mp mirror logo

नोटबंदी का कभी समर्थन नहीं किया, नुकसान को लेकर चेताया था: राजन

भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का कहना है कि उन्होंने कभी बहुचर्चित नोटबंदी का समर्थन नहीं किया बल्कि उन्होंने तो इसके संभावित नुकसानों के प्रति सरकार को आगाह किया था. राजन ने अपनी पुस्तक आय डू वाट आय डू: ऑन रिफार्म्स रिटोरिक एंड रिजॉल्व में यह खुलासा किया है.

इसके अनुसार फरवरी 2016 में जब सरकार ने 500 रुपये व 1000 रुपये के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर करने के बारे में उनकी राय मांगी तो वे रिजर्व बैंक के गवर्नर थे. राजन का यह बयान उन दावों के लिहाज से महत्वपूर्ण है जिनके अनुसार नोटबंदी के उस अप्रत्याशित कदम की तैयारियां बहुत समय पहले से ही चल रही थी जिसकी घोषणा आठ नवंबर 2016 की रात की गई.

राजन ने लिखा है, मुझसे सरकार ने फरवरी 2016 में नोटबंदी पर दृष्टिकोण मांगा जो मैंने मौखिक दिया था. दीर्घकालिक स्तर पर इसके फायदे हो सकते हैं पर मैंने महसूस किया कि संभावित अल्पकालिक आर्थकि नुकसान दीर्घकालिक फायदों पर भारी पड़ सकते हैं. इसके मुख्य लक्ष्यों को प्राप्त करने के संभवत: बेहतर विकल्प होंगे.

राजन ने बताया कि उन्होंने सरकार को एक नोट दिया था जिसमें नोटबंदी के संभावित नुकसान और फायदे बताये गये थे तथा समान उद्देश्यों को प्राप्त करने के वैकल्पिक तरीके बताये गये थे. उन्होंने आगे कहा, यदि सरकार फिर भी नोटबंदी की दिशा में आगे बढ़ना चाहती है तो इस स्थिति में नोट में इसकी आवश्यक तैयारियों और इसमें लगने वाले समय का भी ब्यौरा दिया था.

रिजर्व बैंक ने अपर्याप्त तैयारी की स्थिति में परिणामों के बारे में भी बताया था. राजन के अनुसार, आरबीआई ने बिना पूरी तैयारी के नोटबंदी करने के परिणामों के प्रति भी सरकार को आगाह किया था. उल्लेखनीय है कि राजन चार सितंबर को अपने पद से हटे और उसके दो महीने में ही सरकार ने 15.44 लाख करोड़ नोटों को अवैध घोषित कर दिया.

सरकार के इस कदम को भ्रष्टाचार व कालेधन के खिलाफ बड़ी चोट करार दिया गया था और उम्मीद की जा रही थी कि कम से कम एक तिहाई नोट शायद वापस नहीं आएं.हालांकि केंद्रीय बैंक ने पिछले सप्ताह अपनी सालाना रिपोर्ट में कहा कि इस तरह की 99 फीसदी मुद्रा बैंकिंग प्रणाली में लौट आई. उन्होंने कहा है कि सरकार ने इन मुद्दों पर विचार करने के लिए इसके बाद एक समिति गठित की थी. मुद्रा संबंधी मामलों को देखने वाले डिप्टी गवर्नर इसकी सभी बैठकों में शामिल हुए थे और मेरे कार्यकाल में कभी भी रिजर्व बैंक को नोटबंदी पर निर्णय लेने के लिए नहीं कहा गया था.

"बिजनेस" से अन्य खबरें

पीएनबी घोटाले पर जेटली ने तोड़ी चुप्पी

नेशनल बैंक में 11,400 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी मामले में अपनी चुप्पी तोड़ते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि बैंकिंग प्रणाली के साथ धोखाधड़ी करने वाले धोखेबाजों को सरकार पकड़कर रहेगी। साथ ही उन्होंने बैंक के बैंकों के प्रबंधन तंत्र को भी इस बात के लिए कठघरे में खड़ा किया वह अपने अंदर के गड़बड़ी करने वालों को रोकने में नाकाम रहा है। 

Read More

गीतांजलि जेम्स के पास फंसी काफी छोटी राशि

नई दिल्लीः नीरव मोदी, उनके रिश्तेदारों और सहयोगी कंपनियों से जुड़े फ्रॉड में बैंकों के फंसे कर्ज की रकम 20,000 करोड़ रुपए तक पहुंच सकती है जो शुरुआती अनुमान का करीब-करीब दोगुना है। यह जानकारी बैंकों और सरकारी अधिकारियों के हवाले से प्रकाशित मीडिया रिपोर्ट्स में दी गई है। इस रकम में सहयोगी कंपनियों को दिया गया कर्ज भी शामिल है, जिसे अब बैड लोन घोषित किए जाने का रिस्क है। 

Read More

11,400 करोड़ के पीएनबी घोटाले में यूनियन बैंक के 1915 करोड़ रुपए फंसे

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के 11,400 करोड़ रुपए के घोटाले में सार्वजनिक क्षेत्र के ही यूनियन बैंक आॅफ इंडिया का भी 30 करोड़ डॉलर यानी करीब 1,915 करोड़ रुपए फंसा हुआ है। हालांकि यूनियन बैंक का दावा है कि उसका पैसा सुरक्षित है और वह इसे वसूल कर लेगी। गुरुवार देर रात शेयर बाजार को दी जानकारी में यूनियन बैंक ने कहा, ‘‘हम आपको सूचित करना चाहते हैं कि बैंक ने पंजाब नेशलन बैंक को वचनबद्धता पत्रों (एलओयू) के दबले अपनी विदेशी शाखाओं के माध्यम से रिण सहयोग करता रहा है जिनके बारे में पता लगा है कि ये संदेश अनधिकृत स्विफ्ट संदेशों के माध्यम से जारी किए गए थे।’’

Read More

पीएनबी: एक घोटाला जिसने बैंकिंग सिस्टम की पोल खोल दी

देश के दूसरे सबसे बड़े बैंक पीएनबी (पंजाब नेशनल बैंक) ने पिछले बुधवार को स्टॉक एक्सचेंज को 11,345 करोड़ रुपए के घोटाले की सूचना दी. यह जानकारी सार्वजनिक होने के बाद पीएनबी के शेयर 11 फीसदी तक गिर गए. पीएनबी के अलावा कुछ अन्य बैंकों के शेयरों में भी गिरावट आई है. इनमें सरकारी और निजी दोनों तरह के बैंक शामिल हैं. सरकारी बैंकों की बात करें तो यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और इलाहाबाद बैंकों के शेयर टूटे. निजी बैंकों में एक्सिस बैंकों के शेयरों पर इसका असर दिखा है.

Read More

प्रधानमंत्री रोजगार योजनाः 88% लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट

नई दिल्‍लीः रोजगार के मोर्चे पर सवालों से घिरी मोदी सरकार ने इस बार प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम (पीएमईजीपी) का टारगेट बढ़ा दिया है। बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पीएमईजीपी का फाइनेंशियल आउटले 1800 करोड़ रुपए रखा है।योजना के तहत 2018-19 में 7.04 लाख लोगों को रोजगार देने का लक्ष्‍य रखा गया है। 

Read More

महंगाई में थोड़ी राहत, औद्योगिक उत्पादन में सुस्ती

नई दिल्लीः उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सी.पी.आई.) के आधार पर महंगाई में गिरावट दर्ज की गई है। जारी आंकड़ों के अनुसार महंगाई में थोड़ी राहत तो औद्योगिक उत्पादन में सुस्ती दिखाई दी। जनवरी में खुदरा महंगाई दर 5.07 प्रतिशत रही जबकि दिसम्बर में यह 5.21 प्रतिशत दर्ज की गई थी। वहीं, पिछले साल जनवरी में खुदरा महंगाई का आंकड़ा 3.17 प्रतिशत दर्ज किया गया था।

Read More

रेलवे में 63 हजार पदों पर मौका, 10वीं पास भी कर सकते हैं आवेदन

नई दिल्ली : भारतीय रेलवे ने अब तक की सबसे बड़ी भर्ती प्रक्रिया की घोषणा की है. इस भर्ती प्रक्रिया के तहत 62,907 रिक्त पदों पर नियुक्तियां की जाएंगी. यदि आप भी रेलवे में आवेदन करने के इच्छुक हैं तो आपके लिए सुनहरा मौका है. रेलवे की तरफ से जारी किए गए नोटिफिकेशन के अनुसार ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया 10 फरवरी 2018 से सुबह 10 बजे से शुरू हो जाएगी. इन पदों के लिए आप 12 मार्च 2018 को रात 11.59 बजे तक आवेदन कर सकते हैं. यह रेलवे की सबसे बड़ी भर्ती प्रक्रिया बताई जा रही है. पदों से संबंधित अधिक जानकारी आप रेलवे की आधिकारिक वेबसाइट (www.indianrailways.gov.in) पर प्राप्त कर सकते हैं.

Read More

भारतीय स्टेट बैंक को हुआ 2,416 करोड़ रुपए का घाटा

मुंबई: देश के सबसे बड़े भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 2,416.37 करोड़ रुपए का नुकसान दर्ज किया है. बैंक ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. बम्बई स्टॉक एक्सचेंज में दाखिल नियामकीय फाइलिंग में बैंक ने कहा कि उसने 31 दिसंबर को खत्म हुई तिमाही में कुल 2,416.37 करोड़ रुपए का नुकसान दर्ज किया है, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में बैंक ने 2,610 करोड़ रुपए का मुनाफा दर्ज किया था. 

Read More

RBI ने बताया इस वेबसाइट को फर्जी, आप भी हो जाएं सावधान

अगर आप भी यूज करते हैं रिजर्व बैंक की वेबसाइट तो ये खबर आपके लिए जानना बहुत जरूरी है. दरअसल बात ये है कि रिजर्व बैंक के नाम पर एक फर्जी वेबसाइट चल रही है. इस बात की जानकारी देते हुए रिजर्व बैंक ने फर्जी वेबसाइट का यूआरएल भी शेयर किया है.

Read More

सस्ता मकान खरीदने वालों से नहीं वसूलें जीएसटी, बिल्डरों को सरकार ने दिया निर्देश

सरकार ने बिल्डरों को किफायती मकान खरीदारों से जीएसटी वसूलने से मना किया है. सभी सस्ती आवासीय परियोजनाओं पर प्रभावी जीएसटी दर 8 प्रतिशत है. इसे ‘इनपुट क्रेडिट’ के जरिये समायोजित किया जा सकता है. सरकार ने यह भी कहा कि बिल्डर अगर कच्चे माल पर क्रेडिट दावा को शामिल करने के बाद मकान के दाम घटाते हैं, तभी वे सस्ते आवास वाली परियोजनाओं में फ्लैट खरीदने वालों से माल एवं सेवा कर (जीएसटी) वसूल सकते हैं.

Read More