mp mirror logo

कांग्रेस के दिग्गजों ने विधानसभा चुनाव में 'चेहरे' का आलाप छोड़ा

 भोपाल। विधानसभा चुनाव 2018 के लिए भारतीय जनता पार्टी ने जहां पूरी तरह से कमर कस ली है, वहीं कांग्रेस संगठन चुनावों में ही उलझकर रह गई है। दिग्गजों की एकता के बार-बार दावे करने वाली कांग्रेस की पोल संगठनात्मक चुनाव की बीआरओ की सूची ने खोल दी है। इसके चलते विधानसभा चुनाव में कोई चेहरा प्रोजेक्ट करने की बातें करने वाले पार्टी नेताओं के सुर बदल गए हैं।
कांग्रेस प्रदेश में लगातार तीन विधानसभा चुनाव हार चुकी है और चौथी बार 2018 में होने वाले चुनावों की तैयारी में भी भाजपा से काफी पिछड़ी हुई है। भाजपा ने 'वन बूथ फाइव यूथ" पर काम करते हुए कमेटियां बना ली हैं। इन समितियों के गठन के बाद जनप्रतिनिधियों को टारगेट दे दिया है कि मतदान केंद्रों के प्रभावी लोगों की सूची तैयार कर उनमें से अच्छे नामों को चयनित करें।
उधर, कांग्रेस दावा तो कर रही है मतदान केंद्रों की कमेटियों के गठन हो चुका है, लेकिन वास्तविकता यह है कि अभी भी 30 से 40 फीसदी मतदान केंद्रों पर कमेटियां बनी ही नहीं हैं। भोपाल, इंदौर और जबलपुर जैसे शहरों में कमेटियों के गठन का काम बेहद खराब स्थिति में है।
विधानसभा चुनाव 2018 में कोई चेहरा सामने लाने और चुनाव के पहले नेतृत्व परिवर्तन को लेकर दिग्गज नेता सांसद कमलनाथ व ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों द्वारा जो बातें कहीं जा रही थीं, उन पर कुछ समय से विराम लग गया है। सिंधिया तो कई बार पत्रकारों से चर्चा में कोई चेहरा सामने रखकर चुनाव लड़े जाने की बात कह चुके थे, लेकिन जब उनसे नवदुनिया ने इस बारे में अभी पूछा तो 'नो कमेंट" कहते हुए बचने का प्रयास किया।
सीधी बात : कोई एक नहीं सभी चेहरे होंगे
- कमलनाथ, सांसद, कांग्रेस
प्रदेश में क्या कांग्रेस की ओर से कोई चेहरा होना चाहिए?
- प्रदेश में सभी के सामूहिक प्रयासों से ही सरकार बनेगी। एक चेहरा नहीं सभी चेहरे होंगे।
भाजपा चुनावी तैयारियों में कांग्रेस से आगे निकल गई है।
- यह सही है, लेकिन भाजपा की तैयारियों से कुछ होने वाला नहीं है। प्रदेश का हर वर्ग शिवराज की नीतियों से तंग है। उनकी झूठी घोषणाओं की हकीकत जान चुका है। जनता ने 2018 में उखाड़ फेंकने के लिए वह कमर कस ली है।
सीधी बात: मतदान केंद्र कमेटियां बनीं
- अरुण यादव, प्रदेश अध्यक्ष, कांग्रेस
भाजपा की विधानसभा चुनाव की तैयारियों की तुलना में कांग्रेस कहां है?
- हमारी मतदान केंद्रों की कमेटियां बन चुकी हैं।
मतदान केंद्रों की कमेटियों से कैसे काम लेंगे?
- कमेटियों की ट्रेनिंग कराई जा रही है। अलग-अलग जगह ट्रेनिंग प्रोग्राम चल रहे हैं।

"जिलों की ख़बरें" से अन्य खबरें

चार हजार सवालों से विधानसभा के बजट सत्र में घिरेगी सरकार

भोपाल। मप्र विधानसभा के बजट सत्र में इस बार सरकार को चार हजार से ज्यादा सवालों से घेरा जाएगा। अभी सत्र में प्रश्न करने के लिए विधायकों को दो सप्ताह का समय और है। सत्र में इस बार लोकलेखा समिति के सभापति का चुनाव भी होना है।

Read More

एसिड अटैक पीड़िता से छेड़छाड़ के मामले में मध्य प्रदेश के 'मंत्री' बर्खास्त

मध्य प्रदेश में राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त राजेंद्र नामदेव को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पद से हटा दिया है. नामदेव पर एसिड अटैक पीड़िता से होटल में अश्लील हरकत और छेड़छाड़ करने का आरोप है. उनके खिलाफ रविवार दोपहर हनुमानगंज थाने पहुंचकर पीड़िता ने लिखित शिकायत दी थी.

Read More

पीएनबी घोटाला: भोपाल में गीतांजलि के ठिकानों पर बड़ी कार्रवाई, करोड़ों के हीरे जब्त

भोपाल। पीएनबी घोटाला सामने आने के बाद से देश भर में गीतांजलि के ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई जारी है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भी ईडी ने गीतांजलि समूह के कई ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की।

Read More

शिवराज सिंह की मुश्किलें बढ़ी, चुनाव से पहले सेन समाज ने की आरक्षण की मांग

मध्य प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में आरक्षण की मांग को लेकर सेन समाज ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. सेन समाज के सैकड़ों लोग शनिवार को राजधानी भोपाल में जुट रहे हैं. जहां वे सेन समाज को अनुसूचित जाति में शामिल किए जाने की मांग कर रहे हैं. प्रदर्शन कर रहे आंदोलनकारियों को मुताबिक सेन समाज को मिल रहे आरक्षण का दायरा बढ़ाते हुए अनुसूचित जाति में शामिल करने के लिए राज्य सरकार ने विधानसभा में अशासकीय संकल्प पारित  किया था, लेकिन उसके सालों बाद भी अमल नहीं हो सका.

Read More

MP: कर्ज और फसल बीमा क्लेम न मिलने से परेशान किसान ने लगाई फांसी

मध्य प्रदेश के सागर जिले के गढ़ाकोटा में कर्ज में डूबे किसान ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. किसान पर करीब तीन लाख रुपए का कर्ज था और हाल ही में ओलावृष्टि से चने की फसल भी तबाह हो गई थी.

जानकारी के अनुसार, गढ़ाकोटा थाना क्षेत्र के सिंगपुर कला में रहने वाले किसान गुलाब पटेल ने शुक्रवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. किसान की पत्नी सियारानी पटेल ने बताया कि वह कर्ज की वजह से काफी परेशान थे. उन पर तीन लाख रुपए का कर्ज था.

Read More

ओलावृष्टि पर बोले सीएम- अभी चुनाव है, कुछ नहीं कहूंगा, जो लागू, वही मिलेगा

अशोकनगर.प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को पिपरई क्षेत्र के ढ़ोढ़िया गांव पहुंचे। जहां उन्होंने चार दिन पहले ओलावृष्टि से नष्ट हुई फसलों का निरीक्षण कर किसानों ने बातचीत की। मुख्यमंत्री श्री सिंह ने ग्रामीणों से कहा कि अभी कुछ घोषणा करूंगा तो कांग्रेस वाले चिल्लाने लगेंगे कि आचार संहिता का उल्लंघन हो रहा है। उन्होंने किसानों ने कहा कि टीवी देखते हो या अखबार पढ़ते हो। उसमें देख लेना। जो भी नुकसान की भरपाई होगी वहीं अशोकनगर जिले को भी मिलेगा।

Read More

कांग्रेस का सवाल, शिवराज जी! अवैध कब्जेदारों पर इतनी मेहरबानी?

भोपाल। मध्यप्रदेश में भारी बारिश और ओलावृष्टि से करीब 1000 गांवों में फसलें पूरी तरह चौपट हो गयी हैं, जिससे किसान परेशान हैं, बस इसी परेशानी को राजनीतिक पार्टियां भुनाने में लगी हैं, सत्ताधारी पार्टी जहां किसानों को उनके नुकसान की भरपाई करने का आश्वासन दे रही है, वहीं विपक्ष किसानों की उपेक्षा का आरोप लगा रही है।

Read More

उपचुनाव: बढ़ती जा रही भाजपा की मुश्किल, अब गैस पीड़ित भी सीधी जंग को तैयार

भोपाल। मध्यप्रदेश के दो विधानसभा क्षेत्रों में हो रहे उपचुनाव में भोपाल के यूनियन कार्बाइड पीड़ितों के लिए संघर्ष करने वाले पांच संगठनों ने सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों का विरोध करने का ऐलान किया है। इन उपचुनाव में इन संगठनों के नेता भाजपा के खिलाफ प्रचार अभियान चलाएंगे।

Read More

एमपी में सियासी भूचाल, अल्पेश ठाकोर की दस्तक से तिलमिलाई बीजेपी,

भोपाल। गुजरात के राधनपुर से कांग्रेस विधायक व ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर के मध्यप्रदेश में दस्तक देते ही सियासत गरमा गई है। आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया। बीजेपी का कहना है कि अल्पेश के एमपी में आने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि कांग्रेस के पास कार्यकर्ता बचे नहीं, अब वह बाहरी कार्यकर्ताओं का सहारा ले रही है।

Read More

सीएम ने बुलाई आपात बैठक, अफसरों से कहा-नुकसान की भरपाई करें

भोपाल। प्रदेश में ओलावृष्टि से प्रभावित गांवों की संख्या बढ़ती जा रही है। 13 जिलों में 621 गांवों के प्रभावित होने की प्रारंभिक रिपोर्ट सरकार के पास पहुंची है। यहां 27 हजार हेक्टेयर की फसल खराब हुई है। नुकसान को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को आपात बैठक बुलाई।

Read More