mp mirror logo

बोर्ड परीक्षा में नंबर जोड़ने में गड़बड़ी पर 36 हजार रुपए जुर्माना

गुना। बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियां जांचने में लापरवाही करने वाले शिक्षकों के खिलाफ पहली बार माध्यमिक शिक्षा मंडल ने कार्रवाई की है। बोर्ड की परीक्षा में जिन छात्रों ने नंबर कम आने पर री-टोटलिंग के लिए आवेदन किया था, उनमें से अधिकतर के नंबर बढ़ गए। जाहिर है शिक्षकों ने कॉपी जांचने में लापरवाही की। इस गलती पर जिले के 33 शिक्षकों पर 36 हजार रुपए की पेनाल्टी लगाई गई है। इसमें 12 परीक्षक, 12 उप परीक्षक और 9 मुख्य परीक्षक शामिल हैं।

सूत्रों ने बताया कि गुना जिले में अन्य दूसरे जिलों की कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा की उत्तर पुस्तिका जांची गई थीं। मगर जब छात्रों को लगा कि उन्हें कुछ विषयों में उम्मीद से कम नंबर मिले हैं तो उन्होंने री-टोटलिंग कराई। इसमें छात्रों के नंबर बढ़ गए।

बोर्ड ने मूल्यांकनकर्ताओं की लापरवाही मानते हुए पेनाल्टी लगाई है। इसमें परीक्षार्थी का एक अंक कम होने पर 100 रुपए पेनाल्टी लगाई जाती है। इसके तहत जिले के 33 मूल्यांकनकर्ताओं पर 36 हजार रुपए की पेनाल्टी लगाई गई है। इतना ही नहीं, गलती होने पर मूल्यांकनकर्ताओं से बोर्ड के अधिकारियों ने सीधा संवाद भी किया।

री-टोटलिंग से पकड़ में आई लापरवाही

जिले में 413 मूल्यांकनकर्ताओं से बोर्ड परीक्षाओं की कांपियां चेक कराई गई थीं, जिन्हें लगभग 38 लाख रुपए का भुगतान किया गया। इसमें 56 मुख्य और उप परीक्षक भी शामिल हैं। गुना जिले में माध्यमिक शिक्षा मंडल बोर्ड के निर्देश पर प्रदेश के अन्य जिलों की कॉपियां भी जांची गईं। लेकिन जिले के 33 मूल्यांकनकर्ता ऐसे थे, जिन्होंने कापियां जांचने में लापरवाही बरती। इस पर बोर्ड द्वारा 36 हजार स्र्पए की पेनाल्टी लगाई।

यह है कॉपी जांचने का गणित

जिले के मूल्यांकनकर्ताओं को दूसरे दो जिलों की कॉपियां जांचने की जिम्मेदारी मिली। बोर्ड परीक्षा की गोपनीयता को देखते हुए जिलों के नाम नहीं प्रकाशित किए जा रहे हैं। मूल्यांकनकर्ता प्रभारी ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा मंडल हाईस्कूल की एक कॉपी जांचने के लिए मूल्यांकनकर्ता को 11 रुपए का भुगतान करता है। इसी प्रकार हायर सेकंडरी स्कूल की परीक्षा की एक कॉपी जांचने पर 12 रुपए का भुगतान किया जाता है। यह भुगतान माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल के माध्यम से किया जाता है।

ऐसे सामने पकड़ी जाती है गलती

परीक्षा का रिजल्ट जारी होने के बाद परीक्षार्थियों की उम्मीद से कम अंक आने पर माध्यमिक शिक्षा मंडल की वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन मंगाए जाते हैं। आवेदन आने के बाद बोर्ड री-टोटलिंग के आवेदन वाले स्टूडेंट्स की सूची मूल्यांकन केंद्रों में भेज दी जाती है। इसके बाद री-टोटलिंग टीम लिस्ट में आए प्रकरणों की जांच करती है। इसकी जांच करने पर फिर री-टोटलिंग की जाती है। इसमें नंबर बढ़ने पर मूल्यांकनकर्ताओं पर पेनाल्टी की कार्रवाई की जाती है।

इनका कहना है

मूल्यांकनकर्ताओं पर पेनाल्टी की है। इसमें 33 मूल्यांकनकर्ताओं पर 36 हजार 800 रुपए पेनाल्टी लगाई गई है। हालांकि, जिले में गंभीर मामले नहीं आए हैं, जिससे मूल्यांकनकर्ताओं को इस कार्य से पृथक किया जाए। जबकि मूल्यांकन केंद्र में समय सीमा से पहले दो जिलों की कॉपियां जांची गई। इसके बाद एक अन्य संभाग की कॉपियां भी जांची गई

"जिलों से" से अन्य खबरें

मुख्यमंत्री भावांतर कार्यक्रम का सीधा प्रसारण हुआ बड़वानी में भी

प्रदेश के मुख्यमंत्री के भावांतर योजना कार्यक्रम का सीधा प्रसारण जिले की ग्राम सभाओ में भी देखा एवं सुना गया। इसके लिए सम्पूर्ण जिले में गुरूवार को विशेष ग्राम सभाओ का आयोजन किया गया था। 

Read More

ग्रामीण क्षेत्र में शुद्ध पेयजल की स्थाई व्यवस्था के लिए बनाई गई जल सुरक्षा एवं संरक्षण योजना

राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के तहत लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग द्वारा यूनिसेफ एवं प्रायमूव के सहयोग से मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में विकास खंड महू के विभिन्न ग्रामों में जल सुरक्षा एवं संरक्षण के लिए कार्ययोजना तैयार की गई है। इसका मुख्य उद्देश्‍य विश्वस्तरीय स्थाई विकास लक्ष्य क्रमाक 06 के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्र में शुद्ध एवं स्थाई पेयजल उपलब्ध कराना है।

Read More

भावांतर योजना : 10 हजार करोड़ रुपए भी खर्च करना पड़े तो करेगी सरकार

भोपाल। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना 16 अक्टूबर यानी सोमवार से पूरे प्रदेश में एक साथ लागू होगी। बुधवार को कैबिनेट में योजना को लेकर प्रस्तुतिकरण दिया गया। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इसमें दस हजार करोड़ रुपए खर्च करने पड़े तो भी सरकार करेगी। इस दौरान कई मंत्रियों ने कृषि अधिकारियों से योजना को लेकर पूछताछ भी की।

Read More

12 अक्‍टूबर को लाड़ली शिक्षा पर्व मनाएगी सरकार, सभी जिलों में होंगे आयोजन

भोपाल। ‘लाड़ली लक्ष्मी” योजना के दस साल पूरे होने पर राज्य सरकार गुरुवार को लाड़ली शिक्षा पर्व मना रही है। इस दौरान राजधानी सहित पूरे प्रदेश में कार्यक्रम आयोजित होंगे। यहां छठवीं कक्षा में प्रवेश लेने वाली 65 हजार से ज्यादा बालिकाओं को दो-दो हजार रुपए छात्रवृत्ति दी जाएगी।

Read More

वैट घटाने पर शिवराज बोले, दीपावली से पहले तोहफा जरूर मिलेगा

भोपाल।केंद्रीय वित्त मंत्री और पेट्रोलियम मंत्री के सुझाव के बाद राज्य सरकार पेट्रोलियम उत्पादों से पांच प्रतिशत वैट घटाने की तैयारी कर रही है। सत्य सांई कॉलेज में भक्त सम्मेलन के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा कि दीपावली से पहले प्रदेश के लोगों को तोहफा जरूर मिलेगा।

Read More

केन्द्र एवं राज्य सरकार गरीबों के सपने को साकार कर रही है-विधायक

क्षेत्रीय विधायक श्री नरेन्द्र सिंह कुशवाह ने कहा है कि केन्द्र और राज्य सरकार के माध्यम से गरीबों की भलाई के लिए अनेक योजनाएं संचालित की है। जिनमें प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत गरीबो को भू खण्ड आवंटित कर उनके सपने को साकार करने की पहल की गई है। जिससे वे आगामी तीन माह में अपने मकान तैयार कर छत के नीचे रहने की सुविधा प्राप्त कर सकेंगे। 

Read More

दिवंगत जयप्रकाश भटनागर को पत्रकारों ने दी श्रद्धांजलि

जिला जनसम्पर्क कार्यालय में पदस्थ जनसम्पर्क कर्मी दिवंगत स्वर्गीय जयप्रकाश भटनागर के आकस्मिक निधन पर आज जिला जनसम्पर्क कार्यालय शहडोल में शोकसभा आयोजित की गई। 

Read More

'बेमिसाल 12 साल' से शुरू होगा शिवराज का 'मिशन 2018'

भोपाल। 29 नवंबर 2017 को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के 12 साल होते ही भारतीय जनता पार्टी मिशन 2018 के लिए चुनावी शंखनाद करेगी। 'बेमिसाल 12 साल' शिवराज के इस कार्यकाल को लेकर पूरे प्रदेश में भाजपा एक स्टडी भी करवा रही है कि क्षेत्र की मैदानी हकीकत क्या है।

Read More

पूर्व मंत्री का 'रिश्तेदार' निकला फर्जी डॉक्टर, पोल खुलते ही हुआ फरार

मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले के बैहर सामुदयिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ एमबीबीएस डॉक्टर की डिग्री फ़र्ज़ी पाये जाने के बाद हड़कंप मच गया है. मामला उजागर होने के बाद कथित आरोपी डॉक्टर नौकरी छोड़कर फरार हो गया है.

Read More

एक दिन भी जेल में बंद मीसाबंदी को मिलेगी 8 हजार की सम्मान निधि

भोपाल.राजनीतिक व सामाजिक कारणों से जेल में एक दिन भी बंद रहे मीसा बंदियों को राज्य सरकार अब आठ हजार रुपए सम्मान निधि देगी। राज्य सरकार ने लोकनायक जयप्रकाश नारायण सम्मान निधि 2008 में संशोधन करते हुए कहा है कि कोई व्यक्ति यदि एक माह से कम समय के लिए जेल में बंद हैं तो उन्हें भी पैसा दिया जाएगा।

Read More