलांजी में किया गया सब्जी बीज का वितरण

परियोजना एकीकृत बाल विकास सेवा खैरलांजी अन्तर्गत परियोजना अधिकारी श्री पुष्पेन्द्र रानाडे के मार्गदर्शन में ईसीसीई समन्वयक श्री संदीप सिंह एवं पर्यवेक्षक श्रीमती रा‍धा सिंहा, श्रीमती तिजिया ताराम वरिष्ठ उद्यान विकास अधिकारी श्री एन.एम.चौधरी के सहयोग से एन.आर.सी. में भर्ती बच्चों की माताओं को सब्जियों के बीज वितरण किये गये।

Read More

शिवराज चौहान का ‘रीप्ले’ : अब ओडिशा के विधायक को गोद में उठाकर कीचड़ के पार ले गए समर्थक

ओडिशा में सत्तासीन बीजू जनता दल (बीजेडी) के विधायक मानस मडकामी उस समय विवादों में घिर गए, जब कीचड़ से भरे एक इलाके को पार करते वक्त उनके समर्थकों ने उनके सफेद रंग के जूतों को मैला होने से बचाने के लिए उन्हें गोद में उठा लिया, और यह पूरी घटना कैमरे की नज़रों में कैद हो गई.

Read More