mp mirror logo

शिवराज बने शेर बाकी सब राजनैतिक बोने

भोपाल (एमपी मिरर)। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कई रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं। वो सबसे ज्यादा समय तक मप्र पर शासन करने वाले नेता बन चुके हैं। इसके साथ ही उन्होंने सिंहस्थ का वो मिथक भी तोड़ दिया जो 1956 से लगातार चला आ रहा था। यहां हर बार सिंहस्थ के बाद या तो सरकार बदल जाती थी या फिर मुख्यमंत्री। सिंहस्थ 2016 के बाद ऐसा कतई नहीं हुआ। उल्टा सिंहस्थ से पहले जो सरकार दवाब में चल रही थी अब वो भी खत्म हो गया। इन दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और उनके मंत्री बिना किसी दवाब के, पूरी आजादी के साथ काम कर रहे हैं। कोई तनाव नहीं है। 

कब-किसकी कैसे बदली सत्ता
सिंहस्थ 2016 शुरू होने से पहले भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राजनीति का कारक ग्रह राहु तथा शनि को विशेष तौर पर माना गया है। जब भी गोचर काल में राहु-शनि का अन्य पाप ग्रहों से खडाष्टक अथवा दृष्टि संबंध या युति संबंध होता है तो राजनीति परिप्रेक्ष्य में परिवर्तन की स्थितियां बनती हैं। चूंकि बृहस्पति का गोचर काल सिंह राशि में बारह वर्ष बाद बनता है तब विपरीत स्थितियों में ग्रहों का दृष्टि संबंध शासन परिवर्तन करवाता है आैर प्राय: जब शनि, मंगल का भी गोचर काल वक्र गति से होता है तो वह परिवर्तन की स्थिति को बल प्रदान करता है। इस बार भी सिंहस्थ में इस प्रकार के योग बन रहे हैं, जो प्रदेश में सत्ता सहित बड़े स्तर पर शासकीय परिवर्तन की ओर से इशारा कर रहे हैं। 

अप्रैल-मई 2004 में सिंहस्थ हुआ। 
प्रदेश में पूर्ण बहुमत के साथ 8 दिसंबर 2003 को मुख्यमंत्री बनीं भाजपा नेता उमा भारती एक साल भी पद पर काबिज नहीं रह सकीं। 1994 में हुए हुबली दंगा मामले में कर्नाटक की कोर्ट से अरेस्ट वारंट जारी होने के कारण उन्हें 23 अगस्त 2004 को रातों-रात इस्तीफा देकर पद छोड़ना पड़ा आैर 23 अगस्त 2004 को ही बाबूलाल गौर मुख्यमंत्री बने।

 अप्रैल-मई 1992 में सिंहस्थ हुआ। 
तब सुंदरलाल पटवा (5 मार्च 1990 से 15 दिसंबर 1992 तक) मुख्यमंत्री थे। बाबरी मस्जिद ढहने के कारण भाजपा शासित प्रदेशों में 16 दिसंबर 1992 को रातों-रात सरकार बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया। प्रदेश में 6 दिसंबर 1993 तक राष्ट्रपति शासन रहा। इसके बाद 7 दिसंबर 1993 को कांग्रेस के दिग्विजयसिंह मुख्यमंत्री बने। 

मार्च-अप्रैल 1980 में सिंहस्थ हुआ। 
जनता पार्टी की सरकार थी, वीरेंद्र सकलेचा 18 जनवरी 1978 से 19 जनवरी 1980 तक सीएम रहे। इनके बाद 20 जनवरी 80 से 17 फरवरी 80 तक सुंदरलाल पटवा सीएम रहे। इमरजेंसी के बाद प्रदेश में 18 फरवरी 1980 को राष्ट्रपति शासन लगा दिया। 8 जून 80 तक राष्ट्रपति शासन रहा। 9 जून 1980 को कांग्रेस के अर्जुन सिंह सीएम बने। 

   अप्रैल-मई 1968 आैर अप्रैल-मई 1969 में सिंहस्थ हुआ। 
गोविंद नारायण सिंह (30 जुलाई 1967 से 12 मार्च 1969 तक) मुख्यमंत्री थे। इंदिरा आैर नेहरु कांग्रेस की उलझन के चलते 13 मार्च 1969 को राजा नरेशचंद्र सिंह मुख्यमंत्री बने। हालांकि वे भी केवल 25 मार्च 1969 तक ही सीएम रह सके। इनके बाद 26 मार्च 1969 को श्यामाचरण शुक्ल मुख्यमंत्री बने।

  अप्रैल-मई 1956 आैर अप्रैल-मई 1957 में सिंहस्थ हुआ। 
1 नवंबर 1956 को मप्र की स्थापना हुई, तब रविशंकर शुक्ल मुख्यमंत्री थे। 31 दिसंबर 1956 को उनके निधन के बाद भगवंत राव मंडलोई को 1 जनवरी 1957 को सीएम बनाया। वे भी 30 जनवरी 57 तक मात्र एक महीने मुख्यमंत्री रह सके। इनके बाद 31 जनवरी 1957 को कैलाशनाथ काटजू मुख्यमंत्री बने।

"स्पेशल रिपोर्ट" से अन्य खबरें

राज्यसभा सांसद के गढ़ में हारी भाजपा, कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार जीतीं

मध्य प्रदेश के मंडला जिले में जिला पंचायत सदस्य क्रमांक 14 के चुनाव में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा है. भाजपा की संपत्तिया उइके के राज्यसभा सांसद चुने जाने की वजह से यह सीट खाली हुई थी.

जिला पंचायत सदस्य क्रमांक 14 के चुनाव में कांग्रेस समर्थित प्यारी बाई गोठरिया ने भाजपा समर्थित उम्मीदवार को 3200 से ज्यादा वोटों से शिकस्त दी. भाजपा के लिए यह चुनाव काफी प्रतिष्ठा का चुनाव बना हुआ था.

Read More

पदमावत विवाद: सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर फिर फूटा राजपूतों का गुस्सा

संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म पदमावत के प्रदर्शन पर चार राज्यों में रोक को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने इस पर स्टे कर दिया है। इससे राजस्थान समेत चारों राज्य सरकारों को करारा झटका लगा है। इस नये घटनाक्रम के बाद पदमावत पर एक बार फिर घमासान शुरू हो गया है। फिल्म को लेकर राजपूत समाज का गुस्सा अब चरम पर है उसका कहना है कि फिल्म प्रदर्शित हुइ तो बहुत बडा नुकसान होगा। दूसरी तरफ सरकार का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अध्ययन के बाद कानूनी राय लेकर आगे का रास्ता अपनाया जाएगा। फिल्म पदमावत को लेकर अब राजपूत समाज उग्र तेवरों के साथ सामने आने की तैयारी में लग गया। सुप्रीम कोर्ट के गुरूवार के आदेश के बाद तो इसके विरोधियों के साथ ही सरकार की गतिविधियों में तेजी आ गई।

Read More

इसरो ने रचा इतिहास, कार्टोसैट-2 समेत 31 उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण

इसरो ने आंध प्रदेश में श्रीहरिकोटा से पीएसएलवी-सी40 रॉकेट से भारत की कार्टोसैट-2 श्रृंखला का मौसम उपग्रह और 29 अन्य उपग्रहों का आज सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया.

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अंतरिक्ष में एक और ऊंची छलांग लगाते हुए आज श्रीहरिकोटा के के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-40 सी के जरिये पृथ्वी अवलोकन उपग्रह काटरेसैट-2 सहित 31 उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण किया जिसके साथ ही इसरो निर्मित उपग्रहों के प्रक्षेपण का शतक पूरा हो गया.  

Read More

भारतीय मूल के निवेश बैंकर हैरी अरोड़ा ने अमेरिकी संसद का चुनाव लड़ने की घोषणा की

वॉशिंगटन: अमेरिका में भारतीय मूल के निवेश बैंकर ने कनेक्टिकट में प्रतिनिधि सभा के लिये कांग्रेस की एक सीट पर चुनाव लड़ने की अपनी योजना की घोषणा की है. हैरी अरोड़ा (48) डेमोक्रेटिक पार्टी के मौजूदा सांसद जिम हिमेस के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे जो जनवरी 2009 से चौथी कांग्रेसनल डिस्ट्रिक्ट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं.

Read More

पश्चिम बंगाल के बाद गुजरात में भी हुई बीजेपी की किरकिरी

पश्चिम बंगाल में किरकिरी के बाद भाजपा को अब गुजरात में असहज परिस्थितियों का सामना करना पड़ा है। मेहसाणा नगरपालिका सीट राज्‍य में सत्‍तारूढ़ भाजपा के हाथ से निकल गई है। एक साल पहले कांग्रेस के दस पार्षद भाजपा में शामिल हुए थे। अब वे वापस कांग्रेस में चले गए हैं। कांग्रेस के पाला बदलने वाले पार्षदों की मदद से भाजपा मेहसाणा नगरपालिका पर कब्‍जा जमाने में सफल रही थी। कांग्रेस के रायबेन पटेल को ही अध्‍यक्ष भी बना दिया गया था। वहीं, भाजपा के कौशिक व्‍यास को नगरपालिका की स्‍थाई समिति का प्रमुख बनाया गया था। 

Read More

कैट 2017 की परीक्षा का रिजल्ट वेबसाइट पर जारी

पटना [जेएनएन]। कॉमन एडमिशन टेस्ट CATresult 2017 का रिजल्ट जारी हो गया है। रिजल्ट में 20 उम्मीदवारों ने 100 पर्सेंटाइल पाया है। स्कोरकार्ड देखने के लिए iimcat.ac.in पर आप क्लिक कर सकते हैं। 

पिछले साल भी 20 उम्मीदवारों को 100 पर्सेटाइल मिला था लेकिन पिछले साल के मुकाबले इस साल उम्मीदवारों का प्रोफाइल अलग है।  पिछले जहां टॉप 20 मेल और इंजीनियर थे वहीं इस बार सभी फीमेल और नॉन इंजीनियरिंग फील्ड से हैं।

Read More

अमेरिकी कांग्रेस की सदस्यता की दौड़ में भारतीय मूल की अरुणा मिलर

वाशिंगटन : प्रवासी भारतीय विदेशों में लगातार अपनी कामयाबी का लोहा मनवाते रहते हैं. इसी कड़ी में अमेरिकी कांग्रेस की दौड़ में शामिल भारतीय मूल की अमेरिकी राजनेता अरुणा मिलर ने मेरीलैंड कांग्रेस सीट से पर्चा दाखिल किया है. पेशे से सिविल इंजीनियर अरुणा फिलहाल मेरीलैंड हाउस ऑफ डेलीगेट्स की सदस्य हैं जिसके लिए वह पहली बार वर्ष 2010 में चुनी गयी थीं. इस कांग्रेशनल डिस्ट्रिक्ट से मौजूदा डेमोक्रेटिक सदस्य जॉन डीलानी ने फिर से चुनाव लड़ने में अनिच्छा जतायी थी और वर्ष 2020 में डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रेसीडेंशियल प्राइमरी के लिये चुनाव लड़ने की घोषणा की है.

Read More

चारा घोटाला: देवघर कोषागार मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू यादव को दी साढे़ तीन साल की सजा

रांची। चारा घोटाले के एक मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने आरजेडी सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई है। इसके अलावा कोर्ट ने लालू पर 5 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। बड़ी बात यह है कि लालू को जमानत भी नहीं मिलेगी। इसके लिए उन्हें उच्च अदालत में जाना होगा। देवघर कोषागार से अवैध तरीके से 89.27 लाख रुपये निकालने के मामले में यह बड़ा फैसला आया है। विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिए लालू समेत सभी 16 दोषियों ने रांची की बिरसा मुंडा जेल में एक साथ बैठकर जज का फैसला सुना। 

Read More

आज से ऑल इंडिया डीजी कांफ्रेंस की शुरुआत, राजनाथ करेंगे उद्घाटन

राजनाथ सिंह सुबह 11 बजे दिल्ली से ग्वालियर एयरपोर्ट पहुंचेंगें और सड़क मार्ग से बीएसएफ अकादमी के लिए रवाना होंगे। रात को केंद्रीय गृहराज्य मंत्री किरण रिजिजू और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ग्वालियर पहुंचेंगे। रविवार की सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी डीजी कांफ्रेंस में शामिल होंगें और दो दिन ग्वालियर में ही रहेंगे। कांफ्रेंस में सभी राज्य, केंद्र शासित प्रदेश और अर्धसैनिक बलों, सुरक्षा एजेंसियों के उच्चाधिकारी सहित करीब 60 डीजी भाग लेंगें।

Read More

H-1B Visa: ट्रंप सरकार का यह प्रस्ताव हुआ पास तो अमेरिका से निकाले जाएंगे 75 हजार भारतीय!

ट्रंप प्रशासन एक तरफ पाकिस्तान को दी जाने वाली आर्थिक मदद रोककर भारत के साथ खड़ा होने की दलील पेश कर रहा है तो वहीं अब अमेरिका में नौकरी कर रहे हजारों भारतीयों को घर भेजने का इंतजाम भी कर रहा है। ट्रंप प्रशासन ने एक प्रस्ताव तैयार किया है, अगर वहां की संसद में वह पास होता है तो भारी संख्या में भारतीयों को स्वदेश वापसी करनी पड़ जाएगी। ट्रंप प्रशासन के इस प्रस्ताव के मुताबिक इसके पास होने पर एच 1 बी वीजा होल्डर प्रभावित होंगे। उनके वीजा रिन्यू नहीं किए जाएंगे। इन लोगों के ग्रीन कार्ड भी अभी सत्यापन की प्रक्रिया में लटके हुए हैं।

Read More