mp mirror logo

1400 बच्चों के श्रम से 2 साल बाद रोज पैदा होगी डेढ़ करोड़ की ऑक्सीजन

उज्जैन। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में उज्जैन के 25 स्कूलों के 1400 बच्चों ने एक संस्था के सहयोग से दो साल बाद रोज करीब डेढ़ करोड़ रुपए की ऑक्सीजन पैदा करने का प्रण लिया है। इसे पूरा करने के लिए हर बच्चे ने नीम के दो फीट के पौधे लगाए हैं। ये पौधे 5 फीट के होने पर शिप्रा तट पर रोपे जाएंगे।

पर्यावरणविदों के अनुसार एक नीम का पेड़ 10 हजार रुपए कीमत की ऑक्सीजन छोड़ता है। इस तरह 1400 पेड़ों से हमें प्रतिदिन 1.40 करोड़ स्र्पए की ऑक्सीजन प्राप्त होगी। खास बात यह है कि दो साल बाद जिस बच्चे का पौधा सबसे अच्छी स्थिति में होगा उसे एक लाख रुपए पुरस्कार में दिए जाएंगे।

प्लांटेशन के जरिए शिप्रा नदी को प्रवाहमान करने के उद्देश्य से 60 वर्षीय पर्यावरण मित्र राजीव पाहवा ने नेचुरल ऑक्सीजन इंडस्ट्री की स्थापना की है। उनके मार्गदर्शन में ही 1400 बच्चों ने ग्रीन वॉरियर्स चैरिटी बनाई है और हर बच्चा वन विभाग से प्राप्त नीम के पौधे की दो साल तक नियमित देखभाल कर उसे पेड़ बनाएगा।

बाद में पौधा शिप्रा किनारे रोपा जाएगा। पहचान के लिए हर पौधे पर 11 डिजिट का विशेष कोड होगा, जिससे वार्ड, स्कूल, बच्चे की पहचान हो सकेगी। प्रोजेक्ट 10 साल का है, जिसके तहत 10 साल में 15 हजार नीम के पौधे शिप्रा किनारे रोपे जाने हैं।

हर पौधे की सतत मॉनीटरिंग होगी और तीन-तीन माह में मूल्यांकन। दो साल बाद सबसे अच्छी ग्रोथ वाले पौधे के संरक्षक बच्चे को 1 लाख स्र्पए का पुरस्कार दिया जाएगा। जिस स्कूल के अधिकांश बच्चों का परिणाम बेहतर होगा, उस स्कूल प्रबंधन को भी 21 हजार स्र्पए पुरस्कार मिलेगा।

ऑक्सीजन सिलेंडर 2500 का

अस्थमा जैसी श्वांस की बीमारियों के रोगियों को जिस ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत होती है, वह प्रतिदिन 2500 रुपए में पड़ता है। इसको आधार मान कर हिसाब लगाया गया है कि 1400 नीम के पेड़ से हर दिन 1.40 करोड़ स्र्पए की ऑक्सीजन प्राप्त हो सकेगी।

45 हजार पौधों की देखभाल

एक दशक पहले तक व्यवसाय करने वाले राजीव पाहवा ने शादी की, लेकिन पत्नी की सहमति से निसंतान रहे। बाद में संपूर्ण जीवन शिप्रा संरक्षण के लिए काम करने का संकल्प लिया। दो साल में वे 400 पौधे स्वयं रोप चुके हैं और युवाओं से भी वे कई पौधे लगवा चुके हैं। वर्तमान में वे 45 हजार पौधों की देखभाल स्वयं नियमित कर रहे। पॉलीथिन बंदी और मिट्टी की गणेश प्रतिमा को लेकर भी वे जागरूकता अभियान चला चुके हैं।

"जिलों से" से अन्य खबरें

मुख्यमंत्री अल्प प्रवास पर ग्वालियर आए

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान गुरुवार को अल्प प्रवास पर ग्वालियर पहुँचे। इस दौरान वे विभिन्न वैवाहिक समारोह में शामिल हुए और वर-वधुओं को आशीर्वाद देकर उनके सुखद दांपत्य जीवन के लिए कामना की। उच्च शिक्षा एवं लोकसेवा प्रबंधन मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया तथा राज्यसभा सांसद श्री प्रभात झा भोपाल से विमान द्वारा मुख्यमंत्री के साथ आए थे।

Read More

वीरांगना झलकारी बाई जयंती के अवसर पर कार्यशाला आयोजित

वीरांगना झलकारी बाई जयंती के अवसर पर 22 नवम्बर को शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय वनगवां में महिला सशक्तिकरण विभाग द्वारा कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में महिला सशक्तिकरण अधिकारी श्री संजय गहरवाल ने बताया कि वीरंगना झलकारी बाई प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में रानी लक्ष्मी बाई की महिला सेना की सेनापति थी और क्रांति के दौरान रानी लक्ष्मी बाई को महत्तवपूर्ण सहयोग प्रदान किया।

Read More

भोपाल को स्मार्ट सिटी बनाने के अभियान में तेजी

भोपाल को सुन्दर और स्वच्छ बनाने के लिए चलाये जा रहे अभियान के तहत शहर के 14 चौराहे चिन्हित किये गये हैं, जिन पर 51 कैमरे लगाये जाएंगे।स्मार्ट सिटी के अंतर्गत नगर में चलने वाले वाहनों की सघन चैकिंग की जाएगी। अनियमितता पाये जाने पर चालान संबंधित व्यक्ति के घर पहुँचाये जाएंगे। 

Read More

हमारी नीयत बेहतर काम करने की है और मंशा शहर को बेहतर तरीके से बसाना- वित्त मंत्री जयंत मलैया

हमारी नीयत बेहतर काम करने की है और मंशा शहर को बेहतर तरीके से बसाना है। शहर में सड़को का विकास, ड्रेनेज सिस्टम पानी की सुगम व्यवस्थाएं सहित विकास के अन्य कार्य व्यवस्थित रूप से कराये और सतत् जारी है। इस आशय के उद्गार आज वित्त और वाणिज्यिक कर मंत्री जयंत कुमार मलैया ने व्यापारीगण द्वारा बस स्टेण्ड के समीप आयोजित नागरिक अभिनंदन कार्यक्रम के दौरान व्यक्त किये। इस अवसर पर संसाद प्रहलाद पटेल विशेष रूप से मौजूद थे।

Read More

कलेक्ट्रेट बुरहानपुर में ''''नेकी की दीवार'''' का हुआ शुभारंभ

जिला प्रशासन द्वारा कलेक्ट्रेट बुरहानपुर में आनंदम कार्यक्रम के तहत ‘‘नेकी की दीवार‘‘ स्थापित की गई है। आज नेकी की दीवार का विधिवत् शुभारंभ किया गया। इस कार्यक्रम में शहर के समाजसेवी नागरिकों ने विभिन्न उपयोगी सामग्री उपलब्ध कराई। 

Read More

भावांतर भुगतान योजना पर पूरे देश की निगाहें - मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भावांतर भुगतान योजना किसानों के हित संरक्षण की अद्भुत योजना है। इस पर पूरे देश की निगाहें हैं। उन्होंने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिये हैं कि किसानों की उपज के भावांतर की सही राशि किसानों के खातों में पहुंचाना सुनिश्चित करें। इस योजना के अंतर्गत पहला भुगतान एक लाख 35 हजार से ज्यादा किसानों को 22 नवम्बर को एक साथ होगा। 

Read More

रबी सीजन के लिए पर्याप्त खाद-बीज की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के कलेक्टर ने दिए निर्देश

कृषि आदान संबंधी समीक्षा बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने आगामी सीजन के खाद तथा बीज की उपलब्धता के साथ ही भावांतर योजना के अंतर्गत चल रहे पंजीयन की समीक्षा की। इसके साथ ही उन्होंने धान उपार्जन के संबंध में सभी मंडियों की विस्तृत जानकारी ली।

Read More

महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा के लिए ओर उठाये जाये कदम-मुख्यमंत्री

प्रत्येक जिले में कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ऐसे स्थानो, क्षेत्रो का संयुक्त दौरा करेंगे, जहां पर बालिका-महिला पढ़ने, रहने या अन्य रूप में एकत्रित होती है। इस दौरान यदि किसी असामाजिक तत्वो की उपस्थिति की शिकायत मिलती है, यह ज्ञात होता है तो उनके विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायें। शिक्षण संस्थानो में भी महिलाओ-बालिकाओ से संबंधित कानूनी प्रावधानो, सूचना तंत्र हेतु बनाये गये एप, निर्धारित टेलीफोन नम्बरो की जानकारी दी जाये। जिससे आवश्यकता पड़ने पर माताएं-बहने, बालिका इनका उपयोग कर सके। 

Read More

प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह 20 नवम्बर को जिले के प्रवास पर

 लोक निर्माण, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री और नरसिंहपुर जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह सोमवार 20 नवम्बर को जिले के प्रवास पर रहेंगे। वे सांईखेड़ा में जिला योजना समिति की बैठक की अध्यक्षता करेंगे और अन्य कार्यक्रमों में शामिल होंगे।

Read More

स्वरोजगार योजनाओं के प्रकरण बैंकर्स संवेदनशीलता के साथ स्वीकृत एवं वितरित करें : कलेक्टर

प्रदेश सरकार की मंशा है कि युवाओं को स्वयं का व्यवसाय प्रारंभ करने हेतु अधिक से अधिक अवसर मिले। इसीलिए प्रदेश सरकार द्वारा अनेको स्वरोजगार योजनाओं का संचालन विभिन्न शासकीय विभागों द्वारा किया जा रहा है। विभिन्न विभागों द्वारा स्वरोजगार के प्रकरण बैकों को भेजे जाते हैं, प्रकरणों के स्वीकृति एवं वितरण में देरी के कारण स्वरोजगारी परेशान होते हैं

Read More