mp mirror logo

ऑर्डनेंस फैक्ट्री में लगी आग में फटे 26000 बम, स्पेशल टीम ने राख से खंगाले सैम्पल

जबलपुर. खमरिया ऑर्डनेंस फैक्ट्री में शनिवार शाम लगी आग में कुल 26 हजार बम फटे थे। धमाकों की शुरुआत रिजेक्टेड RCL बमों से हुई थी। इसके बाद एंटी-टैंक बमों, 125 एमएम बमों में ब्लास्ट शुरू हुआ। बाद में एंटी-एयरक्राफ्ट बमों की खेप भी चपेट में आ गई। फूटने वाले सभी बम रिजेक्टेड थे। इनमें सबसे ज्यादा 20 हजार RCL बम थे। वहीं, पांच हजार एंटी-एयरक्राफ्ट बम एल-70 और करीब एक हजार टैंक भेदी बम भी फटे। धमाकों के दौरान कोई नहीं था आसपास...

- फैक्ट्री की ट्रांजिट बिल्डिंग में RCL बम करीब 30 साल से रखे हैं। इनके साथ ही रिजेक्टेड टैंक भेदी और एंटी-एयर क्राफ्ट बमों का जखीरा भी रखा था।
- धमाकों के दौरान कोई भी इम्प्लॉई बिल्डिंग के आसपास नहीं था। शुरुआती जांच में पता चला कि धमाकों में ट्रांजिट बिल्डिंग नंबर 845 पूरी तरह तबाह हो गई है।
- पहले कहा जा रहा था कि बिल्डिंग नंबर 316 और 324 में ब्लास्ट हुआ है, लेकिन रविवार को साफ हुआ कि ब्लास्ट मिनी मैगजीन की बिल्डिंग में हुआ। इसकी खास वजह RCL बमों का फ्यूज कटना बताया गया है।

- बताया जा रहा है कि बंदरों या जंगली जानवरों की उछल-कूद या चूहों के फ्यूज काटने के चलते हादसा हुआ होगा।
- पहले RCL बम फ्यूज लगाकर बनाए जाते थे, लेकिन सुरक्षा कारणों के चलते बाद में यह बम बनाने बंद कर दिए गए।
- ऑर्डनेंस फैक्टरी के जीएम एके अग्रवाल के मुताबिक, ब्लास्ट के कारणों की जांच चल रही है। जो रिजेक्टेड बम खत्म करने थे, वही फटे हैं। पूरी रात ऑपरेशन चला। अब स्थिति पूरी तरह से कंट्रोल में है। हादसे में कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ।

पुणे से आई स्पेशल टीम ने राख से खंगाले सैम्पल, बिल्डिंग सील
- हादसे के 24 घंटे के अंदर ही पुणे से स्पेशल टीम पहुंच गई है। टीम में शामिल चारों अफसर रविवार को मौके पर पहुंचे। बिल्डिंग नंबर 824 का बारीकी से मुआयना किया।

- राख के सैम्पल लिए। गोला-बारूद के अवशेष भी जुटाए गए। बिल्डिंग नंबर 845 को सील कर दिया गया है। सैम्पल पुणे स्थित लैब में जाएंगे, जिससे हादसे की असल वजह को तलाशा जा सकेगा।
- वैसे क्वालिटी इन्श्योरेंस मिलिट्री एक्सप्लोसिव (क्यूएएमई) के अफसरों के आने की उम्मीद तो सोमवार को की जा रही थी। मामले की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि टीम रविवार को ही पहुंच गई।

- इसके बाद टीम ने एडमिनिस्ट्रेशन के साथ मीटिंग भी की। जानकाराें का कहना है कि एडमिनिस्ट्रेटिव अफसरों से चर्चा के दौरान जांच का पूरा ब्योरा लिया गया, साथ ही हादसे के मुमकिन वजहों पर भी चर्चा की गई है। इस दौरान उन्होंने यह जानना चाहा कि आखिर किन हालात में इस तरह का हादसा हो सकता है।

सिक्युरिटी के मद्देनजर बनाया दायरा
- जिस जगह हादसा हुअा उस पूरे इलाके को जांच के दायरे में लिया गया है। साथ ही, फैक्ट्री एडमिनिस्ट्रेशन ने बिल्डिंग नंबर 845 को सील कर दिया गया है। इस बिल्डिंग के 5 सौ मीटर के दायरे में भी किसी काे आने-जाने की इजाजत नहीं होगी।
- इधर फैक्ट्री एडमिनिस्ट्रेशन ने अपने लेवल पर इस मामले की जांच करने की तैयारी कर ली है। पता चला है कि सोमवार को हाई लेवल टीम बनाई जाना है। इसमें फैक्ट्री के अलावा सेना के अफसर भी शामिल हो सकते हैं। एडमिनिस्ट्रेशन का कहना है कि जांच टीम को एक हफ्ते के अंदर अपनी रिपोर्ट सौंपनी होगी।

1993 में ब्लास्ट में 5 की मौत हुई थी
- 27 जनवरी 1993 में भी इस फैक्ट्री में बड़ा हादसा हो चुका है। तब 5 इम्प्लॉइज की मौत हुई थी। वे सभी रिजेक्टेड बम हटा रहे थे। उसी दौरान ब्लास्ट हो गया। उसके बाद से इस बिल्डिंग को सिक्युरिटी के मद्देनजर खतरनाक घोषित कर दिया गया था।

ऐसे होगी जांच-पड़ताल
- सबूत के तौर पर ली गई राख का पुणे की लैब में हाई लेवल टेस्ट किया जाएगा। 
- राख का केमिकल टेस्ट कर यह पता लगाया जाएगा कि हादसे की वजह क्या थी। 
- जानकारों का मानना है कि जिस फैक्टर की वजह से हादसा हुआ, उसके पार्टिकल राख में मौजूद रह सकते हैं।
- बमों के अवशेष से यह जानने की कोशिश होगी कि ब्लास्ट किस वजह से हुआ। 
- शाॅर्ट सर्किट की चिंगारी या दूसरे किसी कारण से ब्लास्ट के हालात को जांचेगी टीम।

"जिलों से" से अन्य खबरें

पलटते ही जिंदा 11 लोगों के लिए ताबूत बनी ट्रॉली, 10 चिताएं देख रो पड़ा गांव

इंदौर.अमावस्या पर राजस्थान के सांवलियाजी मंदिर में दर्शन के लिए जा रहे श्रद्धालुओं की ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटकर 5 फीट नीचे खाई में जा गिरी। इसमें 11 लोगों की मौत हो गई और 27 लोग घायल हो गए। हादसे में घायल ने बताया, मदद नहीं मिलती तो दम घुटने से हो जाती सबकी मौत…
-नीमच से 10 किमी दूर नयागांव रोड पर ट्रॉली पलटने के बाद रास्ते से गुजर रहे लोग अपना सारा काम छोड़ मदद के लिए दौड़े।
-घायलों को अस्पताल पहुंचाने में उन्होंने मदद की लेकिन जिला अस्पताल के डॉक्टर सूचना के बाद भी परिसर में बने अपने क्वाटर्स से समय पर बाहर नहीं आ सके।

Read More

मत्स्य-पालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य द्वारा हलाली डेम का औचक निरीक्षण

मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विकास मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने गत दिवस हलाली डेम में मछली-पालन का आकस्मिक निरीक्षण किया। श्री आर्य ने मौके पर ठेकेदार द्वारा टीकमगढ़ से मंगवाकर डलवायी जा रही मरणासन्न मत्स्य बीज पर गहरी अप्रसन्नता जाहिर की। श्री आर्य ने इतनी गर्मी के मौसम में बिना पूरी सुरक्षा के मत्स्य बीज लाने, रजिस्टर में गड़बड़ी पाये जाने, स्थानीय समितियों को मत्स्याखेट में हो रही परेशानी और अपने कार्यों में लापरवाही बरतने पर प्रबंधक श्री विकास श्रीवास्तव को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के निर्देश दिये।

Read More

जिले में ग्रीष्मकालीन फसलों का रकबा लगातार बढ़ रहा है

जिला अब खेती के मामले में लगातार आगे बढ़ता जा रहा है, पहले इस जिले में केवल दो फसलें ली जाती थीं, रबी और खरीफ। अब जिले में सब्जी भाजी के साथ ही घूईया तथा मूंग और उड़द की फसले भी ली जा रही हैं इनका रकबा भी लगातार बढ़ता जा रहा है। 
जिले के जबेरा और दमोह विकास खण्ड के ग्राम सिमरी जालम, पटना, पौड़ी, सिगौड़ीकला, बनवार, जबेरा, कंजई मानगढ़, सहित अन्य गांव में हरियाली देखते ही बनती है।

Read More

इंदिरा वार्ड में चला जन जागरूकता अभियान

नगर में जल संरक्षण एवं रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के प्रति लोगों को जागरूक बनाने के लिए चलाए जा रहे जन जागरुकता अभियान के तहत गुरुवार को सुबह इंदिरा वार्ड में सतपाल आश्रम के पास कलेक्टर श्री शशांक मिश्र एवं नगरपालिका अध्यक्ष श्री अलकेश आर्य ने यहां के निवासियों से भेट कर उन्हें जल संरक्षण की सलाह दी। साथ ही कहा कि भूमिगत जल स्तर में वृद्धि लाने के लिए अपने घरों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम अवश्य तैयार करें। इस दौरान रेन वाटर हार्वेस्टिंग के लिए काम कर रही समाज सेवी संस्था प्रतिध्वनि के सदस्य भी मौजूद थे। वार्ड के निवासियों से अपने ट्यूबवेलों में सोख्ता गड्ढा निर्माण करवाने की भी इस दौरान अपेक्षा की गई। 

Read More

BJP सांसद प्रभात झा को जान से मारने की धमकी

भोपाल/गुना। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा को जान से मारने की धमकी मिली है। वे लगातार कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ बोल रहे थे। इसके बाद पास हरिपुर गांव में उनकी तबीयत बुधवार को अचानक बिगड़ गई है। वे कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बेहोश हो गए थे। वहां मौजूद भाजपा के नेताओं ने उन्हें संभाला। बताया जा रहा है कि वे तेज गर्मी और कमजोरी के कारण बेहोश हो गए थे। बाद में उन्हें डाक्टरों ने भी देखा।

Read More

मुख्यमंत्री निःशक्त शिक्षा प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत लेपटॉप प्रदाय

मुख्यमंत्री निःशक्त शिक्षा प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत दृष्टिबाधित तथा श्रवणबाधित विद्यार्थियों के लिए कक्षा 10 में तथा स्नातक में प्रथम बार में प्रवेश लेने पर एक लेपटॉप एक बार प्रदाय करने का प्रावधान है। 
मुख्यमंत्री निःशक्त शिक्षा प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत निःशक्त विद्यार्थियों को पात्रता के आधार पर मध्यप्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए। 

Read More

प्रभारी मंत्री श्रीमती चिटनीस द्वारा मनासा में 1.50 करोड़ रूपये की लागत के ऑडिटोरियम भवन का भूमि पूजन सम्पन्न

प्रभारी मंत्री द्वारा मनासा में डेढ़ करोड़ लागत के ऑडिटोरियम भवन का भूमि पूजन सम्पन्न। मनासा नगर में स्विमिंग पूल निर्माण के लिए प्रभारी मंत्री द्वारा विशेष निधि से 50 लाख रूपये स्वीकृति की घोषणा की। महिला एवं बाल विकास तथा नीमच जिले की प्रभारी मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस ने सोमवार को मनासा में नगर पंचायत द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में 1.50 करोड़ की लागत से निर्मित होने वाले सर्वसुविधायुक्त ऑडिटोरियम भवन का भूमि पूजन कर, शिलान्यास किया।

Read More

व्यापमं की पिछले साल हुई परीक्षा में भी फर्जीवाड़ा

भोपाल। परीक्षा में धांधली रोकने के व्यावसायिक परीक्षा मंडल भले ही कितने ही दावे कर ले पर हकीकत यह है कि मुन्नाभाइयों ने एक बार फिर सारी व्यवस्थाओं को धता बताते हुए 11 उम्मीदवारों को पुलिस आरक्षक के लिए चयनित करवा दिया।

मामला पिछले साल हुई पुलिस कॉन्स्टेबल परीक्षा का है। आरक्षक पद पर ज्वाइन करने से पहले ऐसे 11 अभ्यर्थियों को चिन्हित कर लिया गया है। पुलिस की चयन एवं भर्ती शाखा ने सभी 11 फर्जी उम्मीदवारों के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई के आदेश भी जारी कर दिए गए हंै। मालूम हो आरक्षक भर्ती परीक्षा देने के दौरान ही 70 मुन्नााभाई पकड़े गए थे।

Read More

डॉक्टरों और मेडीकल स्टाफ के दल ने जीता रोगियों एवं उनके परिजनों का दिल

तापोबाई की उम्र महज 48 साल है। गुना जिले के बरखेड़ी की रहने वाली तापोबाई मजदूरी करके अपना पेट पालती है। उसका पति राधेश्याम भी दिहाड़ी मजदूर है। उनके जिम्मे दो बेटों एवं एक बेटी को पालने का भार है। उन्नीस साल पहले गरीब तापोबाई को बच्चादानी खराब होने की बीमारी ने चपेट में ले लिया। डॉक्टर को दिखाया, तो पता चला कि ऑपरेशन कराना पड़ेगा और खर्च पच्चीस-तीस हजार के आसपास आएगा। तापोबाई तो सुनकर ही चक्कर खा गई।

Read More

दूरस्थ अंचलों में कुपोषण समाप्त करने तीन विभागों की संयुक्त कार्ययोजना शुरू

दूरस्थ अंचलों के तेंदूपत्ता संग्राहक परिवारों के पांच वर्ष तक के बच्चों में कुपोषण समाप्त करने के लिए कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने महिला बाल विकास विभाग, स्वास्थ्य विभाग तथा वन विभाग के संयुक्त प्रयासों से एक नई कार्ययोजना बनाई है। यह कार्ययोजना प्रदेश में अपनी तरह की एक नई पहल है। इस कार्ययोजना के तहत फड़ पर आने वाले तेंदूपत्ता संग्राहकों के पांच वर्ष तक के बच्चों के लिए विशेष रूप से स्थानीय स्तर पर तैयार किया गया पौष्टिक आहार (लड्डू) वितरित किया जा रहा है। 

Read More