mp mirror logo

राष्ट्रपति चुनाव में नहीं डाल पाएंगे वोट, इस्तीफे का भी बढ़ा दबाव

भोपाल पेड न्यूज मामले में चुनाव आयोग की ओर से तीन साल के लिए अयोग्य घोषित किए गए जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा को दिल्ली हाईकोर्ट से राहत नहीं मिलने के कारण राष्ट्रपति चुनाव में उनके मतदान करने की सारी संभावनाएं लगभग खत्म हो गई हैं। चुनाव आयोग पहले ही उनको संशोधित मतदान सूची में अयोग्य घोषित कर चुका है। दिल्ली हाईकोर्ट के याचिका खारिज किए जाने के बाद अब नरोत्तम पर मंत्री पद से इस्तीफा देने का दबाव भी बढ़ गया है।
दिल्ली हाईकोर्ट के जस्टिस इंदरमीत कौर की स्पेशल कोर्ट के समक्ष सुनवाई के दौरान गुरुवार को नरोत्तम मिश्रा की तरफ से दलील दी गई थी कि निर्वाचन आयोग ने काफी देर से फैसला लिया और उसे फैसला जल्द सुनाना चाहिए था। कहा गया कि 2008 के विधानसभा चुनाव में छपी खबरें उनके द्वारा सर्कुलेट नहीं की गई थीं। वहीं पूर्व विधायक राजेंद्र भारती की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा था कि निर्वाचन आयोग को जांच तेजी से करना चाहिए, लेकिन इसके लिए कोई समय सीमा तय नहीं है।
लंबा समय बीत जाने का ये मतलब नहीं कि भ्रष्ट आचरण माफ किया जा सकता है। पेड न्यूज का फैसला निर्वाचन आयोग की ओर से गठित विशेषज्ञ समिति ने किया था। नरोत्तम का आरोप था कि चुनाव आयोग ने अधिकार क्षेत्र के बाहर जाकर फैसला सुनाते हुए उन्हें चुनाव लडऩे के अयोग्य घोषित कर दिया। उन्होंने कोर्ट से आग्रह किया था राष्ट्रपति चुनाव को देखते हुए जल्द से जल्द मामले की सुनवाई की जाए।
इस्तीफे का बढ़ा दबाव
अब दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा याचिका खारिज किए जाने के साथ ही नरोत्तम पर मंत्री पद से इस्तीफा देने का दबाव बढ़ गया है। विपक्ष उनके इस्तीफे पर अड़ा है। नेताप्रतिपक्ष ने तो यहां तक चेतावनी दी है कि अयोग्य व्यक्ति को सदन में प्रवेश नहीं दिया जाना चाहिए। यदि वे मंत्री के तौर पर आए तो वह सब कुछ होगा जो अभी तक नहीं हुआ।
किसने क्या कहा
हाईकोर्ट के आदेश का अध्ययन करने के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। कोर्ट का आदेश यदि स्पष्ट नहीं होगा तो कानून के जानकारों और संविधान विशेषज्ञों की सलाह ली जाएगी।
– डॉ. सीतासरन शर्मा, अध्यक्ष मप्र विधानसभा
चुनाव आयोग नरोत्तम को अयोग्य घोषित कर चुका है। अब हाईकोर्ट ने भी उनकी याचिका खारिज कर दी, एेसे में उन्हें मंत्री बने रहने का अधिकार नहीं है। वे सदन में भी नहीं बैठ सकते।
– श्रीनिवास तिवारी, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष
नरोत्तम अब न सदन में बैठ सकते हैं और न ही मंत्री बन सकते हैं, क्योंकि वे अयोग्य घोषित हो चुके हैं। मुख्यमंत्री मौन तोड़ें और उनसे तत्काल इस्तीफा लें।
– अजय सिंह, नेता प्रतिपक्ष मप्र विधानसभा
दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर हम विधि विशेषज्ञों से राय ले रहे हैं। हमें ऐसा महसूस होता है कि मिश्रा इस मामले में कहीं दोषी नहीं है इसलिए न्याय प्राप्ति के लिए और क्या-क्या विकल्प हो सकते हैं। उस पर विचार जारी है।
नंदकुमार सिंह चौहानभाजपा प्रदेशाध्यक्ष
मैं हाईकोर्ट का सम्मान करता हूं। दिल्ली हाईकोर्ट की डबल बैंच में अपील करुंगा। यहां से राहत न मिली तो सुप्रीमकोर्ट का दरवाजा खटखटाउंगा।
— नरोत्तम मिश्रा, संसदीय कार्यमंत्री
संविधान के प्रावधानों के तहत राज्यपाल, मुख्यमंत्री एवं विधानसभा अध्यक्ष को उन्हें तत्काल मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर देना चाहिए। पेड न्यूज वाले मामले में यह यह दूसरा फैसला है जिससे चुनाव आयोग की सर्वोच्चता और सर्वमान्यता स्वीकार्य हुई है।
-राजेन्द्र भारती, याचिकाकर्ता एवं पूर्व विधायक
कब क्या हुआ
– 23 जून को चुनाव आयोग ने नरोत्तम मिश्रा को पेड न्यूज का दोषी मानते हुए तीन साल के लिए चुनाव लडऩे से अयोग्य घोषित किया।
– 27 जुलाई को नरोत्तम ग्वालियर हाईकोर्ट बैंच में याचिका दाखिल की। प्रतिद्वंद्वी राजेन्द्र भारती ने कैबिएट लगाई।
– 8 जुलाई को ग्वालियर हाईकोर्ट ने केस जबलपुर हाईकोर्ट स्थानांतरित किया।
– 12 जुलाई को सुप्रीमकोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट में नरोत्तम की याचिका की सुनवाई के निर्देश दिए।
– 13 जुलाई को चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति चुनाव की मतदाता सूची, नरोत्तम को वोट के अधिकार से वंचित किया।
– 14 जुलाई को दिल्ली हाईकोर्ट ने याचिका खारिज कर दी।
सीएम के साथ नंदकुमार व सुहास की चर्चा…
दिल्ली हाईकोर्ट का फैसला आते ही शाम 4 बजे प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और संगठन महामंत्री सुहास भगत सीएम हाउस रवाना हो गए। वहां एससीएसटी योजनाओं से प्रदेश की पिछड़ी आबादी को जोडऩे वाले पार्टी के अभियान की समीक्षा बैठक में मंत्री नरोत्तम मिश्रा के मुद्दे पर भी चर्चा हुई। सीएम के साथ प्रदेशाध्यक्ष और संगठन महामंत्री ने इस केस की कानूनी बारीकियों पर चर्चा की। सीएम ने प्रदेश संगठन को हरसंभव डैमेज कंट्रोल के लिए कहा। प्रवक्ताओं की टीम को विधि विभाग के जानकारों की राय लेकर मिश्रा के समर्थन में बयान देने को कहा गया है। सीएम को केंद्रीय नेतृत्व को भेजी गई जानकारियों और फीडबैक से भी अवगत कराया गया। बैठक समाप्त होने के बाद प्रदेशाध्यक्ष दिल्ली रवाना हो गए।

"जिलों की ख़बरें" से अन्य खबरें

भोपाल से दुबई और सिंगापुर तक उड़ान शुरू करने के लिए केंद्र से बात करेंगे : सीएम

भोपाल। अंतरराष्ट्रीय स्तर का एयरपोर्ट होने के बावजूद भोपाल से इंटरनेशनल उड़ानें शुरू न होने से एयरपोर्ट अथॉरिटी के साथ ही मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी चिंतित हैं।

सोलर एनर्जी प्लांट का शिलान्यास करते हुए सीएम ने कहा कि कम से कम दुबई एवं सिंगापुर के लिए उड़ानें शुरू होनी चाहिए। मैं इस संबंध में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री से चर्चा करूंगा। मुख्यमंत्री एवं एयरपोर्ट अथॉरिटी के चेयरमेन डॉ. गुरु प्रसाद महामात्र ने संयुक्त रूप से 100 फीट ऊंंचे पोल पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

Read More

प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों ने 25 से 80 लाख में बेच दीं 94 सीट

जबलपुर। मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने प्राईवेट मेडिकल कॉलेजों द्वारा 94 मेडिकल सीट 25 से 80 लाख रुपए में बेचे जाने के आरोप पर सरकार से जवाब मांग लिया है। इस सिलसिले में प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा और डीएमई के अलावा इंडैक्स इंदौर, एनएल भोपाल, अमलतास देवास, चिरायु भोपाल और आरकेडीएफ भोपाल को नोटिस जारी किए हैं।

Read More

यूपी : स्कूल की तीसरी मंजिल पर टॉयलेट गई थी 15 साल की लड़की, फर्श पर पड़ी मिली लहूलुहान

 देवरिया: उत्तर प्रदेश के देवरिया से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है. सोमवार को यहां एक स्कूल की तीसरी मंजिल से 15 साल की छात्रा को किसी ने नीचे फेंक दिया, जिससे उसकी मौत हो गई. यह घटना शहर के मॉडर्न मॉन्टेसरी इंटर कॉलेज में 11वीं कक्षा में पढ़ने वाली यह छात्रा सोमवार सुबह करीब 11 बजे स्कूल की तीसरी मंजिल पर टॉयलेट के लिए गई थी. 

Read More

60 हजार अभ्यर्थी फिर दे सकेंगे आरक्षक भर्ती परीक्षा

भोपाल। मध्यप्रदेश के करीब 60 हजार अभ्यर्थी व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) द्वारा आयोजित की जा रही आरक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए। विभिन्न् तकनीकी कारणों के चलते उन्हें यह खामियाजा भुगताना पड़ा। अब व्यापमं इन्हें फिर से प्रवेश पत्र जारी कर परीक्षा में शामिल करेगा। इधर, व्यापमं की दलील है कि यह सर्वर की दिक्कत की वजह से हुआ।

Read More

मुख्यमंत्री करेंगे अभियंताओं का सम्मान, सीधा संवाद भी होगा

भोपाल। विधानसभा के मानसरोवर सभागार में शुक्रवार को अभियंता दिवस मनाया जाएगा। यहां प्रदेश के पांच वरिष्ठ अभियंताओं का सम्मान किया जाएगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा उन्हें सम्मानित करेंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री सभी इंजीनियरों से सीधा संवाद भी करेंगे।

Read More

विधवा और दिव्यांग से शादी करने पर सरकार देगी दो लाख रुपए

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधवा और दिव्यांग महिला व पुरुष से शादी करने पर सरकार ऐसे दंपती को दो लाख रुपए की प्रोत्साहन राशि देगी। इसी तरह अनाथ बच्चों के भरण-पोषण के लिए पांच सौ रुपए प्रतिमाह देने की योजना भी जल्द ही लागू की जाएगी। सामाजिक न्याय मंत्री गोपाल भार्गव ने बुधवार को बैठक में इन तीन बड़ी योजनाओं को लागू करने की सैद्धांतिक सहमति दी।

Read More

43 हजार शिक्षकों को मिलेगी तीसरी क्रमोन्नति, खजाने पर 110 करोड़ का भार

भोपाल। प्रदेश सरकार ने मंगलवार को शिक्षक और किसान के हित में बड़े फैसले किए। अब 30 साल की नौकरी पूरी करने वाले शिक्षकों को तृतीय क्रमोन्नति मिलेगी। इसका सीधा फायदा 43 हजार शिक्षकों को मिलेगा। वहीं, 35 हजार अन्य शिक्षक भी अगले साल इससे लाभांवित होंगे।

Read More

केन-बेतवा लिंक विवाद : केंद्र ने कहा-मुख्यमंत्री बैठक के लिए तारीख तय करें

भोपाल। उत्तरप्रदेश और मध्यप्रदेश के बीच केन-बेतवा लिंक परियोजना में पानी के बंटवारे को लेकर चल रहे विवाद में एक बार फिर केंद्र ने दखल दिया है। नितिन गडकरी को जल संसाधन मंत्रालय मिलने के बाद केंद्र सरकार ने दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों को एक साथ बैठक के लिए तारीख तय करने के निर्देश दिए हैं। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि मुख्यमंत्रियों की बैठक से पहले एक बार दोनों राज्यों के अधिकारी फिर से चर्चा करेंगे।

Read More

8 अक्टूबर को कॉलेजों में प्रत्यक्ष प्रणाली से होंगे छात्र संघ चुनाव

भोपाल। मध्यप्रदेश में आठ साल बाद अक्टूबर में होने जा रहे छात्र संघ चुनाव प्रत्यक्ष प्रणाली पर होंगे। यानी हर छात्र सीआर (कक्षा प्रतिनिधि) के लिए वोट डाल सकेगा। छात्र पर अपनी कक्षा से सीआर का चुनाव करेंगे और यह सीआर कॉलेज में विभिन्न पदों पर खड़े होने वाले प्रतिनिधियों को वोट देंगे।

Read More

सीएम की चेतावनी अफसरों पर बेअसर, दागियों के खिलाफ नहीं होती कार्रवाई

भोपाल। मप्र में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निशाने पर भले ही दागी अफसर हों, लेकिन हकीकत ये है कि उनकी चेतावनी का अफसरों पर कोई असर नहीं हो रहा है। जांच में दोषी पाए जाने के बाद भी अफसरों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो पाती है। ऑडियो टेप के जरिए कई अधिकारियों की कारगुजारियां सामने आईं पर किसी के खिलाफ कठोर कार्रवाई नहीं की गई।

Read More