mp mirror logo

ऑर्डनेंस फैक्ट्री में लगी आग में फटे 26000 बम, स्पेशल टीम ने राख से खंगाले सैम्पल

जबलपुर. खमरिया ऑर्डनेंस फैक्ट्री में शनिवार शाम लगी आग में कुल 26 हजार बम फटे थे। धमाकों की शुरुआत रिजेक्टेड RCL बमों से हुई थी। इसके बाद एंटी-टैंक बमों, 125 एमएम बमों में ब्लास्ट शुरू हुआ। बाद में एंटी-एयरक्राफ्ट बमों की खेप भी चपेट में आ गई। फूटने वाले सभी बम रिजेक्टेड थे। इनमें सबसे ज्यादा 20 हजार RCL बम थे। वहीं, पांच हजार एंटी-एयरक्राफ्ट बम एल-70 और करीब एक हजार टैंक भेदी बम भी फटे। धमाकों के दौरान कोई नहीं था आसपास...

- फैक्ट्री की ट्रांजिट बिल्डिंग में RCL बम करीब 30 साल से रखे हैं। इनके साथ ही रिजेक्टेड टैंक भेदी और एंटी-एयर क्राफ्ट बमों का जखीरा भी रखा था।
- धमाकों के दौरान कोई भी इम्प्लॉई बिल्डिंग के आसपास नहीं था। शुरुआती जांच में पता चला कि धमाकों में ट्रांजिट बिल्डिंग नंबर 845 पूरी तरह तबाह हो गई है।
- पहले कहा जा रहा था कि बिल्डिंग नंबर 316 और 324 में ब्लास्ट हुआ है, लेकिन रविवार को साफ हुआ कि ब्लास्ट मिनी मैगजीन की बिल्डिंग में हुआ। इसकी खास वजह RCL बमों का फ्यूज कटना बताया गया है।

- बताया जा रहा है कि बंदरों या जंगली जानवरों की उछल-कूद या चूहों के फ्यूज काटने के चलते हादसा हुआ होगा।
- पहले RCL बम फ्यूज लगाकर बनाए जाते थे, लेकिन सुरक्षा कारणों के चलते बाद में यह बम बनाने बंद कर दिए गए।
- ऑर्डनेंस फैक्टरी के जीएम एके अग्रवाल के मुताबिक, ब्लास्ट के कारणों की जांच चल रही है। जो रिजेक्टेड बम खत्म करने थे, वही फटे हैं। पूरी रात ऑपरेशन चला। अब स्थिति पूरी तरह से कंट्रोल में है। हादसे में कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ।

पुणे से आई स्पेशल टीम ने राख से खंगाले सैम्पल, बिल्डिंग सील
- हादसे के 24 घंटे के अंदर ही पुणे से स्पेशल टीम पहुंच गई है। टीम में शामिल चारों अफसर रविवार को मौके पर पहुंचे। बिल्डिंग नंबर 824 का बारीकी से मुआयना किया।

- राख के सैम्पल लिए। गोला-बारूद के अवशेष भी जुटाए गए। बिल्डिंग नंबर 845 को सील कर दिया गया है। सैम्पल पुणे स्थित लैब में जाएंगे, जिससे हादसे की असल वजह को तलाशा जा सकेगा।
- वैसे क्वालिटी इन्श्योरेंस मिलिट्री एक्सप्लोसिव (क्यूएएमई) के अफसरों के आने की उम्मीद तो सोमवार को की जा रही थी। मामले की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि टीम रविवार को ही पहुंच गई।

- इसके बाद टीम ने एडमिनिस्ट्रेशन के साथ मीटिंग भी की। जानकाराें का कहना है कि एडमिनिस्ट्रेटिव अफसरों से चर्चा के दौरान जांच का पूरा ब्योरा लिया गया, साथ ही हादसे के मुमकिन वजहों पर भी चर्चा की गई है। इस दौरान उन्होंने यह जानना चाहा कि आखिर किन हालात में इस तरह का हादसा हो सकता है।

सिक्युरिटी के मद्देनजर बनाया दायरा
- जिस जगह हादसा हुअा उस पूरे इलाके को जांच के दायरे में लिया गया है। साथ ही, फैक्ट्री एडमिनिस्ट्रेशन ने बिल्डिंग नंबर 845 को सील कर दिया गया है। इस बिल्डिंग के 5 सौ मीटर के दायरे में भी किसी काे आने-जाने की इजाजत नहीं होगी।
- इधर फैक्ट्री एडमिनिस्ट्रेशन ने अपने लेवल पर इस मामले की जांच करने की तैयारी कर ली है। पता चला है कि सोमवार को हाई लेवल टीम बनाई जाना है। इसमें फैक्ट्री के अलावा सेना के अफसर भी शामिल हो सकते हैं। एडमिनिस्ट्रेशन का कहना है कि जांच टीम को एक हफ्ते के अंदर अपनी रिपोर्ट सौंपनी होगी।

1993 में ब्लास्ट में 5 की मौत हुई थी
- 27 जनवरी 1993 में भी इस फैक्ट्री में बड़ा हादसा हो चुका है। तब 5 इम्प्लॉइज की मौत हुई थी। वे सभी रिजेक्टेड बम हटा रहे थे। उसी दौरान ब्लास्ट हो गया। उसके बाद से इस बिल्डिंग को सिक्युरिटी के मद्देनजर खतरनाक घोषित कर दिया गया था।

ऐसे होगी जांच-पड़ताल
- सबूत के तौर पर ली गई राख का पुणे की लैब में हाई लेवल टेस्ट किया जाएगा। 
- राख का केमिकल टेस्ट कर यह पता लगाया जाएगा कि हादसे की वजह क्या थी। 
- जानकारों का मानना है कि जिस फैक्टर की वजह से हादसा हुआ, उसके पार्टिकल राख में मौजूद रह सकते हैं।
- बमों के अवशेष से यह जानने की कोशिश होगी कि ब्लास्ट किस वजह से हुआ। 
- शाॅर्ट सर्किट की चिंगारी या दूसरे किसी कारण से ब्लास्ट के हालात को जांचेगी टीम।

"जिलों से" से अन्य खबरें

सीएम हैल्पलाईन की शेष पेडेंसी का निराकरण करें-कलेक्टर

कलेक्टर डॉ. इलैया राजा टी ने सीएम हैल्पलाईन, लोकसेवा गारंटी एवं वृक्षारोपण जैसी सर्वोच्च प्राथमिकता वाली कार्यक्रमों की जिला पंचायत भिण्ड के सभागार में आयोजित बैठक में गत दिवस समीक्षा की। इस बैठक में विभागीय अधिकारियों ने अवगत कराया कि सीएम हैल्पलाईन में दर्ज करीबन एक हजार प्रकरणों का निराकरण तीन दिवस में कराया गया है। जिस पर से कलेक्टर ने संबंधित विभागीय अधिकारियों के कार्य के प्रति संतोष व्यक्त किया। 

Read More

तुवर दाल नहीं खरीदने पर बिफरे किसान, नेशनल हाइवे पर चक्काजाम

बरेली। रायसेन जिले में सबसे बेहतर कृषि क्षेत्र माने जाने वाले बरेली में अंचल के किसानों ने गुरुवार दोपहर तुवर की खरीदी नहीं होने पर एनएच 12 पर चक्काजाम कर दिया। जाम की वजह से जयपुर-जबलपुर मार्ग पर दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई।

Read More

मंदसौर जिले के पूर्व कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक सस्पेंड

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश सरकार ने बुधवार को देर शाम को मंदसौर जिले के पूर्व जिलाधीश आईएएस अधिकारी स्वतंत्र कुमार सिंह और पुलिस अधीक्षक आईपीएस ओपी त्रिपाठी को निलंबित कर दिया है।

Read More

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य आयोजन पुलिस परेड ग्राउण्ड में संपन्न

21 जून 2016 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य कार्यक्रम सीहोर जिला मुख्यालय स्थित पुलिस परेड ग्राउण्ड में संपन्न हुआ। प्रदेश के लोक निर्माण, विधि, विधायी कार्य एवं सीहोर जिला प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह के मुख्य आतिथ्य में योग का कार्यक्रम लखनऊ में आयोजित मुख्य कार्यक्रम के सीधे प्रसारण के अनुरूप आयोजित हुआ।

Read More

तीसरे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर बच्चे, जवान एवं वृद्धजनों ने किया सामूहिक योग

अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर जिला मुख्यालय स्थित स्टेडियम ग्राउण्ड में क्षेत्रीय विधायक बाधवगढ श्री शिवनारायण की उपस्थिति में योग दिवस का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। 

Read More

क्रिकेट में हार के बाद बुरहानपुर में लगे पाक जिंदाबाद के नारे, 15 पर केस

बुरहानपुर। आईसीसी चैंपियन ट्रॉफी के फाइनल मैच में पाकिस्तान की जीत पर आतिशबाजी और नारेबाजी से रविवार रात ग्राम मोहद में तनाव की स्थिति बन गई। 

Read More

व्यापमं घोटाले के व्हिसिल ब्लोअर आशीष ने सार्वजनिक किया CBI का लिखा पत्र

भोपाल।व्यापमं घोटाले के व्हिसिल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी ने सीबीआई पर व्यापमं घोटाले की जांच में जानबूझकर उपेक्षा बरतने के आरोप लगाते हुए अफसरों की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं। आशीष ने 18 जून को ट्विटर पर सीबीआई के ज्वाइंट डायरेक्टर आरपी अग्रवाल के नाम लिखे पत्र के सार्वजनिक किया है। 

Read More

विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस का जेल भरो आंदोलन, खलघाट में लगा जमावड़ा

धार । करीब डेढ़ साल बाद होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने कमर कस ली है। किसान आंदोलन के जरिए हित साधने में लगी कांग्रेस धार जिले के खलघाट में जेल भरो आंदोलन कर रही है। इसके लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव सहित बड़ी तादाद में कांग्रेसी कार्यकर्ता व किसान पहुंचते हैं।

Read More

किसान आंदोलनः एमपी में एक और किसान ने की आत्महत्या, धार में 'जेल भरो आंदोलन' शुरू

मध्य प्रदेश में कर्ज से परेशान किसानों की मौत का सिलसिला थम नहीं रहा है। शुक्रवार को जहां दो किसानों ने आत्महत्या कर ली वहीं शनिवार को एक और किसान ने खुद की जिंदगी खत्म कर ली। पिछले एक सप्ताह में करीब दस किसान अपनी जान दे चुके हैं। वहीं दूसरी ओर धार में आज से भारत कृषक समाज के किसान जेल भरो आंदोलन शुरू करेंगे।

Read More

ग्वालियर के चायवाले, आनंद ने भी भरा राष्ट्रपति के लिए नामांकन

भोपाल | जब एक चायवाला देश का प्रधानमंत्री बन सकता है तो क्या एक चायवाला देश का राष्ट्रपति बनने का सपना नहीं देख सकता? ऐसा मानना है कि मध्य प्रदेश के रहने वाले आनंद सिंह कुशवाहा का। वह पेशे से चायवाले हैं और देश के राष्ट्रपति की कुर्सी तक पहुंचने की इच्छा रखते हैं। अपनी इसी इच्छा को पूरा करने के लिए उन्होंने चौथी बार देश के राष्ट्रपति बनने के लिए नामांकन भरा है। आनंद अब तक 20 बार चुनाव हार चुके हैं। 

Read More