mp mirror logo

मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना

प्रदेश के किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिये राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना लागू की गई है। योजना का उद्देश्य किसानों को कृषि उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलना सुनिश्चित करना तथा मण्डी दरों में गिरावट से किसानों को सुरक्षा कवच प्रदान करना है। इस योजना में किसान द्वारा प्रदेश में अधिसूचित कृषि उपज मण्डी प्रांगण में चिन्हित फसल उपज बेचने पर राज्य सरकार द्वारा घोषित मॉडल विक्रय दर और केन्द्र द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसानों को भुगतान की जायेगी। 
मॉडल विक्रय दर मध्यप्रदेश और दो अन्य राज्यों की मॉडल दर का औसत
    मॉडल विक्रय दर की गणना मध्यप्रदेश तथा दो अन्य राज्यों की मॉडल दर का औसत रहेगा। सोयाबीन के लिये दो अन्य राज्य महाराष्ट्र और राजस्थान, मूँगफली के लिये गुजरात और राजस्थान, तिल के लिये उड़ीसा और छत्तीसगढ़, रामतिल के लिये पश्चिम बंगाल और राजस्थान, मक्का के लिये कर्नाटक और महाराष्ट्र, मूँग के लिये राजस्थान और महाराष्ट्र, उड़द के लिये राजस्थान और उत्तरप्रदेश तथा तुअर के लिये महाराष्ट्र और गुजरात राज्यों की मॉडल विक्रय दर ली जायेगी। योजना का लाभ पंजीकृत किसानों को मध्यप्रदेश में उत्पादित कृषि उत्पाद का विक्रय अधिसूचित मण्डी परिसर में करने पर ही मिलेगा। योजना का लाभ जिले में विगत वर्षो की फसल कटाई प्रयोगों पर आधारित औसत उत्पादकता के आधार पर उत्पादन के सीमा तक दिया जायेगा। योजना में मध्यप्रदेश राज्य सहकारी विपणन संघ और मध्यप्रदेश राज्य नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा पात्र किसानों को भुगतान किया जायेगा। योजना में किसानों को देय राशि की गणना का प्रावधान किया गया है। इसके अनुसार यदि किसान द्वारा मण्डी समिति परिसर में बेची गई अधिसूचित फसल की विक्रय दर न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम परंतु राज्य शासन द्वारा घोषित मॉडल विक्रय दर से अधिक हुई तो न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा किसान द्वारा विक्रय मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में अंतरित की जायेगी। इसी तरह यदि किसान द्वारा मण्डी समिति परिसर में विक्रय की गई अधिसूचित फसल की विक्रय दर राज्य शासन द्वारा घोषित मॉडल विक्रय दर से कम हुई तो न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा मॉडल विक्रय दर की अंतर की राशि किसान के खाते में अंतरित की जायेगी। 
लाइसेंसी गोदाम में उपज रखने पर अनुदान
    योजना में पंजीकृत किसानों को उपयुक्त बाजार भाव पर उनकी उपज के विक्रय अवसर प्रदान करने और उचित समय पर फसल बेचने को प्रोत्साहित करने के लिये लाइसेंसी प्राप्त गोदाम में कृषि उपज रखने के लिये किसान को अनुदान दिया जायेगा। राज्य शासन ने निर्णय लिया है कि भावान्तर भुगतान योजना में निर्धारित विक्रय अवधि के बाद तुअर के लिये एक मई से 30 अगस्त 2018 तक तथा सोयाबीन, मूँगफली, रामतिल, मक्का, मूँग और उड़द के लिये एक जनवरी से 30 अप्रैल 2018 तक अनुज्ञप्तिधारी गोदाम में कृषि उत्पाद रखे जाने पर गोदाम किराया किसानों को दिया जायेगा। योजना के क्रियान्वयन की मॉनीटरिंग के लिये राज्यस्तर पर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में तथा जिलास्तर पर कलेक्टर की अध्यक्षता में समिति गठित की जायेगी। मण्डी में विक्रय के बाद जारी किये जाने वाले अनुबंध पर्ची, तौल पर्ची और भुगतान पत्रक पर किसान का पंजीयन क्रमांक इंद्राज किया जायेगा। प्राप्त जानकारी भावान्तर भुगतान योजना के पोर्टल पर मण्डी समिति द्वारा दर्ज की जायेगी। सौदा पत्रक के माध्यम से क्रय-विक्रय किये गये कृषि उत्पाद योजना में पात्र नहीं होंगे।                                          
11 अक्टूबर तक 52 केन्द्रों में होंगे पंजीयन
    मालूम हो कि मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना के तहत  जिले में किसानों के पंजीयन 11 सितम्बर से प्रारंभ हो चुके हैं। यह पंजीयन 11 अक्टूबर तक जिले के 52 पंजीयन केन्द्रों में किये जायेंगे, जो कि पूर्व में गेहूं खरीदी हेतु निर्धारित किये गये थे। जिले में 52 पंजीयन केन्द्रो पर पंजीयन फार्म निःशुल्क उपलब्घ है। आवेदन पत्र भरकर, पंजीयन फार्म के साथ मोबाईल नंबर, बैंक खाते का नंबर आईएफएससी कोड सहित ऋण पुस्तिका, समग्र आई.डी. तथा आधार नम्बर फार्म के साथ संलग्न करना अनिवार्य है। जिला आपूर्ति अधिकारी ने जिले के समस्त किसानबंधुओं से अनुरोध किया है कि वे भावान्तर भुगतान योजना के अन्तर्गत चयनित फसलों का लाभ प्राप्त करने हेतु अपने नजदीकी पंजीयन केन्द्र से सम्पर्क कर अपना पंजीयन निर्धारित अवधि में अवश्य करा लें। अंतिम तिथि अर्थात 11 अक्टूबर के बाद पंजीयन फार्म मान्य नही होंगे।

"जिलों से" से अन्य खबरें

बोर्ड परीक्षा में नंबर जोड़ने में गड़बड़ी पर 36 हजार रुपए जुर्माना

गुना। बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियां जांचने में लापरवाही करने वाले शिक्षकों के खिलाफ पहली बार माध्यमिक शिक्षा मंडल ने कार्रवाई की है। बोर्ड की परीक्षा में जिन छात्रों ने नंबर कम आने पर री-टोटलिंग के लिए आवेदन किया था, उनमें से अधिकतर के नंबर बढ़ गए। जाहिर है शिक्षकों ने कॉपी जांचने में लापरवाही की। इस गलती पर जिले के 33 शिक्षकों पर 36 हजार रुपए की पेनाल्टी लगाई गई है। इसमें 12 परीक्षक, 12 उप परीक्षक और 9 मुख्य परीक्षक शामिल हैं।

Read More

अच्छी शिक्षा के लिए संसाधनों का विकास जरूरी - मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र

विकास के लिए अच्छी शिक्षा समाज को शिक्षित होना जरूरी है और बच्चे सभी अच्छी शिक्षा ग्रहण कर सकते हैं। जब उन्हें अच्छे शिक्षक, अच्छे भवन और शिक्षा से संबधित सभी साधन मिले। प्रदेश सरकार इस दिशा में विशेष प्रत्यन कर रही है। यह बात मध्य प्रदेश शासन के जल संसाधन, जनसम्पर्क एवं संसदीय कार्य विभाग मंत्री डाँ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया विधानसभा क्षेत्र के ग्राम बरोह में 1 करोड लागत के शाला भवन के शिलान्यास अवसर पर कही। 

Read More

मानव जीवन के लिए नदी बचाना जरूरी - मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी ने आज विदिशा में आयोजित नदी अभियान कार्यक्रम में कहा कि नदियां मानव जीवन का आधार है प्रदेश की नदियों में कल-कल जल बहे इसके लिए अब नदियों को बचाने के लिए आमजनों को भी साथ आना होगा। आने वाली पीढ़ी को हम प्रचुर मात्रा में जल और अच्छा पर्यावरण विरासत में दें इसके लिए सदगुरू श्री जग्गी वासुदेव जी द्वारा छेडे़ गए अभियान में हम सबकों बढ़-चढ़कर भाग लेना होगा। 

Read More

कार्यो में लापरवाही करने पर एएनएम श्रीमती मंजुलता परिहार व श्रीमती मेहर चौहान को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया

शनिवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तिरला में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. आर.सी. पनिका की अध्यक्षता में टीकाकरण की समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई।

Read More

कुकरा में पहुंचा नर्मदा का जल स्तर 129.900 मीटर

नर्मदा का जल स्तर धीरे-धीरे सतत् बढ़ रहा हैं। शुक्रवार की दोपहर 3 बजे तक कुकरा में नर्मदा का जल स्तर 129.900 मीटर पर था। जो खतरे के निशान 123.250 मीटर से 6.650 मीटर अधिक था। कुकरा में पुराना नर्मदा के पुल पर इस समय 2.900 मीटर उपर पानी बह रहा है। वही कुकरा तक पहुंचने वाली एक पुलिया भी नर्मदा के बैक वाटर में डूब गई है। इस पुलिया पर 2 फीट से अधिक पानी भर गया है। जिसके कारण प्रशासन ने पुलिस बल लगाकर इस पुलिया पर यातायात को रूकवा दिया है। 

Read More

मतदाता सूची पुनरीक्षण कार्यक्रम

कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आज सम्पन्न जिला स्तरीय स्टेंडिंग कमेटी बैठक में उप जिला निर्वाचन अधिकारी एवं अपर कलेक्टर श्री जी.पी.माली ने उपस्थित सभी राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों तथा उपस्थित अधिकारियों से कहा कि आगामी 4 अक्टूबर से मतदाता सूची पुनरीक्षण कार्यक्रम प्रारंभ होगा,  इस कार्यक्रम के तहत मतदाता सूची में नए मतदाताओं के नाम जोड़ने तथा विधानसभा क्षेत्र छोड़ चुके एवं मृत नागरिकों के नाम सूची से काटने का कार्य किया जायेगा। उन्होंने सभी से इस कार्यक्रम का व्यापक प्रचार प्रसार करने को कहा। बैठक में उन्होंने अनुपस्थित अधिकारियों के विरूद्ध सख्त दण्डात्मक कार्यवाही करने के निर्देश भी दिए। 

Read More

तो अब तेजस्वी रहेंगे लालू यादव और राबड़ी देवी से दूर, जानें क्या है मामला

पटना: बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी अब अपने नए बंगले में जा सकते हैं. पिछले कई हफ्तों से इस बंगले में रह रहे पूर्व उप मुख्यमंत्री और अब विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव की उस मांग को ठुकरा दिया गया है, जिसमें वह कह रहे थे कि उन्हें इसी बंगले में रहने दिया जाए. 

Read More

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम पर जनता ने की शिवराज सरकार से टैक्स हटाने की मांग

मध्य प्रदेश में पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ते दाम से जनता परेशान है. अब प्रदेश की जनता एक ही मांग कर रही है कि मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार पेट्रोल और डीजल पर लगने वाले वैट और दूसरे टैक्स हो हटाए. बता दें कि राज्य सरकार की साल 2016-17 में पेट्रो उत्पादों से कमाई करीब 8903 करोड़ रुपए रही. जो कि साल 2012-13 में 4972 करोड रुपए थी. यानि कि कमाई में करीब 100 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है.

Read More

सांसद बोले- महिलाएं ही सबसे अधिक गंदगी करती हैं, मंत्री ने ये दिया जवाब

ग्वालियर. जिला अस्पताल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन कार्यक्रम के दौरान सांसद अनूप मिश्रा ने स्वच्छता के विषय पर कहा कि महिलाएं सबसे ज्यादा गंदगी फैलाती हैं। उनके विवादित बयान को लेकर स्वास्थ्य मंत्री रुस्तम सिंह ने कहा कि मैं सांसद की बात से सहमत नहीं हूं। महिलाएं सफाई पसंद होती हैं, और उन्हें उसके लिए आवश्यक संसाधन मिलने भी तो चाहिए।

Read More

सिंध नदी से पानी लाने के किए जाएंगे प्रयास-विधायक श्री कुशवाह

क्षेत्रीय विधायक श्री नरेन्द्र सिंह कुशवाह एवं कलेक्टर डॉ. इलैया राजा टी की उपस्थिति में कलेक्ट्रेट सभागार भिण्ड में आयोजित जिले की जल उपभोक्ता संस्थाओं की गत दिवस बैठक में रबी फसलो के लिए बोनी कम पानी में पैदा होने वाली फसलो के लिए पानी की उपलब्धता पर चर्चा की गई। 

Read More