mp mirror logo

दिमाग की क्षमता बढ़ाना चाहते हैं तो बदल डालें अपनी ये आदतें

दिमाग की हमारे शरीर में कितनी अहमियत है यह बताने की जरूरत नहीं। शरीर की हर क्रिया का संचालन दिमाग के बिना संभव नहीं है। सांस लेना, मसल्स कंट्रोल, सोचना, समझना, याद रखना, हार्मोंन्स का नियंत्रण आदि सभी कार्यों का संचालन मस्तिष्क से ही होता है। इसलिए हमारे भोजन का अधिकांश हिस्सा दिमाग के पोषण के लिए चला जाता है। दिमाग से कमजोर व्यक्ति समाज में काफी उपेक्षित होता है इसलिए हर कोई अपने दिमाग की क्षमता बढ़ाने के प्रयास में लगा रहता है। हमारे दैनिक जीवन की बहुत सी आदतें ऐसी होती हैं जो हमारे दिमाग की क्षमता पर असर डालती हैं। अगर हम समय रहते उन आदतों को बदल लें तो हमारा दिमाग और बेहतर तरीके से काम कर सकता है। आइए, जानते हैं कि ऐसी कौन सी आदते हैं जिन्हें आपको अपने मस्तिष्क की बेहतरी के लिए बदल लेना जरूरी है।

1. सोने में कोताही न करें – वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन द्वारा किए गए एक शोध में यह कहा गया है कि जब हम सोते हैं तब हमारा दिमाग अपने यहां एकत्रित सभी विषाक्त पदार्थों बाहर निकालकर खुद को साफ करता रहता है। ऐसे में अगर हम कम सोते हैं तो उत्सर्जन की यह प्रक्रिया अधूरी रह जाती है। ऐसे में ये विषाक्त पदार्थ दिमाग की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाते हैं। इससे कोशिकाएं क्षतिग्रस्त होती रहती हैं और हमारा दिमाग अस्वस्थ हो जाता है। ऐसे में याद्दाश्त कमजोर होने जैसी समस्याए सामने आती हैं।

2. मत करें धूम्रपान – धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों के दिमाक की संज्ञानात्मक क्षमता बहुत कम होती है, ऐसा कई अध्ययनों से साबित हो चुका है। इसके अलावा धूम्रपान करने से याद्दाश्त होने, सीखनें – समझने की क्षमता में कमी होने की शिकायतें सामने आती हैं। धूम्रपान से डिमेटिया और अल्जाइमर का भी काफी खतरा होता है।

3. बहुत कम न बोलें – विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक अध्ययन के मुताबिक जो लोग कम बातें करते हैं उनमें ब्रेन डैमेज का काफी खतरा होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि कम बोलने या सोचने से दिमाग की कोशिकाएं निष्क्रिय होकर सिकुड़ने लगती हैं। वहीं जब हम बातें करते हैं तब कोशिकाएं सक्रिय रहती हैं और उनकी कार्यक्षमता बढ़ती है। सोचना हमारे दिमाग के लिए एक तरह का व्यायाम है।

4. प्रदूषित जगहों से दूर रहें – हमारे दिमाग को अच्छी तरह से काम करने के लिए शरीर के अन्य अंगों की तुलना में दस गुना अधिक ऑक्सीजन चाहिए होता है। वायु प्रदूषण वाली जगहों पर दिमाग को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं हो पाती, जिससे उसकी कार्यक्षमता घटती है। ऐसे में प्रदूषित वायु वाली जगहों से दूरी बनाकर रखें।

"सेहत" से अन्य खबरें

इस कारण पुरुषों में तेजी से बढ़ रही हार्ट अटैक की समस्या

भारतीय मूल के शोधकर्ता की अगुवाई वाले दल को एक अध्ययन में पता चला है कि कार्डियोवस्कुलर रोग के शिकार रहे पुरुषों को सेक्स के दौरान या उसके बाद अचानक कार्डिएक अरेस्ट (हार्ट अटैक) होने का जोखिम हो सकता है. अचानक कार्डिएक अरेस्ट (एससीए) में दिल एकाएक धड़कना बंद कर देता है और ऐसा बिना किसी चेतावनी के होता है. इस शोध के निष्कर्षो से पता चला कि एससीए की घटनाएं काफी दुर्लभ है, लेकिन इसमें पीड़ित के जीवित रहने की दर काफी कम है.

Read More

डायलिसिस पर हैं तो भूल कर भी ना खाएं ये 10 फूड

किडनी हमारे शरीर के लिए फ़िल्टर का काम करती हैं। ये यूरिन (मूत्र) के द्वारा हमारे शरीर से टॉक्सिंस (विषारी पदार्थ) को बाहर निकालती हैं। परन्तु जब किडनी अपना काम ठीक तरह से नहीं कर पाती तो डायलिसिस करना पड़ता है।
यह एक ऐसा उपचार है जिससे लगभग हर डायबिटीक रोगी (मधुमेह से ग्रस्त रोगी) को गुज़रना पड़ता है। डायलिसिस की सहायता से शरीर से टॉक्सिंस कृत्रिम रूप से बाहर निकाले जाते हैं।

Read More

सूखा नारियल खाएं और रहें कई बीमारियों से दूर

नारियल चाहे किसी भी रूप में ले आपको सिर्फ फायदा ही पहुंचाएगा. गर्मियों में मिनरल्स से भरपूर नारियल पानी पीने से लू बचाव होता है. स्ट्रोक नहीं होता. पेट को ठंडा रखता है. दिमाग को कूल करता है. हृदय को फायदा पहुंचाता है. वैसे पानी वाला नारियल प्राकृतिक रूप से सूख जाने के बाद पूरी तरह से गरीयुक्त हो जाता है जिसे एक गोले के रूप में निकाल कर रख लिया जाता है. इसमें पानी नहीं होता है बल्कि पानी ही सूखकर नारियल तेल का रूप ले लेता है. इस तेल में बैड कोलेस्ट्रॉल नहीं होता है और इसके कई सारे फायदे होते हैं. सूखे नारियल में डाईटरी फाइबर, कॉपर, मैग्नीशियम और सेलेनियम भी होता है. इसमें उच्च पोषक तत्व होते हैं. आइए जानते है कौन-कौन से होते हैं फायदे..

Read More

फल और सब्जियां खाने के इन फायदों के बारे में जानकर हैरान हो जाएंगे आप...

हम बचपन से सुनते आए हैं कि फल और सब्जियां खानी चाहिए. उनके फायदों के बारे में भी हमने खूब सुना है. अपने आहार में फलों और सब्जियों की मात्रा बढ़ाने से पैरों में रक्त प्रवाह को प्रभावित करने वाली धमनियों के रोगों के विकास का खतरा कम हो सकता है. पेरीफरल आर्टरी डिसीस (पीएडी) पैरों की धमनियों को संकुचित करती है, मांसपेशियों में रक्त प्रवाह को सीमित कर देती है और इससे चलने या खड़े रहने के दौरान तेज दर्द होता है.

Read More

एक मुट्ठी अखरोट खाने का यह फायदा नहीं जानते होंगे आप

नई दिल्ली : कैलिफोर्निया वालनट कमीशन (सीडब्ल्यूसी) ने रोगों की रोकथाम और स्वास्थ्य में अखरोट की भूमिका पर चर्चा के लिए एक दिवसीय वैज्ञानिक एवं स्वास्थ्य शोध सम्मेलन की मेजबानी की. चिकित्सा जगत के पेशेवरों ने कहा कि एक मुट्ठी अखरोट में 4 ग्राम प्रोटीन, 2 ग्राम फाइबर और मैग्नीशियम (10 प्रतिशत डीवी) होता है.

कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. एचके. चोपड़ा ने कहा कि अखरोट एकमात्र ऐसा फल है, जिसमें पादप-आधारित ओमेगा-3 और अल्फा-लिनोलेनिक एसिड प्रचुर मात्रा में होता है, जो मानव शरीर के लिए आवश्यक है. एक मुट्ठी अखरोट में 4 ग्राम प्रोटीन, 2 ग्राम फाइबर और मैग्नीशियम (10 प्रतिशत डीवी) होता है.

Read More

दांतों और मसूड़ों को मजबूती देंगे ये असरदार उपाय

सफेद और मजबूत दांत अच्छे स्वस्थ की निशानी है। दांतों का असर पर्सनेलिटी पर भी पड़ता है। कई बार दांतों का दर्द,कमजोर मसूड़े और समय से पहले दांतों के टूटने से सेहत से जुड़ी और भी बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जिससे खाने-पीने में परेशानी होती है, खाना अगर सही तरीके से न चबाया जाए तो इससे पाचन क्रिया पर भी बुरा असर पड़ता है। सुबह और शाम सिर्फ ब्रश करना ही नहीं बल्कि इसके अलावा भी इन्हे खान देखभाल की जरूरत होती है। आइए जानें किस तरह से करें दांतों की देखभाल।

Read More

दिमाग की क्षमता बढ़ाना चाहते हैं तो बदल डालें अपनी ये आदतें

दिमाग की हमारे शरीर में कितनी अहमियत है यह बताने की जरूरत नहीं। शरीर की हर क्रिया का संचालन दिमाग के बिना संभव नहीं है। सांस लेना, मसल्स कंट्रोल, सोचना, समझना, याद रखना, हार्मोंन्स का नियंत्रण आदि सभी कार्यों का संचालन मस्तिष्क से ही होता है। इसलिए हमारे भोजन का अधिकांश हिस्सा दिमाग के पोषण के लिए चला जाता है। दिमाग से कमजोर व्यक्ति समाज में काफी उपेक्षित होता है इसलिए हर कोई अपने दिमाग की क्षमता बढ़ाने के प्रयास में लगा रहता है। हमारे दैनिक जीवन की बहुत सी आदतें ऐसी होती हैं जो हमारे दिमाग की क्षमता पर असर डालती हैं। 

Read More

भारत में कुपोषण का शिकार हैं 21 प्रतिशत बच्चे

भारत में पांच वर्ष से कम आयु के 21 प्रतिशत बच्चे कुपोषण के शिकार हैं. देश में बाल कुपोषण 1998-2002 के बीच 17.1 प्रतिशत था, जो 2012-16 के बीच बढ़कर 21 प्रतिशत हो गया. दुनिया के पैमाने पर यह काफी ऊपर है. एक रपट के मुताबिक, पिछले 25 सालों से भारत ने इस आंकड़े पर ध्यान नहीं दिया और न ही इस स्थिति को ठीक करने की दिशा में कोई उल्लेखनीय प्रगति हुई है. ग्लोबल हंगर इंडेक्स (जीआई) 2017 में शामिल जिबूती, श्रीलंका और दक्षिण सूडान ऐसे देश हैं, जहां बाल कुपोषण का आंकड़ा 20 प्रतिशत से अधिक है. इस सूचकांक के चार प्रमुख मानकों में से कुपोषण भी एक है.

Read More

आपका बॉडी शेप खोलता है आपकी सेहत का राज...

लाइफस्टाइल और डाइट अलग-अलग होने की वजह से इंसान का बॉडी शेप भी अलग-अलग होता है. इसका आपके स्वास्थ्य पर भी बहुत असर पड़ता है. किसी का बॉडी शेप देखकर ही आप उसकी फिटनेस का अंदाजा लगा सकते हैं. आप ये भी बता सकेंगे कि आने वाले समय में उस व्यक्ति को कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं. 

Read More

Karwa Chauth 2017: व्रत में सेहत का रखें ख्याल, जानिए व्रत के पहले और बाद में क्या खाएं-क्या नहीं

करवा चौथ का खास दिन पति-पत्नी के बीच प्यार और अपनेपन की एक अलग मिठास घोल देता है. करवा चौथ का व्रत निर्जला होता है और इसमें पूरे दिन न तो कुछ खाना होता और ना ही कुछ पीना होता है. हम सभी यह जानते हैं कि पानी हमारे शरीर के लिए कितना जरूरी है, शरीर में इसकी कमी से करवा चौथ के बाद कई महिलाएं बीमार तक हो जाती हैं. 

Read More