mp mirror logo

शिवराज बने शेर बाकी सब राजनैतिक बोने

भोपाल (एमपी मिरर)। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कई रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं। वो सबसे ज्यादा समय तक मप्र पर शासन करने वाले नेता बन चुके हैं। इसके साथ ही उन्होंने सिंहस्थ का वो मिथक भी तोड़ दिया जो 1956 से लगातार चला आ रहा था। यहां हर बार सिंहस्थ के बाद या तो सरकार बदल जाती थी या फिर मुख्यमंत्री। सिंहस्थ 2016 के बाद ऐसा कतई नहीं हुआ। उल्टा सिंहस्थ से पहले जो सरकार दवाब में चल रही थी अब वो भी खत्म हो गया। इन दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और उनके मंत्री बिना किसी दवाब के, पूरी आजादी के साथ काम कर रहे हैं। कोई तनाव नहीं है। 

कब-किसकी कैसे बदली सत्ता
सिंहस्थ 2016 शुरू होने से पहले भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राजनीति का कारक ग्रह राहु तथा शनि को विशेष तौर पर माना गया है। जब भी गोचर काल में राहु-शनि का अन्य पाप ग्रहों से खडाष्टक अथवा दृष्टि संबंध या युति संबंध होता है तो राजनीति परिप्रेक्ष्य में परिवर्तन की स्थितियां बनती हैं। चूंकि बृहस्पति का गोचर काल सिंह राशि में बारह वर्ष बाद बनता है तब विपरीत स्थितियों में ग्रहों का दृष्टि संबंध शासन परिवर्तन करवाता है आैर प्राय: जब शनि, मंगल का भी गोचर काल वक्र गति से होता है तो वह परिवर्तन की स्थिति को बल प्रदान करता है। इस बार भी सिंहस्थ में इस प्रकार के योग बन रहे हैं, जो प्रदेश में सत्ता सहित बड़े स्तर पर शासकीय परिवर्तन की ओर से इशारा कर रहे हैं। 

अप्रैल-मई 2004 में सिंहस्थ हुआ। 
प्रदेश में पूर्ण बहुमत के साथ 8 दिसंबर 2003 को मुख्यमंत्री बनीं भाजपा नेता उमा भारती एक साल भी पद पर काबिज नहीं रह सकीं। 1994 में हुए हुबली दंगा मामले में कर्नाटक की कोर्ट से अरेस्ट वारंट जारी होने के कारण उन्हें 23 अगस्त 2004 को रातों-रात इस्तीफा देकर पद छोड़ना पड़ा आैर 23 अगस्त 2004 को ही बाबूलाल गौर मुख्यमंत्री बने।

 अप्रैल-मई 1992 में सिंहस्थ हुआ। 
तब सुंदरलाल पटवा (5 मार्च 1990 से 15 दिसंबर 1992 तक) मुख्यमंत्री थे। बाबरी मस्जिद ढहने के कारण भाजपा शासित प्रदेशों में 16 दिसंबर 1992 को रातों-रात सरकार बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया। प्रदेश में 6 दिसंबर 1993 तक राष्ट्रपति शासन रहा। इसके बाद 7 दिसंबर 1993 को कांग्रेस के दिग्विजयसिंह मुख्यमंत्री बने। 

मार्च-अप्रैल 1980 में सिंहस्थ हुआ। 
जनता पार्टी की सरकार थी, वीरेंद्र सकलेचा 18 जनवरी 1978 से 19 जनवरी 1980 तक सीएम रहे। इनके बाद 20 जनवरी 80 से 17 फरवरी 80 तक सुंदरलाल पटवा सीएम रहे। इमरजेंसी के बाद प्रदेश में 18 फरवरी 1980 को राष्ट्रपति शासन लगा दिया। 8 जून 80 तक राष्ट्रपति शासन रहा। 9 जून 1980 को कांग्रेस के अर्जुन सिंह सीएम बने। 

   अप्रैल-मई 1968 आैर अप्रैल-मई 1969 में सिंहस्थ हुआ। 
गोविंद नारायण सिंह (30 जुलाई 1967 से 12 मार्च 1969 तक) मुख्यमंत्री थे। इंदिरा आैर नेहरु कांग्रेस की उलझन के चलते 13 मार्च 1969 को राजा नरेशचंद्र सिंह मुख्यमंत्री बने। हालांकि वे भी केवल 25 मार्च 1969 तक ही सीएम रह सके। इनके बाद 26 मार्च 1969 को श्यामाचरण शुक्ल मुख्यमंत्री बने।

  अप्रैल-मई 1956 आैर अप्रैल-मई 1957 में सिंहस्थ हुआ। 
1 नवंबर 1956 को मप्र की स्थापना हुई, तब रविशंकर शुक्ल मुख्यमंत्री थे। 31 दिसंबर 1956 को उनके निधन के बाद भगवंत राव मंडलोई को 1 जनवरी 1957 को सीएम बनाया। वे भी 30 जनवरी 57 तक मात्र एक महीने मुख्यमंत्री रह सके। इनके बाद 31 जनवरी 1957 को कैलाशनाथ काटजू मुख्यमंत्री बने।

"स्पेशल रिपोर्ट" से अन्य खबरें

प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिकी कंपनियों को निवेश के लिए किया आमंत्रित, GST को बताया क्रांतिकारी कदम

वाशिंगटन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की शीर्ष कंपनियों के प्रमुखों से भारत में निवेश करने का आह्वान करते हुए कहा कि भारत एक कारोबार हितैषी देश के रूप में उभर रहा है। साथ ही उन्होंने देश में अगले महीने से लागू होने जा रही वस्‍तु एवं सेवा कर (GST) प्रणाली को भी कारोबार सुगमता के लिए परिवर्तन लाने वाला बताया। 

Read More

US में मोदी बोले : सर्जिकल स्ट्राइक से दुनिया को ताकत दिखाई, नहीं उठे सवाल

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने विदेशी दौरे पर कल रविवार को अमेरिका पहुंचे। यहां पीएम मोदी ने भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए बिना नाम लिए पाकिस्तान और चीन पर निशाना साधा। पीएम मोदी ने कहा कि जब हम सर्जिकल स्ट्राइक करते हैं, तो दुनिया को हमारी ताकत का पता चलता है। 

Read More

डोनाल्ड ट्रंप के साथ व्हाइट हाउस में डिनर करने वाले पहले वैश्विक नेता होंगे पीएम नरेंद्र मोदी, जोर-शोर से तैयारियां

वाशिंगटन: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत की तैयारी कर रहे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप व्हाइट हाउस में सोमवार को उनके लिए रात्रि भोज आयोजित करेंगे, जो इस प्रशासन में अपनी तरह की पहली मेजबानी है. एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने पीएम मोदी के आगमन की पूर्व संध्या पर संवाददाताओं से कहा, व्हाइट हाउस को इसे विशेष यात्रा में बहुत रुचि है. 

Read More

केंद्र ने जारी की 30 नई स्मार्ट शहरों की लिस्ट, तिरुवनंतपुरम सबसे ऊपर

नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार ने शुक्रवार को स्मार्ट शहरों की तीसरी लिस्ट भी जारी कर दी है। इस लिस्ट में सबसे पहला नाम तिरुवनंतपुरम का है। इस तरह अब तक स्‍मार्ट सिटी मिशन के तहत कुल 90 शहरों का चयन कर लिया गया है। सूची में छत्‍तीसगढ़ की नई राजधानी नवा रायपुर दूसरे स्‍थान पर है।

Read More

कोविंद ने राष्‍ट्रपति पद के लिए नामांकन भरा, कहा- मैैं किसी पार्टी से नहीं

एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने नामांकन दाखिल कर दिया है. इसके लिए रामनाथ कोविंद सहित पीएम नरेंद्र मोदी संसद भवन पहुंचे. उनके अलावा बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, बीजेपी के वरष्ठि नेता लाल कृष्ण आडवाणी भी संसद भवन में मौजूद थे. नामांकन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रथम प्रस्‍तावक रहे.

Read More


अब आई चीन को अक्ल, कहा -आतंकवाद कैसा भी हो बख्शा नहीं जायेगा

नई दिल्ली । जियांगसू के नर्सरी स्कूल पर हुए आतंकी हमले के बाद चीन को अक्ल आनी शुरु हो गयी है। शायद इसीलिए चीन ने पहली बार किसी अंतर्राष्ट्रीय पटल से किसी भी प्रकार के आतंकवाद की भर्त्सना की है। ब्रिक्स विदेश मंत्रियों के सम्मेलन में चीन ने भारत के साथ आतंकवाद के सभी रूपों में निंदा की है।

Read More

मंत्रियों का अप्रेजल करेंगे पीएम नरेंद्र मोदी, 30 दिन में मांगा तीन साल का रिपोर्ट कार्ड

राष्ट्रपति चुनाव के बाद कैबिनेट फेरबदल की अटकलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी मंत्रियों से एक रिपोर्ट कार्ड तैयार करने का कहा है। इस रिपोर्ट कार्ड में सभी मंत्रियों को उनके विभाग की प्रमुख उपलब्धियों का ब्योरा देना होगा।

Read More

अमेरिकी मैगजीन ने उठाए पीएम मोदी की नोटबंदी पर सवाल

अमेरिका की एक टॉप मैगजीन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले पर सवाल उठाए हैं। मैगजीन ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा नोटबंदी के विघटनकारी प्रयोग की वजह से भारत की अर्थव्यवस्था में ठहराव आ गया है।

Read More

कश्मीर में सीरियल अटैक के पीछे है आतंकी संगठन ‘जैश ए मोहम्मद’

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कई इलाकों में मंगलवार शाम से देर रात तक एक के बाद एक 6 आतंकी हमले हुए। कश्मीर में अलग-अलग जगहों पर सीआरपीएफ, पुलिस और सेना के ठिकानों को निशाना बनाया गया। इन आतंकी वारदात के पीछे जैश-ए-मोहम्मद का हाथ होने की बात सामने आ रही है।

डीजीपी एसपी वैद ने कहा कि घाटी में हिजबुल मुजाहिदीन का व्यापक प्रभाव है। हालांकि, मंगलवार को हुए सीरियल हंमलों में जैश-ए-मोहम्मद का हाथ है। इंटेलिजेस सूत्रों से यह जानकारी मिली है। डीजीपी वैद्य ने यह भी कहा कि स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है और संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा के इंतजाम और पुख्ता कर दिए गए हैं।

Read More