mp mirror logo

इंदौर, बालाघाट और झाबुआ में तीन किसानों ने की खुदकुशी की घटनाएं आई सामने

भोपाल/ बालाघाट/इंदौर/झाबुआ। मध्यप्रदेश में फिर तीन किसानों द्वारा खुदकुशी की घटनाएं सामने आई हैं। बालाघाट और इंदौर जिले में दो किसानों ने कर्ज से परेशान होकर जान दे दी, उधर झाबुआ जिले में बेटे के ससुराल वालों को दहेज नहीं दे पाने पर किसान ने आत्महत्या कर ली। बालाघाट में किसान का शव सड़क पर रखकर चक्काजाम हुआ।

बालाघाट के भरवेली जागपुर निवासी किसान डालचंद पिता आत्मा राम लिल्हारे ने कीटनाशक खाकर आत्महत्या कर ली। जानकारी के मुताबिक डालचंद ने 2008 में सिंडीकेट बैंक से खेती के लिए 2 लाख रुपए और सोसायटी से भी कर्ज लिख था। जो अब बढ़कर बहुत ज्यादा हो चुका था।

इसे चुकाने के लिए उसने डेढ़ एकड़ जमीन भी बेच दी थी, लेकिन फिर भी पूरा कर्ज नहीं उतरा। बैंक से लगातार फोन आ रहे थे, जिससे किसान काफी परेशान हो चुका था। सोसायटी ने भी उसे डिफाल्टर घोषित कर दिया था।

परिजनों के अनुसार करीब डेढ़ महीने से डालचंद बहुत परेशान रहने लगा था। मंगलवार सुबह जब उसे जगाने की कोशिश की तो वो नहीं उठा। इसके बाद परिवार के लोग उसे अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। यहां साफ हो गया कि रात में सोते वक्त ही किसान ने जहर खा लिया था।

पोस्टमार्टम के बाद ग्रामीणों ने किसान का शव सड़क पर रखकर प्रदर्शन किया। उनकी मांग थी कि मृत किसान के बच्चों को नौकरी दी जाए और कर्जा माफ किया जाए। सूचना मिलने के बाद परसवाड़ा विधायक भी मौके पर पहुंच गए थे।

इंदौर में भी किसान ने पिया जहर

इंदौर के धार रोड पर गांधी नगर थाना क्षेत्र के धरनावदा गांव में एक किसान ने जहर पीकर आत्महत्या कर ली। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा। परिजनों के मुताबिक किसान कर्ज से परेशान था। इस दौरान कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी भी उसके घर पहुंच गए।

झाबुआ जिले में किसान ने दी जान

झाबुआ जिले के पारा चौकी क्षेत्र के पीथनपुर में आदिवासी किसान जहु ने आत्महत्या कर ली। उसके पास बेटे के ससुराल वालों को दहेज देने के पैसे नहीं थी। आखिरी तारीख निकलने के बाद भी जब वो पैसे नहीं दे पाया तो किसान ने खुदकुशी कर ली। गौरतलब है कि आदिवासी समाज में शादी के बाद लड़के का परिवार लड़की के परिवार को दहेज देता है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

शव रखकर किया प्रदर्शन

"जिलों की ख़बरें" से अन्य खबरें

मध्यप्रदेश में कोविंद के लिए क्रॉस वोटिंग, कांग्रेस और बसपा ने दिए वोट

भोपाल राष्ट्रपति चुनावों में मध्यप्रदेश से बड़ी खबर आ रही है, यहां पर क्रॉस वोटिंग की जानकारी सामने आई है। एनडीए के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को मध्यप्रदेश से 168 की जगह 171 वोट मिले हैं। तय उम्मीद से तीन ज्यादा। माना जा रहा है, इनमें एक वोट कांग्रेस और दो वोट बसपा खेमे से आए हैं।
दरअसल, मध्यप्रदेश विधानसभा में विधायकों की कुल संख्या 230 है। लेकिन एक सीट रिक्त होने और नरोत्तम मिश्रा को वोट डालने का अधिकार नहीं होने के कारण 228 विधायकों ने ही वोट किए। भाजपा विधायकों की संख्या 165 है, जबकि तीन निर्दलीय विधायक भी हैं। कांग्रेस के विधायकों की संख्या 56 है और चार विधायक बसपा के हैं। 

Read More

मध्यप्रदेश प्याज घोटाला : नागरिक आपूर्ति निगम के महाप्रबंधक गिरफ्तार

नई दिल्ली: मध्यप्रदेश में  सरकार की प्याज खरीदी की घोषणा के बाद नागरिक आपूर्ति निगम के अफसर, व्यापारी और दलालों के गठजोड़ ने बड़े पैमाने पर प्याज को अपने स्तर से लाखों रुपये कमीशन लेकर बेच डाला. इस मामले के खुलासे के बाद सरकार की नींद टूटी और उसने आनन-फानन में महाप्रबंधक श्रीकांत सोनी को बुधवार रात निलंबित कर दिया और गुरुवार को भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार भी कर लिया गया. 

Read More

पीएफ ने शुरू की निजी कर्मचारियों को होमलोन दिलाने की मुहिम

भोपाल। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने अब निजी क्षेत्र के कर्मचारियों को 'होमलोन' दिलाने की मुहिम शुरू की है। इसके लिए पीएफ कमिश्नर एवं अन्य अधिकारियों की 'हुडको' सहित शहर की हाउसिंग समितियों से भी चर्चा हुई है। सदस्यों को मकान की किस्त पीएफ के जरिए भरने का विकल्प भी दिया जा रहा है।

भविष्य निधि संगठन ने पहली बार अपने आवासहीन खाताधारियों को मकान दिलवाने की योजना हाथ में ली है। इसमें प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मिलने वाली सुविधाएं भी जोड़ी जा रही है। इससे ब्याज में 4 फीसदी की राहत मिल सकेगी। 

Read More

मूसाखेड़ी में एलजी मार्केट की दुकानों में लगी भीषण आग, देर रात तक नहीं बुझी

इंदौर. मूसाखेड़ी चौराहे पर रविवार देर रात एक मार्केट में भीषण आग लग गई। लोगों ने धुआं और लपटे देखी तो तुरंत फायर ब्रिगेड को कॉल किया। इधर, घटना देख लोगों की भीड़ जमा हो गई। वहीं दुकान के व्यापारी भी मौके पर पहुंचे। 

Read More

गृह मंत्रालय का राज्यों को आदेश- PM मोदी का स्वागत गुलदस्ते से नहीं एक फूल से करें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत में गुलदस्ता भेंट करने पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक आदेश जारी किया है. आदेश के मुताबिक, पीएम मोदी का स्वागत फूलों का गुलदस्ता देकर नहीं किया जाएगा. गृह मंत्रालय ने ये आदेश सभी राज्यों को जारी किए हैं.

Read More

राष्ट्रपति चुनाव में नहीं डाल पाएंगे वोट, इस्तीफे का भी बढ़ा दबाव

भोपाल पेड न्यूज मामले में चुनाव आयोग की ओर से तीन साल के लिए अयोग्य घोषित किए गए जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा को दिल्ली हाईकोर्ट से राहत नहीं मिलने के कारण राष्ट्रपति चुनाव में उनके मतदान करने की सारी संभावनाएं लगभग खत्म हो गई हैं। चुनाव आयोग पहले ही उनको संशोधित मतदान सूची में अयोग्य घोषित कर चुका है। दिल्ली हाईकोर्ट के याचिका खारिज किए जाने के बाद अब नरोत्तम पर मंत्री पद से इस्तीफा देने का दबाव भी बढ़ गया है।

Read More

मध्यप्रदेश : अब 16 जुलाई तक हो सकेगी अफसर,कर्मचारियों की तूमा बदली

भोपाल। मध्यप्रदेश में अब अधिकारियों और सरकारी कर्मचारियों की एक जगह से दूसरी जगह तूमा बदली अब 16 जूलाई तक हो सकेगी। राज्‍य शासन ने स्‍थानान्‍तरण की अवधि एक बार फिर बढ़ा दी हैं। अब 16 जुलाई तक स्‍थानान्‍तरण किये जा सकेंगे। अब तक यह तिथि 10 जुलाई थी। जो 6 दिन यानि 16 जुलाई 2017 हो गयी है।

Read More

पेड न्यूज केस : सुप्रीम कोर्ट पहुंचे नरोत्तम मिश्रा

भोपाल। चुनाव आयोग द्वारा अयोग्य करार दिए जाने के मामले में मप्र सरकार के मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सुप्रीम कोर्ट की ओर रुख किया है। गौरतलब है कि मप्र हाईकोर्ट इस संबंध में जल्द सुनवाई की याचिका को यह कह कर टाल दिया था इस संबंध में एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में भी लगी हुई है इसलिए दोनों याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ही सुनवाई करेगा।

Read More

ऐसा क्या कह गए बीजेपी सांसद की कांग्रेस ने भी थपथपा दी पीठ

भोपाल. अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमले की तीखी आलोचना हो रही है। केन्द्र सरकार पर दबाव बनाया जा रहा है कि अब बातचीत का समय निकल चुका है, सीधे एक्शन हो, लेकिन सरकार इस मामले में खुलकर बोलने से बच रही है।

Read More

जीएसटी से बनी खाई : बड़े व्यापारियों का छोटों के साथ कारोबार से इनकार

इंदौर। गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स (जीएसटी) के साथ बाजार में भेदभाव का नया अध्याय शुरू हो गया है। नई कर प्रणाली के लागू होने से बड़े कारोबारी छोटे व्यापारियों से माल और सेवा लेने में हिचक रहे हैं। कई बड़े कारोबारियों ने सीधे तौर पर छोटे वेंडरों से कारोबारी रिश्ते तोड़ लिए हैं। व्यापार बचाने की गरज से छोटे व्यापारियों को मनमानी शर्तों पर कारोबार करना पड़ रहा है।

Read More