mp mirror logo

शिवराज बने शेर बाकी सब राजनैतिक बोने

भोपाल (एमपी मिरर)। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कई रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं। वो सबसे ज्यादा समय तक मप्र पर शासन करने वाले नेता बन चुके हैं। इसके साथ ही उन्होंने सिंहस्थ का वो मिथक भी तोड़ दिया जो 1956 से लगातार चला आ रहा था। यहां हर बार सिंहस्थ के बाद या तो सरकार बदल जाती थी या फिर मुख्यमंत्री। सिंहस्थ 2016 के बाद ऐसा कतई नहीं हुआ। उल्टा सिंहस्थ से पहले जो सरकार दवाब में चल रही थी अब वो भी खत्म हो गया। इन दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और उनके मंत्री बिना किसी दवाब के, पूरी आजादी के साथ काम कर रहे हैं। कोई तनाव नहीं है। 

कब-किसकी कैसे बदली सत्ता
सिंहस्थ 2016 शुरू होने से पहले भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राजनीति का कारक ग्रह राहु तथा शनि को विशेष तौर पर माना गया है। जब भी गोचर काल में राहु-शनि का अन्य पाप ग्रहों से खडाष्टक अथवा दृष्टि संबंध या युति संबंध होता है तो राजनीति परिप्रेक्ष्य में परिवर्तन की स्थितियां बनती हैं। चूंकि बृहस्पति का गोचर काल सिंह राशि में बारह वर्ष बाद बनता है तब विपरीत स्थितियों में ग्रहों का दृष्टि संबंध शासन परिवर्तन करवाता है आैर प्राय: जब शनि, मंगल का भी गोचर काल वक्र गति से होता है तो वह परिवर्तन की स्थिति को बल प्रदान करता है। इस बार भी सिंहस्थ में इस प्रकार के योग बन रहे हैं, जो प्रदेश में सत्ता सहित बड़े स्तर पर शासकीय परिवर्तन की ओर से इशारा कर रहे हैं। 

अप्रैल-मई 2004 में सिंहस्थ हुआ। 
प्रदेश में पूर्ण बहुमत के साथ 8 दिसंबर 2003 को मुख्यमंत्री बनीं भाजपा नेता उमा भारती एक साल भी पद पर काबिज नहीं रह सकीं। 1994 में हुए हुबली दंगा मामले में कर्नाटक की कोर्ट से अरेस्ट वारंट जारी होने के कारण उन्हें 23 अगस्त 2004 को रातों-रात इस्तीफा देकर पद छोड़ना पड़ा आैर 23 अगस्त 2004 को ही बाबूलाल गौर मुख्यमंत्री बने।

 अप्रैल-मई 1992 में सिंहस्थ हुआ। 
तब सुंदरलाल पटवा (5 मार्च 1990 से 15 दिसंबर 1992 तक) मुख्यमंत्री थे। बाबरी मस्जिद ढहने के कारण भाजपा शासित प्रदेशों में 16 दिसंबर 1992 को रातों-रात सरकार बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया। प्रदेश में 6 दिसंबर 1993 तक राष्ट्रपति शासन रहा। इसके बाद 7 दिसंबर 1993 को कांग्रेस के दिग्विजयसिंह मुख्यमंत्री बने। 

मार्च-अप्रैल 1980 में सिंहस्थ हुआ। 
जनता पार्टी की सरकार थी, वीरेंद्र सकलेचा 18 जनवरी 1978 से 19 जनवरी 1980 तक सीएम रहे। इनके बाद 20 जनवरी 80 से 17 फरवरी 80 तक सुंदरलाल पटवा सीएम रहे। इमरजेंसी के बाद प्रदेश में 18 फरवरी 1980 को राष्ट्रपति शासन लगा दिया। 8 जून 80 तक राष्ट्रपति शासन रहा। 9 जून 1980 को कांग्रेस के अर्जुन सिंह सीएम बने। 

   अप्रैल-मई 1968 आैर अप्रैल-मई 1969 में सिंहस्थ हुआ। 
गोविंद नारायण सिंह (30 जुलाई 1967 से 12 मार्च 1969 तक) मुख्यमंत्री थे। इंदिरा आैर नेहरु कांग्रेस की उलझन के चलते 13 मार्च 1969 को राजा नरेशचंद्र सिंह मुख्यमंत्री बने। हालांकि वे भी केवल 25 मार्च 1969 तक ही सीएम रह सके। इनके बाद 26 मार्च 1969 को श्यामाचरण शुक्ल मुख्यमंत्री बने।

  अप्रैल-मई 1956 आैर अप्रैल-मई 1957 में सिंहस्थ हुआ। 
1 नवंबर 1956 को मप्र की स्थापना हुई, तब रविशंकर शुक्ल मुख्यमंत्री थे। 31 दिसंबर 1956 को उनके निधन के बाद भगवंत राव मंडलोई को 1 जनवरी 1957 को सीएम बनाया। वे भी 30 जनवरी 57 तक मात्र एक महीने मुख्यमंत्री रह सके। इनके बाद 31 जनवरी 1957 को कैलाशनाथ काटजू मुख्यमंत्री बने।

"स्पेशल रिपोर्ट" से अन्य खबरें

‘अजान’ पर बयान के बाद मुंबई पुलिस की नींद उड़ी, वर्सोवा में सोनू के घर के बाहर पुलिस का पहरा

मुंबई: अजान के बारे में सोनू निगम के ट्वीट ने मुंबई पुलिस की नींद उड़ा दी है. मुंबई पुलिस ने गायक सोनू निगम के घर के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी है. रात भर सोनू निगम के घर के बाहर भारी तादाद में पुलिस तैनात रही.

दरअसल ट्वीट के बाद सोनू निगम को कई जगह से धमकियां मिल रही हैं. इसके बाद मुंबई पुलिस ने सुरक्षा बढ़ाने का फैसला किया है. सोनू निगम ने मस्जिदों से होने वाली अज़ान पर सवाल उठाते हुए उसे गुंडागर्दी तक कह दिया था.

Read More

बिहार: 500 पुलिसवालों ने 4 घंटे की मशक्कत के बाद सांसद पप्पू यादव को किया गिरफ्तार

पटना: बिहार के मधेपुरा से सांसद पप्पू यादव गिरफ्तार किए गए. कल रात पप्पू यादव को पटना में उनके घर से गिरफ्तार किया गया. दो महीने पहले पटना के गांधी मैदान थाने के बाहर प्रदर्शन के दौरान पुलिस से झड़प हुई थी.

दरअसल पप्पू यादव और उनकी जन अधिकार पार्टी के कार्यकर्ता 24 जनवरी को बिजली की दरों में बढ़ोतरी और बिहार कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षा का पर्चा लीक होने को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे. इसी केस में कल रात उनकी गिरफ्तारी हुई है.

Read More

कपिल के खराब बर्ताव पर एअर इंडिया उठा सकता है सख्त कदम

हवाई यात्राओं के दौरान यात्रियों की मनमानी और बदतमीजी की घटनाएं आए दिन बढ़ती जा रही हैं. खासकर VVIP यात्रियों और सेलेब्रिटीज के खिलाफ इंडियन एयरलाइन्स सख्त कदम उठाने की तैयारी कर रही है. खबर है कि एयर इंडिया मशहूर कॉमेडियन और टीवी स्टार कपिल शर्मा को चेतावनी देने की तैयारी में है.

Read More

उफान पर थी कामुकता...

इंदौर (एमपी मिरर)। शहला मसूद हत्याकांड में सीबीआई की कोर्ट ने सभी आरोपियों को आजीवन कारवास की सजा सुनाई है। इसमें जाहिदा परवेज, सबा फारुखी, शाकिब और ताबिश शामिल हैं। केवल सरकारी गवाह इरफान को क्षमादान दिया गया है। सीबीआई कोर्ट इस मामले में पिछले 10 दिन से आरोपियों और सीबीआई की ओर से अंतिम बहस सुन रही थी। आरटीआई कार्यकर्ता शहला मसूद की 16 अगस्त 2011 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।...

Read More

उमरिया जिला अस्पताल में बड़ा घोटाला

  • सुरेन्द्र त्रिपाठी

  उमरिया (एमपी मिरर)। जिला अस्पताल को अगर घोटालों का अस्पताल कहें तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी, इस अस्पताल में नहीं चलते किसी के आदेश, यहाँ पदस्थ है दो जिला कार्यक्रम समन्वयक और फर्जी निकल रहे हैं बिल, इतना ही नहीं नियम विरुद्ध नियुक्तियां भी हैं, शिकायतों पर नहीं होती जांच, मामलों की हो रही है लीपापोती, एक तरफ जहां प्रदेश के मुखिया आम जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के बड़े – बड़े वादे और दावे करते हैं वहीँ उमरिया जिला अस्पताल की नब्ज जब टटोली गई तो वहां कुछ और ही सामने आया देखिये एक रिपोर्ट, सच को उजागर करती ये खास पेशकश...

Read More

शिवराज बने शेर बाकी सब राजनैतिक बोने

भोपाल (एमपी मिरर)। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कई रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं। वो सबसे ज्यादा समय तक मप्र पर शासन करने वाले नेता बन चुके हैं। इसके साथ ही उन्होंने सिंहस्थ का वो मिथक भी तोड़ दिया जो 1956 से लगातार चला आ रहा था। यहां हर बार सिंहस्थ के बाद या तो सरकार बदल जाती थी या फिर मुख्यमंत्री। सिंहस्थ 2016 के बाद ऐसा कतई नहीं हुआ। उल्टा सिंहस्थ से पहले जो सरकार दवाब में चल रही थी अब वो भी खत्म हो गया। इन दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और उनके मंत्री बिना किसी दवाब के, पूरी आजादी के साथ काम कर रहे हैं। कोई तनाव नहीं है।...

Read More

हवाला कांड: ईडी की जांच पर टिकी सबकी निगाहें

कटनी/ भोपाल (एमपी मिरर)। तत्कालीन एसपी गौरव तिवारी ने सरावगी के आॅफिस से खुर्दबुर्द करने के लिए ले जाए जा रहे 28 बोरे दस्तावेज जब्त किए थे।अब ईडी ने जांच शुरू की है और वो भी सरावगी के आॅफिस से 4 बोरे दस्तावेज जब्त कर लाई है।  इंदौर से ईडी की टीम कटनी के कोतवाली थाने पहुंची और रिकॉर्ड देखे। इसके बाद पुलिस ने कोयला कारोबारी सतीश सरावगी के दफ्तर पर छापा मारा। पुलिस वहां से 4 बोरों में दस्तावेज भरकर अपने साथ ले गई है। ईडी ने पूर्व एसपी गौरव तिवारी द्वारा तैयार की गई 120 पन्नों की रिपोर्ट भी देखी है।...

Read More

ये सख्श नहीं चाहता राहुल गांधी फटा कुर्ता पहनें, इसलिए भेज दिया 20 रुपए का ड्रॉफ्ट

होशंगाबाद/भोपाल (एमपी मिरर)। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी हाल ही में एक सभा के दौरान फटा कुर्ता पहनकर नजर आए थे। उन्होंने इसे बाकायदा जनता को दिखाया था। पर मप्र में एक शख्स ऐसा है, जो यह नहीं चाहता कि राहुल गांधी फटा कुर्ता पहनें और अगर वो अपना फटा कुर्ता पहनकर देश से बाहर चले गए तो इस कुर्ते से कहीं देश की बदनामी न हो जाए। इसी वजह से मप्र के होशंगाबाद के एक व्यक्ति ने 20 रुपए का ड्रॉफ्ट राहुल गांधी को भेजकर उनसे अपना कुर्ता सिलवाने की अपील की है। साथ ही राहुल गांधी के लिए  एक पत्र भी लिखा है।...

Read More

अब टमाटर ने किसानों को रुलाया

  •  सुनील भावसार/सुनील सोनी

अंजड़/बड़वानी ( एमपी मिरर)। लाल टमाटर की फसल ने किसानों के चेहरे किये लाल, पानी के भाव बिक रहे हैं टमाटर, टमाटर की फसल से किसानों को भारी नुक्सान, लागत निकलना तो दूर फसल को तुड़वाने के पैसे भी जेब से भर रहे है किसान। कई किसानों ने उखाड़ी फसल तो कई बक्खर चलाने की तैयारी में। अंजड़, बड़दा व आवली क्षेत्र में लगभग 500 एकड़ से भी ज्यादा में लगी है टमाटर की फसल, क्षेत्र के किसान सरकार से टमाटर की फसल को समर्थन मूल्य में खरीदने की मांग कर रहे हैं। क्षेत्र के किसानों ने तीन माह पहले अपने खेतो में टमाटर का महंगा रोपा लाकर बड़े जतन से लगाया था तथा महंगा खाद व दवाई डालकर महीनो कड़ी मेहनत से फसल को ये सोच कर सींचा का ठण्ड के दिनों में फसल के अच्छे भाव मिलेंगे लेकिन हुआ उलट टमाटर पानी के मोल बिक रहा है।...

Read More

राजधानी में मास्टर प्लान लागू करने की कवायद शुरू

भोपाल (एमपी मिरर)। राजधानी भोपाल में तेजी से विकास हो रहा है, लेकिन कई स्थानों पर विकास कार्य बेतरतीब हुए हैं। इस कारण राजधानीवासियों को समस्याएं होती हैं। राजधानी में अगर पहले ही मास्टर प्लान लागू हो जाता तो एक सुनियोजित तरीके से विकास होता। अब जब मास्टर प्लान को लागू करने की तैयारी चल रही है तो शहर में विकास कार्य और तेजी से बढ़ जाएंगे। इसके अलावा राजधानी से सटे क्षेत्रों में भी विकास की गंगा दौड़ने लगेगी। 12 साल बाद भोपाल विकास योजना (मास्टर प्लान) का मसौदा चौथी बार तैयार किया जाएगा।...

Read More